सोमवार, 2 जून 2014

‘प्रधानमंत्री’ शब्द से ज्यादा ताकतवर ‘कार्यकर्ता’ शब्द : नरेंद्र मोदी


‘प्रधानमंत्री’ शब्द से ज्यादा ताकतवर ‘कार्यकर्ता’ शब्द : मोदी

मोदी ने कार्यकत्र्ताओं को बांटा ३-३ माह का बोनस
http://loktej.com/2014/06/02/prime-more-powerful-than-the-word-worker-words-modi/
नई आशा के लिए लोगों ने चुनी नई सरकार:
नई दिल्ली। विधानसभा के बाद लोकसभा चुनाव में मेहनत करने वाले भाजपा कर्मचारियों के लिए अच्छे दिन आ गए है। बंपर जीत की खुशी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाथों रविवार को उन्हें ३-३ महीने का बोनस मिला।
पीएम बनने के बाद पहली बार पार्टी मुख्यालय पहुंचे मोदी ने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री से पहले मैं पार्टी का कार्यकर्ता हूं। प्रधानमंत्री पांच अक्षर वाला शब्द है जबकि कार्यकर्ता ४ अक्षरों वाला, लेकिन ‘प्रधानमंत्री’ शब्द से ज्यादा ताकतवर ‘कार्यकर्ता’ शब्द हैं।

-कार्यकर्ताओं की मेहनत से बना पीएम
कार्यकर्ताओं की मेहनत के चलते ही मैं प्रधानमंत्री बना। मैं कार्यकर्ताओं का अभिनंदन करता हूं। अपने भाषण की शुरुआत उन्होंने पू्र्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी से की। उन्होंने कहा कि जब अटलजी प्रधानमंत्री बने थे तो मैंने उनसे कहा था वो पार्टी मुख्यालय आएं। भाजपा का प्रधानमंत्री पहली बार अपने पार्टी मुख्यालय आएगा। तब मैंने अटलजी के लिए र्कुिसयां लगाई थीं। मोदी ने कहा कि आप (कार्यकर्ता) जो मुझे सम्मान दे रहे हैं, उसकी मैं कल्पना नहीं कर सकता। नई जिम्मेदारियां भले ही आएं लेकिन अगर इंसान जड़ से जुड़ा रहता है तो नई ऊर्जा आ जाती है। भाजपा कार्यालय हम सबके लिए प्रेरणा तीर्थ है। मोदी ने कार्यकर्ताओं की मेहनत की जमकर तारीफ की। उन्होंने कहा कि मैं दफ्तर में गुजारे दिन नहीं भूल सकता। हमारी मेहनत में कोई कमी नहीं होनी चाहिए। हमें जो भी दायित्व मिलता है उसे पूरी निष्ठा के साथ करना चाहिेए। लोकतंत्र में जनता का विश्वास टूटना नहीं चाहिए। पहले भी जनता ने विश्वास दिखाया है लेकिन उसे हमेशा निराशा मिली।

-’लोकतंत्र हमारे देश के डीएनए में
२०१४ के ऐतिहासिक चुनावों को लेकर उन्होंने कहा कि लोकतंत्र हमारे देश के डीएनए में है। इस बार के चुनाव अभियान पर अध्ययन होने चाहिए। इस बार नई आशा के लिए लोगों ने नई सरकार चुनी। २०१४ के चुनाव २१वीं सदी को बदल देंगे। उन्होंने कहा कि भारत के लोकतंत्र और चुनाव का पूरे विश्व पर असर पड़ता है। हम इसकी ताकत का अहसास पूरे विश्व को कराएंगे।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें