रविवार, 5 जनवरी 2014

लोकतंत्र को लूटतंत्र में तब्दील होने से बचाएं नरेन्द्र मोदी : योगगुरु रामदेव



लोकतंत्र को लूटतंत्र में तब्दील होने से बचाएं नरेन्द्र मोदी : योगगुरु रामदेव

नई दिल्ली : कांग्रेस पर देश की लुटिया डूबो देने का आरोप लगाते हुए योगगुरु रामदेव ने रविवार को कहा कि चुनाव से पहले ही देश ने नरेन्द्र मोदी को चुन लिया है और वे लोकतंत्र को लूटतंत्र में तब्दील होने से बचाएं। योगगुरु ने कई तरह के कर की व्यवस्था को समाप्त करने और एक कर की व्यवस्था तैयार करने की वकालत की।

दिल्ली के तलकटोरा स्टेडियम में रैली को संबोधित करते हुए योगगुरु ने कहा, ‘‘एक पार्टी (कांग्रेस) ने लोकतंत्र को बंधक बना लिया है। कांग्रेस ने देश की लुटिया डूबो दी है। मोदी लोकतंत्र को लूटतंत्र में तब्दील होने से बचाएं।’’ उन्होंने मांग की कि मोदी देश की गलत आर्थिक नीतियों को दुरूस्त करने का आश्वासन दें।

उन्होंने दावा किया कि चुनाव से पहले ही देश ने मोदी को चुन लिया है। ‘‘त्रेता में राम, द्वापर में कृष्ण और 2014 मोदी का है। मोदी कांग्रेस के लिए महाकाल है।’’ योगगुरु ने भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेन्द्र मोदी की उपस्थिति में कहा कि देश को उनसे (मोदी) से काफी उम्मीदें है और वे किसानों, कालेधन समेत हमारे मुद्दों पर क्या रुख अपनाएंगे यह बताएं।’’

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पर निशाना साधते हुए रामदेव ने कहा कि गलत आर्थिक नीतियों के कारण ही प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को कहना पड़ता है कि ‘मैं हिन्दुस्तान से गरीबी, बेरोजगारी, भ्रष्टाचार, महंगाई को खत्म नहीं कर सका । अगर प्रधानमंत्री इन बुराइयों को समाप्त नहीं कर सकते तो वहां क्यों बैठे हैं। जिनको देश चलाना आता है, उन्हें चलाने दें। अगर प्रधानमंत्री व्यवस्था को दुरूस्त नहीं कर सकते तो हमारे साथ प्रणायाम करें।’’ योगगुरु ने कहा कि देश की अर्थव्यवस्था बेहद बीमार हो गई है, निर्यात की स्थति काफी खराब है, नीतियों के बारे में कोई स्पष्टता नहीं है और कालेधन एवं भ्रष्टाचार के कारण स्थिति नाजुक हो गई है।

रामदेव ने कहा, ‘‘अगर देश से कालेधन की अर्थव्यवस्था को समाप्त कर दिया जाए तो हिन्दुस्तान की अर्थव्यवस्था में कई लाख करोड़ रुपए का इजाफा हो जायेगा।’’ रामदेव ने कहा कि देश में कराधान की व्यवस्था बीमार हो गई है। इस कराधान की व्यवस्था के कारण लोगों को शीर्षासन करना पड़ रहा है। इससे सवा सौ करोड़ लोग परेशान हो रहे हैं। देश की कर व्यवस्था को दुरूस्त करना पड़ेगा। देश में काफी संख्या में कर को समाप्त कर एकल कर व्यवस्था लागू किये जाने की जरूरत है।

योगगुरु ने कहा कि कौन कहता है कि देश का गरीब कर नहीं देता है। कोई भी व्यक्ति जो बिस्कुट खरीदता है, जूते, चप्पल, कपड़े एवं दैनिक उपभोग की वस्तुए खरीदता है, वह कर देता है। रामदेव ने कहा कि सभी तरह के करों को समाप्त करना चाहिए और इसके स्थान पर लेन-देन कर के लिए रूप में एकल कर लाना चाहिए।

उन्होंने कहा, ‘‘125 रिपीट 125 करोड़ भारतीय देश में आर्थिक आजादी चाहते हैं और उन्हें मोदी से काफी उम्मीदें हैं।’’ इस रैली में मोदी, भाजपा अध्यक्ष राजनाथ सिंह और वरिष्ठ भाजपा नेता अरुण जेटली मौजूद थे। रामदेव ने यह भी कहा कि मूल्य नीति के बजाय आय नीति के आधार पर देश के 60 करोड़ किसानों के लिए राष्ट्रीय किसान आय आयोग गठित किया जाए। उन्होंने कहा कि उन्हें मोदी से आशा है कि वह भारतीयों द्वारा विदेशी बैंकों में रखे गए काले धन को राष्ट्रीय संपदा घोषित करने और वापस लाने के बारे में भी स्थिति स्पष्ट करेंगे। (एजेंसी)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें