रविवार, 23 अगस्त 2015

जिंदा सबूत से भागा पाकिस्तान




दोटूक बोलीं सुषमा : बातचीत नहीं, 
Aug 23, 2015  विशेष प्रतिनिधि, नई दिल्ली

भारत-पाकिस्तान के बीच राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) स्तर की बातचीत होने की उम्मीद शनिवार को उस समय लगभग टूट गई, जब विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने दोटूक कहा कि पाकिस्तान अगर कश्मीर पर चर्चा पर दबाव बनाएगा और कश्मीरी अलगाववादियों से संपर्क करेगा तो बातचीत नहीं हो पाएगी। इससे पहले, पाकिस्तानी एनएसए सरताज अजीज ने इस्लामाबाद में कहा कि कश्मीर पर चर्चा के बिना भारत के साथ कोई गंभीर वार्ता संभव नहीं है।
दोनों तरफ से साफ संकेत दिए गए कि मौजूदा हालात में वार्ता संभव नहीं है, लेकिन खबर लिखे जाने तक किसी ने वार्ता रद्द करने का ऐलान नहीं किया। अगर सरताज आए तो आज दोपहर करीब 3 बजे दिल्ली उनका प्लेन दिल्ली में उतरेगा। शाम को पाकिस्तानी उच्चायोग में रिसेप्शन होगा। कल सुबह 10 बजे उनकी भारतीय एनएसए अजीत डोभाल से वार्ता प्रस्तावित है।
शनिवार दोपहर को सरताज अजीज ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि वह दिल्ली जाने को तैयार हैं, लेकिन भारत कोई शर्त न लगाए। भारत उनके रिसेप्शन की गेस्ट लिस्ट को सीमित करना चाह रहा है। हुर्रियत जैसी छोटी बात का बहाना लगाकर बातचीत रद्द करना चाहता है। इसके करीब तीन घंटे बाद सुषमा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि पाकिस्तान को दो मुद्दों पर स्पष्ट आश्वासन देने की जरूरत है। पहला, शिमला समझौते के अनुरूप आपसी विवादों के हल के लिए सीधे बातचीत करे और किसी तीसरे पक्ष को बीच में न लाए। दूसरा, रूस के उफा में दोनों प्रधानमंत्रियों के बीच बनी सहमति के अनुसार एनएसए वार्ता में सिर्फ आतंकवाद पर चर्चा करे। सुषमा से पूछा गया कि अगर पाकिस्तान ने यह बात नहीं मानी तो क्या होगा? उनका साफ कहना था कि तब बातचीत नहीं होगी। विदेश मंत्री ने कहा कि हम शनिवार रात 12 बजे तक जवाब का इंतजार करेंगे। उन्होंने जोर देकर कहा कि वह बातचीत के लिए कोई शर्त नहीं लगा रही हैं। एनएसए स्तर की बातचीत समग्र वार्ता का हिस्सा नहीं है, इसलिए इसमें कश्मीर जैसे मुद्दों पर बात नहीं होगी। किसी तीसरे देश में भारत-पाक बातचीत करने की बात को उन्होंने सिरे से खारिज कर दिया। बाद में, पाकिस्तान के सूचना मंत्री ने कहा कि अजीज भारत जाने को तैयार हैं।
जिंदा डॉजियर : पाकिस्तान में भारतीय खुफिया एजेंसी रॉ की कथित भूमिका पर डॉजियर (दस्तावेज) सौंपने के अजीज के बयान पर सुषमा ने कहा कि वह कागजी डॉजियर देंगे तो हम उन्हें जिंदा डॉजियर देंगे। उनका इशारा उधमपुर हमले मामले में जिंदा पकड़े गए पाकिस्तानी आतंकवादी नावेद की तरफ था।
घरेलू दबाव : सुषमा ने कहा कि पाकिस्तानी नेतृत्व घरेलू दबाव में एनएसए वार्ता रद्द करने की कोशिश कर रहा है। उफा बयान (से कश्मीर गायब होने) को लेकर नवाज शरीफ की पाकिस्तान में जबर्दस्त आलोचना हुई थी। तभी से ही कोशिश की जा रही है कि एनएसए वार्ता न हो पाए।
भारत नहीं, पाकिस्तान बातचीत से भाग रहा है। अगर वह हुर्रियत नेताओं को अलग रखे और आतंकवाद के अलावा अन्य मुद्दों पर जोर न दे तो अजीज का स्वागत है।
- सुषमा स्वराज, विदेश मंत्री
सरताज अजीज भारत जाएंगे, बशर्ते भारत उन्हें नहीं रोके। अजीज का बैग, फाइलें और टिकट सब तैयार है।
- परवेज राशिद, पाक सूचना मंत्री
---------------------------------------------------------

जिंदा सबूत से भागा पाकिस्तान, रद्द की एनएसए वार्ता
Written by जनसत्ता ब्यूरो and भाषा | इस्लामाबाद/नई दिल्ली |August 23, 2015 

तमाम अटकलों को विराम देते हुए पाकिस्तान ने शनिवार रात भारत व पाकिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों की वार्ता को रद्द कर दिया। इससे पहले भारत ने साफ कर दिया था कि उसे वार्ता में कश्मीर पर चर्चा और अलगाववादियों से मुलाकात स्वीकार्य नहीं है। पाकिस्तान विदेश विभाग ने एक बयान में कहा कि एनएसए स्तरीय वार्ता भारत की ओर से तय की गई पूर्व शर्तों के आधार पर नहीं हो सकती।
पाकिस्तान की इस घोषणा से इस सस्पेंस का पटाक्षेप हो गया है कि पहले कौन वार्ता रद्द करने की पहल करता है। दोनों पक्षों के बीच पिछले दो दिन से चली आ रही तनातनी के चलते वार्ता का भविष्य पहले ही स्पष्ट नजर आ रहा था लेकिन विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने पाकिस्तान को यह वस्तुत: अल्टीमेटम दिया था कि वह आधी रात तक स्पष्ट प्रतिबद्धता जाहिर करे कि वह अलगाववादियों से मुलाकात नहीं करेगा। वार्ता रद्द करने के एलान के साथ ही पाकिस्तान ने रविवार को नई दिल्ली स्थित उच्चायोग में पाकिस्तानी उच्चायुक्त की तरफ से दिए जाने वाले उस भोज को भी रद्द कर दिया है जिसमें हुर्रियत नेताओं को बुलाया गया था।
भारत ने पाकिस्तान के इस कदम को दुर्भाग्यपूर्ण बताया और जोर देकर कहा कि उसने कोई ‘पूर्व शर्त’ नहीं रखी थी जैसा कि पड़ोसी देश दावा कर रहा है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने कहा कि भारत ने केवल यह दोहराया था कि इस्लामाबाद, शिमला और उफा समझौतों की भावना का सम्मान करे जिसके लिए वह अपनी प्रतिबद्धता पहले ही जता चुका था। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान का फैसला दुर्भाग्यपूर्ण है। भारत ने कोई पूर्व शर्त नहीं लगाई थी।
पाकिस्तानी विदेश विभाग ने देर रात एक बयान में कहा कि पाकिस्तान ने सुषमा स्वराज की प्रेस कांफ्रेंस पर ‘सावधानीपूर्वक गौर’ किया है। इसमें कहा गया है कि हम इस नतीजे पर पहुंचे हैं कि अगर सुषमा की ओर से रखी गई शर्तों के आधार पर वार्ता होती है तो इससे कोई मकसद हल नहीं होगा। बयान में सुषमा के बयान का जिक्र करते हुए कहा गया कि वे इस बात को स्वीकार करती हैं कि दोनों देशों के बीच स्थायी शांति सुनिश्चित करने के लिए सभी लंबित मुद्दों पर बातचीत की जरूरत है, उसके बाद वे एकतरफा रूप से एजंडे को केवल दो चीजों तक सीमित कर देती हैं : आतंकवाद मुक्त माहौल का निर्माण और नियंत्रण रेखा पर समरसता।
इसमें कहा गया है, ‘ इस बात को ध्यान में रखते हुए कि कई आतंकवादी घटनाएं जिनका आरोप शुरू में भारत ने पाकिस्तान पर मढ़ा, वे अंतत: फर्जी निकलीं। इसका सहज ही अनुमान लगाया जा सकता है कि भारत एक दो घटनाओं को गढ़कर और नियंत्रण रेखा पर तनाव बनाए रखकर बहाल हुई वार्ता को अनिश्चितकाल तक लटकाए रख सकता है। यह याद रखना भी उतना ही अहम है कि आतंकवाद हमेशा से आठ सूत्री समग्र वार्ता का हिस्सा रहा है और गृह सचिवों के बीच हमेशा अन्य मुद्दों के साथ इस पर विचार विमर्श किया गया है। अब भारत के लिए यह सही नहीं है कि वह एकतरफा रूप से यह अनुमान लगा ले कि अब से आगे अन्य मुद्दों पर आतंकवाद पर विचार विमर्श और उसे समाप्त करने के बाद ही चर्चा की जाएगी।
इससे पहले विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने अपनी प्रेस कांफ्रेंस में कहा था कि पाकिस्तान को दो मुद्दों पर स्पष्ट आश्वासन देने की जरूरत है। ये दो मुद्दे हैं, कश्मीर पर चर्चा का दबाव नहीं बनाना और कश्मीरी अलगाववादियों से बात नहीं करना। यह पूछे जाने पर कि पाकिस्तान ने अगर अलगाववादियों से नहीं मिलने और कश्मीर का मुद्दा नहीं उठाने की बात नहीं मानी तब क्या होगा, सुषमा ने दो टूक कहा कि बातचीत नहीं होगी।
सुषमा ने बार-बार कहा कि वे अजीज और उनके भारतीय समकक्ष अजीत डोभाल के बीच सोमवार को होने वाली बातचीत के लिए कोई पूर्व शर्त नहीं रख रही हैं। वे केवल शिमला समझौते की भावना की याद दिला रही है जिसमें दोनों देशों ने मुद्दों को द्विपक्षीय आधार पर निपटाने की प्रतिबद्धता जताई है। साथ ही उन्होंने हाल ही में उफा में हुई सहमति की भी याद दिलाई जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके पाकिस्तानी समकक्ष नवाज शरीफ इस बात पर सहमत हुए थे कि दोनों देश के एनएसए केवल आतंकवाद पर चर्चा के लिए मिलेंगे।
सुषमा ने इस्लामाबाद में अजीज की प्रेस कांफ्रेंस के लगभग तीन घंटे बाद यहां मीडिया से बात की। अजीज ने अपनी प्रेस वार्ता में कहा था कि वे बिना किसी पूर्व शर्त के बातचीत के लिए दिल्ली जाने को तैयार हैं। अजीज ने भारत सरकार के उस रुख की कड़ी आलोचना की कि जिसमें कहा जा रहा है कि उन्हें नई दिल्ली में कश्मीरी अलगाववादियों से मुलाकात नहीं करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि ऐसा कहना पाकिस्तान उच्चायोग की ओर से रविवार को आयोजित किए जाने वाले समारोह के मेहमानों की सूची को नियंत्रित किए जाने जैसा है।
सुषमा ने पाकिस्तान पर आरोप लगाया कि भारत के साथ बातचीत का विरोध करने वाली पाकिस्तान की ज्ञात शक्तियों के दबाव में उसने एनएसए वार्ता को दरकिनार करने का रास्ता ढूंढना शुरू किया क्योंकि उफा से लौटने के बाद नवाज शरीफ की अपने ही देश में तीखी आलोचना शुरू हो गई थी। विदेश मंत्री ने गेंद पाकिस्तान के पाले में डालते हुए कहा कि भारत नहीं बल्कि ये पाकिस्तान है जो बातचीत से भाग रहा है। अगर हुर्रियत नेताओं को अलग रखा जाए और अजीज अगर आतंकवाद के अलावा अन्य मुद्दों पर जोर नहीं दें तो उनका स्वागत है।
बातचीत का विरोध करने वाली पाकिस्तान की ज्ञात शक्तियों के संदर्भ में सुषमा ने कहा कि भारत का राजनीतिक नेतृत्व दबाव को झेल लेता है लेकिन पाकिस्तान का नेतृत्व ऐसा नहीं कर पाता है। उन्होंने कहा कि उफा के बाद 91 बार संघर्षविराम का उल्लंघन करने पर पाकिस्तान के साथ एनएसए वार्ता को रद्द करने का विपक्ष द्वारा भारतीय नेतृत्व पर दबाव पड़ा। इसके बाद गुरदासपुर और उधमपुर में हुए आतंकी हमलों के बाद भी ऐसा दबाव बना लेकिन सरकार उस दबाव को भी झेल गई क्योंकि वह चाहती है कि बातचीत का सिलसिला चले और मुद्दों का समाधान हो।
सुषमा ने भारत पाकिस्तान की वार्ताओं को किसी तीसरे देश में आयोजित किए जाने की बात को भी सिरे से खारिज कर दिया। उन्होंने बताया कि उफा में दोनों देशों के प्रधानमंत्रियों के मध्य भारत और पाक के बीच तीन तरह की बैठकें आयोजित करने पर सहमति बनी जिसमें आतंकवाद पर एनएसए स्तरीय, सीमा पर शांति के बारे में बीएसएफ और पाकिस्तानी रेंजर्स के महानिदेशकों के स्तर की बैठक और संघर्षविराम के उल्लंघन के विषय पर डीजीएमओ स्तर की वार्ता शामिल है।
उन्होंने कहा कि यहां तक कि एनएसए स्तर की बातचीत की तिथियों की पुष्टि के बारे में भारत को जवाब देने में देरी की गई। हमने बातचीत के लिए प्रस्तावित तारीख के संबंध में उन्हें एक पत्र 23 जुलाई को लिखा लेकिन इसका जवाब 22 दिन बाद 14 अगस्त को आया। पाकिस्तान ने अब तक डीजीएमओ स्तर की बैठक की तारीख के बारे में नहीं बताया। बीएसएफ और पाकिस्तानी रेंजर्स के महानिदेशकों के बीच बैठक के बारे में यह सहमति बनी थी कि इसे जल्द से जल्द आयोजित किया जाए। पाकिस्तान ने छह सितंबर की तारीख का सुझाव शायद इस सोच के साथ दिया कि एनएसए स्तर की बातचीत नहीं होगी।
यह पूछे जाने पर कि अगर बातचीत रद्द होती है तब क्या भारत को निराशा होगी, सुषमा ने कहा कि जाहिर है, अगर आप दोस्ती की दिशा में कदम उठाते हैं और यह नहीं होती है तब निराशा सामान्य बात है। अगर बातचीत नहीं होती है, तो इससे संबंध समाप्त नहीं होंगे। भारत-पाक संबंध ऐसी सड़क की तरह है जो गड्ढों से भरी हुई है। इसमें झटके लगेंगे लेकिन आप कुछ समय में वापस आ जाएंगे। उन्होंने हालांकि स्पष्ट कर दिया कि एनएसए स्तर की बातचीत कोई समग्र वार्ता का हिस्सा नहीं है बल्कि यह उसका माहौल बनाने के लिए उफा में बनी सहमति का हिस्सा है।
यह याद दिलाए जाने पर कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने हुर्रियत नेताओं और तत्कालीन पाकिस्तानी राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ के बीच भारत में मुलाकात की अनुमति दी थी, विदेश मंत्री ने कहा कि बीती ताहि बिसार दे।
बहाने न बनाए पाक: सुषमा
* बातचीत की कोई पूर्व शर्त नहीं रख रहे, बस पाकिस्तान को शिमला समझौते में और उफा में उनकी ओर से जताई गई प्रतिबद्धता की याद दिला रहे हैं।
* राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों की मुलाकात कोई समग्र वार्ता नहीं है जिसमें कश्मीर और दुनियाभर के मुद्दों पर चर्चा हो। यह सिर्फ आतंकवाद पर चर्चा के लिए थी।
* भारत का राजनीतिक नेतृत्व दबाव को झेल लेता है लेकिन पाकिस्तान का नेतृत्व ऐसा नहीं कर पाता है। हम जानते हैं कि वे किसके दबाव में पीछे हट रहे हैं।
* अजीज अगर डॉजियर के डर की बात कर रहे हैं तो हमारा कहना है कि वे आएं, ङम उनके सामने आतंक का जिंदा सबूत (नवेद) पेश करने को तैयार हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें