गुरुवार, 24 जनवरी 2013

राजनाथ सिंह जी भाजपा के निर्विरोध अध्यक्ष चुने गए




राजनाथ सिंह जी भाजपा के निर्विरोध अध्यक्ष चुने गए

http://prabhatkhabar.com

 नयी दिल्लीः वरिष्ठ नेता राजनाथ सिंह को भारतीय जनता पार्टी का नया अध्यक्ष बनाया गया है. पार्टी के चुनाव अधिकारी थावरचंद गहलौत ने पार्टी मुख्यालय में इसकी घोषणा हुई. राजनाथ सिंह वर्ष 2013-15 के लिए निर्विरोध रूप से अध्यक्ष चुने गए हैं.
इस मौके पर लालकृष्ण आडवाणी, सुषमा स्वराज, अरुण जेटली और वैंकेया नायडू के अलावा पार्टी के पूर्व अध्यक्ष नितिन गडकरी भी मौजूद थे, जो भ्रष्टाचार के आरोपों का सामना कर रहे हैं. राजनाथ सिंह दिल्ली से सटे उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद संसदीय क्षेत्र से आते हैं जहां से दिल्ली पहुंचे उनके समर्थक पार्टी मुख्यालय के बाहर गाजे-बाजे के साथ जश्न मना रहे थे. वे साल 2004 से 2009 तक भाजपा के अध्यक्ष रहे. उनकी जगह नितिन गडकरी को अध्यक्ष बनाया गया था जिन्हें राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का पूरा आशीर्वाद प्राप्त था. इस मौके पर गडकरी ने दोहराया कि उन्हें भ्रष्टाचार के मामलों में फंसाया जा रहा है और ये उन्हें और पार्टी को बदनाम करने की साजिश है.
राजनाथ ने अध्यक्ष बनते ही गृहमंत्री पर साधा निशाना
राजनाथ सिंह ने नितिन गडकरी के कार्यकाल की सराहना करते हुए कहा कि पार्टी उन्हें दोबारा अध्यक्ष का दायित्व सौंपना चाहती थी, लेकिन जिस तरह से उन पर बेबुनियाद आरोप लगाए गए, उन्होंने अपना इस्तीफा दे दिया.
राजनाथ सिंह ने कहा, ''मैं इसे पद के रूप में नहीं बल्कि एक दायित्व के रूप में स्वीकार कर रहा हूं.'' देश के समक्ष कथित आंतरिक और बाहरी संकटों का हवाला देते हुए राजनाथ सिंह ने कहा, ''देश संकट से गुजर रहा है जिसके लिए सिर्फ कांग्रेस पार्टी जिम्मेदार है क्योंकि आजाद भारत में सबसे ज्यादा हुकूमत कांग्रेस की रही है.  उन्होंने सरकार पर तमाम नीतिगत मोर्चों पर विफल रहने का आरोप लगाते हुए कहा, ''लोग भाजपा से अपेक्षा करते हैं कि पार्टी देश को इन संकटों से निजात दिलाएगी.''
गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे के हालिया विवादित बयान का जिक्र करते हुए राजनाथ सिंह ने कहा, ''शिंदे पूरे देश की हवा में जहर घोलना चाहते हैं.'' उन्होंने कहा कि शिंदे के बयान के विरोध में पार्टी ने कल से सारे देश में आंदोलन चलाने का फैसला किया है.  शिंदे ने कांग्रेस पार्टी के जयपुर चिंतन शिविर में कहा था, "भाजपा हो या आरएसएस के ट्रेनिंग कैंप, ये हिंदू आतंकवाद बढ़ाने का काम देख रहे हैं.''
ऐसा दृश्य नहीं देखा कभी
पार्टी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी ने कहा कि भारतीय जनसंघ के आरंभ से यानी वर्ष 1951 से लेकर 2013 तक शायद ही कभी कोई ऐसा पार्टी अध्यक्ष बना होगा, जिनके चुने जाने पर इतने उत्साह के साथ लोग पार्टी मु्ख्यालय आए.
आडवाणी ने कहा कि आगामी तमाम चुनावों में पार्टी को जिताना एक बड़ा कार्य होगा जिसके लिए कड़े परिश्रम और लोगों को जुटाने की क्षमता की जरूरत है जो राजनाथ सिंह में है. विपक्षी दलों को आड़े हाथों लेते हुए उन्होंने कहा कि पार्टी को यह साबित करना होगा कि भारतीय जनता पार्टी 'वाकई पार्टी विद डिफ़रेंस' है. आडवाणी ने कहा कि अध्यक्ष के नाते राजनाथ सिंह को भी इस बात का खास ख्याल रखना होगा. राजनीति में भ्रष्टाचार का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा, ''राजनाथ सिंह को इस मामले में पार्टी में संकल्प पैदा करना होगा कि अनैतिक आचरण के साथ कोई समझौता नहीं किया जाएगा.'' उत्तर प्रदेश का जिक्र करते हुए आडवाणी ने कहा कि देश के सबसे बड़े प्रदेश में पार्टी की मौजूदा स्थिति कष्ट देती है, वहां पार्टी को पहले जैसा स्थान दिलाना होगा.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें