बुधवार, 28 दिसंबर 2011

नकली लोकपाल : भाजपा कांग्रेस की गुलाम नहीं उसके लिए पहले देशहित हे ... ,




नकली लोकपाल 
भाजपा कांग्रेस की गुलाम नहीं उसके लिए पहले देशहित हे ... , 
न ही उसकी जिम्मेवारी कांग्रेस के लिये बहुमत जुटाना है।
कांग्रेस के सांसद अनुपस्थित थे,
भाजपा ने सही किया कि नकली लोकपाल का साथ नहीं दिया, 
असली लोकपाल तो जन लोकपाल है।
जब तक जन लोकपाल जैसा बिल न बनें तब तक संर्घष जारी रहे।
सूत्रों के मुताबिक, संसदीय कार्यमंत्री व्हिप के बावजूद सदन में मौजूद न रहने वाले सांसदों को कारण बताओ नोटिस भेजा जाएगा। शुरुआती गणना के मुताबिक, 16 सांसद अनुपस्थित पाए गए। इनमें दो तृणमूल कांग्रेस के हैं, जबकि एक दर्जन से ज्यादा सांसद खुद कांग्रेस के हैं।
सोनिया के कड़े तेवरों से घबराए केंद्रीय मंत्री दिनशा पटेल ने तो तुरंत सफाई भी दी कि वह घर में शादी कार्यक्रम में थे और पहले से नेतृत्व को बता दिया था। एम राजमोहन रेड्डी, विक्रमभाई अरजनभाई, मदन अहीर, किशन बी पटेल, केआरजी रेड्डी, हर्षव‌र्द्धन, हमीदुल्लाह सईद जैसे नाम पहली नजर में सामने आए हैं। इन सबको कारण बताओ नोटिस देने के साथ गुरुवार को राज्यसभा में सारे कांग्रेस सांसदों की उपस्थिति सुनिश्चित करने को भी कहा गया है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें