रविवार, 13 मार्च 2011

जापान : वक़्त की सुनामी



- अरविन्द सिसोदिया
जापान में सुनामी में बहुत ही बड़ा कहर ढाया है , हजारों लोग काल के गाल में समा गए हैं , बेघर और घायलों ही की संख्या असंख्य है....दुःख और पीड़ा की इस घड़ी में हम क्या कर सकते हैं ..? हम ईश्वर से प्रार्थना करें उनके दुखों का शीघ्र अंत हो और वे पुनः अपना सुखी जीवन प्रारंभ कर सकें ..! प्रार्थना में बहुत दम होती है ..! * १९६५ की मशहूर फिल्म 
 फिल्म -  
वक़्त 
गीत - साहिर  
आवाज - मोहम्मद रफी 
संगीतकार - रवि
http://www.lyricsindia.net/songs/show/2454   
वक़्त से दिन और रात
वक़्त से कल और आज
वक़्त की हर शह ग़ुलाम
वक़्त का हर शह पे राज

वक़्त की पाबन्द हैं
आते जाते रौनके
वक़्त है फूलों की सेज
वक़्त है काँटों का ताज
वक़्त से दिन और रात   ...

आदमी को चाहिये
वक़्त से डर कर रहे
कौन जाने किस घड़ी
वक़्त का बदले मिजाज़
वक़्त से दिन और रात   ...
-----
vaqt se din aur raat
vaqt se kal aur aaj
vaqt kii har shah Gulaam
vaqt kaa har shah pe raaj

vaqt kii paaband hai.n
aate jaate raunake
vaqt hai phuulo.n kii sej
vaqt hai kaa.NTo.n kaa taaj
vaqt se din aur raat   ...

aadamii ko chaahiye
vaqt se Dar kar rahe
kaun jaane kis gha.Dii
vaqt kaa badale mijaaz
vaqt se din aur raat   ...
----
समाचार 
टोक्यो। जापान में शुक्रवार को शक्तिशाली भूकंप और उसके बाद आई विनाशकारी सुनामी ने भारी तबाही मचाई है। रिक्टर पैमाने पर 8.9 तीव्रता के भूकंप का केंद्र देश के उत्तरपूर्वी तट से 125 किमी दूर समुद्र में 10 किमी की गहराई में स्थित था। देश में पिछले 140 साल में आया यह सबसे भीषण भूकंप था। इसके असर से समुद्र में 33 फुट से ज्यादा ऊंची लहरें उठीं। 
कई किलोमीटर से ज्यादा चौड़े पानी के तेज बहाव में कारें, घर और बड़े-बड़े शेड ऐसे बहे जा रहे थे जैसे कोई कागज पर पेंसिल से बने शहर को इरेजर से मिटा रहा हो। इस विनाशलीला में सैकड़ों लोगों के मारे जाने की आशंका है। अकेले सेंदाई शहर में 300 शव बरामद किए जा चुके हैं। जापान की स्थानीय न्यूज एजेंसी के अनुसार प्रभावित इलाके के 11 परमाणु केंद्रों को बंद कर दिया गया है। फुकुशिमा प्रांत में एक परमाणु बिजली केंद्र में पहले रेडियोएक्टिव विकिरण की आशंका जताई गई थी लेकिन बाद में जापान ने इससे इंकार किया। इसके बावजूद वहां रहने वाले 2000 लोगों को हटा लिया गया है और देश में परमाणु आपातकाल लागू कर दिया गया है। एक तेल रिफाइनरी और स्टील प्लांट में आग लगने की सूचना है। दुनिया भर के तमाम देशों ने मदद के लिए हाथ बढ़ाया है। जापान के प्रधानमंत्री नाओतो कान ने कहा कि भारी नुकसान हुआ है। प्रभावित इलाकों में सेना तैनात कर दी गई है। बचाव और राहत के लिए 900 दल तैनात कर दिए गए हैं। राजधानी टोक्यो से 380 किमी उत्तर पूर्व में तड़के 2.46 मिनट [भारतीय समयानुसार सुबह 6.15 बजे] पर आए भूकंप के बाद बहुत देर तक इसके झटके महसूस किए गए। इसका असर इतना ज्यादा था कि टोक्यो के नजदीक एक सड़क टुकड़ों में बंट गई। देश के उत्तरपूर्व में कई बिल्डिंगें धराशायी हो गईं। सुनामी प्रभावित तटीय इलाके में यात्रियों से भरी एक ट्रेन का भी कुछ पता नहीं चल रहा। 100 लोगों को ले जा रहा एक जहाज भी गायब है। भूकंप के बाद कम से कम 80 जगहों पर आग लगने की घटनाएं हुई हैं। देश के इस इलाके में पिछले कुछ दिनों में कई भूकंप आ चुके हैं। पिछले बुधवार को ही 7.3 तीव्रता का भूकंप आया था। आपदा प्रभावित उत्तरपूर्व में 44 लाख घरों में बिजली की आपूर्ति ठप हो गई है। सेंदाई शहर में एक होटल के जमींदोज होने की खबर है जिसके नीचे काफी लोगों के दबे होने की आशंका है।
टोक्यो के उपनगरीय इलाकों में कई इमारतों से आग के लपटें और धुएं के गुबार निकल रहे थे। उत्तर की ओर जाने वाली सभी बुलेट ट्रेनों को रोक दिया गया। टोक्यो की भूमिगत ट्रेन सेवा भी ठप हो गई जिसकी वजह से हजारो लोग अपने घरों तक नहीं पहुंच पाए। जापान की मौसम विज्ञान एजेंसी ने देश के प्रशांत महासागर से लगे पूरे तटीय इलाके में सुनामी चेतावनी जारी कर दी है। जापान के उत्तरपूर्वी तट से चली सुनामी 6200 किमी दूर अमेरिका के हवाई द्वीप तक पहुंच गई है। 
इससे पहले सुनामी ने फिलीपींस के तट को छुआ। इस प्राकृतिक आपदा के बाद ताइवान, न्यूजीलैंड और ऑस्ट्रेलिया के लिए जारी चेतावनी वापस ले ली गई है।


आठ की तीव्रता से आए 
भूकंपों पर एक नजर
=जापान के पूर्व तटीय होंशु द्वीप पर शुक्रवार को रिक्टर पैमाने पर 8.9 की तीव्रता से आए भूकंप की वजह से भारी नुकसान हुआ।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें