शुक्रवार, 8 फ़रवरी 2013

राजस्थान में भाजपा की सरकार बनायें - वसुंधरा राजे





राजस्थान में भाजपा की सरकार बनायें - राजे

दुल्हन की तरह सजा जयपुर शहर

60 छोटी बड़ी सभायें और 12 घंटे में तय हुआ सफ़र 

महारानी वसुंधरा राजे ने अपने सम्बोधन में कहा कि दिल्ली से चलने के बाद यहां तक मेरा अभूतपूर्व स्वागत व सत्कार हुआ है उसके लिए में हमेशा क्षेत्र की जनता की आभारी रहूंगी। इस प्यार को बनाए रखते हुए अब प्रदेश की बागडोर भाजपा के हाथ में सौंप पर प्रदेश को विकास की राह पर लाना होगा। नव निर्वाचित प्रदेश भाजपा अध्यक्ष राजे ने भाजपा के झंडे के रंग की हरी व केसरिया लहरिये वाली विशेष साडी पहन रखा थी। राजे की एक झलक पाने के लिए राजमार्ग पर स्थित दुकानों के ऊपर तक लोग चढ गए। राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री राजे के जयपुर पहुंचने पर पार्टी कार्यकर्ताओं ने गर्मजोशी के साथ उनका स्वागत किया। कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुए राजे ने कहा कि आगामी विधानसभा चुनाव में आप लोगों के सहयोग से राज्य में पुनः भाजपा की सरकार बनेगी।
राजे के स्वागत में जयपुर शहर को दुल्हन की तरह सजाया गया। शहर के प्रवेश द्वार से लेकर भाजपा के प्रदेश कार्यालय तक जगह-जगह स्वागत में होर्डिग और बैनर लगाए गए, शहर के मुख्य बाजारों में पार्टी के झण्डे लहरा रहे थे। निर्धारित कार्यक्रम से पांच घंटे देरी से रात करीब साढे दस बजे रामगढ मोड़ पर पहुंचने पर हजारों की संख्या में शाम चार बजे से इंतजार में खडे कार्यकर्ताओं ने फूल मालाओं से उन्हें लाद दिया और राजे के पक्ष में जम कर नारेबाजी की।
जोरावर सिंह दरवाजे पर शहनाई वादन कर स्वागत किया गया वहीं कुछ अन्य जगह हाथियों से पुष्प वर्षा कर जोरदार स्वागत किया गया। राजे बड़ी चैपड़, छोटी चैपड़, किशनपोल बाजार, अजमेरी गेट, एमआई रोड होते हुए देर रात भाजपा के प्रदेश कार्यालय पहुंची । जहां कड़ाके की ठण्ड में भी उनकी एक झलक पाने के लिए बेताबी से इंतजार कर रहे सैकड़ों लोगों ने उनका स्वागत किया। पुलिस आयुक्त कार्यालय चैराहे पर स्वागत में जम कर आतिशबाजी की गई। राजे के साथ विधानसभा में प्रतिपक्ष के नवनियुक्त नेतागुलाब चन्द कटारिया, पार्टी के सचेतक राजेन्द्र सिंह राठौड़, सांसद, विधायक और अन्य पार्टी पदाधिकारी चल रहे थे। काफिले में करीब 150 वाहन शामिल थे।

भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष ओंकार सिंह लखावत, महामंत्री सतीश पूनिया, वासुदेव देवनानी, मोहन लाल गुप्ता, सुभाष महरिया, रोहिताश शर्मा, किरण माहेश्वरी, जसवंत यादव, खेमसिंह भड़ाना, बनवारीलाल सिंघल, विजय बंसल, संजना आगरी, प्रेम सिंह बाजौर, ऋषि बंसल,लक्ष्मीकांत भारद्वाज,पूर्व विधायक नन्द लाल व्यास समेत अन्य नेता चल रहे थे, जबकि पार्टी के सचेतक एवं  विधायक राजेन्द्र राठौड़ पूरी व्यवस्थाओं की कमान संभाल रहे थे।  शाहजहांपुर से जयपुर का सफर यूं तो दो घटे का है लेकिन करीब 60 छोटी बड़ी सभाओं में मिले अपार समर्थन के कारण ये सफर 12 घंटे में तय हुआ। काफिला करीब एक किलोमीटर लम्बा था। नए नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया राजे के वाहन में साथ ही आए और सभाओं में उनके साथ मौजूद थे। भाजपा की प्रदेश अध्यक्ष बनने के बाद पहली बार राजस्थान आई राजे ने सुबह करीब साढे नौ बजे राज्य के प्रवेश द्वार शाहजहांपुर से अपना रोड शो शुरू किया जो देर रात समाप्त हुआ। इस दौरान उन्होंने 30 से अधिक स्थानों पर कार्यकर्ताओं को सम्बोधित किया। जहां कार्यकर्ताओं की संख्या एक हजार से कम थी वहां उनका काफिला संक्षिप्त स्वागत के बाद आगे रवाना हो गया था।
बोला कांग्रेस पर हमला
वसुंधरा ने कांग्रेस और मुख्यमंत्री का नाम लिए बगैर कहा कि इस सरकार को सत्ता में रहने का अधिकार नहीं है। इसने अन्याय के सिवाय कुछ नहीं किया।

ऎसे भेडियों से बचो
राजे ने कहा, आपके पास अलग-अलग कपड़े पहन भेडियारूपी लोग आएंगे, उनके झांसे में नहीं आना है। लोग डराने धमकाने भी आएंगे। ये लोग पुलिस व सीबीआई की मदद लेते हैं। राजे ने चुनाव तक 9 महीने की लम्बी लड़ाई बताई।

चुनरी की लाज रखूंगी
राजे ने सत्ता परिवर्तन का आह्वान करते हुए भरोसा दिलाया, मैं चुनरी की लाज रखूंगी और इस पर आंच नहीं आने दूंगी। राजस्थान को शिखर पर पहुंचाना है। आपने सत्ता में न रहने के बावजूद मुझे जो प्यार दिया वह मेरे लिए अमूल्य है।

200 किमी 14 घंटे में
10 बजे सुबह यात्रा चली शाहजहांपुर से
12 बजे रात प्रदेश भाजपा कार्यालय
200 किलोमीटर रास्ते की कुल दूरी
100 स्थानों पर किया गया स्वागत
50 स्थानों पर राजे ने किया संबोधित
11 स्थानों पर जयपुर में हुआ स्वागत

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें