शुक्रवार, 24 फ़रवरी 2012

लोकतंत्र तार - तार : अजित की सभा में महिला कलाकारों के कपड़े फाड़े


ajeet.jpg

लोकतंत्र तार - तार
चुनाव प्रचारों का यह पतन बताता है कि हमारे नेताओं में अब जनता को आकर्षित करने का दम चुक गया जो हल्के  किस्म के तरीकों से भीड खींचने के उपाय  अपनाकर लोकतंत्र को तार - तार कर रहे है। चुनाव आयोग को इस तरह के बेवुनियद आयोजनों पर रोक लगाना चाहिए..जो लोकतंत्र का स्तर नीचे गिराते हों ....
अजित की सभा में महिला कलाकारों के कपड़े फाड़े
http://navbharattimes.indiatimes.com
मेरठ।। राष्ट्रीय लोकदल के मुखिया चौधरी अजित सिंह की चुनावी सभा में, सरधना के फलावदा में 23-2-2012{गुरुवार} को आरएलडी-कांग्रेस उम्मीदवार हाजी याकूब के समर्थन में अजित सिंह की सभा थी। सभा में भीड़ जुटाने के लिए महिला रागिनी कलाकारों को बुलाया गया था। अजित के भाषण देकर मंच से उतरने के बाद गीत-संगीत का कर्यक्रम शुरू हो गया। इस दौरान भीड़ बेकाबू हो गई और कुछ लोगों ने महिलाओं से छेड़खानी शुरू कर दी। कुछ लोगों ने कलाकारों को खींचने का प्रयास किया। इस पर महिलाएं इधर-उधर भागने लगीं, तो अराजक तत्वों ने उन्हें दबोच लिया और कपड़े फाड़ दिए। बीच-बचाव में आए उनके साथी कलाकारों को भी पीटा गया। आरोप है कि उनसे 50 हजार की नकदी और अन्य समान भी लूट लिए।
शरारती तत्वों की इस हरकत को देख पुलिस और नेताओं के पसीने छूट गए। पुलिस ने मुश्किल से कलाकारों को भीड़ से निकाला और पास के मकान में लेकर गई। इसके बाद भी जब भीड़ शांत नहीं हुई तो सिपाहियों ने लाठियां फटकार कर कलाकारों को उनकी कार तक पहुंचाया। उन्मादी भीड़ गाड़ी का पीछा करने लगी और

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें