बुधवार, 4 दिसंबर 2013

पोस्ट पोल सर्वेः राजस्थान में चला महारानी वसुंधरा राजे का जादू


पोस्ट पोल सर्वेः राजस्थान में चला महारानी का जादू
आईबीएन-7 | Dec 04, 2013
http://khabar.ibnlive.in.com/news/112960/12
नई दिल्ली। राजस्थान के रण में इस बार मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की कुर्सी दांव पर लगी है। यहां विधानसभा की 200 में से 199 सीटों पर वोटिंग हुई है। आईबीएन7 और द वीक के लिए सीएसडीएस के पोस्ट पोल सर्वे के मुताबिक राजस्थान में बीजेपी को 126 से 136 सीटें मिलती दिख रही हैं तो कांग्रेस के खाते में 49 से 57 सीटें ही जाती दिख रही हैं। अन्य के खाते में 12 से 20 सीटें गई हैं। वोट प्रतिशत की बात करें तो कांग्रेस को पोस्ट पोल सर्वे में 33% वोट मिलता दिखा जो कि प्री पोल सर्वे में 32 था। लेकिन 2008 के मुकाबले अभी भी कांग्रेस को 4% का नुकसान होता दिख रहा है।

बीजेपी को प्री पोल सर्वे में जहां 41 फीसदी वोट मिलता दिख रहा था वह अब बढ़कर 43 हो गया है। 2008 के मुकाबले यह 9% ज्यादा है। इनके अलावा बीएसपी को 5% जबकि अन्य के खाते में 19% वोट जाते दिख रहे हैं। वसुंधरा राजे को 49% वोटर मुख्यमंत्री के तौर पर देखना चाहते हैं जबकि अशोक गहलोत को 27 फीसदी।

इस चुनाव में लोगों ने 72.86 फीसदी मतदान कर इतिहास रच दिया। यहां पिछली बार 66.25 फीसदी मतदान हुआ था। कुछ जानकारों का दावा है कि सूबे में वसुंधरा राजे की लहर और राज्य सरकार के खिलाफ गुस्से की वजह से रिकॉडतोड़ मतदान हुआ जबकि सत्तारूढ़ कांग्रेस प्रदेश सरकार की कल्याणकारी योजनाओं के बूते मतदान प्रतिशत बढ़ने का दावा कर रही है।

इन दावों की कलई आठ दिसंबर को वोटों की गिनती के साथ ही खुल जाएगी और चुनाव मैदान में उतरे 2087 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला हो जाएगा। इस बार मैदान में बीजेपी के 34 और कांग्रेस के 29 बागी उम्मीदवार थे। 2008 में कांग्रेस के पास 96 सीटें थीं, जबकि बीजेपी के पास 78 सीटें। अन्य के खाते में 26 सीटें आई थीं।

2008 चुनाव में कांग्रेस को 36.82 फीसदी जबकि बीजेपी को 34.27 फीसदी वोट मिले थे। बीएसपी ने भी 7.6 फीसदी वोट लेकर अपनी ताकत का अहसास कराया था। अन्य ने 21.31 फीसदी वोट काटकर सियासी जानकारों को चौंकाया था। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, शहरी विकास मंत्री शांति धारीवाल, ममता शर्मा जैसे कांग्रेसी दिग्गजों को वसुंधरा राजे और गुलाब चंद कटारिया जैसे बीजेपी के दिग्गज किस तरह जवाब दे पाए हैं, इसका फैसला 8 दिसंबर को होने ही वाला है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें