सोमवार, 23 मई 2011

तकरार से शिरुआत यूपीए २ के तीसरे साल की ...






- अरविन्द सिसोदिया 
यूपीए २ के दो साल पूरे होनें और तीसरी साल शिरू होनें के अवसर पर , दो बड़े घटकों के मुखिया जश्न में शामिल नहीं हुए | यूपीए की सरकार में कांग्रेस के साथ जो दो सबसे बड़े घटक हैं वे हैं ममता बनर्जी उनकी पार्टी पर १९ संसद हैं , दुसरे हैं द्रुमुक जो १८ सांसदों के साथ है | अब ये दिनों नाराज हैं .., मगर सबक नहीं सिखा सकते .., क्यों कि मुलायम और मायावती कांग्रेस को समर्थन देनें , सर्कार में शामिल होनें तैय्यार बैठे हैं ..| क्योंकि दोनों आय से अधिक संम्पत्ति के मामलों में फंसे हुए है और कांग्रेस ने ही सी बी आई के द्वारा डोर को अभी ढील देने के इशारे के कारण, मामला सुस्ती में है |
ममता इसलिए नाराज है कि उसके शपथ ग्रहण समारोह में सोनिया नहीं पहुची , करुनानोधी इसलिए नाराज हैं क्वात्रोच्ची बचाया जा सकता है तो उनकी बेटी भी बचाई जा सकती थी , कांग्रेस सोची समझी साजिस के तहत ही उन्हें फंसा रही है ! इन कारणों से दोनों प्रमुख घटक दलों के मुख्यों कि जगह उनके प्रतिनिधि ही प्रधान मंत्री  के द्वारा दी गई पार्टी में पहुचे |

--- 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें