शनिवार, 5 सितंबर 2015

मोदी सरकार के कामकाज से संतुष्ट : संघ


संघ मोदी सरकार के कामकाज से संतुष्ट
sanjeevnitoday.com | Saturday, September 5, 2015

नई दिल्ली। बीजेपी के शीर्ष नेतृत्व के साथ राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (संघ) के शिखर नेतृत्व की तीन दिवसीय बैठक शुक्रवार को खत्म हो गई। इस बैठक की जानकारी देते हुए संघ के सह सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबोले ने सरकार के कामकाज से संतुष्टि जताई। उन्होंने कहा कि बैठक सरकार की समीक्षा के लिए नहीं थी लेकिन 'यह कहा जा सकता है कि सरकार सही दिशा में चल रही है। 100 प्रतिशत संतुष्टि तो कहीं नहीं मिलती है, लेकिन सरकार की दिशा और सही नीयत से चल रही है।'

राम मंदिर मुद्दे पर भी सवाल
बैठक में राम मंदिर का मु्द्दा भी उठा। एक सवाल के जवाब में भी उन्होंने सरकार के साथ ही खड़े होने का संकेत दिया। उन्होंने कहा, 'राम मंदिर का मुद्दा आदलत में है, सरकार सही रास्ता निकालने का प्रयास कर रही है। बीजेपी के घोषणापत्र में भी इसका उल्लेख किया गया है... हम उन्हें समय देना चाहते हैं। इंतजार करेंगे।'

वन रैंक वन पेंशन को लेकर भी विचार
वन रैंक वन पेंशन को लेकर भी उन्होंने ऐसे ही विचार व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने बैठक में भी कुछ बातें कही हैं। हमें भरोसा है कि वह पूरा हो जाएगा।  इसके लिए नये नियम बनाये जा रहे है।

गांव पर जोर
उन्होंने बताया कि तीन दिवसीय बैठक में आंतरिक सुरक्षा, बाह्य सुरक्षा, संस्कृति, शिक्षा सहित कई अन्य मुद्दों पर विचार-विमर्श हुआ और संघ मानता है कि विकास का माडल पश्चिमी नहीं, भारतीय होना चाहिए। उन्होंने कहा, 'गांवों के देश में अब लोग गांव पढ़ाई, कमाई और दवाई के लिए गांव छोड़ रहे हैं। यह देखना होगा कि गांवों का विकास हो। देश के विकास में पर्यावरण की बलि न चढ़े।'

पाकिस्तान पर बदला रुख
पिछले दिनों में कई बाधाओं के बावजूद मोदी सरकार ने पाकिस्तान से बातचीत आगे बढ़ाने के लिए प्रतिबद्धता जताई थी। संघ की सोच में भी अब यही झलक दिखने लगी है। होसबोले ने कहा कि पाकिस्तान और बांग्लादेश कभी हमारे ही अंग थे। उनके साथ अच्छे संबंध होने चाहिए। पाकिस्तानी रुख के बावजूद इस विचार पर पूछे गए सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, 'पांडव और कौरव भी भाई थे... लड़ाई हुई थी।'

धार्मिक जनगणना
धार्मिक जनगणना को लेकर संघ परिवार विहिप से तो कड़ी प्रतिक्रिया शुरू हो चुकी है, लेकिन संघ थोड़ा समय लेना चाहता है। दत्तात्रेय ने कहा कि चार-पांच लोगों को कहा गया है कि अध्ययन कर रिपोर्ट दें। उस पर रांची की बैठक में चर्चा होगी।

कांग्रेस पर साधा निशाना
संघ के हाथ रिमोट कंट्रोल के कांग्रेस के आरोपों पर तीखी प्रतिक्रिया जताते हुए दत्तात्रेय ने कहा कि उसे कोई अधिकार नहीं है। वह दस साल तक यही करती रही है। मंत्री कहीं भी जाकर अपने विचार रख सकते हैं। फिर संघ की विचारधारा के प्रेरित सरकार के मंत्री अगर बैठक में आकर अपने विचार रखते हैं, हमारे विचार सुनते हैं तो गलत क्या है। संघ कोई गैर कानूनी संस्था नहीं है।

--------------------

RSS की बैठक में मोदी ने कहा, ''स्वयंसेवक होने पर गर्व, जल्द दिखेंगे नतीजे''

sanjeevnitoday.com | Saturday, September 5, 2015

नई दिल्ली। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और भाजपा की समन्वय बैठक के आखिरी दिन शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भाग किया। संघ और भाजपा के कई नेताओं की मौजूदगी में पीएम मोदी ने करीब 15 मिनट का भाषण दिया। पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि मुझे  'स्वयंसेवक होने पर गर्व है'। हमारी सरकार ने कई सामाजिक सुरक्षा की योजनाएं लागू की हैं जिनका असर जल्द ही देखना को ही मिलेगा।

जनधन योजना का भी जिक्र
पीएम मोदी ने गिवएटअप और जनधन योजना के बारे में भी बात की। मोदी ने कहा कि हमें पांच का समय मिला है जिनका असर आने वाले समय में देखने के लिए मिलेगा। मोदी ने कहा कि हमें देशवासियों को हमारे द्वारा किए गए कामों के बारे में बताना होगा। हमे देश को आगे बढ़ाना है।

राम मंदिर मुद्दे पर भी सवाल
बैठक में राम मंदिर का मु्द्दा भी उठा। एक सवाल के जवाब में भी उन्होंने सरकार के साथ ही खड़े होने का संकेत दिया। उन्होंने कहा, 'राम मंदिर का मुद्दा आदलत में है, सरकार सही रास्ता निकालने का प्रयास कर रही है। बीजेपी के घोषणापत्र में भी इसका उल्लेख किया गया है... हम उन्हें समय देना चाहते हैं। इंतजार करेंगे।'

वन रैंक वन पेंशन को लेकर भी विचार
वन रैंक वन पेंशन को लेकर भी उन्होंने ऐसे ही विचार व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने बैठक में भी कुछ बातें कही हैं। हमें भरोसा है कि वह पूरा हो जाएगा।  इसके लिए नये नियम बनाये जा रहे है।

गांव पर जोर
उन्होंने बताया कि तीन दिवसीय बैठक में आंतरिक सुरक्षा, बाह्य सुरक्षा, संस्कृति, शिक्षा सहित कई अन्य मुद्दों पर विचार-विमर्श हुआ और संघ मानता है कि विकास का माडल पश्चिमी नहीं, भारतीय होना चाहिए। उन्होंने कहा, 'गांवों के देश में अब लोग गांव पढ़ाई, कमाई और दवाई के लिए गांव छोड़ रहे हैं। यह देखना होगा कि गांवों का विकास हो। देश के विकास में पर्यावरण की बलि न चढ़े।'

पाकिस्तान पर बदला रुख
पिछले दिनों में कई बाधाओं के बावजूद मोदी सरकार ने पाकिस्तान से बातचीत आगे बढ़ाने के लिए प्रतिबद्धता जताई थी। संघ की सोच में भी अब यही झलक दिखने लगी है। होसबोले ने कहा कि पाकिस्तान और बांग्लादेश कभी हमारे ही अंग थे। उनके साथ अच्छे संबंध होने चाहिए। पाकिस्तानी रुख के बावजूद इस विचार पर पूछे गए सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, 'पांडव और कौरव भी भाई थे... लड़ाई हुई थी।'
धार्मिक जनगणना
धार्मिक जनगणना को लेकर संघ परिवार विहिप से तो कड़ी प्रतिक्रिया शुरू हो चुकी है, लेकिन संघ थोड़ा समय लेना चाहता है। दत्तात्रेय ने कहा कि चार-पांच लोगों को कहा गया है कि अध्ययन कर रिपोर्ट दें। उस पर रांची की बैठक में चर्चा होगी।
कांग्रेस पर साधा निशाना
संघ के हाथ रिमोट कंट्रोल के कांग्रेस के आरोपों पर तीखी प्रतिक्रिया जताते हुए दत्तात्रेय ने कहा कि उसे कोई अधिकार नहीं है। वह दस साल तक यही करती रही है। मंत्री कहीं भी जाकर अपने विचार रख सकते हैं। फिर संघ की विचारधारा के प्रेरित सरकार के मंत्री अगर बैठक में आकर अपने विचार रखते हैं, हमारे विचार सुनते हैं तो गलत क्या है। संघ कोई गैर कानूनी संस्था नहीं है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें