रविवार, 17 अप्रैल 2011

आने लगी आहट.., अगले मुख्य मंत्री की ....


- अरविन्द सिसोदिया 
बांरा जिले के दौरे में आगाज हो चुका है की राजस्थान की जनता किस कदर गहलोत शासन से त्रस्त हो कर उसके खिलाफ है और पूर्व मुख्यमंत्री महारानी वसुंधरा राजे को पुनः मुख्यमंत्री पद पर देखने को आतुर है ....इस जिले में चारों विधायक कांग्रेस से हैं .., मगर जिस तरह से राजे के स्वागत में आम जनता सड़कों पर  उतरी , सडकों के दौनों और पैर रखनें को जगह नहीं थी .., उसनें कांग्रेस के होश उड़ा दिए हैं ..! सफलतम दौरे के लिए बधाई ..!!! 


बारां। पूर्व मुख्य मंत्री और वर्तमान नेता प्रतिपक्ष तथा राष्ट्रिय महामंत्री भाजपा महारानी वसुंधरा राजे ने अंत में  पंचायत समिति में कार्यक्रम संबोधित करते हुए प्रशासनिक वर्ग को स्पष्ट चेतावनी दी है की वे राजनैतिक आधार पर लोगों को परेशान करनें से बाज आयें | प्रशासन ज्यादतियां  करना बंद करे | सरकारों के हाथ लम्बे होते हैं .., आनेवाली सर्कार बख्सेगी नहीं ..||  प्रशासन परेशान करेगा तो उसे याद रखा जाएगा ..!! ज्ञातव्य रहे की यहाँ की सभी विधान सभा सीटों पर  कांग्रेस के विधायक होनें से  प्रशासन  उनके भारी दवाब में है | छोटे छोटे कामो  में तक राजनैतिक भेदभाव की शिकायत आम है |
     पूर्व मुख्यमंत्री एवं प्रतिपक्ष की नेता वसुंधरा राजे ने गुरूवार (१४ अप्रैल २०११ ) को यहां कहा कि नीचे से ऊपर तक भ्रष्टाचार में डूबी प्रदेश की कांग्रेस सरकार को जनता ने अभी से उखाड़ फेंकने का मानस बना लिया है। दुबारा प्रतिपक्ष की नेता बनने के बाद पहली बार बारां जिले के दौरे पर आई श्रीमती राजे ने उनके स्वागत में उपस्थित आम जनता और भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुए कहा कि राज्य में कांग्रेस की सरकार आये दिन उनकी भाजपा सरकार पर झूठे आरोप लगाकर भ्रष्टाचार कर रही है, जिसे अब जनता जान चुकी है और नीचे से ऊपर तक भ्रष्टाचार में डूबी इस सरकार को उखाड़ फेंकने का अभी से मानस बना चुकी है। श्रीमती राजे ने कहा, ढाई साल के कार्यकाल में इन्हें प्रदेश का विकास नहीं मैं ही मैं याद आती रही, हर दिन हर पल। 
       उन्होंने कहा कि शुद्ध के लिए युद्ध के नाम पर प्रदेश में व्यापारियों को परेशान किया जा रहा है फिर से इंस्पेक्टर राज कायम हो गया है। किसान समय पर खाद बीज नहीं मिलने से परेशान है तो युवा रोजगार नहीं मिलने से आहत हैं। उन्होंने कहा कि गहलोत सरकार ने अपने कार्यकाल के ढाई साल हमारे खिलाफ जांच करने में निकाल दिये लेकिन एक भी आरोप सिद्ध नहीं कर पाई। उन्होंने बताया कि आधारहीन आरोपों की जांच के लिए गठित माथुर आयोग भी कोई आरोप साबित नहीं कर सका। उन्होंने कहा कि माथुर आयोग के गठन को लेकर पहले तो राजस्थान उच्च न्यायालय ने इस सरकार को आईना दिखा दिया और अब उच्चतम न्यायालय ने भी दूध का दूध और पानी का पानी कर दिया है।
उन्होंने कहा कि इससे साफ हो गया है कि गहलोत सरकार ने प्रदेश के विकास में नहीं हमसे बदला लेने में ही ढाई साल का समय बर्बाद कर दिया।
------

अब यह साफ हो गया है कि सरकार ने प्रदेश में विकास में नहीं हमसे बदला लेने में ही ढाई साल का समय खराब कर दिया। कांग्रेस की यह सरकार लोगों की कसौटी पर खरी नहीं उतरी तो लोगों का ध्यान बंटाने के लिए आरोप लगाने शुरू कर दिए। उन्होंने कहा कि पिछली सरकार के कार्यकाल में प्रदेश को अग्रणी प्रदेशों की श्रेणी में लेकर आए थे, अब वापस पीछे चला गया है। ट्रांसफॉर्मर 72 दिन में नहीं बदले जा रहे, शुद्ध के लिए युद्ध के नाम पर व्यापारियों को परेशान किया जा रहा है। कर्मचारी और जनप्रतिनिधि आए दिन सरकार द्वारा प्रताड़ित किए जा रहे हैं।
-----
अंता विधानसभा क्षेत्र के दौरे के दौरान राजे ने कांग्रेस पर भ्रष्टाचार को बढ़ावा देने का आरोप लगाते हुए कहा कि हम पर 22 हजार करोड़ के घपले का आरोप लगाने वाले प्रदेश के मुख्यमंत्री अपने ही बेटे को लाभ पहुंचाने के लिए सत्ता का दुरुपयोग कर रहे हैं।
वसुंधरा ने सीसवाली में सभा के दौरान कहा कि मुख्यमंत्री अपने बेटे को किस तरह लाभ पहुंचा रहे हैं, अब यह न्यूज चैनलों के माध्यम से सामने आ रहा है। यह सरकार में व्याप्त भ्रष्टाचार के खुलने की शुरुआत भर है। गांधीवादी चोला पहनकर और आप को ईमानदार कहने वाले मुख्यमंत्री ही भ्रष्टाचार को बढ़ावा दे रहे हैं और बेटे को राजनीतिक लाभ पहुंचा रहे हैं। हम पर कांग्रेस सरकार ने 22 हजार करोड़ के आरोप लगाए थे। इसमें पहले हाईकोर्ट ने और अब सुप्रीम कोर्ट ने सरकार को करार जवाब दिया है। अब आने वाले समय में फैसला जनता करेगी।
------
कोटा। पूर्व मुख्यमंत्री और नेता प्रतिपक्ष वसुंधरा राजे के बारां दौरे के बाद दिल्ली जाते समय शनिवार को कोटा में कार्यकर्ताओं ने उनका जोरदार स्वागत किया। कोटा जंक्शन पर कार्यकर्ताओं की भीड़ उमड़ पड़ी। इस कारण स्टेशन पर खूब धक्का-मुक्की हुई।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें