गुरुवार, 29 दिसंबर 2011

भाजपा और संसद सोनिया की बंधुआ मजदूर नहीं.........


भाजपा और संसद 
सोनिया की बंधुआ मजदूर नहीं......... 
सरकारी लोकपाल बिल को वोट नहीं मिलने से,
संवैधानिक दर्जा नहीं मिल पाया,
लोकसभा में करारी हार से तिलमिलाये 
सोनिया - राहुल इस तरह आग उगल रहे हैं जैसेः- 
भारतीय जनता पार्टी या संसद उनकी बंधुआ मजदूर हो।
अपने ही गिरेवान में झांके कांग्रेस
उनके सहयोगी दल और उनके ही सांसदों ने धोका दिया। 
---------------------
क्या सांसद सोनिया के बंधुआ मजदूर हैं?
केजरीवाल और किरण बेदी ने कांग्रेस अध्यक्ष पर हमला
नई दिल्ली, बुधवार, 28 दिसंबर 2011
अन्ना हजारे की मजबूत लोकपाल की जंग में कांग्रेस को निशाना बनाने की घोषणा के बाद हजारे पक्ष के प्रमुख सदस्य अरविंद केजरीवाल और किरण बेदी ने बुधवार को सोनिया गांधी पर हमला बोलते हुए कहा कि क्या सांसद पार्टी आलाकमान के बंधुआ मजदूर हैं?
बेदी ने ट्वीट किया कि जनलोकपाल शासन में बदलाव के बगैर नहीं मिलेगा, केवल समय बताएगा कि ऐसा कब होगा। सोनिया पर निशाना साधते हुए केजरीवाल ने ट्विटर पर लिखा कि सांसदों को पार्टी आलाकमान की इच्छाओं के खिलाफ मतदान करने या बोलने की आजादी नहीं है। क्या सांसद पार्टी आलाकमान के बंधुआ मजदूर हैं?
बेदी ने कहा कि हमने आलाकमान की तानाशाही देखी है। क्या हम सांसदों को अपने क्षेत्रों का प्रतिनिधित्व करते देख रहे हैं जिन्हें हमने संसद में भेजा। उन्होंने कहा कि विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र की सत्तारूढ़ पार्टी का आलाकमान। आप अगली बार जब मतदान करें तो याद रखें कि आप क्या और किसे चाहते हैं। इन ट्वीटों से पहले हजारे ने कांग्रेस पर धोखा देने का आरोप लगाते हुए उसके खिलाफ अभियान छेड़ने की बात कही। (भाषा)


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें