शुक्रवार, 21 दिसंबर 2012

विवेकानन्द के कुछ प्रेरणादायी विचार


प्रेरणादायी विचार
विवेकानन्द के कुछ प्रेरणादायी विचार
श्री विवेकानन्द की कोई परिचय देने की आवश्यकता नहीं है। वे एक महात्मा, एक सन्यासी, वेदांत पर पकड़ रखनेवाले विद्वान थे। अपने ३९ वर्ष के छोटे जीवन में उन्होने विश्व को काफी विचारोत्तेजना दिए। १८९३ में शिकागो के धर्मं संसद में दिए गए भाषण से उन्होने बहुत प्रसिद्धि पाई। वे विभिन्न संस्कृतियों का वृहद् ज्ञान रखनेवाले व्यक्ति थे।
श्री विवेकानन्द ने मानव सेवा को अत्यधिक महत्त्व दिया। उन्होने मानव सेवा की तुलना प्रभु वंदना से की है। उन्होने हर मानव में परम आत्मा की अनुभूति की है। इसके अतिरिक्त वे एक परम देशभक्त थे और उन्हें भारतीय होने का गर्व था। उन्होने भारतीयों को मुक्त होने का आवाहन किया था।
यहाँ पाठकों के लिए उनके कुछ विचार प्रस्तुत है: -
001- आनंदित रहें; दूसरो की आलोचना न करें, अपना संदेश दें, आप जो सिखाना चाहते हैं वह सिखाएं, और वहीं रूक जाएँ।
001- हितकर को अपनाएं और रुचिकर का त्याग करें।
001- उन्नत्ति कर, आगे बढ़, ओ बहादुर आत्मा! उनको आजाद करने के लिए जो जकड़े हुए हैं, दुखितों का भार कम करने और अज्ञानी हृदयों के गहन अंधकार को जाज्वल्यमान करने के लिए।
001- आभार मिले या नहीं, सो मत, निर्बल मत बन।
001- बुरे का साथ छोड़ो, क्योंकि तुममें पुराने घावों का दाग है, और बुरे लोगों का साथ वह चीज़ है जो घाव कुरेदने में सक्षम है।
बहादुर और खरा बनो; तब अनुराग से किसी पथ का अनुसरण करो, और तुम अवश्य सम्पूर्ण तक पहुंच जाओगे।
मुक्त हो, और तब जितने भी चाहो व्यक्तित्व रखो, तब हम एक अभिनेता की तरह मंच पर आएंगे और एक भिखारी के पात्र का अभिनय करेंगे।
001- जिस व्यक्ति की तुमने मदद की है उसका आभार प्रकट करो, उसे भगवान जैसा समझो।
विश्व में रहो, लेकिन इसके मत बनो, कमल की पत्तियों की तरह जिसका जड़ कीचड़ में होते हुए भी पवित्र रहता है।
001- ईशा का प्रतिरूप मत बनो, ईशा बनो।
001- निराश मत हो, जब पवित्र सुधा पहुंच में न हो तो इसका मतलब यह नहीं की हम विष का सेवन करें।
001- मेरी या अपनी सफलता से हवा में मत उड़ो; काफी बड़े काम करने हैं; यह छोटी सफलता क्या है उस आनेवाले कार्य की तुलना में?
001- हर एक के विभिन्न मतों के साथ निर्वाह करो, धैर्य, शुचिता और धीरज की विजय होगी।
001- अविश्वास के साथ शुरुआत करो। विश्लेषण करो, परीक्षा लो, सिद्ध करो और फिर ग्रहण करो।
001- ना तो मनुष्य या ना भगवान को या न इस विश्व में किसी अन्य को दोष दो और अच्छा करने का प्रयत्न करो।
001- सभी अच्छी शक्तियों को इकठ्ठा करो, इसकी चिंता मत करो कि तुम किस परचम के तले कार्यरत हो, अपने वर्ण कि चिंता मत करो - हरा, नीला या लाल, परन्तु सभी रंगों को मिला दो और श्वेत तीव्र पुंजा बनाओ जो कि प्यार का रंग है।
001- प्रकाश लाओ; अँधेरा अपने आप छंट जाएगा।
अपने स्वयं के कमल को खिलाओ, मधुमक्खी अपने आप आएगी।
सर्वश्रेष्ठ आदर्श को चुनो और अपना जीवन इस पर न्यौछावर कर दो।
स्वयं पर विजय पाओ और सम्पूर्ण जगत तुम्हारा है।
हमेशा स्वयं पर विश्वास पैदा करो।
मुक्त होने का साहस करो, अपने स्वछन्द विचारों के साथ जाने का साहस करो और उन विचारों को जीवन में अपनाने का साहस करो।
अहर्निश अपने आप से कहो, "मैं वह (ईश्वर) हूँ"।
कुछ भी इच्छा मत रखो, लालसा छोड़ो और पूर्ण संतुष्टि पाओ।
इस भारतीय जीवन से अलग मत हो; एक पल के लिए भी ऐसा मत सोचो कि अगर भारतीय अन्य संस्कृति वाले लोगों के तरह कपड़े पहने, भोजन करें एवं व्यवहार करें तो यह भारत के लिए अच्छा होगा।
इसकी परवाह मत करो कि कोई तुम्हारी सहायता करेगा। क्या भगवान सभी मानव सहायता से अत्यधिक समर्थ नही है?
एक पल के लिए भी देर मत करो, कल के लिए कुछ भी मत छोड़ो - निर्णायक घड़ी के लिए तैयार हो जाओ, वो तत्काल आ सकता है, अभी भी।
विध्वंस मत करो। रुढियों को बदलने वाले सुधारकों से संसार का कुछ भला नहीं होता। तोड़ो मत, गिराओ मत पर निर्माण करो। अगर कर सकते हो तो सहायता करो, अगर नहीं तो हाथ जोड़कर खरे रहो और देखो। अगर तुम सहायता नहीं कर सकते हो तो कष्ट मत दो।
किसी से घृणा मत करो, क्योंकि तुमसे निकली घृणा दीर्घावधि में अवश्य ही तुम तक वापस आएगा।
दूसरो को कष्ट मत दो। सभी को अपने आप के जैसे प्यार करो क्योंकि संसार एक है। दूसरो को कष्ट देने में मैं खुद को भी नुकसान पहुँचा रहा हूँ और दूसरो को प्यार करने में मैं अपने आप को प्यार कर रहा हूँ।
किसी पर भी तरस मत खाओ, सभी को अपने बराबर समझो, अपने आपको मूलभूत पाप असमता से निर्मल करो।
ये मत कहो कि हम निर्बल हैं; हमलोग कुछ भी और सबकुछ कर सकते हैं। हम क्या नही कर सकते हैं? सब कुछ हमारे द्वारा किया जा सकता है। हम सबके पास एकसमान महान आत्मा है, हम इसमे विश्वास करें।
अपनी उर्जा बात करने में मत खर्चा करो, अपितु शांति में ध्यान करो और बाहरी शोर शराबे को स्वयं को मत परेशान करने दो।
मूर्खों की तरह सभी कहे गए बातों को अपनी सम्मति मत दो। अगर मैं भी कुछ घोषित करूं तो उसमे अपनी अंतर्निहीत विश्वास मत दो। सर्वप्रथम अच्छी तरह समझो तब स्वीकार करो।
हर विचार जो तुम्हें शक्ति देता हो उसका अनुपालन करो और जो विचार तुम्हे कमजोर करे उसका त्याग करो।
प्रत्येक व्यक्ति को शासन करने से पहले आज्ञा पालन करना सीखना चाहिऐ।
इसलिए मन को उच्च विचारों और उच्चतम आदर्शों से युक्त करो, अहर्निश उसका ध्यान करो, तब उसके द्वारा महान हाँ कार्य सिद्ध होगा। अपवित्रता पर बात मत करो, अपितु यह कहो कि हम पवित्र हैं।
प्रथम चरित्र का निर्माण करो, प्रथम अध्यात्म उपार्जित करो और परिणाम अपने आप आयेगा।
सर्वप्रथम, हमारे युवा शक्तिशाली बने, धर्म उसके बाद आएगा। वीर्यवान बने मेरे युवा मित्र; यह तुम्हे मेरी सलाह है।
ह्रदय की सुनो, एक सच्चा दिल ज्ञान से आगे तक को देखता है; ये प्रेरित होता है; ये वह जानता है जो बुद्धि कभी जान ही नहीं सकती और जब कभी भी सच्चे ह्रदय और ज्ञान में मतभेद हो, हमेशा सच्चे ह्रदय का पक्ष लो जबकि तुम्हे यह भी पता हो कि जो तुम्हारा दिल सोच रहा है वह अतर्कसंगत है।
अपने सभी कर्मों का भार ईश्वर पर छोड़ दो; सब कुछ त्याग दो, अच्छा और बुरा दोनों।
जाओ और सबको कह दो, " तुम सभी में शास्वत शक्ति है और उसे जगाने का यत्न करो"।
अपने समक्ष यह लक्ष्य रखो - " जनसाधारण का उद्धार बिना उनके धर्मं को क्षति पहुँचाये हुए"।
दूसरो की सारी अच्छाइयों को सीखो। इसे अपने में समाह्रित करो और अपने ढंग से ग्रहण करो; दुसरे मत बन जाओ।
सबको यह शिक्षा मिलनी चाहिऐ कि ईश्वर उनके अन्दर है और हर व्यक्ति को अपना मोक्ष स्वयं पाना है।
बचपन से ही आनंददायक, सशक्त और उपकारी विचार उनके (बच्चों के ) मन में प्रविष्ट हो जाये।
हम साहसी बने, सत्य को जाने और सत्य का अभ्यास करें। लक्ष्य शायद दूर है पर उठो, जागो और लक्ष्य पाने तक रुको मत।
इसे एक नियम बना लो कि योगाभ्यास के बिना भोजन ना करें; अगर तुम यह करोगे तो भूख की शक्ति तुम्हारे आलस्य को मिटा देगी।
एक बार फिर अद्वैत के शक्तिशाली ध्वज को उठाओ, क्योंकि कहीं और तुम्हे वो नैसर्गिक स्नेह नहीं मिलेगा जब तक कि तुम यह न देखो कि ईश्वर हर एक में विद्यमान है।
मानव का अध्ययन करो, वह एक जीवंत कविता है।
बोलो, " अज्ञानी भारतीय, गरीब और दरिद्र भारतीय, ब्राह्मण भारतीय और चंडाल भारतीय मेरे भाई है"।
सबकुछ देखो, सबकुछ करो किन्तु आसक्त मत हो। जिस पल परम आसक्ति होगी, मनुष्य अपने आप को खो देता है, इसमे उपरांत वह अपने आप का स्वामी नहीं होता, वह दास बन जाता है।
खड़े हो जाओ, निर्भीक रहो, शक्तिशाली रहो। अपने कन्धों पर सारे उत्तरदायित्व लो और इसे जानो कि तुम अपने नियति के सृजनहार हो। सारी शक्ति और सहायता जो तुम चाहते हो वह तुम्हारे अन्दर मौजूद है।
सब कुछ फ़ेंक दो, अपनी मुक्ति को भी, और जाओ और दूसरो की मदद करो।
हम आसमान जैसे खुले हों, समुद्र की तरह गहरे हों, हममें धर्मोंन्मत्त जैसा उत्साह हो, रहस्यवादियों जैसी गहराई और संशयवादी जैसे बृहद विचार हों।
तुम हर संप्रदाय के व्यक्तियों के साथ अपनी सहानुभूति अवश्य रखो।
तुम अवश्य अपने शरीर, मन और वाकशक्ति को संसार के भलाई में लगाओ।
तुम कभी दूसरो के पथ का अनुसरण मत करो, क्योंकि वह उसका रास्ता है, तुम्हारा नही।

 आनंदतिरेक रहना ही जीवन है
आनंदमय विचारों से रचनात्मक ब्रह्मांडिय किरणें निकलती है। ये मानवों का विकास करती है और हमारे आस पास के वातावरण को शुद्ध करती है। "मैं कर सकता हूँ" या "हम कर सकते हैं" जैसे वाक्य, शक्तिपुंज का निस्सारण करते हैं। हमलोग इस विशिष्ट शक्ति का ज्ञानपूर्वक और तरीके से इस्तेमाल कर अपने आपको सामर्थ्यवान बना सकते हैं। उर्जा सरंक्षण की तरह हम अपने ऋणात्मक विचारों को कम करके, धनात्मक विचारों को सरंक्षित कर सकते हैं।
सकारात्मक धारणा एक आदमी को सुदृढ़ और विश्वासी बनाता है। इस धारणा का मतलब केवल ये दुहराना नही है की - " सब कुछ ठीक होगा" या " मैं अपनी मंजिल पा लूँगा" इत्यादि, इत्यादि। सकारात्मक दृष्टिकोण एक सम्पूर्ण शैली है। ये शैली बताती है कि एक व्यक्ति इस दुनिया में अपने आपको किस प्रकार चलाता है। स्वयं एवं अपने आस पास के व्यक्ति के प्रति समर्पण इसका एक माप हो सकता है। मेरे विचार से अपने स्वास्थ्य का अच्छी तरह ध्यान रखना किसी व्यक्ति के सबसे बड़े सकारात्मक दृष्टिकोण को चिन्हित करता है। अच्छी लहरों को उत्सर्जित करने के लिए हमे शारीरिक और मानसिक रुप से योग्य होना पड़ेगा।
यह संसार जीव जंतुओं से भरा हुआ है, जिसमे मानव को विशिष्ट तर्क शक्ति से युक्त किया गया है। यह विशेष ज्ञान हमे और ज्यादा उत्तरदायी बनता है। हमारा अपने सहभागी और अन्य जीव जंतुओं के प्रति उत्तरदायित्व अति महत्वपूर्ण हो जाता है। हमे इस चुनौती को स्वीकार करना होगा। हमे इस विश्व को रिहाइश के लिए एक बेहतर स्थान बनाना है। इस विश्व को और अच्छा बनाने के लिए हमे सुक्ष्म चीजों पर मेहनत करना होगा। सुक्ष्म चीजों में सुधार लाकर व्यापक परिवर्तन किये जा सकते हैं।
आज के विश्व में लोग असंतुष्ट है। वे विश्व में मौजूद अंतर्विरोध और संघर्ष से असंतुष्ट है। नैतिक मूल्यों, ईमानदारी और आदर्षा सामाजिक व्यवहार पर दवाब और खिंचाव है। मैं विलास और गरीबी के बीच के खाई को देख कर अचंभित हूँ। भौतिक प्रचुरता की चमक और दीन हीन गरीबी का अन्धकार संग संग हैं। एक विस्मयकारी समूह अशिक्षित है और उनमे से बहुत को दो जून का भोजन तक प्राप्त नहीं होता है। उनके लिए स्वास्थ्य सेवा एक विलासिता है। कई तो इतने अभागे हैं कि उन्हें अपनी बीमारी की वजह और मृत्यु के कारण तक का पता नहीं चलता। सभ्यताओं में संघर्ष है। जलवायु में परिवर्तन और बदतर हो रहा है। व्यापार नीतियां असंतुलित है। वैश्विक राजनीति अति संकीर्ण हो गई है। एक व्यक्ति की इच्छा, एक पूरे राष्ट्र के न्यायसंगत हित से ज्यादा महत्वपूर्ण हो गया है। प्रौद्योगिकी विकास की दिशा व्यापक जनहित की ओर नही है। प्रतिदिन, हम एक बर्बरतापूर्ण मानव व्यवहार से चकित होते हैं, वंचना की कथा से शर्मसार होते हैं और असभ्य आचरण से स्तंभित होते हैं। यहाँ वहाँ अति उग्र व्यवहार देखने को मिलता है। विवेक पीछे हट गया है। व्यक्ति खत्म हो गया है। अब वह मात्र एक समूह, गिरोह, जाति, खेमा, भीड़ अथवा झुंड का भाग है । कोई भी विवेक का इस्तेमाल नही कर रहा है और न ही नीति और सदाचार का पालन कर रह है ।
यह सब व्यक्ति में अबाधित और नैसर्गिक आनंद उर्जा के प्रवाह में बाधक है। हमे रचनात्मकता के विकास के लिए प्रयास करना होगा। मानव मस्तिष्क असीम क्षमताओं का भंडार है। हमे इसके सामर्थ्य को प्राप्त करना होगा। हम अपने आप से शुरुआत कर सकते हैं। हम इस समाज, देश, विश्व एवं ब्रह्माण्ड के अविभाज्य अंग हैं।
सामान्य विश्लेषण से ज्ञात होता है कि हमारे ज्यादातर संकट मानव जनित है। अतः इसका निराकरण हमे अपने आपको समर्पित कर किया जा सकता है। अगर हम अच्छे बन जाएँ तो यह विश्व अवश्य अच्छा बन जाएगा। हमारी सम्मिलित धनात्मक उर्जा इस विश्व को बदल सकती है। जॉन ऍफ़ केनेडी ने कहा था, " हमारे संकट मानव निर्मित हैं, अतः वे मनुष्य द्वारा हल किये जा सकते हैं। मानव भविष्य की कोई भी समस्या मानव दक्षता से ऊपर नही है।" मुझे इस कथ्य में पूर्ण विश्वास है और मैं यह आशा करता हूँ कि आपका भी इसमें घोर विश्वास हो।
और आनंद दायक विचारों के साथ वापस लौटूंगा ....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें