शनिवार, 22 फ़रवरी 2014

चीन को छोड़नी होगी विस्तारवादी नीति : नरेंद्र मोदी



------------
क्या देश में है कोई दूसरा दबंग राजनेता
जो चीन से इस सीधी भाषा में बात कर सके।
------------
चीन को छोड़नी होगी विस्तारवादी नीति : नरेंद्र मोदी
ज़ी मीडिया ब्यूरो February 22, 2014,

पासीघाट (अरुणाचल प्रदेश) : भाजपा के पीएम पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी ने आज कहा कि इस बार देश में विकास का सूर्योदय अरुणाचल प्रदेश से होगा। मोदी ने कहा कि गुजरात का अरुणाचल प्रदेश से गहरा रिश्ता है। अपने भाषण के दौरान मोदी ने नीडो तानिया की मौत का भी जिक्र किया।

अरुणाचल के पासीघाट में हुई रैली को संबोधित करते हुए नरेंद्र मोदी ने कहा कि विकास ही पूर्वोत्तर की समस्याओं का समाधान है। मोदी ने कहा, 'पूर्वोत्तर के 8 राज्यों में इस बार कमल जरूर खिलेगा। मोदी ने कहा कि अरुणाचल वीरों की भूमि है। यहां के लोग अकेले दम पर चीन की दादागिरी का डजटकर मुकाबला करते हैं और शान से जयहिंद बोलते हैं। '

अरुणाचल प्रदेश में नरेन्द्र मोदी इससे पहले विजय संकल्प रैली को संबोधित कर चुके हैं। आज तय कार्यक्रम के अनुसार मोदी सबसे पहले अरुणाचल प्रदेश में पूर्वी सियांग के जिला मुख्यालय पासीघाट पहुंचे।

विदेश नीति के मुद्दे पर पहली बार अपना रूख पेश करते हुए मोदी ने चीन से अपनी ‘विस्तारवादी मानसिकता’ को छोड़ने को कहा, साथ ही यह स्पष्ट किया कि दुनिया की कोई ताकत भारत से अरूणाचल प्रदेश को नहीं छीन सकती।

मोदी ने कहा, ‘चीन को अपनी विस्तारवादी नीति को छोड़ देना चाहिए और दोनों देशों की शांति, प्रगति और समृद्धि के लिए द्विपक्षीय संबंधों को बढ़ावा देना चाहिए।’ उन्होंने कहा, ‘अरूणाचल प्रदेश भारत का अभिन्न अंग है और हमेशा बना रहेगा। कोई भी शक्ति इसे हमसे नहीं छीन सकती है। अरूणाचल प्रदेश के लोगों को चीन के दबाव या भय में नहीं आना चाहिए।’

सियांग नदी के पास आयोजित रैली को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा, ‘मैं इस मिट्टी की शपथ लेता हूं कि मैं राज्य को न तो समाप्त होने दूंगा और न ही टूटने या झुकने दूंगा।’ (एजेंसी इनपुट के साथ)


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें