सोमवार, 20 दिसंबर 2010

डंडा और बेंत : अधिवेशन खिसयाहट

- अरविन्द सीसोदिया
कांग्रेस : मुर्गों को लड़वाओ ; वोट बैंक बनाओ
मुसलमान को डरानें  के लिए हिन्दू का भय खड़ा करना 
कांग्रेस का महा अधिवेशन हुआ , अधिवेशन में अपनी अपनी परिपक्वता पूरी पूरी बघारी जाती है , सो यही यहाँ हुआ ! हम पूरी तरह  योग्य हैं , विपक्ष बेबकूफ है इतना ही नहीं अपराधी भी है... यह साबित करने की कोशिस की गई ... मगर ताज्जुब यह है कि सरकार आपकी है , सीबीई आपकी है अपराधी हैं तो जेल में क्यों नहीं डालते ...! प्रतिबंधित क्यों नहीं करते ! रिपोर्ट क्यों नहीं लिखाते  , अदालत क्यों नहीं जाते ! मुसलमान अब समझनें लगा है उसनें बिहार में मुस्लिम बहुलता के द्वारा ही सबसे ज्यादा बीजेपी को ही आगे बढाया है ! करारी हर के सामने हुआ यह अधिवेशन खिसयाहट युक्त था |
         यूं तो मुसलमान को डरानें   के लिए हिन्दू का भय खड़ा करना कांग्रेस की पुरानी आदत है | हिन्दू और मुसलमानों में एक न हो जाये यही कोशिस करना कांग्रेस का एजेंडा है ! यही सब कुछ अंग्रेज अपना राज बनाये रखने के लिए करते थे ! राज हम करेंगे तुम डरते और लड़ते रहो ...! बिहार के बाद ये बोखला गये .., मानसिक संतुलन खो बैठे हैं .., अनर्गल कुछ तो भी बके जा रहे हैं ..!
भाषा देखिये :- डंडा और बेंत : कौन है फासिस्ट ..? 
.......भाजपा व संघ के लोगों से डरने की भी जरूरत नहीं है। ये गीदड़ भभकी देते हैं। डंडा लेकर खड़े हो जाइए तो ये भाग जाएंगे नहीं तो ये लोग आपके सिर पर आ बैठेंगे। इसलिए इनका डटकर मुकाबला कीजिए। .
.और उन्होंने आगे बोलते हुए कहा 
'सोनियाजी मंत्रियों को बेंत लगाइए'
दिग्विजय सिंह ने सरकार में शामिल पार्टी के मंत्रियों पर कार्यकर्ताओं के प्रति बेरूखी का आरोप लगाया और पार्टी अध्यक्ष से अपील की कि वह इन अडियल मंत्रियों को बेंत लगाएं। सिंह ने पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी के भाषण में मंत्रियों को दी गई नसीहत पर यह तीखी टिप्पणी की, जो कई मंत्रियों को नागवार गुजरी।

भ्रष्टाचार , महंगाई और निर्धनता के लिए कोरे शब्दों के अलावा कुछ भी नहीं था ! 

1 टिप्पणी: