रविवार, 17 जुलाई 2016

हिन्दू हैं हम युगों युगों से - युगों युगों तक






हिन्दू हें हम
- अरविन्द सिसोदिया कोटा 95095 59131
हम शब्दों के पुजारी , भावनाओं के संवेदक ,
मानवता के उत्पादक, व्यवस्थाओं के निर्माता!
आनंद की सिद्धी, उत्सवों की संस्कृति ,
प्रेम की पराकाष्ठा, अपनत्व का अनंत आकाश,
पुरूषार्थ के परमार्थी,, वीरता के व्योम हम,
जौहर में राख करके, करते पवित्रता की आरती,
शीश चढ़ा  लेते  मातृभूमि किं बलिहारी  ।
हिन्दू हैं हम युगों युगों से युगों युगों तक !
सम्पूर्ण सृष्टि का सृजन हैं हम,
अनवरत जीवन यात्रा के संवाहक,
नर से नारायण तक हैं हम ।।
हिन्दू थे हिन्दू हैं हिन्दू ही रहेंगें युगों युगों तक ।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें