शुक्रवार, 1 अप्रैल 2016

श्रीमती वसुंधरा राजे : महत्वपूर्ण घोषणाएं : शहरी विकास

cm-budget-slide



श्रीमती वसुंधरा राजे : महत्वपूर्ण घोषणाएं : शहरी विकास
विधानसभा में वित्त और विनियोग विधेयक पर जवाब देते हुए महत्वपूर्ण घोषणाएं
30 मार्च, 2016
‘‘हो दिल में जिसके जज्बा मंजिल छूने का, वो मुश्किलों से कभी घबराया नहीं करते’’
हमारा बजट प्रदेश के विकास और सब जन के कल्याण की भावना से प्रेरित बजट है, राजनीतिक लाभ से नहीं। हमने कोशिश की है जन भावना और स्थानीय मांगों के अनुरूप प्रस्ताव बजट में शामिल हों। बजट प्रस्तुत करने के बाद भी कुछ मांगें आई हैं, इनको मैं सकारात्मक रूप से देखती हूं।

उम्मीदों के दिए बुझाया नहीं करते,
दूर हो मंजिल पर पांव डगमगाया नहीं करते।
हो दिल में जिसके जज्बा मंजिल छूने का,
वो मुश्किलों से कभी घबराया नहीं करते।।
बजट के बाद प्राप्त मांगों में से कुछ मांगों के संबंध में मैं निम्न घोषणाएं करती हूं –
शहरी विकास
1. महुआ, जिला दौसा में नगरपालिका बनाये जाने की घोषणा करती हूँ।
2. नगरपालिका मांगरोल जिला बारां में बाढ़ एवं वर्षा के पानी की निकासी के लिए लगभग 18 करोड़ रुपये के विकास कार्य सार्वजनिक निर्माण विभाग के माध्यम से कराने की मैं घोषणा करती हूँ।
3. कोटा शहर, NCR दिल्ली के Counter Magnet City के रूप में विकसित हो रहा है। कोटा शहरी क्षेत्र में निम्न विकास कार्य करवाये जायेंगेः-
– रंगपुर रोड़ पर RoB का निर्माण।
– नयापुरा क्षेत्र में मौजुदा आधारभूत खेल सुविधाओं को एकीकृत कर sports complex का विकास एवं निजी जनसहभागिता के आधार पर खिलाडि़यों के लिए प्रथम तल पर sports rest house एवं भूतल पर commercial गतिविधियों के लिए निर्माण।
– दशहरा मैदान के विकास कार्य।
– NH 76 के chainage 09725 पर underpass का विस्तार कार्य।
– कोटा कलक्टर कार्यालय तथा जिला एवं सत्र न्यायाधीश परिसर को भूमिगत मार्ग से जोड़ने तथा दोनों ही कार्यालय के लिए भूमिगत पार्किंग का निर्माण कार्य।
4. मैंने इस बजट में शहरी क्षेत्रों के विकास हेतु 4 हजार 200 करोड़ रुपये के विकास कार्यों की घोषणा की थी। इसमें आंशिक संशोधन करते हुए जिला अलवर के स्थान पर जिला चूरू पढा जाये। इसी क्रम में 670 करोड़ रुपये के निम्न कार्य करवायेे जाने की भी मैं घोषणा करती हूँः-
– 100 करोड़ रुपये की लागत से माउंटआबू में पेयजल एवं sewerage के विकास कार्य।
– झालावाड़ तथा झालरापाटन शहरों में 100 करोड़ रुपये की लागत से sewerage कार्य।
– आयड़ नदी के सौंदर्यकरण एवं उसमें आने वाले दूषित पानी को रोकने के लिए 120 करोड़ रुपये की लागत से विकास कार्य।
– सवाईमाधोपुर शहर की sewerage समस्या के समाधान के लिए 100 करोड़ रुपये की लागत से विकास कार्य।
– कोटा शहर की sewerage एवं पेयजल व्यवस्था की समस्या के समाधान हेतु प्रथम चरण में 250 करोड़ रुपये के विकास कार्य।
5. अंता जिला बारां में पुराने खेमजी महाराज तालाब की सफाई, संवर्धन एवं सौदर्यकरण हेतु लगभग 4 करोड़ 45 लाख रुपये के विकास कार्य सार्वजनिक निर्माण विभाग के माध्यम से करवाये जायेंगे।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें