मंगलवार, 14 जुलाई 2015

आईपीएल-6 में हुई सट्टेबाजी के मामले में सबसे बड़ा फैसला

आईपीएल सट्टेबाजी में बड़ा फैसला, चेन्नई-राजस्थान 'क्लीन बोल्ड', मयप्पन और कुंद्रा पर आजीवन प्रतिबंध
नई दिल्ली, एजेंसियां First Published:14-07-15 09:27 PMLast Updated:14-07-15 09:27 PM



आईपीएल-6 में हुई सट्टेबाजी के मामले में मंगलवार को सबसे बड़ा फैसला सुनाया गया। इसके मुताबिक महेंद्र सिंह धौनी की टीम चेन्नई सुपरकिंग्स और राजस्थान रॉयल्स को अगले दो साल के लिए आईपीएल से बाहर कर दिया गया है। इसके अलावा सट्टेबाजी के दोषी गुरुनाथ मयप्पन और राज कुंद्रा पर भी आजीवन प्रतिबंध लगाया गया है। अब वे कभी भी किसी भी तरह क्रिकेट से नहीं जुड़ पाएंगे। सुप्रीम कोर्ट द्वारा जस्टिस आरएम लोढ़ा की अध्यक्षता में गठित समिति ने मंगलवार को अपने फैसले में ये बातें कहीं।

समिति का फैसला ही अंतिम : सुप्रीम कोर्ट ने इस साल जनवरी में इस समिति का गठन किया था ताकि यह तय किया जा सके कि मयप्पन, कुंद्रा, चेन्नई टीम की मालिक इंडिया सीमेंट्स और राजस्थान रॉयल्स की मालिक जयपुर आईपीएल को कितनी सजा दी जाए। शीर्ष अदालत ने यह भी कहा था कि इस समिति का फैसला अंतिम होगा और वह बीसीसीआई व अन्य संबंधित पक्षों के लिए बाध्यकारी होगा।

आपराधिक मामलों पर फैसला नहीं : तीन सदस्यीय समिति के प्रमुख लोढ़ा ने मयप्पन और कुंद्रा के खिलाफ लंबित आपराधिक मामलों पर टिप्पणी से इनकार कर दिया। उन्होंने कहा, आपराधिक दायित्व से जुड़े पहलू पर हमने कोई फैसला नहीं किया है।

जस्टिस लोढ़ा ने मीडिया के सवालों का जवाब देते हुए ये बातें कहीं

खिलाडि़यों का क्या होगा?
खिलाड़ी उन टीमों से नहीं जुड़ेंगे, जिन्हें निलंबित किया गया है। यदि क्रिकेट व्यक्तियों से बड़ा है तो फिर खिलाडि़यों और फ्रेंचाइजी को पैसे का नुकसान महत्वपूर्ण नहीं है।

दोनों टीमों का क्या भविष्य?
दोनों टीमों के मालिक बदलने पर उन्हें आईपीएल में खेलने की मंजूरी मिलेगी या नहीं, इस पर बीसीसीआई को फैसला लेना है। हम हर पहलू पर गौर नहीं कर सकते।

आईपीएल का क्या?
1. आईपीएल में आठ की जगह छह टीमें रह जाएंगी
2. पहले कुल 60 मैच होते थे, अब 34 मैच होंगे
3. कई बड़े खिलाड़ी दो साल आईपीएल में नहीं दिखेंगे

आखिर विकल्प क्या है?
अगर बीसीसीआई चाहे तो चेन्नई और राजस्थान रॉयल्स को किसी और को बेच दे। यदि इन टीमों का मालिकाना हक किसी और दे दिया जाता है तो अगले साल तक इन पर प्रतिबंध हट सकता है।

किन दिग्गजों पर असर?
चेन्नई : महेंद्र सिंह धौनी, सुरेश रैना, रवींद्र जडेजा, अश्विन, ब्रेंडन मैकुलम, मोहित शर्मा, ड्वेन स्मिथ
राजस्थान : अंजिक्य रहाणे, स्टुअर्ट बिन्नी, धवन कुलकर्णी, जेम्स फॉकनर, स्टीव स्मिथ, शेन वॉटसन
50 खिलाड़ी प्रभावित होंगे, जिनमें 25 चेन्नई व 25 राजस्थान के

कुछ बड़े फैसले बाकी
बीसीसीआई :  लोढ़ा ने कहा, हमने 40-45 लोगों से बात की। अभी कुछ और लोगों से मिलना है। एक बार जब इसे पूरा कर लेंगे तब फैसला करेंगे कि हितों के टकराव पर क्या दिशानिर्देश देने चाहिए।
सुंदर रमन : आईपीएल सीओओ के खिलाफ जांच अभी जारी है। सुप्रीम कोर्ट ने इसके लिए विवेक प्रियदर्शी को नियुक्त किया है।

ऐसे कसा शिकंजा
16 मई 2013 : स्पॉट फिक्सिंग में श्रीसंत समेत तीन गिरफ्तार
24 मई 2013 : मयप्पन को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया
02 जून 2013 : बीसीसीआई ने जांच को दो जजों का कमेटी बनाई
28 जुलाई 2013 : कमेटी ने चेन्नई-राजस्थान को क्लीनचिट दी
30 जुलाई 2013 : बांबे हाईकोर्ट ने कमेटी की रिपोर्ट खारिज की
07 अक्तूबर 2013 : सुप्रीम कोर्ट ने जांच को मुद्गल कमेटी बनाई
03 नवंबर 2014 : मुद्गल कमेटी ने सुप्रीम कोर्ट को रिपोर्ट सौंपी
22 जनवरी 2015 : कोर्ट ने मयप्पन-कुंद्रा को दोषी करार दिया और सजा तय करने को जस्टिस लोढ़ा की अगुवाई में कमेटी बनाई
-----------------------
चेन्नई सुपर किंग्स और राजस्थान रॉयल्स पर प्रतिबंध से आईपीएल को अस्थायी नुकसान : जस्टिल मुदगलBy Prabhat Khabar | Publish Date: Jul 14 2015 4:29PM |

नयी दिल्ली : आईपीएल सट्टेबाजी मामले की जांच करने वाली समिति के अध्यक्ष न्यायमूर्ति मुकुल मुदगल ने आज कहा कि चेन्नई सुपरकिंग्स और राजस्थान रायल्स का निलंबन आईपीएल के लिए अस्थायी झटका है और लोढा समिति का फैसला वास्तव में इस लीग में लोगों का भरोसा बहाल करने में मदद करेगा.

दो बार के चैंपियन सीएसके और पहले आईपीएल के विजेता राजस्थान रायल्स को आज दो साल के लिए निलंबित कर दिया गया जबकि उनके सहमालिकों क्रमश: गुरुनाथ मयप्पन और राज कुंद्रा को खेल को बदनाम करने के लिए क्रिकेट मैचों से संबंधित गतिविधियों में शामिल होने के लिए आजीवन निलंबित कर दिया गया.

मुदगल ने कहा, यह बहुत कड़ी सजा है. मेरा मानना है कि इसका आईपीएल, बीसीसीआई और खिलाड़ियों पर अच्छा प्रभाव पड़ेगा. कई लोगों का मानना है कि इससे खेल पर विपरीत प्रभाव पड़ेगा लेकिन मेरा कहना है कि यह अस्थायी झटका है तथा क्रिकेट साफ सुथरा होगा और आईपीएल में लोगों का विश्वास बहाल होगा. ह्णह्ण उच्चतम न्यायालय से नियुक्त तीन सदस्यीय समिति ने यह सजा सुनायी. समिति के अध्यक्ष पूर्व मुख्य न्यायाधीश आर एम लोढा थे.

बीसीसीआई के पूर्व सचिव निरंजन शाह ने कहा कि यदि बीसीसीआई ने पूर्व में उचित कार्रवाई की होती तो वह इस स्थिति से बचा जा सकता था.  उन्होंने कहा, .मुझे लगता है कि बीसीसीआई ने जो भी कार्रवाई करनी थी वह की हालांकि धीमी प्रक्रिया थी. उन्होंने अनुमान नहीं लगाया था कि यह मामला उच्चतम न्यायालय में चला जाएगा. हम शुरु में इससे बच सकते थे. हमें सबक लेना होगा.

बीसीसीआई के पूर्व अध्यक्ष ए सी मुथैया ने कहा, बीसीसीआई में जो कुछ हुआ, किसी ने भी गलत कामों के खिलाफ आवाज नहीं उठायी. सभी नियम मौजूद हैं लेकिन उन्हें कुछ व्यक्तियों के माफिक बना दिया गया. मेरा मानना है कि आईपीएल को बनाये रखना चाहिए लेकिन बीसीसीआई को खुद को आईपीएल से दूर रखना चाहिए. इसका संचालन एक अलग संस्था को करना चाहिए जिसमें मशहूर हस्तियां शामिल हों. ह्णह्ण बीसीसीआई के वकील सी आर्यमा सुंदरम ने कहा कि वह दो टीमों को इतने लंबे समय के लिए निलंबित करने फैसले से पूरी तरह से सहमत नहीं है.

उन्होंने कहा, गुरुनाथ मयप्पन और राज कुंद्रा दोषी पाये गये इससे मुझे हैरानी नहीं हुई और उनके लिये ऐसी सजा की भी उम्मीद थी. मुझे कानूनी तौर पर दो टीमों को लंबे समय के लिए निलंबित करने पर थोड़ा परेशानी है.  सुंदरम ने कहा, यह पाया गया कि यह व्यक्तिगत कार्रवाई थी जिसे एक व्यक्ति ने किया.

टीम स्वयं मैच फिक्सिंग की गतिविधियों में शामिल नहीं थी. इसलिए जब तक आप टीम को सामूहिक तौर पर दोषी नहीं पाते हो, तो फिर क्या टीम को इस तरह की सजा मिलनी चाहिए थी. मुझे लगता है कि यह पूरी लीग के लिए निराशाजनक है.  बीसीसीआई के पूर्व अध्यक्ष इंदरजीत सिंह बिंद्रा ने फैसले का स्वागत किया. उन्होंने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा, .ऐतिहासिक आदेश. भारतीय क्रिकेट को साफ सुथरा करने की प्रक्रिया की शुरुआत. मुझे उम्मीद है कि बीसीसीआई सही सबक लेगा. |
----------------------------------------------
CSK के निलंबन के खिलाफ SC जाएगी इंडिया सीमेंट, कुंद्रा बोले- फैसले में हैं खामियां
चेन्नई सुपर किंग्स पर लगे दो साल के बैन के खिलाफ टीम की मालिक कंपनी इंडिया सीमेंट्स सुप्रीम कोर्ट जाने की तैयारी में है. वहीं राजस्थान रॉयल्स के सह मालिक राज कुंद्रा ने जस्टिस लोढ़ा कमिटी के फैसले पर दुख व्यक्त किया है.
शेयर नहीं बेचेगी CSK, दो साल बाद वापसी की उम्मीद
आईपीएल की सबसे कामयाब टीम चेन्नई सुपर किंग्स पर दो साल के प्रतिबंध के बाद उसके एक सीनियर अधिकारी ने कहा, 'टीम को निलंबित किया गया है, भंग नहीं. इसलिए हम दो साल बाद वापसी कर सकते हैं.' टीम के मालिकाना हक के सवाल उन्होंने कहा, 'अभी तो फैसला आया है और आप शेयर बेचने की बात कर रहे हैं. हम शेयर क्यों बेचेंगे. हम दो साल बाद वापसी करना चाहे तो करेंगे.' अधिकारी ने यह भी कहा कि टीम को सजा से बचने की कोई उम्मीद नहीं थी.

फैसले से निराश हूं: राज कुंद्रा
जस्टिस लोढ़ा समिति ने आईपीएल सट्टेबाजी और स्पॉट फिक्सिंग के मामले में राजस्थान रॉयल्स के सह मालिक राज कुंद्रा पर आजीवन प्रतिबंध लगाया है. कुंद्रा ने कहा कि वो इस फैसले से हैरान और निराश हैं. ट्विटर पर उन्होंने लिखा, 'कई खामिया हैं...फैसले की एक कॉपी मांगी है. निश्चित तौर पर स्तब्ध और निराश हूं.'

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें