गुरुवार, 2 मई 2013

पंजाब में तीन दिन का शोक,सरबजीत की हत्‍या, केंद्र की नाकामी : मोदी




सरबजीत के परिवार को एक करोड़ रुपये की सहायता,
पंजाब में तीन दिन का शोक
Bhasha, मई 2, 2013
चंडीगढ़: पंजाब सरकार ने सरबजीत सिंह के परिवार को एक करोड़ रपये की वित्तीय सहायता देने की गुरुवार को घोषणा करने के साथ ही तीन दिवसीय राजकीय शोक की घोषणा की। भारतीय कैदी सरबजीत सिंह पर पाकिस्तानी जेल में नृशंस हमला किया गया था और उन्होंने बुधवार को लाहौर के अस्पताल में दम तोड़ दिया था। एक आधिकारिक प्रवक्ता ने यहां कहा कि सभी सरकारी इमारतों पर झंड़े आधे झुके रहेंगे और इस दौरान कोई आधिकारिक कार्यक्रम आयोजित नहीं किया जाएगा।
पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल ने सरबजीत के परिवार के लिए एक करोड़ रपये की वित्तीय सहायता की घोषणा की। सरकार ने पहले ही घोषणा की है कि सरबजीत की दोनों पुत्रियों स्वप्नदीप कौर और पूनम को पंजाब में सरकारी नौकरियां दी जाएंगी। बादल ने सरबजीत सिंह के परिवार को भरोसा दिया कि पंजाब सरकार उनकी पूरी मदद और समर्थन करेगी।

सरबजीत की हत्‍या, केंद्र की नाकामी: मोदी 


http://aajtak.intoday.in
आज तक ब्यूरो | मैंगलोर, 2 मई 2013 |
कर्नाटक विधानसभा चुनाव|

कर्नाटक में चुनाव प्रचार के अंतिम दिन बीजेपी के स्टार प्रचारक नरेंद्र मोदी ने सरबजीत सिंह की मौत पर दुख प्रकट करने और एक मिनट का मौन रखने के बाद जैसे ही बोले तो उनके मुख से मनमोहन सिंह सरकार के लिए गोले बरसने लगे. वो कभी पाकिस्तान पर गरजते तो कभी राहुल की चुटकी लेते.
मोदी ने कहा, ‘सरबजीत के साथ पाकिस्तान में क्या हुआ? उसे मौत के घाट उतार दिया गया. मेरा पाकिस्तान के ऊपर आरोप है कि ये हत्या सीधा न्यायिक हत्या का मामला बनता है.’

उन्होंने कहा, ‘पाकिस्तान में सरबजीत सिंह की हत्या हुई है. सरबजीत को भारत नहीं लाने के मुद्दे पर केंद्र नाकाम रहा.’

चीन की नहीं केंद्र को चिंता
मोदी ने चीन के मसले पर भी प्रधानमंत्री को नहीं बख्शा और कहा, ‘चीन की कोई चिंता ही नहीं आपको. वो टेंट लगा रहा है, सड़क बना रहा है. आपको पता ही नहीं कि चीन क्या कर रहा है.’

मोदी ने केंद्र सरकार को अत्यंत की कमजोर बताते हुए कहा, ‘बांग्लादेश हमारे मछुआरे को मार डालता है. मालदीव जैसा छोटा देश आंखें दिखा रहा है. इस देश में कोई एक दिन ऐसा नहीं है जब कोई और देश हमें परेशान नहीं कर रहे हों. ऐसा इसलिए हो रहा है क्योंकि केंद्र में बहुत ही दुर्बल सरकार बैठी है. इतना ही नहीं दो गुनहगारों को भारत वापल लाने के लिए सुप्रीम कोर्ट को बीच में आना पड़ा.’

कोयले की कालिख से देश का मुंह काला
मोदी ने कोयला घोटाले पर मनमोहन सिंह पर सीधा प्रहार करते हुए कहा, ‘प्रधानमंत्री जवाब दो आप कोयले पर क्यों बैठे हैं. पूरे हिंदुस्तान का मुंह काला कर दिया.’

प्रधानमंत्री ने ये कहा कि कर्नाटक की सरकार ने बिजली में कुछ काम नहीं किया. आप तो अर्थशास्त्री हो, आप भी ऐसे बोलोगे? एक साल पहले आपके कार्यकाल में ही आधे से अधिक हिंदुस्तान अंधेरे में डूब चुका है. दिल्ली की ट्रेन पटरी पर रुक गई है. अस्पताल में ऑपरेशन रुकी थी. आप जवाब दो इसका जिम्मेदार कौन है?

देश में बिजली की किल्लत और दिल्ली में इसकी बढ़ती कीमत पर भी मोदी ने चुटकी ली. उन्होंने कहा, ‘गुजरात बिजली के मामले में आत्मनिर्भर है. यहां जरूरत से ज्यादा बिजली का उत्पादन है. हम दूसरे प्रदेशों को दे सकते हैं. पर दिल्ली सरकार तार, ग्रिड नहीं लगा पा रही है.

गोल्डन ट्रैंगल का क्या किया?
मैं आपसे पूछता हूं, जब अटल जी ने गोल्डन ट्रैंगल की बात उठाई तो आपने चुनावी वादा किया था कि आपकी सरकार सत्ता में आई तो 20 किलोमीटर सड़क रोजाना बनेगी. अटल जी की सरकार में 11 किलोमीटर सड़क प्रतिदिन बनती थी लेकिन जब आपकी सरकार आई तो यह 3 किलोमीटर तक ही सिमट कर रह गई. आप हमसे क्या हिसाब मांगते हैं.

गांधी की बात नहीं मानते राहुल

मोदी ने कांग्रेस सरकार की नीतियों की तमाम खामियां गिनाते हुए कहा, ‘इस कांग्रेस पार्टी से कोई आशा नहीं है. कांग्रेस ने गांधी जी की आखिरी इच्छा का पालन किया होता तो देश का भला होता. उन्होंने कांग्रेस पार्टी को भंग करने की इच्छा जताई थी.’

नरेंद्र मोदी ने राहुल गांधी को मिस्टर गोल्डन स्पून बताते हुए कहा, ‘ये गांधी को गुरु मानते हैं. मैं पूछता हूं गांधी की यह आखिरी इच्छा कब पूरी करोगे. हमें बहुत जल्दी है. ज्यादा इंतजार नहीं कर सकते. आप कब ये काम करोगे?’

आखिर में मोदी ने अपना जुमला दोहराते हुए कहा, ‘अगर ब्रिटिश राज के जाने से स्वराज आया था तो कांग्रेस के जाने से सुराज आएगा.’

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें