सोमवार, 13 सितंबर 2010

हिन्दुओं को सलाह, हिंसा के खिलाफ चुप

हिंसक  तत्वों को सझायें...,
हिन्दुओं को  सलाह देना बंद  करें.., 
- अरविन्द सीसोदिया 
 भारत में शांतचित्त हिन्दुओं को हर कोई सलाह देता नजर आता है.., आरोप लगाता नजर आता है..., पर-उपदेश कुशल बहुतेरे..! जरा गिरेवान के अन्दर झाँक कर भी तो देखो.., इस्लामिक हिंसा  के खिलाफ आप चुप, नक्सली  हिंसा  के खिलाफ आप चुप.., अन्य बहुत सारे उग्रवाद  चल रहे हैं उनके खिलाफ चुप.., हिन्दू के खिलाफ सारे तीर  और तरकश तैयार  हैं...!!
शत्रु राष्ट्र के प्रवक्ता  ...
     फिल्म अभीनेता  सलमान खान ने  पाकिस्तानी टी वी चॅनल एक्सप्रेस २४/७ में साक्षात्कार देते हुए कहते हैं कि " मुम्बई हमलों को इतना  तूल इसलिए दिया गया कि वह कुलीन वर्ग से सम्बन्धित था | उन्होंने साक्षात्कार के दौरान कहा कि पांच सितारा होटलों और अन्य जगहों को निशाना बनाया गया इसलिए हायतौवा  मची | सलमान ने कहा छोटे शहरों और ट्रेनों में अक्सर हमले होते रहते हैं , उनके बारे में कोई बातचीत नहीं करता.., लेकिन यह हमला ताज और ओवेराय पर हुआ | "
 " हर कोई जानता है कि इन धमाकों के पीछे पाकिस्तान का हाथ नही था, यह पूरी तरह एक आतंकी हमला था, हमारी सुरक्षा  प्रणाली  फेल हुई है | पहले भी कई धमाके हो चुके थे, लेकिन इन सबके लिए पाक सरकार को दोषी नहीं ठहराया जाना चाहिए |  "
सलमान गिरिफ्तार  किया जाये..
  मेरा मानना है कि यह बयान सबसे पहले तो भारत सरकार को ही कटघरे में खड़ा करता है, फिर राज्य सरकार को और सुरक्षा एजेंसियों को भी झूठ बोलने बाला ठहरता है..! अमीर और गरीव वर्ग के बीच एक खाई  खडी  करने  कि द्रष्टि से दिया गया है और यह बहुत ही सोची समझी चाल है जिसे नजर अंदाज नही किया जाना चाहिए...! सलमान खान के विरुध मुकदमा   दर्ज कर उन्हें  राष्टद्रोह में गिरफतार किया जाना चाहिए..!
दिग्विजय सिंह 
कश्मीरी हिंसा  पर भी बोलो...
       कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव दिग्विजय सिंह ने अयोध्या मसले पर आने वाले संभावित फैसले को लेकर हिंदूवादी संगठनों पर हिंसा भ़डकाने की साजिश रचने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा है कि विश्व हिंदू परिषद (विहिप) और बजरंग दल जैसे संगठनों द्वारा बैठकें की जा रही हैं, अफवाहें फैलाई जा रही हैं और एमएसएस किए जा रहे हैं ताकि  साम्प्रदायिक सौहार्द बिग़ाडा जा सके।
    ... यह सही है कि दिग्विजय सिंह कांग्रेस के महासचिव  हैं और उन्हें कांग्रेस की गाईड लाइन से बोलना चाहिए, में भी प्रवक्ता रहा हूँ और इस तथ्य को समझता हूँ .., मगर इस का अर्थ यह भी नहीं है कि द्वेष की भावना से या एक तरफ़ा कुछ तो भी बोलो.., कश्मीर में लगातार हिंसा  है.., वहां पुलिस और सेना  को निशाना बनाया जा रहा है..,  नवालिग़ बच्चों का उपयोग किया जा रहा है, एस एम एस और एम एम एस का भारी उपयोग किया गया , आतंक का कहर क्या होता है, इसका वह उदाहरण है.., मगर मुझे कांग्रेस या दिग्विजय  सिंह का एक भी बयान , इस हिंसा की  ठीक ढंग से निंदा करने बाला पढने को नहीं मिला.., यह भेदभाव क्यों.., असली आतंवाद और हिंसा  के खिलाफ तो बोलती बंद.., असली साम्प्रदायिकता के खिलाफ जुबान बंद..,  विश्व हिंदू परिषद (विहिप) और बजरंग दल जैसे संगठन  बैठकें भी करें तो उस  पर भी  आपत्ती .., क्या ये पाकिस्तान जा कर बैठकें करेंगें.., यह कहाँ का न्याय है.., देश भर में श्री राम जन्म भूमि मंदिर निर्माण के लिए, जन्म स्थान भूमि  हिन्दुओं को दी जाये , इस हेतु जन जागरण हो रहा है उसमें हनुमान चालीसा का पाठ किया जा रहा है.., शांतीपूर्ण पाठ पर आपको आपत्ति है, जहाँ हिंसा  का कहर वरष  रहा है , वहां आपसे कुछ होता नहीं है, चूडिया पहनने के अलावा क्या रास्ता है अब केंद्र सरकार के पास..!   
सोमनाथ पेटर्न पर
श्रीराम जन्मभूमि  मुक्त्त हो..,
  श्रीराम जन्मभूमि  मुक्ति का आन्दोलन बहुत लम्बे समय से चल रहा है..,यह स्थान हिन्दुओं का लाखों  वर्ष पूर्व से है.., यह हिन्दू आस्था और विश्वास का मामला हे , इसको अदालत के निर्णय पर नहीं छोड़ा जा सकता.., यह स्थान हिन्दुओं पर ही था ,इसे अदालत का विषय  कांग्रेस कि गलत नीतियों  के कारण बनाया गया.., श्रीराम जन्मभूमि को लेकर जो भी साम्प्रदायिकता की गई वह कांग्रेस कि और से उनके नेताओं के की हैं , श्री रामलला प्रगट हुए तब भी कांग्रेस का राज था , आरती की स्विक्रती दी गई तब भी कांगेस का राज था , ताले लगाते समय और खोलते समय भी कांग्रेस की ही भूमिका थी , भूमि  पूजन कि स्वीकृति  में भी कांग्रेस थी , अपनी राजनीति का खेल श्रीराम लला को कांग्रेस ने बना रखा है.., आपने मुसलमान को लगातार छला है जबकि यह पहले ही दिन से मालूम है कि यह स्थान हिन्दुओं का है..,    इस मामले को उलझाने के लिए वे ही जिम्मेवार हैं , उन्हें देश से माफ़ी मांगते हुए यह स्थान संसद से एक कानून बना कर हिन्दुओं को सौंप  देना चाहिए, यही बाद में आप करोगे भी..!!
  इस मशले का हल सोमनाथ पेटर्न  पर होना चाहिए था उसे जवाहरलाल जी नेहरु ने उलझाया.., सर्वोच्च न्यायालय  यदी यह स्थान हिन्दुओं को नहीं सौंपेगा तब भी यह आन्दोलन चलेगा और तब तक चलता रहेगा, जब तक कि यह स्थान हिन्दुओं को  मिल नहीं जाता.., सर्वोच्च न्यायालय के फैसले को भी जब संसद शाहबानों प्रकरण में मुश्लिम दवाव में बदल सकती है, तो श्रीराम  जन्मभूमि के संदर्भ में भी स्पष्ट है कि यह स्थान जन्म स्थान है और उसे  हिन्दुओं को देना ही होगा ,चाहे वह न्यायालय के रास्ते या संसद के रास्ते..,,
जावेद साहब  आप जिहाद पर भी
कुछ साफ़ साफ़ बोले ...., 
     जावेद अख्तर शायर हैं , फिल्मीगीतकार  हैं , तीखी   टिप्णीयों  के लिए विख्यात हैं .., १३ सितम्बर २०१० दैनिक भास्कर के स्तम्भ 'आज का ट्वीट 'में उनका विचार प्रकाशित हुआ है..,
   "...कट्टर पंथी  वह व्यक्ति होता है , जो न तो  किसी मामले पर अपनी राय में बदलाव ला सकता है और न ही बहस का विषय बदलना चाहता है | "
  मुझे पता नहीं है कि उन्होंने  यह बात किसा संदर्भ में कही है , मगर इतने प्रखर व्यक्ती को यह सलाह जरुर दूंगा कि वे जिहाद के विषय में अवश्य अपने स्पष्ट विचार विश्व  के सामनें रखें...!! जेहाद की हिसा पूरे विश्व में सभी धर्म और पंथों के लोगों को त्रस्त कर रही है..! हो सकता है कि आप की सलाह से कुछ सुधार हो..!  
दूसरों को उपदेश देना बहुत आसान है..!
अख्तर  साहब दम होतो कश्मीर में जाकर हिंसा बंद  करवाओ..,
नक्सलवाद की हिंसा ने सबके पर होश  उड़ा  रखे हैं .., कुछ करके दिखाओ.., उग्रवाद के और भी क्षैत्र हैं .., यहाँ शांती की जरुरत है..!
मेरा पुर जोर आग्रह है कि हिन्दुओं को सलाह देना अब बंद करें , जिनके हाथों में बम हैं , बंदूकें हैं , पत्थर हैं , उन्हें रोकें उन्हें सलाह दें, हिन्दू तो बहुत समझ रखता है , इसी से जो देखो वो बोल देता  है..! 

1 टिप्पणी: