मंगलवार, 11 फ़रवरी 2014

हिंदुस्तान के नौजवानों को रोजगार मिले - नरेंद्र मोदी



नरेंद्र मोदी - जो लोग दिल्ली में तीसरे मोर्चे की वकालत करते रहते हैं, मैं उन नेताओं से कहता हूं कि जरा हेलिकॉप्टर लेकर रैली का एक चक्कर लगा लें। पता चल जाएगा कि ओड़िशा के लोग क्या चाहते हैं।
- हिंदुस्तान के नौजवानों को रोजगार मिले, पहने के लिए कपडे़ मिले, बच्चों को शिक्षा मिले। मां-बहनों को सुरक्षा मिले, सम्मान मिले। यही सरकार का मकसद होना चाहिए।
--------------
ओडिशा में नरेंद्र मोदी ने साधा तीसरे मोर्चे पर निशाना
फ़रवरी 11, 2014

http://khabar.ndtv.com/news/india/narendra-modi-rally-in-odisha-380257

भुवनेश्वर: बीजेपी के पीएम पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी ने भुवनेश्वर में रैली के दौरान तीसरे मोर्चे पर निशाना साधा। मोदी ने कहा कि तीसरे मोर्चे का एक ही काम है और वह है कांग्रेस को बचाना।

मोदी के मुताबिक, तीसरे मोर्चे के नेता कांग्रेस की मदद करते हैं। इसके साथ ही मोदी ने कांग्रेस पर भी वार करते हुए कहा कि इस देश में पिछले साठ सालों से कांग्रेस ने राज किया है, जिससे देश में भ्रष्टचार, महंगाई और गरीबी में बढ़ोतरी हुई है। मोदी ने कहा कि देश को सही नेतृत्व की जरूरत है और यह काम बीजेपी का विकास का मॉडल ही कर सकता है। मोदी ने गुजरात की तुलना कांग्रेस शासित प्रदेशों से की और कहा कि ओडिशा में परिवर्तन की जरूरत है।

मोदी ने कहा कि गुजरात में ओडिशा के हर जिले के लोग हैं। ओडिशा की दुर्दशा के कारण यहां 18-20 साल उम्र होते ही नौजवान पलायन कर जाते हैं। हमें ऐसा ओडिशा बनाना है, जो गए हैं, वे भी लौटकर आ जाएं। उन्हें रोजी-रोटी और काम का अवसर मिलना चाहिए।

उन्होंने कहा, ओडिशा की हालत को देखकर सबसे ज्यादा दुख बीजू बाबू दुखी होंगे। बीजू बाबू को पीड़ा होती होगी कि क्या मेरा ओडिशा ऐसा हो गया। उनके मन को संतोष हो, ऐसा ओडिशा बनाना है और ओडिशा को उत्तम कौन बना सकता है, इसका निर्णय जनता को करना है। 2014 चुनाव राजनीतिक शुद्धिकरण का है।

मोदी बोले, लोगों को रोजगार मिले, गरीब को रहने के लिए घर मिले, पहनने के लिए कपड़े मिले, बच्चों को शिक्षा मिले, बुढ़ों को अच्छी चिकित्सा मिले, मां-बहनों को सुरक्षा और सम्मान मिले, क्या 21वीं सदी में लोगों को इतना भी हक नहीं है? लेकिन दिल्ली की सरकार को केवल सत्ता हथियाने से मतलब है। वहीं हमारी प्राथमिकता इस देश के गरीबों की भलाई है।

आगे कहा कि 100 दिन की बात है। 100 दिन के बाद दिल्ली में भाजपा की सरकार बन जाएगी। लेकिन अगर ओडिशा से भाजपा का कोई एमपी दिल्ली नहीं पहुंचा तो यहां के लोगों का भला कैसे करूंगा?
--------------
बीजेपी को ओडि़शा से लोकसभा चुनाव में 21 कमल चाहिए: नरेंद्र मोदी
पी7 न्यूज/दिल्ली  11 February 2014
http://www.p7news.com/top-news
नरेंद्र मोदी ओडि़शा के भुवनेश्‍वर में एक रैली को संबोधित कर रहे हैं। यहां उन्‍होंने गुजरात और ओडि़शा की तुलना करते हुए प्रदेश की सरकार को घेरा। साथ ही कहा कि गुजरात के हर जिले में ओडि़शा के लोग रहते हैं और सूरत में दूसरी भाषा उडि़या है।

नरेंद्र मोदी ने कहा कि गुजरात में कोई ऐसा जिला नहीं है जहां ओडि़शा के लोग नहीं रहते हों। गुजरात में मुझे सबसे ज्‍यादा लोग मुझे कंजाब जिले के मिलते हैं। जब मैं उनसे पूछता हूं कि कंजाब जिला कहा हैं तो वो कहते हैं कि मुख्‍यमंत्री नवीन पटनायक का जिला है। यह बड़ी दुख की बात है कि मुख्‍यमंत्री के जिले के लोगों को भी राज्‍य छोड़कर जाना पड़ता है। यहां भी लोग बेरोजगार हैं।

बीजेपी के पीएम पद के प्रत्‍याशी ने कहा, 'कुछ लोग सभा करते हैं तो उनको लोगों को लाना पड़ता है, भीड़ जुटाने के लिए काफी मशक्‍कत करनी पड़ती है। लेकिन भाजपा की सभा में लोग अपने आप आते हैं। आज ओडि़शा के भगवा समंदर दिखाई दे रहा है। ये हमारे सभी विपक्षी दलों को देखना चाहिए कि हमारे साथ देश की जनता का कितना सपोर्ट है।'

मोदी ने यहां थर्ड फ्रंट को भी आड़ हाथों लिया। उन्‍होंने कहा, 'जो लोग दिल्‍ली में तीसरे मोर्चे की वकालत करते रहते हैं, मैं उन लोगों को कहता हूं कि हेलीकॉप्‍टर से यहां का दौरा करें तो उन्‍हें पता चल जाएगा कि उड़ीसा ने हवा का रुख बदल दिया है। थर्ड फ्रंट के लोगों को सबक सिखाने का वक्‍त आ गया है। थर्ड फ्रंट में 11 दल शामिल होते हैं। इन 11 दलों को अपने राज्‍य में मुंह दिखाने की हिम्‍मत नहीं होती, इसलिए दिल्‍ली में सब मिलकर फोटो खिंचवाते हैं। इन 11 में से 9 दल कांग्रेस के साथ मिलकर सरकार बनाते रहे हैं। लेकिन चुनाव आते ही ये दल थर्ड फ्रंट का मुखौटा ओढ़ लेते हैं। क्‍या ऐसे दलों को जिताना कांग्रेस को जिताना नहीं होगा।'

गुजरात और ओडि़शा की तुलना करते हुए उन्‍होंने कहा, 'गुजरात में मुझे सरकार चलाते हुए लगभग 14 साल हो गए हैं। यहां आपके मुख्‍यमंत्री नवीन पटनायक को भी सरकार चलाते हुए 14 साल हो गए हैं। हमने 14 साल में गुजरात में वो कमाल कर दिखाया जिसकी वजह से रोजी-रोटी कमाने दूसरे राज्‍यों के लोग आते है। लेकिन ओडि़शा को यहां की सरकार ने इतना बर्बाद कर दिया कि लोग रोजी-रोटी कमाने के लिए यहां से जाने को मजबूर हो गए है।'

उन्‍होंने कहा, 'हम दावा करते हैं कि हमारा देश सबसे युवा देश है। 65 प्रतिशत लोग युवा हैं। लेकिन क्‍या ये बात ओडि़शा के लिए सही लगती है क्‍या? नहीं लगती, इसका कारण यह है कि उड़ीसा का युवा रोजी-रोटी कमाने के लिए दूसरे राज्‍यों के लिए प्रलायन कर जाते हैं। यहां सिर्फ बूढ़े रह जाते हैं। भाइयों कौन युवा अपने राज्‍य, माता-पिता, दोस्‍तों और खेत-‍खलियानों को छोड़कर जाना चाहता है? लेकिन आज नौजवानों को उड़ीया की स्थिति देखकर यहां से प्रलायन करना पड़ता है। हमें ओडि़शा को आत्‍मनिर्भर बनाना है।'

मोदी ने रैली में उपस्थित लोगों से सवाल किया कि ओडि़शा में सिल्‍क की साड़ी के उद्योग में बहुत ऊपर है। यहां से कुशील कारीगर कहीं नहीं मिलता। लेकिन ऐसा क्‍या हो गया कि सिल्‍क का कारीगर सूरत में जाकर कारोबार कर रहा है। यह हालत किसने पैदा की है?

साथ ही मोदी ने कहा कि बीजू बाबू (बीजू पटनायक) आज जहां होंगे, बहुत दुखी होंगे। ओडि़शा का हाल देखकर वो निराश होंगे। मैं यहां वादा नहीं इरादा लेकर आया हूं। बीजू बाबू को संतोष हो ऐसा उड़ीसा बनाना है। बीजू बाबू को श्रद्धांजलि देने के लिए उत्‍तम से उत्‍तम ओडि़शा बनाना है। यह काम सिर्फ भारतीय जनता पार्टी की कर सकती है।

ओडि़शा को विकास के पथ पर लेकर जाने के लिए परिवर्तन की जरूरत है। 100 दिन बाद केंद्र में सरकार बदलने वाली है। केंद्र में बीजेपी की सरकार बनेगी, लेकिन ओडि़शा से अगर कोई एमपी संसद में नहीं पहुंचा तो मैं यहां का विकास कैसे कर पाऊंगा? इसलिए मुझे ओडि़शा से कम से कम 21 कमल चाहिए। मुझे 21 एमपी चाहिए, ताकि मैं ओडि़शा को बीजू बापू के सपनों का ओडि़शा बना सकूं। इसके लिए ओडि़शा में परिर्वतन लाने की जरूरत है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें