शनिवार, 22 मई 2010

एक ही उपलब्धी - तरसती जनता और तरसता गरीव


अब जोर से नारा लगाओ ,
सी बी आई  हमारी  हे हमको वोट दिलाती हे .
सी बी आई  जिन्दावाद कांग्रेस पार्टी जिदावाद .
य़ू पी ए कई सरकार कई दूसरी पारी का एक साल बीत गया हे . २१ मई २०१० को उसकी वर्षगांठ  थी
इस एक साल क़ी सबसे चर्चित उपलब्धी यही हे क़ी कांग्रेस के हाथ एक येशा मन्त्र लगा हे क़ी उसकी अल्पमत सरकार पूरे ५ साल चलेगी , क्यों क़ी भगबान क़ी दया से ज्यादातर प्रदेश स्तरीय दल और उनके नेता जी भ्रस्ट हें . सब पर आय से अधिक धन या सम्पत्ति हे . सबके  सब सी बी आई के दायरे में हें . सो हमारी सम्पत्ति हमें दो हमारा धन हमें दो और हमसे समर्थन ले लो , फायदा तो यह हे क़ी अब कांग्रेस को बिना मंत्री पद क़ी इक्षा  के भी वोट मिल रहे हें . खेर गत सरकार को नोटों से बचाने वाली कांग्रेस को यह तो फायदा ही हे क़ी अब बिना पैसा सरकार चलेगी .
- इस सरकार क़ी सबसे बड़ी कामयाबी यह हे क़ी सीना ठोक कर मन्हगाई बड़ी , सरकार रोज रोज मंहगाई बड़ ने से खुश हुई . उन्हें शर्म्म नही आई . सरकार के मंत्रियों ने बयाँ दे कर इसका स्वागत किया . जायज बताया . और भी बदने क़ी कामना क़ी . जेसे क़ी इन मंत्रियों को मन्हगाई में से कमीसन मिल रहा हो .वह रे मंत्रियों तुमने बहुत लुटवाया जनता को .
- भ्रस्टाचार
- आतंकवाद
- नक्सलवाद 
- बेरोजगारी 
- गरीवी
- बी पी एल को कार्ड नही 
- इलाज अमीरों का मोत गरिवो क़ी  
वर्शोएँ से यह मुद्दे जनता के हें . यथावत बने हुए हें . कांग्रेस हमेशा गरिवो क़ी बात करती हे मगर भूल कर भी गरिवो दो जून क़ी रोटी भरपेट नही खा ले यह द्यान रखती हे . गरीवी के नारे कई दसको  से गुज रहे हें मगर गरिवो क़ी संखया में निरंतर बडोतरी हुई हे
- योजना आयोग भूखे पेट पर लत मरने वाले पापी कहें जायेंगे .इन्होने गरिवो को गरीव शब्द  से भी बहर कर दिया ये स्टेट क़ी सरकारों को भी पहले से गिनती तय कर के देते हें क़ी आप के यहाँ इतनी संख्या में बी पी एल कार्ड बनेंगे . राजस्थान क़ी सरकार को तो मजबूर हो कर स्टेट बी पी एल बनाने पद रहे हें . भगबान योजना आयोग को गरीव क़ी रोटी छीन  ने के पाप से कभी मुक्त नही करेगा . अवश्य इन्हें दंड मिलेगा .
कुल मिला कर इन ६ सालों  क़ी एक ही उपलब्धी हे तरसती जनता और तरसता गरीव
अरविन्द सीसोदिया
राधा क्रिशन मंदिर रोड ;
ददवारा , कोटा .
राजस्थान . . .. .      .  

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें