रविवार, 9 अगस्त 2015

बिहार अपने ऊपर जारी जंगल राज को खत्म कर दें - नरेंद्र मोदी


JDU – Janta ka Daman aur Utpeedan, kya unhe Bihar saunpna theek hai?: PM Narendra Modi at Parivartan rally in Gaya.

परिवर्तन रैली: मोदी ने कहा, जंगलराज से मुक्ति का पर्व बनेगा बिहार चुनाव
Sun, Aug 9th, 2015

गया |  मुजफ्फरपुर के बाद गया में आज ( 09 अगस्त 2015 ) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पहली बार ऐतिहासिक गांधी मैदान से मगध की जनता को संबोधित करते हुए जदयू और राजद गंठबंधन पर जोरदार हमला किया. उन्होंने कहा कि पता नहीं कौन है चंदन कुमार और कौन है भुजंगा प्रसाद ?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रैली में उपस्थित लोगों से कहा कि जगह बहुत कम है इसलिए आपको दिक्कत हो रही है. एयरपोर्ट से यहां तक रास्ते तक लोगों ने स्वागत किया. मोदी ने कहा,  मेरी गया के लोगों से एक शिकायत हैं करूं ?.. मैं लोकसभा चुनाव के लिए भी यहां आया था उस वक्त तो यहां आधे लोग भी नहीं आये थे. मेरी यह शिकायत प्यार की है  नाराजगी की नहीं है.  यह जीतन राम मांझी की धरती रही है.   बिहार के चुनाव बहुत जल्द आ रहे हैं. मैं साफ देख रहा हूं बिहार की जनता ने दो निर्णय कर लिये हैं एक बिहार के जीवन में, बिहार के विकास में, बिहार का भाग्य बदलने के लिए, ताकतवर बिहार बनाने का किया है और दूसरा निर्णय किया है परिवर्तन का.
25 साल से हर जुल्म को झेला है, अहंकार का झेला हो इन सबसे मुक्ति के लिए यह चुनाव आने वाला है. बिहार में यह चुनाव अंहकारी से मुक्ति का पर्व बनने वाला है. 25 साल से इन्ही लोगों ने बिहार पर राज किया है. आज जैसे 25 साल बीतें है आने वाले 5 साल बीते तो आपका भविष्य बर्बाद हो जायेगा कि नहीं. आपको बिहार में कैसा शासन चाहिए. आज मैं बिहार की जनता के पास आर्शीवाद लेना आया हूं. क्या करके रख दिया बिहार को. आज भी सांस्कृति विकास की चर्चा करेगा तो बिहार के बगैर  नहीं होगी. शांति की चर्चा बुद्ध के बगैर नहीं हो सकती है. विज्ञान हो संस्कृति हो पराकर्म हो सबकी चर्चा बिहार से ही शुरू होती है. ऐसी है ये पवित्र भूमि. ऐसे सपनों को सत्ता के नशे बेठे लोगों ने चूर- चूर कर दिए. जो बिहार देश को उत्तम मानव संसाधन दे सकता है.
नरेंद्र मोदी ने कहा,  आप सोचिये के क्या कारण है कि बिहार आगे नहीं बढ़ पा रहा आप बताइये कि बिहार के सपने को किसने चूर कर दिया. कौन जंगलराज बिहार में वापस लाने की कोशिश कर रहा है. अब बिहार का विकास होगा. दिल्ली बिहार के साथ है. गंगा जी तो बहती है लेकिन उल्टा लोटा लेकर जायेंगे तो नहीं भर पायेंगे. दिल्ली से विकास की गंगा बह रही है लेकिन यहां के शासक उल्टा लोटा लेकर आ रहे हैं. अपने निजी स्वार्थ के लिए एक बार फिर जंगल राज को वापस ला रहे हैं. ये जो जहर पिया गया है वो चुनाव के बाद जहर उगलेंगे की नहीं. जिन्होंने जहर पिया है उन्हें जहर उगलने का मौका नहीं दें. मुझे तो पता नहीं चल रहा है कौन जहर प्रसाद और भुजंग कुमार है.

आप बताइये बिहार में नयी सरकार क्यों बनानी चाहिए. मैं अनुभव से बताता हूं हमारे देश में कई वर्षों से चर्चा चली और एक शब्द चला पड़ा बीमारू राज्य इसमें बिहार, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश और राजस्थान को गिना जाता था. 10 से 12 साल के अंदर मध्यप्रदेश को बीमारू राज्य से बाहर निकाल लिया गया. राजस्थान को भी बीमारू राज्य कहा जाता था  लेकिन उसे भी बाहर निकाला गया. बिहार भी बीमारू राज्य से बाहर आ सकता है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी विदेश यात्रा का जिक्र करते हुए कहा कि मुझे कई देशों में जाने का मौका मिला. जो लोग मिले उनमें से ज्यादा लोग बोद्ध गया जाने की इच्छा जतायी. जितने यात्री ताजमहल देखने जाते हैं उससे ज्यादा बोद्ध गया आने वाले लोग हैं. बोद्ध गया को और बेहतर बनाना चाहिए की नहीं. भारी संख्या में जब यात्री

आयेंगे तो इन इलाकों में गरीबी रहेगी क्या. इन इलाकों में फुल बेचने वाला चाय बेचने वाला भी कमायेगा. बोद्ध गया के विकास की कोशिश नहीं की गयी .

अमित शाह

इस रैली में भाजपा और केंद्रीय मंत्री समेत भाजपा अध्यक्ष अमित शाह भी मौजूद हैं. इस रैली को संबोधित करते हुए भाजपा अध्यक्ष ने कहा, जंगल राज बिहार छोड़कर बाहर जाए और यहां भाजपा की सरकार बनें शाह ने सबसे पहले पूछा कि आप सभी चाहते हैं कि बिहार मे एनडीए का शासन हो. बिहार में बड़ी इडस्ट्री लगे, बिहार के युवाओं को बाहर जाकर काम ना करना पड़े. नरेंद्र मोदी जी सभी गांवों में बिजली और  पीने का पानी पहुंचाना चाहते हैं. एनडीए की सरकार यह सब करना चाहती है.


मंगल पांडेय

इस रैली को संबोधित करते हुए प्रदेश भाजपा अध्यक्ष मंगल पांडेय ने रैली से सत्ता परिवर्तन पर जोर देते हुए लोगों को दोनों हाथ उठाकर संकल्प लेने का कहा कि आप संकल्प लें कि आप सभी एनडीए विधायकों को जीताकर भेजेंगे.  हम इस विधानसभा चुनाव में सत्ता बदलना चाहते हैं हम सत्ता बदलना चाहते हैं क्योंकि विकास हो, बेरोजगारी हटे, बिहार भी दूसरे विकसित राज्यों के साथ खड़ा हो.  परिवर्तन रैली की सारी तैयारियां पूरी कर ली गयी हैं. मंच भी सज गया है, सुरक्षा का भी पुख्ता इंतजाम किया गया है.

रामबिलास पासवान

पासवान ने मंच पर सबसे पहले सिपाहियों को कहा कि हमारे कार्यकर्ताओं पर डंडे मत चलाइये हमारे कार्यकर्ता है जोश में हैं और होश में ही है. लोजपा प्रमुख ने कहा, आज जूता बनाने वाले के बेटे के पैर में हवाई चप्पल नहीं है. साफ सफाई करने वाले को गंदगी में गुजारा करना पड़ता है, महल बनाने वाले बेघर है.

हम गरीबों के घरों में दिया जलाने के लिए हैं. लालू और नीतीश की सरकार कालिया नाग बनकर बैठी है नरेंद्र मोदी जी मथुरा से कृष्ण बनकर चलें हैं.  सरकार कई काम कर रही है ढोगा वालों के लिए ढेले खोमचा लगाने वालों के लिए योजनाएं ला रही है.  रामबिलास पासवान ने लालू यादव पर निशाना साधते हुए कहा, आप एक खास जाति के नेता बनते हैं लालू जी हमारे पास रामकृपाल यादव जैसे कई नेता हैं. लालू जी आप नीतीश कुमार के चरण में जाकर गिर गये हो. दोनों एक दूसरे पर निशाना साध रहे हैं नीतीश कहते हैं लालू नाग है, लालू कहते हैं नीतीश जहर है. नीतीश ने कई योजनाओं को आगे बढ़ाने में मदद नहीं की.  ये वहीं नीतीश हैं जिन्होंने जार्ज फर्नाडिस को बेइज्जत करके निकाला है.

सुशील कुमार मोदी

कौन करेगा इन पर एतबार मांझी के हाथ से छिन लिया पतवार. सुशील कुमार मोदी ने पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी के साथ हुए अन्याय का जिक्र किया. उन्होंने कहा, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पोस्टर फाड़ने से कुछ नहीं होगा. वह लोगों के दिलों मे रहते हैं. हमें पांच साल का वक्त दिजिए हम बिहार को हरियाणा और पंजाब जैसा राज्य बनाकर दिखायेंगे.

जीतन राम मांझी

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने मगही में अपनी बात रखी. उन्होंने कहा, नीतीश कुमार कुर्सी के लिए बेचैन रहते हैं. मेरे निर्णय को उन्होंने गलत बताया लेकिन मेरे 34 में से 9 निर्णय को लागू कर दिया. जो आदमी कुर्सी के लिए बेचैन रहता है उसका न्याय आप लोग करें. नीतीश कुमार अपनी जाति के लोगों को आगे बढ़ा रहे हैं सबसे बड़े जातिवाद तो वहीं कहते हैं. हमारा बिहार कभी उनके झांसे में नहीं आयेगा. नीतीश कुमार को हरायें झासे में ना आयें. कई योजनाएं अभी भी जस के तस पड़ी है. कई योजनाओं को आगे बढ़ाने के लिए काम किया था लेकिन उन्होंने रोक दिया.    

उपेन्द्र कुशवाहा

इस रैली में उपेन्द्र कुशवाहा भी मौजूद हैं. उन्होंने कहा कि इस भारी भीड़ को देखकर लगता है यह रैली नहीं रैला है. साफ है कि सभी ने परिवर्तन का मन बना लिया है. विपक्षियों को भी इस बात का अहसास हो गया है.  इतने सालों में बड़े और छोटे भाई( लालू- नीतीश) का शासन रहा. इस दौरान विकास का कोई काम नहीं हुआ. उपेन्द्र कुशवाहा ने लालू यादव पर निशाना साधते हुए कहा कि  उन्होंने एक बयान दिया कि हम 1990 का बिहार नहीं बनने देंगे. हम 1990 का बिहार नहीं बनने देंगे. कुशावाहा ने कहा, हम ऐसा बिहार बनाना चाहते हैं जिसमें किसानों को पानी मिले. बरोजगारों को नौकरी मिले. शिक्षा मिले. सबको रोटी मिले.   इस मंच से जातिय जनगणना पर सफाई देते हुए कहा, उसे जारी किया जाए लेकिन गणना पूरा होने के बाद. विरोधियों के पास मुद्दा नहीं है इसलिए ऐसे मुद्दे ढुढ़कर आपको गुमराह कर रहे हैं.

गया के ऐतिहासिक गांधी मैदान के मंच से नरेंद्र मोदी पहले ऐसे गैर कांग्रेसी प्रधानमंत्री हैं, जो संबोधित करनेवाले हैं. फिलहाल गांधी मैदान के आसपास के  इलाके पुलिस छावनी में तब्दील हो गये हैं. गांधी मैदान के पश्चिम-उत्तर दिशा में बड़ा सा मंच बना है. उसकी बगल में दक्षिण की ओर स्टेडियम की दीवार तोड़ कर एक छोटा मंच बनाया गया है.

जानकारी के मुताबिक, छोटे मंच पर प्रधानमंत्री के साथ भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, सूबे के पूर्व उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष मंगल पांडेय, केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान, गिरिराज सिंह, रविशंकर,  राधामोहन सिंह, उपेंद्र कुशवाहा, राम कृपाल यादव, पूर्व मुख्यमंत्री  प्रमुख जीतन राम मांझी, रालोसपा के प्रदेश अध्यक्ष डॉ अरुण कुमार, सांसद चिराग पासवान व हरि मांझी मंचासीन होंगे. दूसरे बड़े मंच पर गया समेत आस-पास के जिलों से आये एनडीए के विधायक, विधान पार्षद, प्रदेश व राष्ट्रीय स्तर के नेता व जिलाध्यक्ष रहेंगे.

नेत्र भी निगरानी में

सुरक्षा के दृष्टिकोण से चप्पे-चप्पे पर पुलिसिया इंतजाम है. बिहार पुलिस के जवानों को डी एरिया से बाहर लोगों की सुरक्षा में लगाया गया है. डी एरिया के अलावा वीआइपी गैलरी तक बिहार पुलिस की धमक नहीं होगी. आकाशीय निगरानी के लिए नेत्र को लगाया गया है. वहीं हर एक गतिविधि पर नजर रखने के लिए सीसीटीवी कैमरे लगाये गये हैं. मंच से दूर के लोगों के लिए 12 एलइडी लगाये गये हैं, जो मंचीय कार्यक्रम को वह उसपर देख पायेंगे. डी एरिया व वीआइपी गैलरी, एनडीए कार्यकर्ता गैलरी में साउंड बॉक्स लगाये गये हैं. जबकि, पब्लिक गैलरी में पार्टी की ओर से 50 व जिला प्रशासन की ओर से 40 लाउडस्पीकर सहित लगभग सौ से अधिक लाउडस्पीकर लोगों को भाषण सुनने के लिए लगाया गया है. मंच के अलावा गैलरियों में लगे तंबू वाटरप्रुफ हैं, जो बारिश की स्थिति में बचाव कर सकता है. जानकारी के मुताबिक 20 हजार पानी के बोतल भी होंगे, जिनपर एनडीए की परिवर्तन रैली का रैपर लगा रहेगा. बताते हैं कि प्रति बोतल इसकी कीमत साढ़े पांच रुपये है.

पूर्व सीएम की योजना

गौरतलब है कि यह क्षेत्र पूर्व मुख्यमंत्री व हम के प्रमुख जीतन राम मांझी का है. ऐसे में वह भीड़ जुटाने में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ रहे हैं. उनके कार्यकर्ता दोगुने दम-खम के साथ लगे हैं. श्री मांझी प्रधानमंत्री के सामने दक्षिण बिहार की त्रासदी सूखे से निबटने के लिए उत्तर कोयल नहर परियोजना, तिलैया ढाढ़र सिंचाई परियोजना, अंत:सलिला फल्गु को सतत सलिला बनाने के साथ पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए अन्य प्रोजेक्ट से संबंधित स्मार पत्र रखने की योजना बना रहे हैं.

मैदान में दो लाख की क्षमता
ऐतिहासिक  गांधी मैदान के तीन लाख वर्गफुट में मंच के अलावा सभास्थल व आम लोगों को  भाषण सुनने की व्यवस्था की गयी है. गांधी मैदान में पहले चार गेट थे.  प्रधानमंत्री के आगमन को लेकर नौ और गेट बनाये गये हैं. इनमें जयप्रकाश  झरने के पास का गेट पूरी तरह बंद रहेगा. 12 गेट खुले रहेंगे. गेट नंबर वन  से प्रधानमंत्री व अन्य वीआइपी व 13 से मीडिया के प्रवेश करने की व्यवस्था  की गयी है. भाजपा नेताओं व खुफिया एंजेंसियों का दावा है कि गांधी मैदान  में दो लाख लोग श्री मोदी का भाषण सुन पायेंगे. बाहर जो लोग सुन पायेंगे,  उनकी संख्या और अधिक होगी.

-------------------

अगर जंगल राज-2 आता है, तो सब कुछ बर्बाद हो जाएगा- मोदी
By  एबीपी न्यूज़ Sunday, 09 August 2015 03:44 PM
पटना : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बिहार के गया में पार्टी के परिवर्तन रैली को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और लालू प्रसाद यादव पर जमकर निशाना साधा और जनता से अपील की कि वे जंगल राज-2 को नहीं आने दें और एनडीए के नेतृत्व में सरकार बनाएं.

बिहार में अक्टूबर में विधानसभा के चुनाव होने हैं.
मोदी ने कहा,''अगर बिहार में जंगल राज-2 आता है तो सब कुछ बर्बाद हो जाएगा.'' पीएम ने कहा, ''आप बीते 25 साल से अहंकार और उत्पीड़न को सह रहे हैं. क्या आप चाहते हैं कि यही सरकार अगले पांच साल तक रहे.''

पीएम ने कहा, ''ये चुनाव आपके लिए मौका है कि आप अपने ऊपर जारी जंगल राज को खत्म कर दें. अगर आप जंगल राज-2 को आने देते हैं तो ये आप पर और मुसीबतें लाएंगे.''

जंगल राज  का जिक्र करते वक़्त मोदी ने अपने भाषण में लालू प्रसाद यादव पर भी जमकर निशाना साधा और चारा घोटाले में उनके जेल जाने का भी जिक्र किया. उन्होंने कहा, ''क्या कोई जेल में अच्छी बात सीखता है? जंगल राज-1 में जेल का अनुभव नहीं था. जंगल राज-2 में जेल का भी अनुभव होगा.''

मोदी ने मुजफ्फरपुर की रैली में आरजेडी पर हमला करते वक़्त 'रोजाना जंगल राज का डर' का नारा दिया था जो कामयाब भी हुआ था. एक बार फिर उन्होंने गया की रैली में उसे नारे को दोहराया.



मोदी ने कहा कि बिहार को बीमारू राज्य से बाहर निकाल है. इसके साथ ही बोध गया को दुनिया में बेहतर बनाएंगे. पीएम का कहना था कि नीतीश ने बिलजी वादा करके जनता को ठगा है. उनका कहना था कि युवाओं को रोजगार, बेहतर उद्योग और बेहतर शिक्षा देंगे.

JDU का मतलब?
नीतीश की पार्टी JDU का मज़ाक उड़ाते हुए पीएम नरेंद्र मोदी ने इस पार्टी का नया नाम 'जनता का दमन और उत्पीड़न' बताया.

मोदी ने कहा कि सत्ताधारी पार्टी ने जानबुझकर राज्य को पिछड़ा रखा है और सरकार विकास के किसी काम की इजाजत नहीं दे रही है.

मोदी ने कहा कि यहां गंगा बहती है, लेकिन उल्टा लोटा के साथ कैसे उसमें पानी भर सकते हैं.
मोदी ने कहा, ''दिल्ली से विकास की गंगा बह रही है, लेकिन  यहां की सरकार कुछ भी नहीं कर रही है.''

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें