गुरुवार, 5 सितंबर 2013

राष्ट्रीय सुरक्षा व सामाजिक सुधार के हम बनें भागीदार



३१ ऑगस्ट और १ सितम्बर २०१३ को जयपुर में ' आयोजित राष्ट्रिय संगोष्ठी 
भारत की रक्षा और अर्थ व्यवस्था पर , माननीय इन्द्रेश कुमार जी के मुख्य मार्ग दर्शन में संपन्न हुई ,
सारभूत सन्दर्भ विषय वस्तु निम्नानुसार हे । - अरविन्द सिसोदिया , कोटा ।

राष्ट्रीय सुरक्षा व सामाजिक सुधार के हम बनें भागीदार
    राष्ट्रीय सुरक्षा, आर्थिक व सामाजिक सुधार, घुसपैठ, जाली नोट, नशीले पदार्थ, आतंकी व आतंकी हथियारों का सीमाओं से प्रवेश, मतान्तरण, भ्रष्टाचार, आतंकी हमला, मंहगाई, साम्प्रदायिकता राम मन्दिर, गोधरा गुजरात, धारा 370, वोट बैंक व अल्पसंख्यकवाद, पंथीय आरक्षण, गाय गंगा संरक्षण, महिला सुरक्षा, अस्पृश्यता निवारण, आतंकवाद/ अलगाववाद/ माओवाद आदि महत्वपूर्ण विषय आज हमारे देश को प्रभावित कर रहे हैं। आज हमारे देश में आये दिन होती आतंकवादी घटनाओं से हमारे नागरिकों को जान से हाथ धोना पड़ रहा है वहीं करोड़ों रूपये की हमारी सम्पत्ति का भी नुकसान हो रहा है। इस सबसे आम आदमी में भय व्याप्त हो रहा है। सरकार व सुरक्षा एजेन्सियों के हवाले छोड़ कर हम चैन की नींद नहीं सो सकते है। हमारे भी कुछ कर्तव्य है जिन्हें यदि हम ठीक प्रकार से करें तो आतंकी घटनाओं की रोकथाम कर सकते हैं व जान-माल के नुकसान से भी देश को बचा सकते हैं।
कुछ करने योग्य कार्यः
आंतरिक सुरक्षा के संदर्भ मेंः
1.    कश्मीर में चल रही आतंकवादी व अलगाववादी घटनाओं की जानकारी से अपडेट (युक्त) रहना व लोगों को भी बताना।
2.    असम, मेघालय, पं0 बंगाल, मणिपुर आदि में होने वाले बंगलादेशी घुसपैठियों के बारे में बताना।
3.    नार्थ-इस्ट प्रदेशों में किस प्रकार ये राजनीतिक पार्टियों में शामिल होकर एवं राजनीतिक दल बना कर एमएलए एमपी बन रहे हैं, की जानकारी देना।
4.    लोगों को जागरूक करंे कि बंगलादेशी घुसपैठ के आधार पर आज असम में कब्जा कर रहे हेैं, कल दूसरे प्रदेश में और फिर भारत पर भी कब्जा करने का प्रयास करेंगे।
5.    सस्ते में मिलने वाले बंगलादेशी मजदूरों के खतरों से स्वयं को एवं जनता को बचाये रखने के लिये सावचेत करना।
6.    अपने आस-पास हो रही घुसपैठ को पहचानना, विदेशी बंगलादेशी भाषा से आसानी से पहचाने जा सकते हैं। उनकी सूचना संबंधित थाने में निःसंकोच दें।
7.    माओवाद नक्सलवाद क्या है? इसकी जानकारी रखना, लोगों को बताना कि किस प्रकार गरीबों की रक्षा के नाम पर यह खूंखार गतिविधियों में गांवों के भोले भाले लोगों को फंसा कर नक्सली बना रहे हैं। हथियार उठाने को मजबूर कर रहे हैं। विकास, रोजगार, शिक्षा, स्वास्थ्य पर धन खर्च न कर, आतंकवादी गतिविधि बढ़ाते हैं और फिर उनके आधार पर मुटठी भर लोग ऐशो आराम करते हैं।
8.    जाली नोट भी आतंकवाद की नई परिभाषा है। यह अर्थ व्यवस्था को खोखला करते हैं, अतः जाली नोटों के बारे में तुरन्त पुलिस को सूचना दें। अपने शहर या गांव में किस माध्यम से जाली नोट आ रहे हैं, नजर रखें।
9.    हमारे आस-पास रह रहे अराष्ट्रीय तत्वों को पहचानना, उनमें कुछ एनजीओ चलाने वाले व कुछ व्यापार उद्योग करने वाले भी हो सकते हैं, उन्हंे पहचानना व पुलिस को सूचना देना।
10.    अराष्ट्रीय गतिविधियों की जानकारी अपने मित्रों, सहयोगियों को व्यक्तिगत, फोन, मैसेज द्वारा बताना।
11.    लोगों को बताना कि हम आम लोग भी किस प्रकार देश की सुरक्षा कर सकते हैं, आतंकवाद को रोक सकते हैं।
12.    अपने आस-पास रह रहे संदिग्ध लोगों को पहचानना, उन पर नजर रखना व पुलिस को सूचना देना।
13.    अपने समूह में, कार्यालयों में, अपना वैचारिक पक्ष रखना, कोई गलत बयानवाजी है तो उसका प्रतिकार करना, पत्र-पत्रिकाओं में गलत बातों पर विरोध स्वरूप लेख लिखना, गलत व संदिग्ध बातों की जानकारी पुलिस प्रशासन को देना। सोशल मीडिया का अधिकाधिक उपयोग करना। 
14.    अपने आस-पास पनप रहे भ्रष्टाचार व अपराध की जानकारी रखना तथा उसे संबंधित लोगों तक पहुंचाना।
15.    आतंकी घटना यदि हो जाये तो उसके उपचार व निदान में बढ़ चढ़ कर हिस्सा लेना जैसे-
क.    घायलों को अस्पताल पहुंचाना व प्राथमिक उपचार करवाना।
ख.    समाज के लोगों को बताना व सहायता हेतु प्रेरित करना।
ग.    घायलों की जीवन रक्षा हेतु खून, दवाईयों व अन्य मदद के लिये आव्हान करना।
घ.    हमलों में मारे गये लोगों के परिवारों की सुरक्षा उनके रोजगार के साधनों, सरकारी सहायता व बच्चों की पढ़ाई आदि के प्रयास करना।
16.    बच्चोें व नागरिकों को नागरिक सुरक्षा के पाठ्यक्रम के लिये प्रेरित करना। अपने एनजीओ में इसे शामिल करना।
17.    बच्चों को एनसीसी, एनएसएस व स्काउट आदि विषयों के लिये प्रेरित करना व यदि सम्भव हो तो स्कूल व काॅलेजों की पढ़ाई के साथ अनिवार्य कराने का प्रयास करना।
18.    पाठ्यक्रमों में व परिवार में, समाज में, सरकारी तन्त्र में बच्चांे एवं युवाओं को नैतिक व चारित्रिक शिक्षा के बारे में बताने के लिये प्रेरित करना। अच्छा इन्सान, अच्छा नागरिक बनने की प्रेरणा देना।
19.    महिलाओं का आदर करना, उनकी सुरक्षा करने हेतु प्रेरित करना, हमारी धार्मिक आस्थाआंें में नारी का पूजनीय स्थान है, यह बताना
 बेटी होगी तो बहन मिलेगी, बहन होगी तो पत्नी मिलेगी,
 पत्नी होगी तो माॅ मिलेगी और प्रभु की सृष्टि आगे चलेगी।
20.    अपने आस-पास के लोगों को सामाजिक कार्यों व  श्रेष्ठ संगठनों से जुड़ने की प्रेरणा देना।
21.    ऐसे आदर्श विद्यालयों व महाविद्यालयों का निर्माण करना जिनमें निकलने वाले छात्र हर दृष्टि से जैसे नैतिकता में, चरित्र में एक आदर्श बने।
22.    भारत में विविधता में एकता का प्रचार-प्रसार करना। अलग जाति अलग भाषा अलग पन्थ अलग वेश फिर भी अपना एक देश का प्रचार करना।
23.    अपने समूह में, कार्यालयों में, कर पत्रकों द्वारा व अन्य प्रकार से भारतीय विचारों का प्रचार-प्रसार करना।
24.    कैरियर काउंसिल आयोजित करके युवाओं में देश प्रेम, समाज सेवा, नैतिक जीवन मूल्य, छुआछूत मुक्ति (जाति भेद नहीं), ’’अपने पंथ चलों दूसरों का आदर करो’’ का भाव विकसित करना।
25.    युवाआंे में यह भाव भरना कि
“ We can do ” हम कर सकते हैं अर्थात हम देश के लिये कुछ कर सकते हैं, हम देश में परिवर्तन ला सकते हैं। इससे हम उस अच्छे परिवर्तन के हीरो बनेंगे।
26.    अपराधियों को कैसे पहचाने, विद्यार्थियों व युवाओं को बतायें।
27.    मादक पदार्थों की बिक्री के स्थानों पर नजर रखें, कौन बेच रहा है? कौन खरीद रहा है?
28.    बस व रेल में यात्रा करते समय आस-पास नजर रखें। कोई संदिग्ध गतिविधि हो तो तुरंत रेल, पुलिस को सूचित करें।
29.    अपने आस-पास यदि विस्फोटक पदार्थ बनते हैं तो किस काम आ रहे हैं, उस पर नजर रखें। विस्फोटकों का गलत उपयोग तो नहीं हो रहा है !
30.    छुआछूत पाप व अपराध है, घर मन्दिर, कुआ, तालाब व मन को छुआछूत से मुक्ति का अभियान चलायें।
31.    लव एण्ड लिव डेली विद मदरलैण्ड


1-                                                                          “love and live daily with motherland””””
    भारत माॅं को प्रतिदिन प्यार करना एवं प्रतिदिन उसके साथ जीना
32.    हमारा मोहल्ला, हमारी सोसायटी, हमारा गांव यह एकता का भाव, संगठन का भाव विकसित करें।
33.    चीन ने तिब्बत हड़प लिया, कैलाश मानसरोवर पराया होगया, हिमालय में तेजी से पांव पसार रहा है। माल से घर घर में घुस रहा है। चीनी माल के साथ नहीं जीना। आजाद तिब्बत का प्रसार करना।
34.    पाकिस्तान के कब्जे वाले भारत (जम्मू कश्मीर) को वापिस लेने का जन-जन में संकल्प कराना।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें