गुरुवार, 9 जनवरी 2014

नरेंद्र मोदी ने ली पीएम के बयान पर चुटकियाँ


--------------
नीचे दी गई खबर पर यह एक प्रतिक्रिया है , इसे पहले पढ़ें !
Khari Khari, Kanpur का कहना है :
09/01/2014 at 04:11 PM

सोनिया ने कहा कि हम 100 दिनों में महंगाई खत्म कर देंगे- हमने हंस कर टाल दिया। मनमोहन ने कहा कि हम मुम्बई को शंघाई बना देंगे - हमने हंस कर टाल दिया। कपिल ने कहा कि हम दुनिया का सबसे सस्ता टैबलेट लेकर आएंगे- हमने हंस कर टाल दिया। शरद पवार ने कहा कि हम बहुत जल्द दुनिया को सबसे ज्यादा चावल निर्यात कराएंगे - हमने हंस कर टाल, खुर्शीद ने कहा कि हम चीन के हर संभव युद्ध से लड़ने को तैयार हैं - हमने हंस कर टाल दिया, शिन्दे ने कहा की हम दाउद को पकड कर लाएंगे - हमने हंस कर ताल दिया, लेकिन मनमोहन ने कहा की राहुल गाँधी देश के सबसे प्रखर युवा नेता हैं और उनमें विलक्षण प्रतिभा है वह देश को नई उंचाई पर ले जाएंगे.. . . . . अरे यार, हंसा-हंसा कर मारोगे क्या???
-----------

नरेंद्र मोदी ने ली पीएम के बयान पर चुटकियाँ

नवभारतटाइम्स.कॉम | Jan 9, 2014 नई दिल्ली
http://navbharattimes.indiatimes.com
प्रवासी भारतीयों के सम्मेल में बीजेपी के पीएम उम्मीदवार नरेंद्र मोदी ने विकास को लेकर राज्यों के बीच विकास को लेकर स्वस्थ प्रतियोगिता को जहां अच्छा बताया, वहीं प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पर चुटकी भी ली। सरदार पटेल की प्रतिमा का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा, 'हमने पटेल की पुण्यतिथि पर रन फॉर यूनिटी का आयोजन किया जो काफी सफल रहा।' उन्होंने कहा, 'पटेल की वजह से ही आज हमें गिर के जंगलों में शेर देखने को मिल रहे हैं। अगर पटेल न होते तो, वहां जाने के लिए वीजा लेना पड़ता।'
इसके बाद गुजरात के मुख्यमंत्री मोदी ने कहा, 'कल यहां प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह आए थे। वह बड़ी अच्छी बात कहकर गए। उन्होंने कहा कि बहुत जल्द अच्छे दिन आने वाले हैं। मेरा भी ऐसा मानना है कि अच्छे दिन आने वाले हैं। हां, इसमें चार-छह महीने का वक्‍त जरूर लग सकता है। और मुझे आगे कहने की जरूरत नहीं है।'
फिर गंभीरता दिखाते हुए मोदी ने कहा कि मुझे वाकई विश्वास है कि अच्छे दिन आएंगे। उन्होंने कहा कि बीते कुछ दिन में देश का माहौल बदला है। राज्यों में एक सकारात्मक प्रतिस्पर्धा शुरू हुई है। अगर मोदी अपने राज्य को विकास में नंबर वन बताते हैं, तो हरियाणा के मुख्यमंत्री भूपेंदर सिंह हुड्डा कहते हैं कि उनके राज्य ने ज्यादा विकास किया है। मोदी ने कहा, 'यह नया चलन है और इसका स्वागत होना चाहिए। राज्यों के बीच इस तरह की स्पर्धा देश को विकास की पटरी पर लाने का काम करती है। पहले हमारे देश में बीमारू राज्यों की बात होती थी, लेकिन अब वही राज्य विकास करने लगे हैं। राज्यों में विकास के लिए दौड़ अच्छी बात है। यह भी खुशी की बात है कि अब फोकस केंद्र से राज्य की तरफ बढ़ रहा है।'
गौरतलब है कि बुधवार को प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने इकॉनमी की स्थिति को लेकर प्रवासी भारतीयों की आशंकाओं को दूर करने का प्रयास करते हुए कहा था कि देश 'बेहतर भविष्य' की ओर बढ़ रहा है और वर्तमान के बारे में निराश होने या भविष्य के बारे में चिंता करने का कोई कारण नहीं है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें