मंगलवार, 24 जनवरी 2012

ज्ञान का दीप जगाओ जग में,








_ अरविन्द सिसोदिया

ज्ञान का दीप जगाओ जग में,यही प्रकाश तुम्हारा है।
किरणों की तरह फैलाओ, चिडियों की तरह चहको,
जीवन के पल-क्षण क्षीण हैं,इन्हे महान बनाओ ....,
नारायण तो आते होंगें, नर में नारायण को जगाओ...!!

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें