रविवार, 1 जून 2014

BBC : मोदी विरोधी एक तरफा कवरेज की कड़ी आलोचना



ब्रिटिश सांसद के निशाने पर BBC, मोदी की एक तरफा कवरेज की कड़ी आलोचना की
dainikbhaskar.com|Jun 01, 2014,


लंदन। भारत के नए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लेकर बीबीसी की एकतरफा कवरेज के कथित मामले में भारतीय मूल की एक ब्रिटिश सांसद ने तीखी आलोचना की है। भारतीय प्रवासी मामलों में दखल देने वाली प्रीती पटेल ने कहा है कि कवरेज में जो कुछ कहा गया, उसका कोई तुक नहीं था।

उन्होंने बीबीसी के महानिदेशक लॉर्ड टोनी हॉल को लिखे पत्र में कहा है, "भारतीय आम चुनाव की कवरेज के दौरान 16 मई को परिणामों की घोषणा पर बीबीसी के कार्यक्रम न्यूज नाइट के सबंध में ब्रिटेन में बसे भारतीय समुदाय के लोगों से कई शिकायतें मिली हैं।"

पटेल ने पत्र में लिखा है, "ब्रिटिश भारतीय समुदाय के कई लोग, खासकर गुजराती मूल के लोग प्रधानमंत्री चुने गए मोदी को लेकर बीबीसी द्वारा की गई रिपोर्टिंग से अपमानित महसूस कर रहे हैं।" आपको बता दें कि ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरन ने पटेल को इंडियन डायसपोरा चैम्पियन नियुक्त किया है।
लंदन। भारत के नए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लेकर बीबीसी की एकतरफा कवरेज के कथित मामले में भारतीय मूल की एक ब्रिटिश सांसद ने तीखी आलोचना की है। भारतीय प्रवासी मामलों में दखल देने वाली प्रीती पटेल ने कहा है कि कवरेज में जो कुछ कहा गया, उसका कोई तुक नहीं था।

उन्होंने बीबीसी के महानिदेशक लॉर्ड टोनी हॉल को लिखे पत्र में कहा है, "भारतीय आम चुनाव की कवरेज के दौरान 16 मई को परिणामों की घोषणा पर बीबीसी के कार्यक्रम न्यूज नाइट के सबंध में ब्रिटेन में बसे भारतीय समुदाय के लोगों से कई शिकायतें मिली हैं।"

पटेल ने पत्र में लिखा है, "ब्रिटिश भारतीय समुदाय के कई लोग, खासकर गुजराती मूल के लोग प्रधानमंत्री चुने गए मोदी को लेकर बीबीसी द्वारा की गई रिपोर्टिंग से अपमानित महसूस कर रहे हैं।" आपको बता दें कि ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरन ने पटेल को इंडियन डायसपोरा चैम्पियन नियुक्त किया है। 'यह उचित रिपोर्टिंग नहीं है'

कंजरवेटिव पार्टी की इस सांसद ने कार्यक्रम के एंकर यालदा हकीम द्वारा मोदी को विवादित व्यक्तित्व बताने पर विरोध जताया है। पटेल ने अपने पत्र में जोर देकर कहा है, "मोदी के सियासी विरोधियों ने उन्हें विवादित व्यक्ति के रूप में पेश किया है।" साथ ही लिखा है, "बीबीसी को निष्पक्ष रहना चाहिए था। इन शब्दों का इस्तेमाल कर बीबीसी ने मोदी विरोधियों का समर्थन किया है। यह उचित रिपोर्टिंग नहीं है।"

पटेल ने कहा, "एंकर हकीम ने कार्यक्रम के शुरुआत से ही मोदी को विवादास्पद व्यक्ति बताया था।" ब्रिटेन के एसेक्स में विथम इलाके से सांसद ने कहा, "ब्रिटेन में रह रहे गुजराती मूल के लोगों में बीबीसी के कवरेज को लेकर खासी नाराजगी है।" 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें