सोमवार, 29 अगस्त 2011

अग्निवेश एक बार फिर से पकडे गये...




स्वामी अग्निवेश एक बार फिर से पकडे गये.......उन पर विश्वास करना ही नहीं चाहिये, ये व्यक्ति जहां भी रहा वहीं गद्दारी की है उसने......!!!!

--------
अन्ना हजारे के करीबी रहे स्वामी अग्निवेश आंदोलन के दौरान दोहरी भूमिका में थे। यू ट्यूब और कई समाचार चैनलों पर रविवार को जारी वीडियो में इसका खुलासा हुआ है। वीडियो में अग्निवेश किसी कपिल नाम के व्यक्ति से मोबाइल पर बात करते हुए अन्ना को पागल हाथी कह रहे हैं।

साथ ही सरकार की ओर से सख्ती दिखाने की भी मांग कर रहे हैं। इस बीच स्वामी अग्निवेश ने तमाम आरोपों से इनकार किया है। हालांकि अन्ना की मददगार किरण बेदी ने कहा कि स्वामी जी की हकीकत सामने आ गई है।

अग्निवेश ने कहा कि वीडियो फुटेज को छेड़छाड़ कर तैयार किया गया है। यह उनके खिलाफ दुष्प्रचार अभियान का हिस्सा है। वे केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल से बात नहीं कर रहे थे। किरण बेदी ने आरोप लगाया कि अग्निवेश रंगे हाथों पकड़े गए हैं। यह महाराज कौन है? क्या ये कपिल सिब्बल हैं?

बेदी ने आरोप लगाया कि अग्निवेश ने टीम अन्ना को तोड़ने का प्रयास किया। वे ही इसका जवाब दे सकते हैं। हमें कोई संदेह नहीं है। अग्निवेश ने एक निजी टीवी चैनल से बातचीत में कहा कि वे कपिल सिब्बल से बात नहीं कर रहे थे।

वे एक मुनिजी से बात कर रहे थे जिनका नाम कपिल है। वह एक निजी और अनौपचारिक बातचीत थी,लेकिन उनका मूल स्टैंड उस बातचीत में भी वही था, जो वे टीवी चैनलों पर लगातार दोहराते रहे हैं। वह स्टैंड यह था कि संसद की अपील के बाद ही अन्ना को अनशन तोड़ देना चाहिए था।

वीडियो में क्या?

वीडियो में अन्ना किसी बिल्डिंग के ग्राउंड फ्लोर पर उतरते हुए दिखते हैं। वे फोन पर बातचीत कर रहे हैं। उन्हें संसद की हजारे को अनशन खत्म करने की अपील के बारे में बात करते सुना गया। हजारे अड़े थे कि अनशन जारी रहेगा। अग्निवेश ने कहा, सरकार बहुत ज्यादा कमजोर नजर आ रही है।

आंदोलन की आलोचना करते हुए वह कहते हैं, ‘बहुत जरूरी है कपिलजी. वरना ये तो पागल हो रहे हैं जैसे हाथी हो।’ अग्निवेश कहते हैं कि वे तो इस बात पर शर्मिदा हैं कि सरकार कितनी कमजोर नजर आ रही है। सरकार जितना झुक रही है उतना ही ये सर पर चढ़ते जा रहे हैं।
------
स्वामी अग्निवेश पर बरसी किरण बेदी

स्वामी अग्निवेश की कथित दगाबाजी से अन्ना हजारे के सहयोगी भड़क गए हैं। किरण बेदी ने कहा है कि अग्निवेश रंगे हाथों पकड़े गए हैं। उन्होंने अनैतिक काम किया है। अग्निवेश ने पहले भी टीम अन्ना को तोड़ने का प्रयास किया था। किरण बेदी का यह बयान उस वीडियो के सामने आने के बाद आया है जिसमें स्वामी अग्निवेश कथित रूप से केन्द्रीय मंत्री कपिल सिब्बल से फोन पर बातचीत के दौरान टीम अन्ना को पागल हाथी कह रहे हैं।

हालांकि अग्निवेश ने इस वीडियो को फर्जी बताया है। अग्निवेश का कहना है कि यह वीडिया कट, कॉपी और पेस्ट कर बनाया है। अग्निवेश ने इस बात से इनकार किया है कि वह कपिल सिब्बल से बात कर रहे थे। उन्होंने कहा कि वह किसी कपिल महाराज से बात कर रहे थे। जब उनसे कपिल महाराज के फोन नंबर मांगे गए तो उन्होंने नंबर देने से इनकार कर दिया।

गौरतलब है कि अन्ना हजारे ने सरकार से वार्ता के लिए किरण बेदी और केजरीवाल को भेजा था। इससे अग्विनेश काफी नाराज हो गए थे। लोकसभा की अनशन तोड़ने की अपील के बाद भी जब अन्ना ने अनशन तोड़ने से इनकार कर दिया तो स्वामी अग्निवेश और भड़क गए और टीम अन्ना से अलग हो गए। उन्होंने किरण बेदी और अरविंद केजरीवाल पर अन्ना हजारे को बहकाने का आरोप लगाया था। 
------
एक और खबर ....
रायपुर। अन्ना हजारे की टीम में दोहरी भूमिका निभाने वाले स्वामी अग्निवेश छत्तीसगढ़ में भी संदिग्ध हो चुके हैं। उन्होंने कुछ महीने पहले चार सरकारी कर्मचारियों को नक्सलियों के चुंगल से छुड़ाने के लिए मध्यस्थता की थी। उनकी मध्यस्थता से चारों कर्मचारी छूट तो गए, लेकिन बाद में इसमें स्वामी अग्निवेश की भूमिका पर गृहमंत्री ननकीराम कंवर ने सवाल उठाए।
उन्होंने एक सीडी जारी की जिसमें स्वामी अग्निवेश नक्सलियों के समर्थन करते दिखाए गए। वे जन अदालत में लाल सलाम के नारे लगा रहे थे। इसके बाद दूसरी बार ताड़मेटला में उनके दौरे पर ग्रामीणों ने पथराव किया था। इसे भी स्वामी अग्निवेश ने अतिरंजित करते हुए बताया था। दोनों ही मामले में स्वामी अग्निवेश की भूमिका संदेहास्पद रही।

1 टिप्पणी: