रविवार, 24 अप्रैल 2011

कांग्रेस अपनी गिरेवान में झांके....,हाय वोट हाय वोट


- अरविन्द सिसोदिया 
    कांग्रेस के एक महा सचिव कभी गुजरात के मुख्यमंत्री मोदी पर तो कभी संघ परिवार पर कोई न कोई आरोप लगते रहते हैं .., मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री पद से हटाने के बाद , कांग्रेस ने उनसे खूब कम लिया मगर दिया कुछ नहीं .., केंद्र सरकार में मंत्री बनाने का अवसर था कोई और ले उड़ा...! राजनीती में जिन्दा रहने के लिए सुर्ख़ियों में रहना जरुरी है ..? में एक बात आज तक नही समझ पाया की ....
१- जवाहर लाल नेहरु ने देश का विभाजन करावा दिया ., २० लाख लोग वे मौत मारे गए ..! १.५ करोड़ लोगों को घर छोड़ कर जाना पड़ा ..! जिन पर बीती उन्हें क्या दिया कांग्रेस नें ..! अपने सिंहासन की कीमत पर देशवासियों को बलि का बकरा बना डाला ...!! आजादी के नाम पर वंशवाद लाद दिया ..!! 
२- इदिरा गाँधी  ने देश में आपातकाल लगाया .., लाखों लोगों को जेलों में बंद होना पड़ा , हजारो निरदोष १८ - १८ महीनें जेलों में रहे ...!! मिसा लगा डी आई आर लगा ..!  आपातकाल में सिर्फ लोक तंत्र की ही हत्या नहीं हुई बल्कि जनता पर घोर जुल्म हुए .. किसी ने इन अपराधों की सजा क्यों नहीं पाई...!!!
३- राजीव  गाँधी के शासन में सिखों की हत्या का तांडव किसी से झुपा है ? एक भी व्यक्ति को आज तक सजा नहीं ..??? भारत की सेनाएं श्री लंका में अपने अधिकारों की लड़ाई लड़ने वाले तमिलों के खिलाफ भेजी गई .., वे कितनें मारे पता नहीं .., मगर हमारे सैनिकों ने जो बिना तुक के जान गवाई  उसका हिसाव कौन देगा ..!! 

कांग्रेस को पहले अपनी गिरेवान में झांक  कर देखना चाहिए ..., अंग्रेजों नें हिदू - मुस्लिम को मुर्गों की तरह आपस में लड़वाया  और अपनी सरकार चलाओ का खेल बहुत खेला .., यही खेल कांग्रेस खेल रही है ...!!!! नैतिकता और अपराध पर कम से कम कांग्रेस को तो बात करने का हक़ नहीं है ..! उत्तर प्रदेश के चुनाव आ रहे हैं , वहां मुसलमानों ने कांग्रेस को अब वोट देना बंद कर दिया है ..!! हाय वोट हाय वोट के लिए .., ये छीटा -  कसी मच रखी है ...!!!

 -------
    कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने कहा है कि गुजरात में मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी के रहते पीड़ितों को न्याय नहीं मिल सकता है। वे आईपीएस अधिकार संजीव भट्ट के हलफनामे पर पूछे गए सवाल का जवाब दे रहे थे। दिग्विजय ने कहा कि गुजरात दंगों के बारे में भट्ट के खुलासों में कोई नई बात नहीं है। यह सभी को पता है कि गुजरात में क्या हुआ। गौरतलब है कि कांग्रेस ने हलफनामा प्रकरण के बाद से मोदी पर आक्रामक रुख अख्तियार कर रखा है। पार्टी खुलकर मोदी पर निशाना साध रही है। पार्टी का कहना है कि भारतीय जनता पार्टी में तनिक भी नैतिकता होती तो वह मोदी से वर्ष 2002 में ही इस्तीफा ले लेती। कांग्रेस प्रवक्ता मनीष तिवारी के मुताबिक भाजपा ने हमेशा से नैतिकता पर अलग अलग मापदंड अपना रखा है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें