रविवार, 25 मार्च 2012

दुख तो अपना साथी है : अरविन्द सिसोदिया










राही मनवा दुख की चिन्ता क्यों सताती है
दुख तो अपना साथी है
सुख है इक छाँव ढलती
आती है जाती है
दुख तो अपना साथी है


दूर है मंजिल दूर सही
प्यार हमारा क्या कम है
पग में काँटे लाख सही
पर ये सहारा क्या कम है
हमराह तेरे कोई अपना तो है
सुख है इक छाँव ढलती
आती है जाती है
दुख तो अपना साथी है


दुख हो कोई तब जलते हैं
पथ के दीप निगाहों में
इतनी बड़ी इस दुनिया की
लम्बी अकेली राहों में
हमराह तेरे कोई अपना तो है
सुख है इक छाँव ढलती
आती है जाती है
दुख तो अपना साथी है
फिल्म – दोस्ती ….. गायक – मोहम्मद रफी ….. संगीतकार – लक्ष्मीकान्त प्यारेलाल
----


Rahi Manwa Dukh Ki 
Rahi Manwa Dukh Ki Chinta Kyon Satati Hai
Dukh Tho Apna Saathi Hai,
Sukh Hai Ek Chavun Dhalti, Aati Hai Jaati Hai,
Dukh Tho Apna Saathi Hai,
Door Hai Manzil Door Sahi, Pyar Hamaara Kya Kam Hai,
Pag Mein Kaanten Lakh Sahi, Par Yeh Sahara Kya Kam Hai,
Ham Raha Tere Koyi Apna Tho Hai, Ham Raha Tere Koyi Apna Tho Hai,
Ooo Sukh Hai Ek Chavun Dhalti Aati Hai Jaati Hai,
Dukh Tho Apna Saathi Hai,
Dukh Ho Koyi, Tab Jalte Hein, Pat Ke Deep Nigahon Mein,
Itni Badi Is Duniya Ki, Lambi Akeli Raahon Mein,
Ham Raha Tere Koyi Apna Tho Hai, Ham Raha Tere Koyi Apna Tho Hai
Ooo Sukh Hai Ek Chavun Dhalti Aati Hai Jaati Hai,
Dukh Tho Apna Saathi Hai,
Rahi Manwa Dukh Ki Chinta Kyon Satati Hai
Dukh Tho Apna Saathi Hai,
Sukh Hai Ek Chavun Dhalti, Aati Hai Jaati Hai,
Dukh Tho Apna Saathi Hai,

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें