रविवार, 23 फ़रवरी 2014

पगड़ी की इज्जत, मुझे बढ़ाना है - नरेंद्र मोदी






लुधियाना के जगराव में रैली के लिए पहुंचे भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी को पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल ने पगड़ी पहनाकर सम्मानित किया।

--------------------
चौकीदार बनकर पंजे से तिजोरी को बचाऊंगा: मोदी
आईबीएन-7 | Feb 23, 2014
लुधियाना। बीजेपी के पीएम पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी आज पंजाब के लुधियाना में रैली की। रैली के दौरान मोदी कांग्रेस पर जमकर बरसे। कांग्रेस पर निशाना साधते हुए मोदी ने कहा कि कांग्रेस की पहचान बन गया है भष्टाचार। ये पार्टी सिर्फ एक आदमी की पार्टी रह गई है। खुद के प्रधानमंत्री बनने पर मोदी ने कहा कि मैं प्रधानमंत्री नहीं चौकीदार बनकर बैठूंगा और देश की तिजोरी पर पंजा नहीं पड़ने दूंगा।

मोदी ने कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा कि कांग्रेस शिरोमणि अकाली दल और बीजेपी की दोस्ती से कांग्रेस परेशान है। यहां उसकी बांटों और राज करो की नीति फल रही है। मोदी ने कहा, कि पूरी एबीसीडी, कांग्रेस के भ्रष्टाचार की पहचान बन गई है। ए से आदर्श घोटाला, बी से बोफोर्स घोटाला, सी से कोयला घोटाला। कांग्रेस के प्रधानमंत्री रहे राजीव गांधी ने कहा था कि दिल्ली, से एक रुपया निकलता है तो गांव पहुंचते पहुंचते 15 पैसे हो जाता है। मैं पूछता हूं कि वो कौन सा पंजा था जो रुपये को घिसता था और रुपया 15 पैसे में बदल जाता था।

मोदी की इस रैली को 'फतह रैली' का नाम दिया गया है। मोदी मंच पर पंजाबी लुक में नजर आ गए। उन्होंने परंपरागत पंजाबी पगड़ी पहन रखी थी। अपने सरदार वाले लुक पर मोदी ने कहा, कि यह पगड़ी बादल साहब ने पहनाई है, इस पगड़ी की इज्जत बढ़ाना मेरा दायित्व बन गया है। पीएम मनमोहन सिंह का नाम लिए बिना उनपर निशाना साधते हुए मोदी ने कहा कि किसी और ने इस पगड़ी की इज्जत बढ़ाई हो या नहीं, मुझे बढ़ाना है।

मोदी ने कहा कि आर्थिक विकास में मदद के लिए कृषि, विनिर्माण और सेवा क्षेत्रों को प्रोत्साहन दिए जाने की आवश्यकता है। भारत को आगे ले जाने के लिए हमें उद्योग की जरूरत है। हमें कृषि की जरूरत है ताकि कोई भूखा नहीं रहे। सेवा क्षेत्र को भी निवेश की जरूरत है। हमने इस क्षेत्र पर पर्याप्त ध्यान नहीं दिया है। जमीन बढ़ने नहीं जा रही और जोत छोटी होती जा रही है। हमें नई प्रौद्योगिकी और वैज्ञानिक अनुसंधान के जरिए कृषि उत्पादन बढ़ाना होगा।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें