मंगलवार, 13 मार्च 2012

उत्तरा खंड में राजनैतिक धोखाधड़ी

- अरविन्द सिसोदिया 
उत्तरा खंड में विधान सभा चुनावों में जिन लोगों ने मेहनत की ..उन्हें कांग्रेस की अध्यक्ष सोनिया गाँधी ने ठेंगा दिखाते हुए राहुल की करीबी रीता बहुगुणा के भाई विजय बहुगुणा को मुख्यमंत्री घोषित कर दिया है । जब की मुख्यमन्त्र पद के लिए स्वाभाविक दावेदारी हरीश रावत की बनती थी जिन्होनें विधानसभा चुनाव का नेतृत्व  किया है । उनके साथ यह राजनैतिक धोखाधड़ी  है ।


सांसद विजय बहुगुणा 


उत्तराखंड में शुरू हो गया विजय बहुगुणा का विरोध
Tue, 13 Mar २०१२
लिंक http://www.jagran.com/news/national-9006531.html
 नई दिल्ली। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पद के नाम पर सभी अटकलों को पीछे छोड़ते हुए पार्टी हाईकमान ने विजय बहुगुणा के नाम पर मुहर लगा दी। लेकिन इस फैसले के बाद ही पार्टी में बगावत के स्वर भी फूटने लगे हैं।
विजय बहुगुणा के नाम का खुलासा होने के बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता हरीश रावत के सर्मथकों में नाराजगी है। सोमवार देर रात रावत के समर्थकों ने एक मीटिंग कर आलाकमान के फैसले पर विरोध जताया। कांग्रेस आलाकामान की ओर से सोमवार को टिहरी से सांसद विजय बहुगुणा को उत्तराखंड का अगला मुख्यमंत्री घोषित किया गया है। इसे लेकर रावत के समर्थकों ने नारेबाजी की। उन्होंने जानना चाहा कि इस पद के लिए उनके नेता-रावत की उपेक्षा क्यों की गई।
इस दौरान उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष और विजय बहुगुणा की बहन रीता बहुगुणा जोशी ने हरीश रावत से मुलाकात की। उत्तराखंड कांग्रेस के विधायकों ने दल की बैठक मुख्यमंत्री चुनने का जिम्मा पार्टी सुप्रीमो सोनिया गांधी पर छोड़ दिया था। उन्होंने प्रदेश के सभी कांग्रेसी सांसदों और विधायकों की राय लेने के बाद विजय बहुगुणा के नाम पर मुहर लगा दी।
हालांकि रीता बहुगुणा जोशी इस फैसले से काफी खुश हैं। उन्होंने कहा कि जिस सोच के साथ कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने उनके भाई को उत्तराखंड की कमान संभालने का जिम्मा सौंपा है वह उसपर पूरी तरह खरे उतरेंगे। उन्होंने कहा कि वह पिछले बीस वर्षो से उत्तराखंड के विकास में भागीदार रहे हैं।

1 टिप्पणी:

  1. ये तो होना ही था, शायद हरीश रावत भूल गए कि कांग्रेस पार्टी में सिर्फ "गांधीगिरी" चलती है.....जो सोनिया/राहुल गांधी का करीबी होगा उसे मेवा मिलेगा चाहे आप पार्टी कि कितनी सेवा कर लें......

    उत्तर देंहटाएं