मंगलवार, 3 फ़रवरी 2015

देश धोखेबाजों को माफ नहीं कर सकता है : प्रधानमंत्री मोदी



देश गलतियों को माफ कर सकता है पर धोखेबाजों को नहीं : मोदी
Tue, 03 Feb 2015

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आम आदमी पार्टी (आप) के संयोजक अरविंद केजरीवाल पर सियासी हमला और तेज कर दिया है। दो करोड़ रुपये चंदे की हेराफेरी में आप का नाम सामने आने के बाद मोदी ने केजरीवाल को आड़े हाथ लेते हुए इशारों में नसीहत दी कि शीशे के घरों में रहने वाले दूसरे के घरों में पत्थर नहीं फेंका करते।

मंगलवार को भाजपा प्रत्याशियों के समर्थन में रोहिणी स्थित जापानी पार्क में आयोजित चुनावी रैली को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि वह आश्वस्त हैं कि भाजपा को किरण बेदी के नेतृत्व में जीत मिलेगी।

कांग्रेस पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा, काग्रेस ने दिल्ली के 15 साल बर्बाद किए हैं। कांग्रेस बड़ी पार्टी थी तो उनके पास बर्बादी करने की ताकत ज्यादा थी। वहीं, दिल्ली की सत्ता पर काबिज होने वाले दूसरे अस्थायी थे, छोटे थे, नए थे। इन्होंने भी एक साल तक दिल्ली को बर्बाद करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। अब दिल्ली को 16 साल की बर्बादियों से बाहर निकाल विकास के राह पर लाना है। मोदी ने रैली में आए लोगों से कहा, आपके सपने मेरे सपने हैं, मैं विकास करना चाहता हूं। दिल्ली की सातों संसदीय सीटें पार्टी की झोली में देकर लोगों ने अपना बना लिया है, अब कर्ज चुकाने की बारी है और विकास करके कर्ज चुकाऊंगा।

मोदी ने आप को मिले दो करोड़ रुपये के चंदे को लेकर केजरीवाल को परोक्ष रूप से कठघरे में खड़ा करते हुए कहा कि आधी काली रात और घनघोर काली रात में कालेधन के काले कारनामे चलते रहे और वो ईमानदारी का ढोंग करते रहे। उन्होंने कहा कि जो नेता स्विस बैंक में काला धन जमा कराने वालों के खातों की जानकारी जेब में रखकर चलता था, उसके खाते में किसके पैसे आते रहे, इसका उसे पता ही नहीं चला। उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गाधी की छवि का उल्लेख करते हुए कहा कि हमारा देश गलतियों को माफ तो कर सकता है, लेकिन धोखेबाजों को माफ नहीं करता। भ्रष्टाचार के आरोप तो इंदिरा गाधी पर भी लगे थे। लेकिन राजीव गाधी को मिस्टर क्लीन के रूप में प्रस्तुत किया गया था। बाद में उनके ऊपर जो छीटें पड़े उसने पूरे देश की आखें खोलकर रख दी थी।

प्रधानमंत्री ने आप और काग्रेस पर जनता का भरोसा तोड़ने का आरोप लगाते हुए कहा कि देश बदल चुका है। अब देश विश्वास और भरोसे के तराजू पर तौलता है। उन्होंने कहा कि काग्रेस पुरानी पार्टी है, उसे बिगड़ने में 125 साल लगे हैं जबकि नई पार्टी का तो जन्म से ही बुरा हाल है। झूठ और बेईमानी के भरोसे दिल्ली नहीं चल सकती है। उन्होंने दिल्ली वालों से सात तारीख को पार्टी के पक्ष में मतदान करने की अपील की। ताकि झुग्गी मुक्त व बेरोजगारी मुक्त जिस दिल्ली की वह कल्पना कर रहे हैं उसे साकार करने में आसानी हो।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें