गुरुवार, 7 अप्रैल 2011

गणगौर



---
गोर गोर गोमती
ईश्वर पूजे पार्वती 
पार्वती का आला लीला
गोर को सोना का टीला
टीला दे टपका रानी
व्रत करे गोरा दे रानी
करते-करते आस आयो मास आयो
खेडे खाण्डे लाडू आए 
लाडू ने बीरा ने दियो बीरो लेम्हेन साड़ी
साड़ी में सिंगोड़ा बाड़ी में बिजोरा
राण्या पूजे राज मेंन्हका सवाग में
स्वाग भाग कीड़ी ये, कीड़ी थारी जात है
जात पड़े गुजरात है
गुजरात्यारो पाणी आयो
दे दे खूटया ताणी आयो
आँखा फूल कमल की डोरी

------
खेलन देओ गणगौर, पूजन देओ गणगौर, भँवर म्हाने पूजन खेलन देओ गणगौर। राजस्थान में आजकल हर गली-मोहल्ले चौबारे में यह गीत सुनने को मिल जाएगा। यह है रंग-रंगीले राजस्थान की लोक संस्कृति की एक बानगी। जब मेले-त्योहार की बात चले और राजस्थान का नाम जुबाँ पर नहीं आए, यह तो हो नहीं सकता। आखिर राजस्थान का दूसरा नाम है ही लोक संगीत, त्योहार और मेले। 

चैत्र मास में रंगों का त्योहार होली दहन के दूसरे दिन से ही सजी-धजी चहकती नवयौवनाएँ सोलह श्रृंगार किए नवविवाहिताएँ उमंग उल्लास से एक-दूसरी सहेली से हँसी- मजाक ठिठोली करते हुए 'बाड़ी ताला बाड़ी की किवाड़ी खोल, छोरियाँ आई दूब ने, थे कुणजी री बेटी हो, थे कुणजी री भैणा हो, काई थारो नाम है, म्हे बिरया दासजी री बेटी हूँ, रोवा म्हारो नाम है' लोकसंगीत गाती हुई मिल जाएँगी। 

नवयौवनाएँ कन्याएँ तथा विवाहिताएँ अपने कलश को दूब और रंगीले फूलों से सजाते हुए अपने अंदाज में अपने भँवर को लेकर मजाक करती हुई गीत गुनगुनाती रहती हैं। पानी भरे कलश को हरी-हरी दूब से सजाकर इठलाती हुई बगीचे से गौर (पार्वती) और ईसर (शिव) को पूजने के लिए चल पड़ती हैं। 

किंवदंती है कि युवती जिस भावना के साथ गणगौर की पूजा करेगी, उसको वैसा ही प्रियतम मिलेगा। नवविवाहित महिलाएँ अखंड सौभाग्य व सुहाग और नवयौवनाएँ इच्छित वर प्राप्ति के लिए सोलह दिन तक गणगौर पूजती हैं। गणगौर पूजने के पहले दिन महिलाएँ, नवयौवनाएँ मिट्टी के एक बर्तन में जौ और गेहूँ बोती हैं। सोलहवें दिन वे इन्हीं ज्वारों से गौर व ईसर की पूजा करती हैं। 

एक पखवाड़े तक नियत समय पर ईसर-गौर की पूजा करके महिलाएँ अपने अमर सुहाग और नवयौवनाएँ मनचाहा पति पाने की कामना करती हैं। नवयौवनाएँ गौरा को अपनी बहन और ईसर को अपना जीजासा मानकर पूजा करती हैं।

गणगौर से एक दिन पहले लड़कियों एवं महिलाओं का सिंजारा होता है। इस दिन महिलाएँ सोलह श्रृंगार में सजी-धजी नजर आती हैं। सिंजारे पर नवविवाहितों के मायके से कपड़े और मिठाई आती है तो सगाई हो चुकी युवतियों के ससुराल से कपड़े और मिठाई, गुणे, घेवर भेजने का प्रचलन है।

गणगौर के दिन सजी-धजी कुँवारियाँ, सोलह श्रृंगार किए नवविवाहिताएँ एवं महिलाएँ गौरा-ईसर की पूजा करती हैं। गणगौर के दिन आम प्रचलित लोकगीत गाया जाता है, जिसमें नायिका अपने प्रियतम (भँवर) से गणगौर पूजने जाने का अनुरोध करती हुई गाती हैं 'खेलन देओ गणगौर, भँवर म्हाने खेलन देओ गणगौर, म्हारी सहेल्याँ जोवै बाट, भँवर म्हाने खेलन देओ गणगौर.... 

राजस्थान में जोधपुर, जयपुर, किशनगढ़, उदयपुर, नाथद्वारा में गणगौर मनाए जाने की अलग- अलग परंपराएँ हैं। गुलाबी नगरी जयपुर में अकेली गौर (गणगौर) की सवारी निकलती है। इतिहासविदों के अनुसार रजवाड़ों के शासन में जयपुर में ईसर गणगौर की सवारी निकलते समय किशनगढ़ के नरेश नीले अश्व पर ईसर की प्रतिमा जबरन उठाकर ले गए थे। तभी से जयपुर में गणगौर की अकेली सवारी निकलती है।

किशनगढ़ में ईसर-गणगौर की सवारी निकलती है। करीब दो दशक पूर्व किशनगढ़ में गणगौर पर्व पर एक पखवाड़े तक घूमर सहित अन्य सांस्कृतिक आयोजन होते थे, लेकिन पूर्व महाराजा सुमेरसिंह की हत्या के बाद से अब केवल गणगौर-ईसर की सवारी ही निकलती है।

जयपुर में गणगौर की सवारी देखते ही बनती है। पूरे शाही लबाजमे में कड़े सुरक्षा प्रबंधन के बीच गणगौर की सवारी निकलती है। भारत की संस्कृति से रूबरू होने के लिए हर साल हजारों देशी एवं विदेशी पर्यटक गणगौर के पर्व पर जयपुर आते हैं। 

इतिहासविदों के अनुसार उदयपुर में राज परिवार की ओर से गणगौर का पर्व शानदार ढंग से मनाया जाता है। पूरे लबाजमे से पूर्व राज परिवार के निवास से गणगौर की सवारी निकलकर पिछौला झील तक जाती है। पिछौला झील पहुँचने पर गणगौर को नौका विहार करवाया जाता है। 

नाथद्वारा में एक सप्ताह तक गणगौर समारोह मनाया जाता है। हर दिन गणगौर अलग श्रृंगार में नजर आती है वहीं जोधपुर में गणगौर पर्व पर ईसर गौर की सवारी निकलती है। नाथद्वारा में गणगौर पर्व की खासियत है कि गणगौर प्रतिमा को जिस रंग के वस्त्र धारण कराए जाते हैं उसी रंग के कपड़े में आम जन भी नजर आएँगे। 

इतिहासविदों के अनुसार गरासिया भील जाति में मौजूदा समय भी गणगौर पर्व पर स्वतंत्र रूप से अपना जीवन साथी चुनने की परंपरा है। यह परंपरा अभी भी जारी है। भील समाज की जाति पंचायत भी इसको स्वीकार करती है। 

सोलहवें दिन गणगौर की पूजा के बाद शाम को गणगौर को विसर्जन करने के बाद लौटते हुए 'गोरल ए तू आच्छी आ पाछी आ तनै बासई बिमला याद करे'। उदास मन से गाती हुई अपने घरों को लौट जाती हैं। 

प्रदेशभर में गणगौर पूर्व रियासत काल से मनाए जाने की परंपरा चल रही है। राज्य सरकार के पर्यटन विभाग ने कुछ साल पूर्व धूमधाम से इसे मनाए जाने की योजना तैयार की, लेकिन यह योजना अमली जामा नहीं ले सकी।

-------
राजसमन्द। राजसमन्द नगरपालिका के तत्वावधान में आयोजित राजस्थान के प्रमुख लोक पर्व गणगौर महोत्सव के पहले दिन राजसमन्द जिला मुख्यालय पर चून्दडी गणगौर सवारी परम्परागत रूप से पूरी शान-शौकत एवं धूमधाम से निकाली गई। सवारी देखने नर-नारियों की भीड उमड पडी।
गोधुली वेला से पूर्व ढलते सूरज की लाल, पीली रोशनी के बीच प्रभु द्वारिकाधीश मंदिर से श्रंृगारित गणगौर एवं सुखपाल में बिराजित भगवान श्री द्वारिकाधीश की सवारी ने मेला स्थल के लिए प्रस्थान किया तो वहां उपस्थित हजारों श्रद्धालुओं ने जयघोष कर वातावरण को गुंजायमान कर दिया।
शोभायात्रा में सबसे आगे ढोल नंगाडे, हाथी एवं उसके पीछे ऊंट पर स्थापित नंगाडे की गूंज सवारी देखने की प्रतिक्षा में मार्ग में खडे आबाल नर-नारियों को अधीर कर रहे थे। सवारी में सम्मिलित बडी संख्या में नन्हीं विद्यालयी बालिकाएं लहंगा लुंगडी पहने सिर पर जल कलश लिए होले-होले डग भरती शोभायात्रा को शोभायमान कर रही थी। वहीं शिव-पार्वती व राधा कृष्ण सहित विभिन्न देवी-देवताओं की आकर्षक झांकिया लोगो की धार्मिक आस्था को प्रगाढ बना रही थी। सवारी में ऊंट गाडियों पर सजी इन झांकियों ंमें धार्मिक एवं लोक संस्कृति को भी प्रदर्शित किया गया। सवारी के मध्य बग्गी एवं रथ पर कास्ट से बनी विभिन्न गणगौर प्रतिमाएं चून्दडी परिधानों में सजी अपनी अलग ही छटा बिखेर रही थी। परम्परानुसार सवारी में मंदिर निशान लिए घुडसवार, फौज पलटन थी जो रियासत काल की परम्परागत शाही गणगौर सवारी की याद ताजा कर रही थी वहीं दूसरी ओर ढोल नंगाडे एवं कच्छी घोडी नृतक अपनी नृत्यकला प्रदर्शनी से विशेष कौतूहल का नजारा लिए हुए थे।
सुखपाल में बिराजित भगवान द्वारिकाधीश को कंधे पर उठा चंवर ढुलाते श्रृद्धालु साथ चल रहे थे। नगर के वृद्धजन एवं युवा सहित चून्दडी की मेवाडी पाग व अंगर की पहने गले में गमछा डाले चल रहे श्रृद्धालु के रह रहकर गिरिराज धरण की जय, जय बोल श्री राधे.. पूछडी के लौठे की हूक बोल मेरे प्यारे.. के जयघोष से वातावरण गूंज रहा था। सवारी को देखने के लिए मार्ग के दोनो ओर तथा मकानों की छतों पर श्रृद्धालुओं की भीड जमा थी।
शोभायात्रा में पारंपरिक वेशभूषा में नगरपालिका चैयरमेन श्रीमती आशा पालीवाल, कांग्रेस के वरिष्ठ जिला उपाध्यक्ष प्रदीप पालीवाल, नगरपालिका उपाध्यक्ष अर्जुन मेवाड़ा नगरपालिका आयुक्त दिनेश कुलश्रेष्ठ सहित पार्षद एवं विभिन्न समाजों के प्रतिनिधि एवं नगरवासी साथ चल रहे थे। सवारी के कांकरोली सब्जी मंडी पहुंचने पर वहां स्थित सुखपाल की छतरी में प्रभु द्वारिकाधीश ने कुछ पल के लिए विश्राम किया। इस छतरी को विशेष रंगोली व विद्युत साज सज्जा में सजाया था। सवारी में शामिल घुडसवार, पालकी, एवं नृत्य रत घोडे के अलावा सेठ-सेठानी के प्रतिकों ने भी दर्शकों को मोहित किया। रंग-बिरंगी आकर्षक रोशनी से लकदक मेला प्रांगण में सवारी के पहुंचने पर धर्मप्राण महिलाओं ने गणगौर की पूजा कर झाले दिए तथा पारंपरिक गीत भंवर म्हाने पूजन दो गणगौर .. एवं म्हारी घूरम छै नखराली ओ माय घूमर रमवा ने जास्या के साथ .. घूमर नृत्य किया। मंच पर बिराजित प्रभु द्वारिकाधीश की पूजा अर्चना के बाद सवारी ने पुन: मंदिर के लिए प्रस्थान किया। सवारी के स्वागत में कांकरोली मुख्य चौपाटी पर विशाल स्वागत द्वार बनाया गया। इसके अतिरिक्त मेला प्रांगण के मुख्य द्वार तथा जगह-जगह कई स्वागत द्वार बनाए गए । मेला स्थल पर लगे हवाई झूले, डोलर व जादू खिलौने तथा चाट पकोडी का भी लोगों ने आनन्द उठाया। 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें