शनिवार, 12 नवंबर 2011

सी डी की आँख मिचोली ख़त्म,सरकार का नोटिस गलत : नारी मर्यादा का ध्यान सभी को रखना चाहिए








सरकार का नोटिस गलत : नारी मर्यादा का ध्यान सभी को रखना चाहिए...
१० और ११ नवम्बर को P - ७ न्यूज चेनल  ने महिपाल मदेरणा और भंवरी के संबंधों की सी डी दिखा कर, लम्बे समय से चल रही सी डी की आँख मिचोली अर्थात सस्पेंस को ख़त्म कर दिया ... में राजस्थान के  ब्यूरो चीफ  श्रीपाल सिंहजी शक्तावत को बधाई देता हूँ ...उन्होंने मदेरणा और सी बी आई को मजबूर कर दिया कि वे हाँ भरें ....  P - ७ न्यूज चेनल ने अपने मिडिया धर्म का पालन किया ..मगर इसके कुछ दृश्य आपतिजन  थे उन्हें दिखाए बिना भी काम चल सकता था | अच्छा होता की देर रात उसे दिखाते.....  मगर सरकार का  भी इस  मामले में नोटिस देना गलत इसलिए हे कि आप अनेकों सीरियलों  में , फिल्मों में भी बहुत कुछ अश्लील परोसनें की अनुमति दे रहे  हो....नारी मर्यादा का ध्यान सभी को रखना चाहिए.


सवाल यह नहीं है की महिपाल मदेरणा के  भंवरी से अनेतिक या अबैध संबंध थे...बल्कि सवाल यह है कि राजनेतिक रसूख के द्वारा, मनचाहा उपयोग कर उसे मौत  के हवाले कर दो ....!! राजनीती , माडलिंग और फिल्मो में अबैध संबंध तो आम हैं, बगेहर कम्प्रोमाइज  के बिरला ही आगे बड पाता है........,
मगर सवाल हत्या का है...अपहरण  का है...भगबान करे भंवरी  जिन्दा हो...! 
-----
मूल लेख का लिंक http://visfot.com/home



भंवरी की सीडी खोजनेवाले चैनल को नोटिस
राजस्थान में भंवरी देवी का भंवर गहराता ही जा रहा है. एक ओर राजस्थान की राजनीति में तूफान आया हुआ है तो दूसरी ओर दिल्ली में कांग्रेस की केन्द्रीय सरकार राजस्थान का दामन उजला बनाने में जुट गई है. जिस पी7न्यूज ने भंवरी देवी की गुप्त सीडी सार्वजनिक किया था उसे सूचना प्रसारण मंत्रालय ने नोटिस भेजा है. पी7न्यूज के साथ ही सहारा समय को भी यह नोटिस भेजा गया है.
चैनल से जुड़े सूत्रों ने इसकी पुष्टि की है कि सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय का नोटिस आया है लेकिन साथ में चैनल में इस बात को लेकर नाराजगी भी है कि जिस खबर के लिए उन्हें प्रशंसा मिलनी चाहिए उसी खबर पर उन्हें नोटिस दिया जा रहा है. चैनल ने भंवरी देवी की कथित सीडी सार्वजनिक करके एक तरह से सीबीआई की भी मदद की है जो कि भंवरी का लाकर खोजने के बाद भी उस संदिग्ध सीडी को नहीं खोज पाई थी जिसमें आपत्तिजनक अवस्था में राजस्थान के मंत्री मदेरणा मौजूद हैं.
उधर दूसरी ओर चैनल ने इन बातों का भी खंडन किया है कि उसे सीडी किसी लाबिस्ट ने या अन्य स्रोत से उपलब्ध करवाई गई है. चैनल के एसोसिएट एडिटर अनुराग पुनेठा का कहना है कि यह सीधे हमारे राजस्थआन के ब्यूरो चीफ की कड़ी मेहनत का परिणाम है कि सीडी हमारे पास उपलब्ध है और हमने उसके कुछ हिस्से जनता के सामने सार्वजनिक किये हैं. पी7न्यूज के राजस्थान ब्यूरो चीफ श्रीपाल शक्तावत ने यह सीडी खोजी है जिसे चैनल ने सार्वजनिक किया है.
बहरहाल इस बीच चाहे सरकार का दबाव हो या फिर दर्शकों का पी7न्यूज की वेबसाइट बंद हो गई है.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें