शुक्रवार, 4 अक्तूबर 2013

राजस्थान में भ्रष्ट लोक सेवकों के खिलाफ 1366 शिकायतें दर्ज: कोठारी


http://www.dainiknavajyoti.com
Friday, 4 October 2013 |
प्रदेश में भ्रष्ट लोक सेवकों के खिलाफ 1366 शिकायतें दर्ज: कोठारी
http://www.dainiknavajyoti.com/hindi/news_details.php?newsid=131441
जोधपुर। लोकायुक्त एस.एस. कोठारी ने कहा है कि पिछले छह माह के दौरान लोक सेवकों के विरूद्ध 1366 शिकायतें दर्ज हुई है। शिकायतों पर अनुसंधान चल रहा है। वहीं माथुर आयोग द्वारा 1500 प्रकरणों को कार्रवाई के लिए राज्यपाल के समक्ष प्रस्ताव भेजा गया है। स्थानीय सर्किट हाऊस में आयोजित एक दिवसीय कैम्प के बाद आयोजित प्रेस वार्ता के दौरान पूर्व जस्टिस व लोकायुक्त एस.एस. कोठारी ने कहा कि व्यक्तिगत लाभ व स्वार्थी रवैये के कारण लोकसेवक व जनप्रतिनिधियों के विरूद्ध युवाओं का गुस्सा फूटने लगा है। बेरोजगारी भी इसका एक मुख्य कारण है। उन्होंने कहा कि लोक जीवन व शासन स्थापित करने के लिए वे पदों पर रहकर दुरूपयोग करने वाले अधिकारियों के विरूद्ध जांच व अन्वेषण करेंगे। ताकि, भ्रष्ट आचरण वाले व्यक्तियों के विरूद्ध रोक लग सकें। साथ ही आरोपियों के विरूद्ध कठोेर से कठोर कार्रवाई के लिए अनुशंषा की जाएगी। उन्होंने कहा कि दोषी लोक सेवकों के विरूद्ध कार्रवाई के लिए सालाना रिपोर्ट विधानसभा में बहस के लिए सब्मिट की जाती है। कोठारी ने बताया कि मार्च में हुई नियुक्ति के बाद अब तक राज्य से करीब 1366 शिकायतें दर्ज हो चुकी है। मामलों की प्रारंभिक जांच के बाद प्रकरण दर्ज किये जा रहे है।

जनसेवी विभागों के विरूद्ध सर्वाधिक शिकायतें
कोठारी ने बताया कि प्रतिदिन 25-30 दर्ज होने वाली शिकायतें सबसे अधिक पुलिस विभाग, नगर निगम, जेडीए, यूआईटी की मिलती है। इनमें कई शिकायतें निराधार भी होती है। उन्होंने आह्वान किया कि आमजन को शिकायतों में पर्याप्त साक्ष्यों के साथ दोषी के विरूद्ध मामले प्रेषित करने चाहिए। ताकि, भ्रष्ट अफसरों व कार्मिकों के विरूद्ध त्वरित व ठोस कार्रवाई अमल में लाई जा सकें।

राजनेता से लेकर अफसरों के विरूद्ध मिली शिकायतें
प्रदेश में कामकाज में घपलों की शिकायतों में अफसरों से लेकर राजनेता भी शामिल है। उन्होंने गोपनीयता का हवाला देते हुए कहा कि अधिनियम के प्रावधानों के तहत दोषी लोगों के विरूद्ध कार्रवाई आरंभ कर दी गई है। लोकायुक्त कार्यालय से निष्पक्ष व प्रभावी जांच होगी।

तबादले पर ले लिये महंगे उपहार
एक सवाल के जवाब में लोकायुक्त सज्जनसिंह कोठारी ने कहा कि एक आईएएस अधिकारी ने तबादले पर महंगे उपहार लिये। जो कि नियमों के विरूद्ध व भ्रष्टाचार की श्रेणी में आता है। कोड आफ कंडक्ट के तहत मामले के विरूद्ध कार्रवाई के लिए रिपोर्ट विधानसभा को सब्मिट कर दी गई है। हालांकि बहस नहीं होने के कारण मामला विधानसभा में लंबित चल रहा है।

पूर्व सरकार के विरूद्ध दर्ज है 1500 मामले
जस्टिस माथुर आयोग द्वारा पूर्व सरकार के विरूद्ध की गई जांच में 1500 मामले दर्ज हुए हैं। इन प्रकरणों पर कार्रवाई करने के लिए राज्यपाल से अनुरोध किया गया है। उन्होंने कहा कि मामलों में विधि अनुसार कार्रवाई की जाएगी।

जोधपुर से भी 60 प्रकरण
लोकायुक्त कोठारी ने बताया कि राज्य भर से दर्ज हुए 1366 मामलों में से 60 मामले जोधपुर से आए है। इनके विरूद्ध जांच के लिए संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिये जा चुके है। जांच में सहयोग नहीं करने व समय पर रिपोर्ट प्रस्तुत नहीं करने वाले अधिकारियों के विरूद्ध अर्द्धशासकीय पत्र जारी करने के साथ सम्मन/वारंट जारी किया जाएगा।

शिविर में मिली 30 शिकायतें
लोकायुक्त कोठारी ने कहा कि प्रदेश के लोगों को जागरूक करने के लिए शिविर लगाये जा रहे हैं। इसी के तहत जोधपुर में आज शिविर लगाया गया। शिविर के दौरान 30 शिकायतें मिली है। एक सवाल के जवाब में उन्होंने स्वीकार किया कि संसाधनों के मामले में राजस्थान लोकायुक्त के पास सीमित संसाधन है। साथ ही कार्मिकों का भी अभाव है। हालांकि राज्य सरकार ने लोकायुक्त की नियुक्ति के बाद संसाधन उपलब्ध करवाए हैं। मगर, कर्नाटक व मध्यप्रदेश व उत्तरप्रदेश के मुकाबले स्टाफ बहुत कम है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें