गुरुवार, 10 दिसंबर 2015

भविष्यवेत्ता बाबा वेंगा की चौंकानेवाली भविष्यवाणियां


बाबा वेंगा नामक महिला भविष्यवेत्ता की कही 
भविष्यवाणी का आगाज है आईएसआईएस, जानिए...
sanjeevnitoday.com | Thursday, December 10, 2015

नई दिल्ली। सदियों पहले फ्रेंच एस्ट्रॉलोजर नास्त्रेदमस ने कहा था कि तीसरा विश्वयुद्ध दुनिया के लिए तबाही लेकर आएगा। हालांकि इसकी अभी कोई संभावना नहीं दिखाई देती है परन्तु बाबा वेंगा ने भी नास्त्रेदमस की इस बात का समर्थन करते हुए कहा है कि आने वाले कुछ वर्षों में पूरे यूरोप पर मुस्लिमों का कब्जा होगा। यूरोप में तबाही होगी और वहां रहने वाला कोई नहीं होगा। यूरोप के इस्लामीकरण की प्रक्रिया 2016 में शुरू होगी जो 2043 तक पूर्णतया मुस्लिम आबादी में बदल जाएगी।
20 साल पहले ही इस बात की भविष्यवाणी हो गई थी कि 2016 में दुनियाभर में ‘ग्रेट मुस्लिम वार’ होगा। यह वॉर 2010 में अरब की धरती से शुरू होगा। इसके बाद सीरिया में लड़ा जाएगा और 2043 में रोम के केंद्र में खिलाफत की स्थापना के साथ इसका अंत हो जाएगा। यह भविष्यवाणी बुल्गारिया की नेत्रहीन महिला भविष्यवक्ता बाबा वंगा ने की थी, जिनका करीब 20 साल पहले 1996 में 85 वर्ष की उम्र में निधन हो गया था।
बताते चलें कि बाबा वंगा का असली नाम वेंगेलिया पांडेवा दिमित्रोवा था। उनका जन्म बुल्गारिया में हुआ था। पैदा होने के बाद करीब 12 साल तक उनकी आंखें ठीक थीं। कहा जाता है कि एक बड़े तूफान के दौरान उनकी आंखों में मिट्टी भर गई थी, जिससे उनकी आंख की रोशनी चली गई थी। वह अपने परिवार से बिछुड़ गई थीं। काफी दिनों बाद वह मिलीं। उन्होंने कई सटीक भविष्यवाणियां की हैं।
बुल्गारिया की प्रसिद्ध भविष्यवक्ता बाबा वेंगा को आधुनिक नास्त्रेदमस या लेडी नास्त्रेदमस कहा जाता है। जब वह 12 वर्ष की थी तब वह एक रेतीले तूफान में फंस गई थी, आंखों में धूल जाने तथा कई दिनों तक इलाज नहीं होने के कारण उनकी आंखें हमेशा के लिए चली गई। परन्तु अंधे होने के बाद उन्हें भविष्य को देखने की शक्ति मिली जिससे वह अपने आस-पास के लोगों की भविष्यवाणियां करने लगी। उनकी भविष्यवाणियां बिल्कुल सही सिद्ध होती थी जिसके चलते दुनिया भर के लोग उनके पास भविष्य पूछने आने लगे।
जब कभी वह एकांत में होती थी वह दुनिया का भविष्य देखने का प्रयास करती तथा भविष्यवाणियां करती। उन्होंने अपने जीवन काल में विश्व से जुड़ी दर्जनों भविष्यवाणियां की जो बाद में बिल्कुल सही साबित हुई। उनकी इन भविष्यवाणियों में इंदिरा गांधी के तानाशाह बनने, धरती के गर्म होने, अमरीका पर 9/11 का आतंकी हमला होने, 2004 में भयावह सुनामी तथा 2010 में सीरिया में शुरू हुई अरब क्रांति जैसी घटनाएं प्रमुख हैं जो पूर्णतया सच सिद्ध हुई।
बाबा वेंगा की मृत्यु 1996 में 85 वर्ष की अवस्था में हो गई थी। परन्तु अपनी मृत्यु से पूर्व उन्होंने दुनिया के भविष्य से जुड़ी कई ऐसी भविष्यवाणियां की जिनके सच होने पर दुनिया का अस्तित्व ही खतरे में पड़ जाएगा।
बाबा वेंगा के अनुसार वर्ष 2016 में यूरोप पर कट्टरपंथी मुस्लिमों का हमला होगा और पूरे यूरोप में तबाही मच जाएगी। उल्लेखनीय है कि लीबिया के शहर सिर्ते पर कब्जा करने के साथ ही इस्लामिक स्टेट यूरोप के दरवाजे पर दस्तक दे दी है। वर्ष 2025 तक यूरोप पूरी तरह तबाह और तहस-नहस हो चुका होगा जबकि 2043 में वर्तमान खाड़ी देशों की तरह यूरोप में भी इस्लामिक शासन होगा।
बाबा वेंगा ने किसी अफ्रीकी-अमरीकी के अमरीका के 44वें राष्ट्रपति के रूप में शपथ लेने की भविष्यवाणी की थी जो बराक ओबामा के राष्ट्रपति बनने के साथ ही सत्य हो गई। परन्तु उन्होंने यह भी कहा कि ओबामा अमरीका के आखिरी राष्ट्रपति हो सकते है। यह कैसे होगा, इसके लिए हमें समय का इंतजार करना होगा।
2043 में पूरा यूरोप इस्लामिक देश में बदल चुका होगा और रोम इसकी मुस्लिम राजधानी बन चुका होगा। 2066 में अमरीका यूरोप में ईसाई धर्म की पुर्नस्थापना के लिए जलवायु परिवर्तन हथियार (या न्यूक्लियर हमले) का उपयोग करेगा जो यूरोप से मुस्लिमों का सफाया कर देगा।

-------------


यूरोप होगा ISIS का गुलाम - बाबा वेंगा ने की भविष्यवाणी


सदियों पहले फ्रेंच एस्ट्रॉलोजर नास्त्रेदमस ने कहा था कि तीसरा विश्वयुद्ध दुनिया के लिए तबाही लेकर आएगा। हालांकि इसकी अभी कोई संभावना नहीं दिखाई देती है परन्तु बाबा वेंगा ने भी नास्त्रेदमस की इस बात का समर्थन करते हुए कहा है कि आने वाले कुछ वर्षों में पूरे यूरोप पर मुस्लिमों का कब्जा होगा। यूरोप में तबाही होगी और वहां रहने वाला कोई नहीं होगा। यूरोप के इस्लामीकरण की प्रक्रिया 2016 में शुरू होगी जो 2043 तक पूर्णतया मुस्लिम आबादी में बदल जाएगी।

बुल्गारिया की प्रसिद्ध भविष्यवक्ता बाबा वेंगा को आधुनिक नास्त्रेदमस या लेडी नास्त्रेदमस कहा जाता है। जब वह 12 वर्ष की थी तब वह एक रेतीले तूफान में फंस गई थी, आंखों में धूल जाने तथा कई दिनों तक इलाज नहीं होने के कारण उनकी आंखें हमेशा के लिए चली गई। परन्तु अंधे होने के बाद उन्हें भविष्य को देखने की शक्ति मिली जिससे वह अपने आस-पास के लोगों की भविष्यवाणियां करने लगी। उनकी भविष्यवाणियां बिल्कुल सही सिद्ध होती थी जिसके चलते दुनिया भर के लोग उनके पास भविष्य पूछने आने लगे।

जब कभी वह एकांत में होती थी वह दुनिया का भविष्य देखने का प्रयास करती तथा भविष्यवाणियां करती। उन्होंने अपने जीवन काल में विश्व से जुड़ी दर्जनों भविष्यवाणियां की जो बाद में बिल्कुल सही साबित हुई। उनकी इन भविष्यवाणियों में इंदिरा गांधी के तानाशाह बनने, धरती के गर्म होने, अमरीका पर 9/11 का आतंकी हमला होने, 2004 में भयावह सुनामी तथा 2010 में सीरिया में शुरू हुई अरब क्रांति जैसी घटनाएं प्रमुख हैं जो पूर्णतया सच सिद्ध हुई।

बाबा वेंगा की मृत्यु 1996 में 85 वर्ष की अवस्था में हो गई थी। परन्तु अपनी मृत्यु से पूर्व उन्होंने दुनिया के भविष्य से जुड़ी कई ऐसी भविष्यवाणियां की जिनके सच होने पर दुनिया का अस्तित्व ही खतरे में पड़ जाएगा।

बाबा वेंगा के अनुसार वर्ष 2016 में यूरोप पर कट्टरपंथी मुस्लिमों का हमला होगा और पूरे यूरोप में तबाही मच जाएगी। उल्लेखनीय है कि लीबिया के शहर सिर्ते पर कब्जा करने के साथ ही इस्लामिक स्टेट यूरोप के दरवाजे पर दस्तक दे दी है। वर्ष 2025 तक यूरोप पूरी तरह तबाह और तहस-नहस हो चुका होगा जबकि 2043 में वर्तमान खाड़ी देशों की तरह यूरोप में भी इस्लामिक शासन होगा।

बाबा वेंगा ने किसी अफ्रीकी-अमरीकी के अमरीका के 44वें राष्ट्रपति के रूप में शपथ लेने की भविष्यवाणी की थी जो बराक ओबामा के राष्ट्रपति बनने के साथ ही सत्य हो गई। परन्तु उन्होंने यह भी कहा कि ओबामा अमरीका के आखिरी राष्ट्रपति हो सकते है। यह कैसे होगा, इसके लिए हमें समय का इंतजार करना होगा।

2043 में पूरा यूरोप इस्लामिक देश में बदल चुका होगा और रोम इसकी मुस्लिम राजधानी बन चुका होगा।

2066 में अमरीका यूरोप में ईसाई धर्म की पुर्नस्थापना के लिए जलवायु परिवर्तन हथियार (या न्यूक्लियर हमले) का उपयोग करेगा जो यूरोप से मुस्लिमों का सफाया कर देगा।

2023 में धरती की धुरी (परिक्रमा का केन्द्र बिन्दु) बदल जाएगी जिसके चलते धरती के वातावरण में कई आश्चर्यजनक परिवर्तन देखने को मिलेंगे।

2028 में मनुष्य शुक्र ग्रह तक पहुंच जाएगा।

2033 में धरती के दोनों ध्रुवों की बर्फ पिघल जाएगी जिससे समुद्र किनारे बसे कई शहर पूरी तरह पानी में डूब जाएंगे। वैज्ञानिकों के अनुसार इसकी शुरूआत हो चुकी है और नासा के वैज्ञानिकों के अनुसार वर्ष 1993 से 2009 तक समुद्र का स्तर 1.89 इंच बढ़ चुका था जो अब हर वर्ष 3 मिलीमीटर की दर से बढ़ रहा है। बाबा वेंगा के अनुसार 22वीं सदी में समुद्र तल में रहने की तकनीक ढूंढ ली जाएगी और भविष्य के शहर समुद्र के अंदर ही बसाए जाएंगे।

2076 में यूरोप में साम्यवाद लौटेगा और फिर पूरे विश्व में साम्यवाद ही होगा। इसके कुछ ही वर्षों बाद पूरी धरती पर रोबोट्स की फौज होगी जो मानव जीवन में दखल देने लगेगी।

2084 में धरती का पुर्नजन्म होगा। इस भविष्यवाणी का क्या अर्थ है इसकी कोई व्याख्या नहीं की गई है।

2100 अर्थात 22वीं सदी की शुरूआत में धरतीवासी पहला कृत्रिम सूर्य बनाने में सफल हो जाएंगे जो धरती की लंबे समय तक ऊर्जा जरूरतों को पूरा करता रहेगा।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें