सोमवार, 27 जनवरी 2014

लता और मोदी के साथ लाखों लोग गायेंगे, ऐ मेरे वतन के लोगों.....!




मुबई : लता और मोदी के साथ लाखों लोग गायेंगे, ऐ मेरे वतन के लोगों.....! स्वर्ण जयंती वर्ष
Jan 27 2014

मुंबई : मशहूर देशभक्ति गीत  ऐ मेरे वतन के लोगों... के स्वर्ण जयंती वर्ष को यादगार बनाने के लिए आज मुंबई में समारोह का आयोजन किया गया है. इस मौके पर स्वर साम्राज्ञी लता मंगेशकर और गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी एक मंच पर साथ-साथ दिखेंगे. उम्मीद की जा रही है कि इस बार लता मंगेशकर, मोदी की मौजूदगी में मशहूर देशभक्ति गीत ऐ मेरे वतन के लोगों... भी गायेंगी.

आज करीब एक लाख लोग एक साथ यह गीत गायेंगे. इस मौके पर लता मंगेशकर भी मौजूद रहेंगी. भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी इस मौके पर लता को सम्मानित करेंगे. मुंबई के महालक्ष्मी रेसकोर्स में आयोजित होनेवाले इस कार्यक्रम का आयोजन शहीद गौरव समिति (एसजीएस) कर रहा है.

इस मौके पर लता मंगेशकर के साथ जंग के नायकों और उनके परिवार के लोगों को सम्मानित किया जायेगा. लता ने 27 जनवरी, 1963 को पहली बार ऐ मेरे वतन के लोगों... गाया, तो देश के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू समेत कई लोगों की आंखें नम हो गयी थीं. गीत को मशहूर कवि प्रदीप ने लिखा था.
------------------
मुंबई। देशभक्ति का जज्बा भर देने वाले गीत ‘ए मेरे वतन के लोगों..’ का मुंबई में आज स्वर्ण जयंती समारोह है। 27 जनवरी 1963 को पहली बार इस गीत को लता मंगेशकर ने जवाहर लाल नेहरू के सामने गाया था। कवि प्रदीप के लिखे इस गीत के 50 साल पूरे होने के मौके पर मुंबई में एक खास कार्यक्रम का आयोजन किया गया है। इस कार्यक्रम में ‘स्वर कोकिला’ लता मंगेशकर के साथ ही बीजेपी के पीएम पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी, उद्धव ठाकरे सहित बॉलीवुड और राजनीति की कई हस्तियां शामिल होंगी। इस गीत को देशभक्ति के हर अवसर पर गाया जाता है।

भारत-चीन युद्ध के बाद इसी गीत ने देशभक्तों के मनोबल को फिर से उठाने का काम किया था। राष्ट्र गान और राष्ट्र गीत की तरह उतनी ही श्रद्धा के साथ इस गाने को आज भी गाया जाता है। 27 जनवरी 1963 की शाम राजधानी दिल्ली के राष्ट्रीय स्टेडियम में जब लता मंगेशकर ने इस गाने को गाया, तो वहां मौजूद सभी लोगों की आंखें नम हो गई थीं। खुद प्रधानमंत्री पंडित नेहरू की भी आंखें इस गाने को सुनने के बाद भर आई थीं। तत्कालीन राष्ट्रपति एस राधाकृष्णन, प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू, सभी कैबिनेट मंत्रियों सहित पूरी फिल्म इंडस्ट्री, जिसमें दिलीप कुमार, देव आनंद, राज कपूर, राजेंद्र कुमार, गायक मोहम्मद रफी, हेमंत कुमार इस मौके पर मौजूद थे।

‘ए मेरे वतन के लोगों..’ गीत युद्ध के नायकों और शहीदों के लिए एक श्रद्धांजलि है। इस गीत ने हर उम्र के लोगों को 1962 की हार के बाद पैदा हुए गुस्से को नियंत्रण में करना सिखाया। आज 50 साल बाद भी इस गीत की लोकप्रियता बरकरार है और सभी प्रमुख राष्ट्रीय कार्यक्रमों के अवसर पर इस गाने को जरूर बजाया जाता है।
--------------
आधी सदी का अमर गीत...
-माहीमीत
ऐ मेरे वतन के लोगों, तुम खूब लगा लो नारा
ये शुभ दिन है हम सबका, लहरा लो तिरंगा प्यारा
पर मत भूलो सीमा पर, वीरों ने है प्राण गंवाए
कुछ याद उन्हें भी कर लो, कुछ याद उन्हें भी कर लो
जो लौट के घर न आए, जो लौट के घर न आए...
ऐ मेरे वतन के लोगों, जरा आंख में भर लो पानी
जो शहीद हुए हैं उनकी, जरा याद करो कुर्बानी

27 जनवरी को उज्जैन की आबोहवा में पले-बढ़े कवि प्रदीप का यह अमर गीत अपने जन्म 50 साल पूरे कर लेगा। पिछली आधी सदी से यह महान गीत आम भारतीयों के दिल को झकझोर रहा है। इस गीत को सुन आज भी देश की कई माताएं, बहनें, पत्नियां और बच्चे उन अपनों के लौटने का इंतजार कर रहे हैं, जो चीन की 1962 की सुर्ख आंधी में शहीद हो गए थे। हिन्दुस्तान के इतिहास का यह ऐसा इकलौता गीत है, जो इंसानी संवेदनाओं की तह को आधी सदी बीत जाने के बाद भी बार-बार उदासी के सागर में नई हिलोरे पैदा करने की कोशिश कर रहा है।

प्रदीप ने अपने इस गीत में भारतीय सैनिकों के साहस, वीरता और देशप्रेम के साथ-साथ उनकी दुर्दशा और दुखद अंत का ऐसा अविस्मरणीय चित्र खींचा था, जो आज भी हमारे मानस से ओझल नहीं हो पा रहा है। इसे दुर्भाग्य का गीत कहना कितना उचित होगा मुझे यह तो नहीं पता लेकिन यह चीन की क्रूरता का चित्रण एक अलहदा तरीके से करता है।

बर्फीले पहाड़ों पर मानवीयता के रक्तरंजित होने का इससे वीभत्स दृश्य कहीं नहीं दिखाई देगा। इस गीत की आत्मा उसके शब्द हैं और एक-एक शब्द को प्रदीप ने जिस तह में जाकर लिखा है वही इसे पिछले 50 सालों से हमारे दिलो दिमाग में बैठा हुआ है। अब इस अमर गीत की कुछ पंक्तियां गुनगुनाते हैं-

ये शुभ दिन है हम सबका, लहरा लो तिरंगा प्यारा
पर मत भूलो सीमा पर, वीरों ने है प्राण गंवाए
कुछ याद उन्हें भी कर लो, कुछ याद उन्हें भी कर लो
जो लौट के घर न आए, जो लौट के घर न आए...
ऐ मेरे वतन के लोगों, जरा आंख में भर लो पानी
जो शहीद हुए हैं उनकी, जरा याद करो कुर्बानी
ऐ मेरे वतन के लोगों जरा आंख में भर लो पानी

इस अद्वितीय गीत की धुन महान संगीतकार सी. रामचन्द्र ने बनाई थी। सबसे पहले यह गीत स्वर कोकिला लता मंगेशकर ने संवेदनशीलता के साथ 27 जनवरी 1963 को नेशनल स्टेडियम में संगीतकार सी. रामचन्द्र के लाईव आर्केस्ट्रा के साथ गाकर पूरे देश को रोने पर मजबूर कर दिया था।

इतना गुजर जाने के बावजूद आम भारतीयों की आंखों में इस गीत को सुनकर आंसुओं के सैलाब बहने लगते हैं। 27 जनवरी को एक बार से फिर इस गीत को लता मंगेशकर इसके 50 साल पूरे होने पर मुंबई में 1 लाख लोगों के साथ गाएंगीं। 27 जनवरी को यह दिवस पूरा देश श्रेष्ठ भारत दिवस समारोह के रूप में मनाएगा।

मुंबई में स्वर कोकिला लता मंगेशकर को गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी सम्मानित करेंगे। कार्यक्रम के दौरान 1 लाख लोग देश के लिए बलिदान देने वाले अमर शहीदों की याद में ये गीत गाएंगे और इस कार्यक्रम में देश के शहीद परिवारों, सैनिकों एवं भारत की जनता की ओर से गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी इस अमर गीत हेतु लता मंगेशकर का सार्वजनिक अभिनंदन करेंगे।

सबसे पहले जब इस गीत को लता ने गाया था। उस समय देश के तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू यह गीत सुन भाव-विभोर हो गए थे। एक बार फिर से वही ऐतिहासिक मौका आ रहा है। देश के अमर शहीदों को सलाम करते हुए इस गीत की कुछ पंक्तियां और गुनगुनाते हैं।

जब घायल हुआ हिमालय, खतरे में पड़ी आजादी
जब तक थी सांस लड़े वो... जब तक थी सांस लड़े वो...,
फिर अपनी लाश बिछा दी...
संगीन पे धरकर माथा, सो गए अमर बलिदानी...
जो शहीद हुए हैं उनकी, जरा याद करो कुर्बानी...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें