बुधवार, 6 अगस्त 2014

कांग्रेस में कार्यकर्ताओं के साथ,आवारा कुत्तों से भी बुरा बर्ताव : जगमीत सिंह बराड़





कांग्रेस में आम कार्यकर्ताओं के साथ होता है आवारा कुत्तों से भी बुरा बर्तावः जगमीत सिंह बराड़
Aajtak.in [Edited By: अभिजीत श्रीवास्तव] | नई दिल्ली, 6 अगस्त 2014

कांग्रेस कार्यसमिति के पूर्व सदस्य जगमीत सिंह बराड़ कुछ दिन पहले सोनिया और राहुल पर दिये बयान से विवादों में आ गए थे. अब उन्होंने कांग्रेस के भीतर आम कार्यकर्ताओं के साथ हो रहे व्यवहार पर कुछ ऐसा कहा है जिससे वो फिर विवादों में घिर गए हैं. बराड़ ने इस बार सोनिया, राहुल को हमेशा घेरे रखने वाली मंडली पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा है कि कांग्रेस के ये बड़े लीडर आम कार्यकर्ताओं के साथ आवारा कुत्तों से भी बदतर व्यवहार करते हैं.
पंजाब के पूर्व सांसद बराड़ ने कहा, ‘साल दर साल, ये कुछ बड़े व्यक्ति हैं जो आम कार्यकर्ताओं से आवारा कुत्तों से भी बुरा व्यवहार करते आ रहे हैं.’ उन्होंने कहा, ‘इन्होंने आम कार्यकर्ताओं और कांग्रेस लीडरशिप के बीच एक बड़ी दीवार खड़ी कर रखी है. ये वो नेता हैं जिन्हें हर वक्त टॉम फोर्ड और कनाली सूट पहने पूंजीपतियों के साथ देखा जा सकता है.’

सोनिया, राहुल पर बराड़ का विवादित बयान
बराड़ ने पहले भी लोकसभा चुनावों में हार का ठीकरा सोनिया गांधी और राहुल गांधी के सिर फोड़ते हुए कहा था कि ये अगर दो साल की छुट्टी ले लेते हैं तो ‘कोई नुकसान’ नहीं है. बराड़ का कहना था कि कांग्रेस के सबसे खराब हार के बाद सभी महासचिवों को इस्तीफा दे देना चाहिए और पार्टी की कमान नये नेताओं को सौंप देनी चाहिए.

उन्होंने कहा था, ‘यह एक सामूहिक जिम्मेदारी है. मैं नहीं कह रहा हूं कि केवल सोनिया गांधी और राहुल गांधी पर जिम्मेदारी डाल दी जाए. हर किसी को जिम्मेदारी लेनी होगी. वे भी जिम्मेदार हैं. मैं जो कह रहा हूं कि अगर कोई व्यक्ति इतने वर्षों तक पार्टी अध्यक्ष रहा है तो उसे दो वर्षों की छुट्टी लेने में कोई नुकसान नहीं है. कांग्रेस अध्यक्ष ने अपना सर्वश्रेष्ठ योगदान दिया है. लेकिन अगर वह दो वर्षों के लिए पद छोड़ती हैं तो वह बाद में ज्यादा स्वीकार्य होंगी.’

लंबे समय से नाराज चल रहे बराड़ ऐसे पहले कांग्रेसी नेता हैं जिन्होंने गांधी परिवार से कम समय के लिए ही सही लेकिन पद छोड़ने की मांग की है.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें