बुधवार, 12 दिसंबर 2012

कांग्रेस सरकार की मंहगाई दर ने फिर पोल खोली




कांग्रेस सरकार की मंहगाई दर ने फिर पोल खोली
सरकारी आंकडे बता रहे हैं कि
मंहगाई दर में फिर से बडौत्री 9.9 प्रतिशत हुई है।
नई दिल्ली: चीनी, सब्जी, खाद्य तेज और कपड़े की कीमतें बढ़ने से खुदरा मूल्य सूचकांक पर आधारित मुद्रास्फीति नबंबर में बढ़कर 9.90 फीसदी हो गई। खुदरा मुद्रास्फीति लगातार दो माह से बढ़ रही है। अक्टूबर में यह 9.75 फीसदी और सितंबर में यह 9.73 फीसदी थी। बुधवार को जारी उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) के मुताबिक नवंबर में खाद्य तेल एवं वसा वर्ग की खुदरा कीमतें एक साल पहले की तुलना में 17.67 फीसदी ऊंची रहीं। इसी तरह, चीनी 16.97 फीसदी और दलहन 14.19 फीसदी मंहगे रहे। सब्जियों की कीमत सालाना आधार पर 14.74 फीसदी ऊपर रही तथा मांस, मछली और अंडा 11.33 फीसदी मंहगे रहे। कपड़े और जूते की कीमत भी नवंबर में 11.08 फीसदी बढ़ी। शहरी इलाकों में खुदरा मुद्रास्फीति नवंबर में 9.69 फीसदी रही, जो इससे पिछले माह 9.46 फीसदी थी।
    हालांकि ग्रामीण इलाके में सीपीआई आधारित मुद्रास्फीति इससे पिछले महीने के पिछले महीने 9.98 फीसदी से घटकर 9.97 फीसदी रही। नवंबर में ग्रामीण, शहरी और सम्मिलित आखिल भारतीय उपभाक्ता मूल्य सूचकांक क्रमश: 126.9, 123.4, 125.4 रहे। माना जाता है कि रिजर्व बैंक अगले सप्ताह मौद्रिक नीति की मध्य तिमाही समीक्षा में खुदरा मुद्रास्फीति के लिए दहाई अंक के करीब पहुंचने की इस स्थिति ध्यान में रखेगा। महंगाई का दबाव बढने से उसके लिए ऋण सस्ता करने का फैसला कठिन हो सकता है। अक्टूबर में सकल मुद्रास्फीति 7.45 फीसदी थी, जो आरबीआई के पांच से छह प्रतिशत के मध्यावधिक लक्ष्य से अधिक है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें