मंगलवार, 12 फ़रवरी 2013

इटली की कंपनी के प्रमुख की गिरफ्तारी हुई : सौदे में रिश्‍वत



अब क्या कहेंगे...मनमोहनसिंह जी
रक्षा सौदे में एक बार फिर,बोफोर्स सौदे के क्वात्रोची के बाद, इटली कनेक्शन पुनः उजागर हुआ है। वीवीआईपी हेलीकॉफटर अगस्ता वेस्टलैंण्ड की खरीद में 350 करोड की घूस का मामला बहुत पहले उजागर हुआ था और अब उस कंपनी के सीओ की गिरफॅतारी भी हो गई है। कांग्रेस सरकार घूस शंका के दायरे में आ ही गई है और साबीआई भी क्वात्रोची की ही तरह इस मामाले की जांच का महज ड्रामा ही करेगी। होना जाना कुछ नहीं है.....

3850 करोड़ के सौदे में किसे दी गई 350 करोड़ की रिश्‍वत? 

होगी सीबीआई जांच

Agency  |  Feb 12, 2013,
नई दिल्‍ली. अगस्‍ता वेस्‍टलैंड हेलीकॉप्‍टर सौदे की जांच होगी। रक्षा मंत्रालय ने इस मामले में सीबीआई जांच के लिए आदेश दे दिए हैं। वीवीआईपी हेलीकॉप्‍टरों के लिए हुए 3850 करोड़ के इस सौदे में रिश्‍वत के आरोपों के बाद इटैलियन कंपनी के प्रमुख की गिरफ्तारी हुई है। भारत ने इटली की इस कंपनी से 12 हेलीकॉप्‍टर खरीदे थे। आरोप है कि इस सौदे में 350 करोड़ रुपये की घूस दी गई है। सवाल है कि क्‍या वाकई इस सौदे में इतने बड़े पैमाने पर रिश्‍वत दी गई। अगर रिश्‍वत दी गई है तो यह रकम किसे मिली है?
विदेश मंत्रालय के प्रवक्‍ता सैयद अकबरुद्दीन ने कहा है कि इटली की तरफ से इस मामले में कोई आधिकारिक जानकारी नहीं मिली है। अकबरुद्दीन ने कहा, 'भारत सरकार ने इस मामले में इटली सरकार से जानकारी मांगी थी, लेकिन इटली की ओर से कहा गया कि चूंकि यह मामला न्यायिक प्रक्रिया के अंतर्गत है और ऐसे में जानकारी साझा नहीं की जा सकती है।'
------------

 इटली से रक्षा सौदे में घूसखोरी, सरकार ने बैठाई CBI जांच

आईबीएन-7  Feb 12, 2013

नई दिल्ली। भारत और इटली के बीच एक और रक्षा सौदे को लेकर घमासान मच गया है। आज इटली में फिनमैकेनिका नाम की कंपनी के सीईओ को वहां की जांच एजेंसियों ने गिरफ्तार कर लिया। इस कंपनी ने भारत के साथ 12 वीवीआईपी हेलिकॉप्टर की डील की थी। 2010 में 4 हजार करोड़ के इस सौदे के बाद भारत को 3 हेलिकॉप्टर की डिलीवरी भी हो गई है। लेकिन आज इटली के मिलान में कंपनी के दफ्तर पर छापेमारी के बाद उसके सीईओ गिसेपी ओरेसी को गिरफ्तार कर लिया गया। इस सीईओ पर सौदे के लिए घूसखोरी का आरोप लगाया गया है।
फिनमैकेनिका कंपनी में इटली सरकार की भी 30 फीसदी हिस्सेदारी है। इटली में इसी महीने चुनाव भी होने वाले हैं और इस केस के वहां और तूल पकड़ने की उम्मीद है। दूसरी तरफ भारत सरकार ने भी इटली से इस केस में जानकारी मांग ली है। रक्षा मंत्रालय ने भी इस हेलिकॉप्टर सौदे की सीबीआई जांच का आदेश दे दिया है। भारत सरकार ने बाकी बचे 9 हेलिकॉप्टरों की डिलीवरी भी रोक दी है।

------------

रक्षा घोटालों का इटली कनेक्शनः बीजेपी

dainikbhaskar.com | Apr 25, 2012

नई दिल्ली.एक और रक्षा डील में इटली की कंपनी का नाम आने के बाद भारतीय जनता पार्टी ने कहा है कि रक्षा घोटालों का इटली कनेक्शन है। नई दिल्ली में प्रैस वार्ता को संबोधित करते हुए भारतीय जनता पार्टी के प्रवक्ता रवि शंकर प्रसाद ने यह भी कहा कि बीजेपी संसद में यह मुद्दा उठाएगी।
 रविशंकर प्रसाद ने कहा कि इस सरकार का इटेलियन कनेक्शन कहीं न कहीं बार-बार दिखता रहता है।  आज एक बार फिर हेलीकॉप्टर डील से वो सामने आया है। अगस्ता वेस्टलैंड एक कंपनी हैं जिसने 12 वीवीआईपी मूवमेंट हेलीकॉप्टर की 3546 करोड़ में डील की है। समाचार है कि इस कंपनी ने 350 करोड़ रुपए एक बिचौलिए को दिए। मीडिया ने यह रिपोर्ट किया है कि इस बिचौलिए की जांच इटली की एजेंसियां कर रही हैं।  
लेकिन भारत के कानून के मुताबिक कोई भी दलाल या सलाहकार किसी भी डील में नहीं हो सकता। और अगर किसी सौदे में कोई दलाल है तो फिर सौदा रद्द होना चाहिए।   रविशंकर प्रसाद ने आगे कहा कि सवाल यह है कि भारत सरकार क्या कर रही है? क्या इसमें भी किसी को छुपाने की कोशिश की जा रही है। अगर इस मामले में इटली की पुलिस जांच कर  रही है तो फिर भारत सरकार क्या कर रही है? इस मामले का भी इटली कनेक्शन है। 
 गौरतलब है कि फरवरी 2010 में भारत सरकार ने इटली की एक कंपनी से 12 वीवीआईपी हेलीकॉप्टर खरीदने का सौदा किया था। 3546 करोड़ रुपए के इस सौदे में 350 करोड़ रुपए की दलाली की इटली पुलिस जांच कर रही है। वहीं भाजपा सांसद बलवीर पुंज ने कहा कि यह बेहद गंभीर विषय है और भारत सरकार को इस विषय पर प्रतक्रिया देनी चाहिए। भाजपा इस मुद्दे को मजबूती से उठाने पर विचार कर रही है ताकि यह डील रद्द हो सके।
सरकार ने दिए दलाली की जांच के आदेश
हेलीकॉप्टर सौदे में दलाली पर पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए रक्षा मंत्री ए के एंटनी ने कहा है कि वह इटली के साथ हुए हेलीकॉप्टर सौदे में भ्रष्टाचार के आरोपों पर गंभीरता से ध्यान देंगे। एंटनी ने कहा कि मैंने अभी रिपोर्ट को नहीं देखा है, लेकिन दलाली के आरोपों की जांच में कोई कोताही नहीं बरती जाएगी। उन्होंने कहा कि इसकी जानकारी होने के बाद ही उन्होंने रक्षा सचिव को इसकी जांच के आदेश दे दिए हैं। इसके साथ ही भारत सरकार ने इटली में भारतीय राजदूत को भी इस संबंध में रिपोर्ट पेश करने के निर्देश दिए हैं।
एंटनी ने यह भी कहा कि यदि सौदे में  किसी तरह की दलाली का सच सामने आता है तो वह उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करेंगे। भाजपा इस सौदे को रद्द करने की मांग कर रही है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें