शुक्रवार, 17 दिसंबर 2010

राहुल गांधी : विकिलीक्स : अमरीकी गिरफ्त : धार्मिक वैमनस्य


- अरविन्द सीसोदिया 
विकिलीक्स के हो रहे खुलासों कि जद में अब कांग्रेस के राजकुमार भी आगये हैं , जो एक ८५ प्रतिशत हिन्दू बहुल देश के प्रधान मंत्री का ख़ाव सजाये हुए हैं ..और उसी समुदाय को बेवजह भयानक दोषों के लिए गरिया रहे हैं..? 
 ....और अब यह भी पाता लग गया है कि कांग्रेस के कई नेता गण बार बार हिन्दुओं को आतंकवादी क्यों कह रहे थे .. चाहे वे दिग्विजय सिंह हों या चिदम्बरम हों या प्रणव हों .... क्यों कि यह गाइड लाइन राहुल गांधी कि तय कि हुई थी ...! राहुल को यह गाइड लाइन किसके द्वारा तय करवाई इसके लिए हमें भारत के बाहर उन ताकतों की और संदेह करना होगा जिनके सम्पर्क में राहुल हो सकते हैं ...!
...जांच की बात यह है कि राहुल ने २६ / ११ के इतनें भयानक मुम्बई हमले की छाया में भी इस्लामिक आतंकवाद या पाकिस्तान के प्रति कड़ी प्रतिक्रिया के बजाये सामान्यतः शांत हिन्दू सम्प्रदाय की आलोचना क्यों की ...? जबकी उनके ही  दल की  राज्य सरकार ने इस हमले को पाकिस्तान प्रेरित आतंकवादी हमला करार दिया था ..! कुछ समय के लिए पाकिस्तान के उस गाँव से लाइव तेली कास्ट भी हुआ था जिसका रहने वाला कसाव था..! बाद में हेडली ने तो सब कुछ अमरीकी पुलिस के सामने उगल ही दिया है ! अब भी हिन्दू आतंकवाद कि रत कहीं सच मच में ही हिन्दू को आतंकवाद की राह न दिखादे ..!  
****
समाचार चैनल 'टाइम्स नाउ' के मुताबिक विकिलीक्स के ताजा खुलासे से यह बात सामने आई है कि राहुल गांधी ने अमेरिकी राजदूत टिमोथी जे. रोमर से कहा था कि देश को सबसे ज्यादा खतरा भगवा आतंकवाद से है। इस बातचीत में राहुल गांधी ने अमेरिकी राजदूत से कहा था, 'लश्कर-ए-तैयबा जैसे इस्लामी आतंकवादी संगठनों को कुछ मुसलमानों का समर्थन मिला हुआ है, लेकिन देश को उससे बड़ा ख़तरा तेजी से पांव पसार रहे कट्टरपंथी हिंदू संगठनों से है। ये संगठन धार्मिक तनाव और राजनैतिक वैमनस्य पैदा कर रहे हैं।' तीन अगस्त 2009 को भेजे गए इस गोपनीय अमेरिकी राजनयिक संदेश में रोमर ने 20 जुलाई 2009 को राहुल के साथ दोपहर भोज के दौरान हुई बातचीत का ब्यौरा दिया है। इसके अनुसार राहुल गांधी गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी जैसे बीजेपी नेताओं द्वारा फैलाए जा रहे तनाव का जिक्र कर रहे थे। इसमें कहा गया था कि देश के भीतर इस्लामी समूहों की ओर से हो रहे आतंकी हमलों की प्रतिक्रिया में हिंदू चरमपंथ के उभरने का खतरा एक बड़ी चिंता का विषय है जिस पर ध्यान दिए जाने की जरूरत है। बीजेपी ने राहुल गांधी के इस स्टैंड की निंदा की है और कहा है कि इस तरह का बयान नासमझी भरा है।
-- यह समाचार नवभारत टाइम्स का है जिसे पूरा नीचे दी गई वेव पाते पर पढ़ा  जा सकता है ...

**** एक अन्य समाचार जो लन्दन से आया है ..
अमरीकी गिरफ्त में कांग्रेसी राजकुमार
    लंदन १७  दिसंबर २०१०(वार्ता) अमेरिका ने भारत में अपना प्रभाव बढाने के लिए कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी सहित विभिन्न दलों के युवा सांसदों से सम्पर्क साधा था | अमेरिकी राजदूत टिमोथी रोमर द्वारा वाशिंगटन भेजे गये राजनयिक संदेशों में कहा गया था कि श्री गांधी के जरिये युवा सांसदों को अमेरिका के प्रभाव में लाया जा सकता है | श्री रोमर ने तीन अगस्त 2009 को भेजे गये अपने संदेश में कहा.. श्री गांधी राजदूत के साथ सम्पर्क के इच्छुक हैं तथा भारत के साथ रणनीतिक संबंधों को आगे बढाने में एक मुख्य सूत्रधार बन सकते हैं | संवाद भेजने के पहले 20 जुलाई को उनकी श्री गांधी से प्रधानमंत्री आवास पर बातचीत हुई थी | प्रधानमंत्री डा. मनमोहन सिंह ने भारत यात्रा पर आई अमेरिका की विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन के सम्मान में दोपहर का भोज दिया था जिसमें राजदूत और श्री गांधी अगल.बगल बैठे थे तथा दोनों के बीच विभिन्न मुद्दो पर बातचीत हुई थी | इंटरनेटसाइट विकीलीक्स द्वारा जारी किये इन सनसनीखेज संदेशों को ब्रिटिश अखबार .गार्डियन. ने प्रकाशित किया है |
***
3038 गोपनीय अमेरिकी दस्तावेजों में से एक है....रोमर ने भारत के युवा नेताओं तक पहुंच बनाने की आवश्यकता पर जोर दिया . उन्होंने कहा , ‘‘हम उनसे राहुल तथा सांसदों की नयी पीढी के अन्य होनहार युवा नेताओं से बातचीत के अन्य अवसर चाहेंगे .’’ इसमें कहा गया , ‘‘राहुल ने बताया कि नई संसद के लिए हाल में हुए चुनाव में 60 सदस्य या तो 45 साल या फ़िर इससे कम उम्र के हैं .’’ विकीलीक्स द्वारा जारी किया गया यह संदेश उन 3038 गोपनीय अमेरिकी राजनयिक दस्तावेजों में से एक है जो दिल्ली से भेजे गए थे . यह वेबसाइट अमेरिका के ढाई लाख गोपनीय अमेरिकी दस्तावेज जारी कर रही है जिनमें से 5087 भारत के संदर्भ में हैं .

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें