सोमवार, 31 अक्तूबर 2016

दिवाली : जो ब्रिटिश प्रधानमंत्री थेरेसा जानती हैं

दिवाली के बारे में जानें बहुत कुछ वह 

जो ब्रिटिश प्रधानमंत्री थेरेसा जानती हैं। 



प्रेस विज्ञप्ति

25 अक्टूबर 2016 

प्रधानमंत्री ने डाउनिंग स्ट्रीट में 2016 दिवाली समारोह की मेजबानी की

https://www.gov.uk/government

प्रधानमंत्री थेरेसा मे ने डाउनिंग स्ट्रीट में दिवाली का जश्न मनाने के लिए हिन्दू, सिख और जैन समुदाय के लोगों स्वागत का किया।

प्रधानमंत्री थेरेसा मे ने दिवाली के जश्न में एक स्वागत समारोह की मेजबानी की और साथ ही हिन्दू, सिख और जैन समुदाय के लगभग 150 से अधिक प्रसिद्ध व्यक्तियों की आवाभगत की।

कार्यवाहक भारतीय उच्चायुक्त महामहिम दिनेश पटनाइक और नीज़डेन मंदिर के ट्रस्टी जितेंद्र पटेल,के साथ प्रधानमंत्री ने पारम्परिक दीप प्रज्ज्वलन समरोह को पूर्ण किया।

अंतर्राष्ट्रीय विकास मंत्री प्रीति पटेल, स्थानीय सरकार एवं समुदाय मंत्री साजिद जाविद, लॉर्ड गढिया और विदेश कार्यालय मंत्री आलोक शर्मा प्रधानमंत्री के साथ रहे ।

प्रधानमंत्री ने कहा:-


* धन्यवाद, आप सभी का 10 डाउनिंग स्ट्रीट पर स्वागत है। साल के इस विशेष मौके पर आप सभी को यहां देखकर मैं खुश हूं और प्रधानमंत्री के रूप में अपने पहले दिवाली स्वागत समारोह की मेजबानी करना मेरे लिए गर्व की बात है।

* मेरे लिए, इस त्यौहार की सर्वाधिक उल्लेखनीय बात इसकी अपार मान्यता और इसके सन्देश का विश्वव्यापी आकर्षण है।

* अब भारत को ही देख लें-एक अरब से ज्यादा, सैकड़ों से अधिक भाषा बोलने वाले, अलग-अलग धर्म मानने वाले-सभी लोग इस प्रकाश-उत्सव पर एकजुट हो जाते हैं।

* और बाकी की दुनिया पर नजर डालें तो सिंगापुर से लेकर दक्षिण अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया से लेकर नेपाल तक सभी जगह रंगारंग जश्न हो रहा है।

* और ब्रिटेन की ओर देखें जहां लोग अभी लीसेस्टर के गोल्डेन माइल से उपहार खरीद रहे हैं, बर्मिंघम के सोहो रोड पर पेड़े बनाए जा रहे हैं, और वेम्बली के ईलिंग रोड पर कंदील सजाकर रोशनी कर रहे हैं-और ये सभी कुछ पांच पवित्र दिनों के लिए हो रहा है जो हमारे राष्ट्र के लोगों के जीवन का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा बन गया है।

* जब हम दिवाली के सही अर्थ का विश्लेषण करते हैं, इसकी प्रासंगिकता भारत से भी परे हैं, भारतीय मूल के भी पार है और इस त्योहार के प्रतीक हिन्दू, जैन, सिख और बौद्ध धर्म से भी आगे है। इसका संदेश हममें से हर एक पर लागू होता है चाहे हमारी कोई भी पृष्ठभूमि हो या कई भी धर्म हो।

* अब मैं यह कहना चाहती हूं कि भले ही मैंने भगवान राम के महाकाव्य के सभी 24,000 छंद नहीं पढ़ें हों, लेकिन पिछले कुछ सालों से अपने चुनाव क्षेत्र में होने वाले दिवाली के जश्न में शामिल होकर, मुझे उनकी घर वापसी की कहानी का ज्ञान जरूर है।

* काफी सालों से बच्चों ने इस कहानी पर नाटक प्रस्तुत किया है।

* जो मूल्य उनमें समाहित थे, उन मूल्यों का ध्यान हम सभी रख सकते हैं।

* दान, त्याग और जिम्मेदारी के मूल्य, बिल्कुल महात्मा गांधी का संक्षिप्त में वर्णन करने जैसा है-दूसरों की सेवा में स्वयं को समर्पित कर देना।

* सही आचरण का मूल्य-धर्म-का पालन करना यानी सही मार्ग पर चलना और बुराई पर अच्छाई की विजय।

* आशाओं और क्षमा के मूल्यों का पालन करना-हिन्दू नववर्ष का प्रतिनिधित्व करता नई शुरुआत और स्वच्छ स्लेट का यह उत्सव जिसमें लोग नए वस्त्र पहननकर आने वाले संपूर्ण वर्ष लिए प्रार्थना करते हैं।

* मेरे विचार से हमें किसी अन्य चीज से अधिक इन्हीं मूल्यों की आवश्यकता है, तब जब हम ब्रिटेन के लिए दुनिया भर में एक नई सकारात्मक, महत्वकांक्षी भूमिका की तैयारी में है।

* मेरी सरकार- एक बेहतर ब्रिटेन-का ध्येय है, ऐसा देश निर्मित करना जो सभी के लिए कार्य करता है और एक ऐसा राष्ट्र बनाना, जहां आपकी व्यक्तिगत पहचान से बिना कोई फर्क पड़े आप अपने सपने साकार कर सकते हैं।

* पंद्रह लाख से अधिक लोगों वाले ब्रिटिश भारतीय समुदाय की उपलब्धियां दर्शाती हैं कि प्रतिभा का फैलाव हो तो देश काफी कुछ हासिल कर सकता है और यहां पृष्ठभूमि के लोग अपनी क्षमता को पूरा करने में सक्षम हैं, और यही सबसे अधिक महत्वपूर्ण है।

* हमारी राजनीतिक प्रणाली और अधिक प्रभावी हो जाती है-और मुझे हमारे मंत्रीमंडल में प्रीति पटेल, विदेश और राष्ट्रमंडल कार्यालय में आलोक शर्मा, कॉमन्स में शैलेश वारा और ऋषि सुनक जैसे सांसद और लॉर्ड्स में जितेश गढिया, दोलर पोपट, संदीप वर्मा और रणबीर सूरी जैसे सांसदों के होने पर गर्व है।

* जब प्रतिभा का फैलाव होता है तो हमारी शिक्षा प्रणाली भी अधिक विकल्प और अवसर प्रदान करती है। वास्तव में आवंती ट्रस्ट जैसे हिन्दू स्कूल बड़ी सफलताएं हासिल कर रहें हैं और हमें आस्था स्कूल के समर्थन में आगे आने का महत्व समझा रहे हैं।

* हमारी अर्थव्यवस्था भी अधिक सफल और गतिशील हो जाती है जब हम उन सभी उभरते उद्योगों को शामिल करते हैं जो विभिन्न उद्यमियों को आकर्षित करते हैं जैसे कि प्रौद्योगिकी, फिल्म और फैशन - जो विशेष रूप से मेरे दिल के करीब है।

* और हमारे समाज की ताकत और बढ़ जाती है जहाँ अलग-अलग पृष्ठभूमि के लोग हमारे स्कूल, अस्पताल, पुलिस बल और सेना में अपना सर्वश्रेष्ठ योगदान देते हैं।

* इसलिए आज यहां उपस्थित होकर जब हम ब्रिटिश भारतीयों और हमारे विभिन्न समुदायों की उपलब्धियों का जश्न मना रहे हैं मैं चाहती हूं कि हम उन सभी बाधाओं को हटा दें, जो लोगों को उनकी क्षमता का संपूर्ण उपयोग करने से रोकते हैं।

* मैं चाहती हूं कि हमारा देश दिवाली के महत्व पर गर्व करे-आखिरकार यहीं डाउनिंग स्ट्रीट से ही प्रधानमंत्री मोदी ने पिछले साल से हिन्दू नववर्ष की शुरुआत की थी।

* उनकी यात्रा के बदले में, अगले महीने मैं भारत जा रही हूं-यह यूरोप के बाहर मेरी पहली द्विपक्षीय यात्रा होगी और मैं दिल्ली से बेंगलुरु सभी जगहों की यात्रा करूंगी-जो हमारे दोनों देशों के बीच के संबंधों और भविष्य के लिए साझा महत्वकांक्षाओं का सही जश्न होगा।

* बहरहाल मैं आप सभी को शुभ दीपावली कहती हूं और बंधी छोड़ दिवस मनाने वाले लोगों को भी शुभकामनाएं देती हूं। धन्यवाद।

British PM Theresa : Celebrate Diwali


British PM hosts Diwali reception at Downing Street

Posted at: Oct 25, 2016,


http://www.tribuneindia.com/news

British Prime Minister Theresa May with the Indian entrepreneurs lighting lamps at a Diwali reception in her official residence 10 Downing Street in London on Monday. PTI

London, October 25
British Prime Minister Theresa May hosted a reception at Downing Street to celebrate Diwali and welcomed more than 150 key figures from across the Hindu, Sikh and Jain communities.
Dinesh Patnaik, Acting Indian High Commissioner, and Jitendra Patel, Trustee of Neasden Temple, were joined by the Prime Minister in the traditional lamp lighting ceremony on Monday evening.
May was also joined by Secretary of State for International Development Priti Patel, Secretary of State for Local Government and Communities Sajid Javid, Lord Jitesh Gadhia and Foreign Office Minister Alok Sharma, a press statement from the British High Commission said on Tuesday.
The Prime Minister said: "For me, one of the most remarkable things about this festival is the sheer scale of its reach and the universal appeal of its message.
"Look at India -- over a billion people, speaking hundreds of different languages, following various different faiths -- united by this festival of light."
"When we analyse the true meaning of Diwali, its relevance extends beyond India, beyond the Indian diaspora and even beyond the Hindus, Jains, Sikhs and Buddhists who, in different ways, mark the festival. Its messages apply to every single one of us -- whatever our background, whatever our faith." She praised the contribution of the British Indian community.
"The achievements of our British Indian communities -- one and a half million people -- demonstrate just how much a country can achieve when talent is unleashed and people of all backgrounds are able to fulfil their potential -- that's what is important.
"Our political system becomes more representative and more effective -- and I am so proud to have Priti Patel in the Cabinet; Alok Sharma in the Foreign and Commonwealth Office; MPs like Shailesh Vara and Rishi Sunak in the Commons; and peers like Jitesh Gadhia, Dolar Popat, Sandip Verma and Ranbir Suri in the Lords."
Referring to her upcoming visit to India, May said: "And, next month when I go to India -- it will be my first bilateral outside of the European Union and I'm going from Delhi to Bangalore -- a true celebration of relations between our countries and our shared ambitions for the future."  — IANS

--------------

THERESA MAY PRAISES BRITISH-INDIANS IN DIWALI MESSAGE
TIP NEWS - Oct 28, 2016

http://www.theindianpanorama.news/world

LONDON (TIP): Hailing the contribution of British-Indians, Prime Minister Theresa May has said she would highlight their success during her first official visit to India next month.

May praised British-Indians in her message at the annual Diwali celebrations in the House of Commons on Wednesday.

“In Britain’s Indian communities, we can see the good that can be done when people’s talents are unleashed. I think of all those running their own businesses, taking risks and working hard so that they can provide for their families and take on staff,” May said in her message, read out by Bob Blackman, the parliamentary host of the annual Diwali event organised by the Hindu Forum of Britain (HFB).

She said that she would be highlighting this success when she visits India next month on the invitation of Prime Minister Narendra Modi.

“I will be so proud to highlight the achievements of British-Indians next month when I make my first official visit to India as Prime Minister at the invitation of Prime Minister Narendra Modi,” May said.

The event organised on the House of Commons Terrace Pavilion overlooking the river Thames began with the reciting of mantras and was attended by leading Indian-origin parliamentarians including Lord Swraj Paul, Lord Dolar Popat, Lord Jitesh Gadhia and Shailesh Vara.

“I am incredibly proud, as a British-Indian and a British Hindu to see this event go from strength to strength. It is a celebration for all of us from all backgrounds,” said Priti Patel, the UK’s International Development Minister and the senior-most Indian-origin minister in May’s Cabinet

The event this time coincided with a Jammu and Kashmir delegation’s visit led by Maharaja Kumar Ajatshatru Singh, the grandson of the Maharaja Hari Singh who signed the accession treaty for J&K to become a part of India on October 26, 1947.

Blackman declared that October 26 would now be marked as J&K Day every year in the UK Parliament.

रविवार, 30 अक्तूबर 2016

नरेंद्र मोदी : प्रधानमंत्रियों से अलग परंपरा : जवानों के साथ दीवाली







ABP News > India News >

पीएम मोदी ने हिमाचल प्रदेश में जवानों के साथ मनाई दीवाली

By: ब्रजेश कुमार सिंह, एबीपी न्यूज़ |
Last Updated: Sunday, 30 October 2016
http://abpnews.abplive.in/india-news

       नई दिल्ली ।    दीवाली मनाने के मामले में बाकी सभी प्रधानमंत्रियों से अलग परंपरा की शुरुआत करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज हिमाचल प्रदेश के किन्नौर के सुमडो में पहुंचकर ITBP, सेना और डोगरा स्काउट के साथ दिवाली मनाई. पीएम करीब एक घंटे तक जवानों के साथ रहे.

          प्रधानमंत्री बनने के बाद लगातार तीसरी दीवाली सेना और अर्धसैनिक बलों के जवानों के साथ मनाने के लिए प्रधानमंत्री आज सुबह साढ़े सात बजे दिल्ली से रवाना हुए. साढे आठ बजे के करीब वो चंडीगढ पहुंचे. वहां से भारतीय वायुसेना के हेलिकॉप्टर के जरिये हिमाचल प्रदेश के किन्नौर पहुंचे. किन्नौर में उनका हेलिकॉप्टर सोमडु के पास उतरा, जहां से वो सुमडो के लिए रवाना हुए, जहां पर आईटीबीपी का कैंप था. रास्ते  में चांगो गांव आया, जहां वो अपना काफिला रोककर गाड़ी से उतर पड़े और गांव वालों से मिले. इस दौरान पीएम मोदी ने गांव के सभी लोगों से मुलाकात की, जिसमें युवा, महिलाएं और छोटे बच्चे भी शामिल थे. गांव वालों के अनुरोध पर उन्होंने हिमाचली टोपी भी पहनी और साथ में फोटो भी खिचाये.

         चांगो में करीब पंद्रह मिनट तक रुकने के बाद पीएम सुमडो के लिए रवाना हुए. साढे दस बजे के करीब वो सुमडो पहुंच गये, जहां आईटीबीपी का कैंप था. यही पर वो आईटीबीपी के साथ सेना के जवानों से मिले. करीब दो घंटे तक वो यहां रुके और इस दौरान न सिर्फ जवानों को उन्होंने मिठाई खिलाई, बल्कि खुद उनके हाथ से मिठाई भी खाई. सुमडो से प्रधानमंत्री साढे बारह बजे के करीब रवाना हुए. खास बात ये है कि जब देश के लोग रेडियो और टेलीविजन पर पीएम मोदी के मन की बात सुन रहे थे, उस वक्त मोदी खुद सुरक्षा बलों के बहादुर जवानों के बीच मौजूद थे.

       ये पहली बार नहीं है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दीवाली के मौके पर जवानों के साथ सरहद पर जा रहे हैं. मोदी प्रधानमंत्री बनने के बाद अपनी पिछली दो दीवाली सेना के जवानों के साथ सरहद पर मना चुके हैं. प्रधानमंत्री ने पिछले साल दिवाली अमृतसर के खालसा स्थित डोगराई वॉर मेमोरियल में मनायी थी.. जबकि 2014 की दीवाली सियाचिन में सैनिकों के साथ मनायी थी.



------------





हिमाचल के सुमडा और छांगो पहुंचे पीएम मोदी, 

जवानों संग मनाई दीवाली

Publish Date:Sun, 30 Oct 2016
http://www.jagran.com

नई दिल्ली (एएनआई)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस बार हिमाचल प्रदेश के किन्नौर के सुमडो और छांगो पहुंचकर आईटीबीपी, सेना और डोगरा स्काउट के जवानों के साथ दिवाली मनाई। इस दौरान उनके साथ सेना प्रमुख दलबीर सिंह सुहाग भी मौजूद थे। इस मौके पर सेना के जवानों और पीएम मोदी ने एक-दूसरे को मिठाई भी खिलाई। उन्होंने यहां पर गांववालों से भी भेंट की और उन्हें दीवाली की शुभाकामनाएं दीं। पीएम मोदी ने ट्वीट कर अपनी इस खुशी का इजहार करते हुए कहा है कि यह उनका निर्धारित प्रोग्राम नहीं था।

उन्होंने यहां पर जवानों के साथ काफी वक्त बिताया और उनकी हौंसला अफजाई भी की। उन्होंने एक अन्य ट्वीट में लोगों से भी अपील की है कि वह इस बार अपनी दीवाली पर कुछ समय देश की सरहद पर मौजूद जवानों को भी दें और उन्हें दीवाली पर अपने बधाई संदेश भेजें।

शनिवार, 29 अक्तूबर 2016

ताकत वतन की हमसे है







ताकत वतन की हमसे है - 

Taaqat Watan Ki Humse Hai 

(Rafi, Manna Dey, Prem Pujari)


Movie/Album: प्रेम पुजारी (1970)
Music By: एस.डी.बर्मन
Lyrics By: नीरज
Performed By: मो.रफ़ी, मन्ना डे

ताकत वतन की हमसे है
हिम्मत वतन की हमसे है
इज्ज़त वतन की हमसे है
इंसान के हम रखवाले

पहरेदार हिमालय के हम, झोंके हैं तूफ़ान के
सुनकर गरज हमारी सीने फट जाते चट्टान के
ताकत वतन की हमसे है...

सीना है फौलाद का अपना, फूलों जैसा दिल है
तन में विन्ध्याजल का बल है, मन में ताजमहल है
ताक़त वतन की हमसे है...

देकर अपना खून सींचते देश की हम फुलवारी
बंसी से बन्दूक बनाते हम वो प्रेम पुजारी
ताकत वतन की हमसे है...

आकर हमको कसम दे गई, राखी किसी बहन की
देंगे अपना शीश, न देंगे मिट्टी मगर वतन की
ताक़त वतन की हमसे है...

खतरे में हो देश अरे तब लड़ना सिर्फ धरम है
मरना है क्या चीज़ आदमी लेता नया जनम है
ताकत वतन की हमसे है...

एक जान है, एक प्राण है सारा देश हमारा
नदियाँ चल कर थकी रुकी पर कभी न गंगा धरा
ताक़त वतन की हमसे है...

टीम इंडिया का दिवाली गिफ्ट : न्यूजीलैंड को हराया, सीरीज पर कब्जा



INDvsNZ: टीम इंडिया का दिवाली गिफ्ट, आखिरी वनडे में न्यूजीलैंड को 190 रनों से हराया, सीरीज पर 3-2 से कब्जा
aajtak [Edited BY: अमित रायकवार] विशाखापट्टनम, 29 अक्टूबर 2016 |
http://aajtak.intoday.in

विशाखापट्टनम में खेले जा रहे पांचवें और आखिरी वनडे मुकाबले में भारत ने न्यूजीलैंड को 190 रनों से हराकर पांच वनडे मैचों की सीरीज पर कब्जा जमा लिया है. टीम इंडिया ने ये सीरीज 3-2 से जीती. इस शानदार जीत के हीरो रहे स्पिन गेंदबाज अमित मिश्रा उन्होंने पांच विकेट झटके. इसके अलावा अक्षर पटेल ने दो विकेट लिए. जबकि उमेश यादव, जसप्रीत बुमराह और जयंत यादव को एक-एक विकेट मिला.


अमित मिश्रा रहे जीत के हीरो
भारतीय टीम की इस शानदार जीत के हीरो रहे स्पिन गेंदबाज अमित मिश्रा. जिसके लिए उन्हें 'मैन ऑफ द मैच' चुना गया, साथ ही पूरी सीरीज में बेहतर गेंदबाजी के लिए 'मैच ऑफ द सीरीज' से भी नवाजा गया. मिश्रा ने इस सीरीज में सबसे ज्यादा 15 विकेट झटके. भारत ने न्यूजीलैंड के सामने जीत के लिए 50 ओवर में 270 रनों की चुनौती रखी थी. लेकिन कीवी टीम सिर्फ 79 रनों पर ऑल आउट हो गई.

न्यूजीलैंड को लगे झटके
इस अहम मुकाबले में न्यूजीलैंड की शुरुआत बेहद खराब रही. सलामी बल्लेबाज मार्टिन गप्टिल बिना खाता खोले ही आउट हो गए. उन्हें उमेश यादव ने पवेलियन भेजा. इसके कप्तान विलियम्सन और लाथम ने पारी को संभालने की कोशिश की. लेकिन लाथम भी (19) के निजि स्कोर पर चलते बने, उन्हें बुमराह ने आउट किया. इसके बाद विलियम्सन और टेलर ने मोर्चा संभाला लेकिन कुछ देर बाद कप्तान विलियम्सन (27) के स्कोर पर चलते बने. उन्हें अमित मिश्रा ने आउट किया. इसके बाद टेलर, (19) वाटलिंग (0) और एंडरसन (0) भी अपना विकेट दे बैठे. टीम इंडिया के युवा स्पिन गेंदबाज जयंत यादव ने अपना पहला अंतरराष्ट्रीय विकेट लिया. उन्होंने कोरी एंडरसन को आउट किया. न्यूजीलैंड के विकेट लगातार गिरते रहे और कीवी टीम मुकाबला हार गई.

रोहित शर्मा ने खेली 70 रनों की पारी
टीम इंडिया के सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा ने सबसे ज्यादा 70 रनों की पारी खेली. इसके अलावा कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (41) और विराट कोहली (65) रन बनाए. युवा बल्लेबाज केदार जाधव (39) और अपने करियर का पहला वनडे मैच खेल रहे जयंत यादव (1) रन बनाकर नॉआउट रहे. न्यूजीलैंड की तरफ से ट्रेंट बोल्ट और ईश सोढ़ी ने दो-दो विकेट लिए. इसके अलावा मिशेल सैंटनर और जैम्स नीशाम ने एक-एक विकेट लिया.

भारतीय टीम के विकेट
1.इससे पहले भारतीय टीम का पहला विकेट अजिंक्य रहाणे (20) का गिरा. उन्हें जैम्स नीशाम ने चलता किया. रहाणे शॉर्ट मिडविकेट के ऊपर से उठकर खेलना चाहते थे. लेकिन उन्हें लाथम ने कैच कर आउट किया.

2.रोहित शर्मा 21वें ओवर की आखिरी गेंद पर 70 के स्कोर पर आउट हुए. रोहित ने तेज गेंदबाज बोल्ट की बाउंसर गेंद पर पुल करने की कोशिश की लेकिन डीप मिडविकेट पर नीशाम ने उन्हें कैच आउट कर दिया.

3.टीम इंडिया के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी अच्छी बल्लेबाजी कर रहे थे. उन्होंने विराट कोहली के साथ मिलकर भारतीय पारी को संभाला. लेकिन वो 41 के स्कोर पर स्पिन गेंदबाज मिशेल सैंटनर को अपना विकेट दे बैठे.

4.धोनी के आउट होते ही युवा बल्लेबाज मनीश पांडे भी आउट हुए. पांडे एक बड़ा शॉट खेलने के प्रयास में अपना विकेट दे बैठे. वो बिना खाता खोले ईश सोढ़ी का शिकार बने. पांडे इस सीरीज में अपनी बल्लेबाजी का जलवा नहीं दिखा सके हैं.

5.भारतीय टीम को पांचवां झटका विराट कोहली के रूप में लगा. कोहली 70 रन बनाकर आउट हुए. उन्हें ईश सोढ़ी ने पवेलियन भेजा. मार्टिन गप्टिल ने उनका कैच लपका

6.अक्षर पटेल 24 के स्कोर पर आउट हुए. उन्होंने अपनी इस पारी में 18 गेंदों का सामना किया.

भारत ने जीता था टॉस
इस अहम मुकाबले में टीम इंडिया के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी एक बार फिर से टॉस का बॉस बने और पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया. भारतीय टीम ने प्लेइंग इलेवन में दो बदलाव किए. तेज गेंदबाज धवल कुलकर्णी और हार्दिक पांड्या को टीम में जगह नहीं दी गई.जबकि तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह को टीम में शामिल किया. इसके अलावा युवा ऑफ स्पिन गेंदबाज जयंत यादव का ये डेब्यू वनडे था. वहीं न्यूजीलैंड ने ऑलराउंडर कोरी एंडरसन को प्लेइंग इलेवन में शामिल किया.

पूरी टीम मां के नाम की जर्सी पहनकर उतरी
इस अहम मुकाबले में टीम इंडिया के सभी खिलाड़ी अपनी मां के नाम की जर्सी पहनकर मैदान पर उतरे. धोनी ने कहा कि वो हर बार अपने पिता के नाम की जर्सी पहनते हैं. लेकिन इस बार खिलाड़ी अपनी मां को याद कर मैदान पर खेलेंगे. ये सबके लिए बेहद ही भावुक लम्हा है. हाल ही में इसे लेकर एक विज्ञापन भी सामने आया है.

दोनों टीमों की प्लेइंग इलेवनः
भारत: रोहित शर्मा, अजिंक्य रहाणे, विराट कोहली, महेंद्र सिंह धोनी (कप्तान), मनीष पांडेय, केदार जाधव, अक्षर पटेल, जयंत यादव, अमित मिश्रा, उमेश यादव और जसप्रीत बुमराह.

न्यूजीलैंड: मार्टिन गुप्टिल, टॉम लाथम, केन विलियम्सन (कप्तान), रॉस टेलर, जेम्स नीशाम, कोरी एंडरसन, बीजे वाटलिंग, मिशेल सैंटनर, ट्रेंट बोल्ट, टिम साउदी और ईश सोढ़ी.

पाकिस्तानी जासूसों से,राजनैतिक दल और रक्षा संस्थानों को स्वंय भी सावधान रहना चाहिऐ


पाकिस्तानी जासूसों से , 
प्रत्येक राजनैतिक दल और रक्षा  संस्थानों को स्वंय भी सावधान रहना चाहिऐ !  
- अरविन्द सिसौदिया जिला महामंत्री भाजपा कोटा 



शोएब ने भाजपा कार्यकर्ता बन मंत्रियों के साथ फोटो खिंचवा फेसबुक पर डाले, 
पार्टी ने कहा-सक्रिय मेंबर नहीं


कार्यक्रमों में मंच तक पहुंचा, पर्रिकर और डॉ. हर्षवर्धन के नजदीक रहा
Bhaskar News Network | Oct 29, 2016
http://www.bhaskar.com/news
पाकिस्तान हाई कमीशन से चल रहे जासूसी नेटवर्क में पकड़ा गया शोएब अपना रुतबा दिखाने के लिए खुद को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चे का कार्यकर्ता बताकर बड़े नेताओं से मिलता और उनके साथ फोटो खिंचवा फेसबुक पर अपलोड करता था। वह जयपुर और दिल्ली जाकर भाजपा के कार्यक्रमों में बतौर कार्यकर्ता शामिल हुआ। साथ ही रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर और केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री डॉ. हर्षवर्धन सहित कई बड़े राष्ट्रीय नेताओं के साथ फोटो खिंचवाकर फेसबुक पर अपलोड किए हैं। नई दिल्ली में 9 अगस्त 2014 को हुए भाजपा राष्ट्रीय परिषद के कार्यक्रम में शामिल होकर मंत्रियों के नजदीक जाकर फोटो खिंचवाए, फिर इन्हें फेसबुक पर डाल दिया ताकि लोग उसे भाजपा कार्यकर्ता ही समझें और नेताओं से नजदीकियाें का फायदा मिल जाए। गौरतलब है कि जोधपुर के खांडा फलसा में रहने वाले 25 वर्षीय शोएब को दिल्ली से जोधपुर आते समय मेड़ता रोड स्टेशन पर सीआईडी ने पकड़ लिया था। शोएब जोधपुर में विधायक सूर्यकांता व्यास के साथ भी बातचीत करते कई कार्यक्रमों में देखा गया। फेसबुक पर उसने सांसद हेमा मालिनी, राज्य के परिवहन मंत्री युनूस खां के साथ खिंचवाए फोटो भी डाल रखे हैं। 

शोएब के पिता मोहम्मद हुसैन का कहना है कि उनका परिवार 25 सालों से पाकिस्तान का वीजा बनाने में दलाली का काम कर रहा है, तीन पीढ़ियों से यही काम कर रहे हैं लेकिन कभी शिकायत नहीं आई। मेरा बेटा भी निर्दोष है। मो. हुसैन ने कहा कि उन्हें कानून पर भरोसा है इसलिए पुलिस उसे खुद वापस घर लेकर आएगी। चढ़वों की गली के पास जटियों के बास में रहने वाले मोहम्मद हुसैन ने बताया कि चार साल पहले नागौर निवासी मौलाना रमजान उनसे मिला था। उसने बताया कि वह भी वीजा बनाता है और कम कमीशन में हमारे लिए भी आसानी से वीजा बनवा देगा। इस पर चार लोगों के वीजा बनाने भी दिए, लेकिन उसने तीन के पैसे हड़प लिए और काम भी नहीं किया। फिर लोगों से पता चला कि वह पाकिस्तान में कुछ गलत गतिविधियों में शामिल हैं तो उससे बात करनी ही बंद कर दी। 

2014 में नई दिल्ली में हुए भाजपा राष्ट्रीय परिषद के कार्यक्रम के शोएब ने ऐसे फोटो फेसबुक पर डाले हैं। 


भारतीय जनता पार्टी के जिलाध्यक्ष देवेंद्र जोशी महामंत्री मुकेश लोढ़ा ने संयुक्त रूप से वक्तव्य जारी कर बताया कि जासूसी में पकड़े गए शोएब हुसैन का कभी भी पार्टी से कोई संबंध नहीं रहा और ही वह कभी पार्टी का सक्रिय सदस्य रहा। उन्होंने कहा कि पार्टी राष्ट्र विरोधी गतिविधियों में लिप्त लोगों को कड़ी से कड़ी सजा देने की पक्षधर है। पार्टी ने शोएब हुसैन को राष्ट्र विरोधी गतिविधि में लिप्त और राष्ट्र के प्रति गद्दारी करने के फलस्वरूप कड़ी सजा देने की मांग की है। 
-------------------

पाक हाईकमीशन से कर्मचारी चला रहा था जासूसी का नेटवर्क, 48 घंटे में देश छोड़ने को कहा, जोधपुर-नागौर के 3 जासूस भी गिरफ्तार
Bhaskar News Network | Oct 28, 2016



महमूद के साथ पकड़े गए मौलाना रमजान (बाएं) और सुभाष जांगिड़। 
दोनों बीएसएफ से जुड़ी जानकारी महमूद को दिया करते थे। 

भास्कर न्यूज| नई दिल्ली/जयपुर/जोधपुर/नागौर 
http://www.bhaskar.com
दिल्लीपुलिस की क्राइम ब्रांच ने गुरुवार को दिल्ली स्थित पाकिस्तानी हाई कमीशन से चल रहे जासूसी के नेटवर्क का खुलासा किया। इस नेटवर्क में हाई कमीशन में नौकरी कर रहे पाक खुफिया एजेंसी आईएसआई के कारिंदे महमूद अख्तर के अलावा नागौर के दो जासूस मौलाना रहमान सुभाष जांगिड़ तथा जोधपुर का शोएब भी पकड़ा गया। चौंकाने वाली बात यह है कि जासूस सुभाष ने नागौर के खींवसर विधानसभा क्षेत्र से पिछला चुनाव लड़ा था। विधायक हनुमान बेनीवाल के खिलाफ उसने निर्दलीय के तौर पर 1939 वोट हासिल किए थे। उसकी जमानत जब्त हो गई थी। इस बात की पुष्टि खुद विधायक बेनीवाल ने की। उधर, हाई कमीशन में नौकरी के बहाने महमूद अख्तर खुफिया सूचनाएं जुटाकर पाक को भेजता था। राजनयिक सुरक्षा के चलते महमूद को पूछताछ के बाद छोड़ना पड़ा। उसे 48 घंटे में देश छोड़ने को कहा गया है। 

खुलासेके फौरन बाद विदेश सचिव एस जयशंकर ने पाक हाई कमिश्नर अब्दुल बासित को तलब कर महमूद अख्तर को अवांछित व्यक्ति घोषित कर दिया। हालांकि, बासित ने अपने कर्मचारी को हिरासत में रखने को जेनेवा समझौते का उल्लंघन बताया। साथ ही जासूसी के आरोपों को भी गलत ठहराया। नागौर और जोधपुर के जासूसों से सरहदी इलाकों के संवेदनशील दस्तावेज और बीएसएफ के मूवमेंट से जुड़े कागजात मिले हैं। 

महमूद हाई कमीशन में ढाई साल से तैनात था। रावलपिंडी निवासी है बलूच रेजीमेंट का हवलदार है। जनवरी 2013 से आईएसआई में डेपुटेशन पर है। महमूद पैसे का लालच देकर लोगों को काम में लगाता था। जांच में हनी ट्रैप का एंगल भी जुड़ रहा है। 
----------------------


देश का गद्दार है ये शख्स, 
भारत में ऐसी लग्जरी लाइफ जीता था पाकिस्तानी जासूस
SUNIL CHOUDHARY | Oct 29, 2016



जोधपुर। दिल्ली स्थित पाकिस्तान के दूतावास से संचालित हो रहे जासूसी नेटवर्क की अहम कड़ी माने जा रहे जोधपुर के शोएब हुसैन से पुलिस को कई अहम जानकारी मिली है। शोएब लग्जरी लाइफ जिंदगी जीने का शौकीन था। वह हर चार महीने में नई बाइक खरीदता था। उसने लाखों रुपए खर्च कर अपने घर का रिनोवेशव कराया था। 

छह बार जा चुका है पाकिस्तान...
- लोगों के पासपोर्ट बनवा कर उन्हें पाकिस्तान जाने का वीजा दिलाने में मदद करने वाला शोएब सीधे पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई के संपर्क में था।
- ननिहाल जाने के नाम पर शोएब छह बार पाकिस्तान का दौरा कर चुका था। जोधपुर में पुलिस ने आज सुबह उसके परिजनों से लंबी पूछताछ की।
- जासूसी के आरोप में पकड़े गए शोएब की मां जीनत बानो पाकिस्तान मूल की है। ऐसे में अपने ननिहाल जाने के नाम पर शोएब छह बार पाकिस्तान घूम आया।
पाकिस्तान में मिलता था इनसे...
- खुफिया एजेंसियों का कहना है कि शोएब पाकिस्तान यात्रा के दौरान सीधे आईएसआई के आकाओं से मुलाकात कर चुका था।
- शोएब ने पश्चिमी सीमा पर सेना व बीएसएफ के प्रत्येक मूवमेंट की जानकारी पाकिस्तान तक पहुंचाई थी। शोएब का मुख्य कार्य नए लोगों को इस काम के लिए जोड़ने का रहा।
- शोएब पाकिस्तान दूतावास के अधिकारी महमूद अख्तर से मिलने के लिए दिल्ली गया हुआ था, लेकिन उसके गिरफ्तार होने की सूचना मिलते ही अपने ससुराल पहुंच गया। 
- अगले दिन वापस जोधपुर आने के दौरान खुफिया एजेंसियों ने उसे मेड़ता रोड रेलवे स्टेशन पर दबोच लिया। उस समय उसके पास कई महत्वपूर्ण दस्तावेज बरामद किए गए।
- ऐसा माना जा रहा है कि ये दस्तावेज वह पाकिस्तानी दूतावास के अधिकारी को सौंपने के लिए ही दिल्ली गया था।

हाई प्रोफाइल लाइफ का शौकीन रहा शोएब
- शोएब के पड़ोसियों का कहना है कि शोएब हाई प्रोफाइल लाइफ का शौकीन रहा है। हमेशा वह ब्रांडेड कपड़े व जूते पहने रहता।
- साथ ही नई-नई मोटर साइकिल का शौकीन रहा शोएब दो-चार माह में अपनी बाइक को बदल देता।
- कलेक्ट्रेट में शोएब सीआईडी कार्यालय के बगल में टेबल-कुर्सी लगाकर पासपोर्ट एजेंट का काम करता था।
- पाकिस्तानी दूतावास में अपने संपर्कों के कारण उसे वीजा शीघ्रता से दिलाने में मास्टरी थी। इस कारण वह काफी प्रसिद्ध हो गया।
- शाम होते ही उसके घर के बाहर पासपोर्ट या वीजा हासिल करने वालों की कतार लगी रहती थी।
- पांच फीट चौड़ी तंग गली में रहने वाले शोएब ने हाल ही अपने मकान में लाखों रुपए लगवा कर रिनोवेशन करवाया।
- मकान के ऊपर सीसीटीवी लगाने को लेकर उसका पड़ोसियों के साथ विवाद भी हुआ। इस मामले में उसके परिवार के खिलाफ मामला भी दर्ज हुआ।

गली में पसरा सन्नाटा
- हमेशा लोगों की चहल-पहल से गुलजार रहने वाली शोएब के मकान की तंग गली में अब सन्नाटा पसरा है।
- उसके पड़ोसी भी उसके बारे में कुछ भी बोलने से कन्नी काट रहे है। बड़ी मुश्किल से एक व्यक्ति कुछ बोलने को तैयार हुआ।
- उसका कहना है कि शोएब की बदलती लाइफ स्टाइल को देख साफ लग रहा था कि घर में पैसों की आवक बढ़ रही है।
- यह आवक कैसे बढ़ी इसका अंदाजा हमें पहले नहीं लगा, लेकिन अब स्थिति स्पष्ट हो गई।
पिता ने बताया निर्दोष
- शोएब के पिता मोहम्मद हुसैन ने पहले बातचीत से साफ इनकार कर दिया, लेकिन बड़ी मुश्किल से वे कुछ बोलने को तैयार हुए।
- उन्होंने इतना ही कहा कि हमारा परिवार बरसों से पासपोर्ट के काम में जुटा है, लेकिन कभी ऐसे काम नहीं किए।
- उन्होंने सारा दोष इस मामले में गिरफ्तार नागौर के मौलाना रमजान पर मढ़ दिया। उनका कहना है कि उन्हें शुरू से ही उस व्यक्ति पर शक रहा।

- हुसैन ने बताया कि दिल्ली में रमजान की गिरफ्तारी के बाद शोएब ने उनसे पूछा भी था कि क्या वह भी सरेंडर कर दे, लेकिन उन्हें उस समय तक मामले की जानकारी नहीं थी। ऐसे में उन्होंने शोएब को पहले जोधपुर लौटने को कहा।
--------------

आइएसआइ के लिए जासूसी में सपा सांसद का पीए गिरफ्तार
Publish Date:Sat, 29 Oct 2016
जागरण संवाददाता, नई दिल्ली :
http://www.jagran.com
पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आइएसआइ के लिए जासूसी करने के आरोप में दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने समाजवादी पार्टी के राज्यसभा सदस्य मुनव्वर सलीम के निजी सचिव (पीए) फरहत खान को भी गिरफ्तार किया है। मूलरूप से मुजफ्फरनगर के कैराना का रहने वाला फरहत खान पिछले एक साल से मुनव्वर सलीम के निजी सचिव के पद पर तैनात था। सपा सांसद के सचिव होने का फायदा उठाकर वह संसद भवन से गोपनीय दस्तावेज की फोटो स्टेट कराता था और फिर उन्हें आइएसआइ एजेंटों को सौंप देता था। शनिवार को पुलिस ने उसे साकेत कोर्ट में पेश किया, जहां से कोर्ट ने 8 नवंबर तक के लिए पुलिस हिरासत में भेज दिया।

संयुक्त आयुक्त रविंद्र यादव के मुताबिक पिछले दिनों क्राइम ब्रांच ने जासूसी मामले में चिड़ियाघर के पास पाक उच्चायोग के वीजा अफसर महमूद अख्तर, मौलाना रमजान व सुभाष जांगिड़ को गिरफ्तार कर पूछताछ की तो महमूद अख्तर ने बताया था कि उसे फरहत खान भी सेना, बीएसएफ एवं पैरामिलिट्री से जुड़े गोपनीय दस्तावेज और जानकारियां देता है। छानबीन के बाद क्राइम ब्रांच ने फरहत को शनिवार को पूछताछ के लिए चाणक्यपुरी स्थित क्राइम ब्रांच के इंटर स्टेट सेल में बुलाया और फिर गिरफ्तार कर लिया। क्राइम ब्रांच के अनुसार फरहत खान भले ही मुनव्वर सलीम का पीए एक साल पहले बना था लेकिन वह महमूद से पिछले पांच साल से संपर्क में था। पुलिस को अंदेशा है कि सांसद की करीबी का फायदा उठाकर वह संसद भवन से सेना से जुड़े गोपनीय दस्तावेज व जानकारी महमूद अख्तर को देता था। फरहत ऐसा काम क्यों कर रहा था और कब से कर रहा था। वह कौन कौन सी गोपनीय दस्तावेज व जानकारी अख्तर को मुहैया करा चुका है। इस संबंध में क्राइम ब्रांच उससे पूछताछ करेगी। गोपनीय दस्तावेज मुहैया कराने के एवज में उसे कितना पैसा मिलता था इस संबंध में भी पूछताछ की जाएगी। कहा जा रहा है कि वह उत्तर प्रदेश में समाजवादी अल्पसंख्यक मोर्चा का सदस्य भी है।

आरोपियों से पूछताछ जारी

क्राइम ब्रांच मौलाना रमजान, सुभाष जांगिड़ और शोएब से लगातार पूछताछ कर रही है। आरोपियों ने बताया कि वे 25 अक्टूबर को दिल्ली आए थे और तीन अलग-अलग जगहों पर रुके थे। इस दौरान उन्होंने पाक उच्चायोग में तैनात वीजा अफसर महमूद अख्तर से वाट्सएप पर बातें कीं। 26 अक्टूबर की सुबह सुभाष व मौलाना रमजान जब पाक उच्चायोग में तैनात वीजा अफसर महमूद अख्तर से मिलने चिड़ियाघर गए तभी तीनों को दबोच लिया गया।

मुनव्वर सलीम बोले

फरहत को ठीक तरीके से जांचने परखने के बाद साल भर पहले पीए बनाया था। उसके द्वारा आइएसआइ के लिए जासूसी करने के बारे में कोई जानकारी नहीं है। अगर वह जासूसी कर रहा था तो यह बहुत चिंताजनक बात है।

मुनव्वर सलीम, सपा राज्यसभा सदस्य

------------------

1998 से आइएसआइ के संपर्क में है फरहत खान


पुलिस सूत्रों के मुताबिक फरहत खान 1998 से पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आइएसआइ के संपर्क में है। उसने जल, रक्षा, गृह और पेट्रोलियम मंत्रालय से जुड़े बेहद अहम और गोपनीय दस्तावेजों को लीक कर आइएसआइ को सौंपे है। शुरू में हर मीटिग के लिए अख्तर उसे पाच हजार रुपये देता था। वर्तमान में उसे 25 से 30 हजार रुपये तक मिलते थे। इसके अलावा गोपनीय दस्तावेज पाक अधिकारियों को मुहैया करवाने के बदले उसे अलग से मोटी रकम मिलती थी। महीने में एक मीटिग उसकी पाक अधिकारियों के साथ जरूर होती थी। मुनव्वर सलीम का पीए रहने से पूर्व फरहत खान करीब चार अन्य सासदों व मंत्रियों का भी पीए रह चुका है। फरहत ने कबूला है कि महमूद अख्तर से अलावा भी कई आइएसआइ एजेंटों से उसकी जान पहचान रही है। भारत छोड़कर जाते समय पुराने एजेंट नए आइएसआइ एजेंट से उसकी मुलाकात करा देते थे। जिससे उसे कोई दिक्कत नहीं होती थी। पुलिस ने फरहत का मोबाइल फोन कब्जे में ले लिया है। उसकी सीडीआर निकलवाई जा रही है, वहीं उसका लैपटॉप भी कब्जे में लेने का प्रयास किया जा रहा है।




Kiran Maheshwari Ji : Cabinet Minister ( PHED), Government of Rajasthan







आदरणीया श्रीमती किरण महेश्वरी जी , पीएचईडी मंत्री राजस्थान सरकार को जन्मदिवस की हार्दिक शुभकामनायें एवं बधाई।  

जन्मदिवस पर शुभकामना, रहिये सदा प्रसन्न।
यश, कीर्ति, सफलता मिले,स्वस्थ शतायु हो जीवन।
- अरविन्द सिसोदिया, जिला महामंत्री भाजपा कोटा


आपको
मान मिले सम्मान मिले,खुशियों का वरदान मिले.
क़दम-क़दम पर मिले सफलता,डगर-डगर उत्थान मिले.
सूरज रोज संवारे दिन को,चाँद मधुर सपने ले आये,
हर पल समय दुलारे आपको,सदियों तक पहचान मिले..!


Sammaniya Kiran Maheshwari Ji
Cabinet Minister ( PHED), Government of Rajasthan
1987-90 Durga-Vahini Pramukh
1992-95 Membar, Social Welfare Board ( rajasthan)
1999-2006 Director, Udaipur Mahila Samriddh Bank Ltd.
2001-2003 Member, FCI ( consultant Committee)
2001-2004 Director, National Women Fund
2002-2013 Various Posts of International Vaishya Fedration
1990-92 Gen. Secretary, BJP Mahila Morcha ( Udaipur)
1993-94 Distt. President, Mahila Morcha ( Udaipur-Dehat)
1994-99 Speaker, Udaipur Municipal Corporation
2002-2004 Divisional President, Mahila Morcha ( BJP-Rajasthan)
2002-03 Member, National Executive ( BJP)
2004-2008 Member Of Parliament ( Udaipur)
2004-2007 General Secretary, BJP
2007- National President, BJP Mahila Morcha
2008- MLA ( Rajsamand)
2010- National Secretary, BJP
2011- National General Secretary, BJP
2013-14 National Vice President, BJP

2014 Onwards- Cabinet Minister ( PHED), Government of Rajasthan

शुक्रवार, 28 अक्तूबर 2016

चीन बॉर्डर पर जवानों के साथ दिवाली मनाएंगे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी


चीन बॉर्डर पर ITBP जवानों के साथ दिवाली मनाएंगे पीएम मोदी
भगवान बद्रीनाथ के दर्शन करेंगे


Narendra Modi ✔ @narendramodi
This Diwali, let us remember our courageous armed forces who constantly protect our Nation. Jai Hind.
6:53 PM - 22 Oct 2016



http://www.punjabkesari.in

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस बार दिवाली भारत चीन बॉर्डर पर तैनात आइटीबीपी के जवानों के साथ मनाएंगे। प्रधानमंत्री शनिवार को उत्तराखंड के चमोली जिले में सीमावर्ती गांव में जवानों के साथ दिवाली मनाएंगे।

प्रधानमंत्री 29 अक्टूबर को सुबह दिल्ली से वायुसेना के खास विमान से और एमआई 17 हेलीकॉप्टर से गौचर पहुंचेंग। पीएम के साथ एनएसए अजित डोभाल भी होंगे। पीएम मोदी सबसे पहले सुबह भगवान बद्रीनाथ के दर्शन करेंगे। विशेष पूजा अर्चना के बाद पीएम बद्रीनाथ से आगे माणा में मौजूद आईटीबीपी और सेना के जवानों के साथ दिवाली मनाएंगे। पीएम मोदी सरहद पर जवानों के साथ चाय नाश्ता भी करेंगें। गौरतलब है कि प्रधानमंत्री मोदी अपनी पिछली दो दिवाली भी सरहद पर जवानों के साथ मना चुके हैं।

-------------

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस बार भी दिवाली जवानों के साथ मनाने वाले हैं. भारत तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) के जवानों के साथ दिवाली मनाने के पीएम कल सुबह दिल्ली से भारत-चीन बॉर्डर के लिए रवाना हो जाएंगे. एनएसए अजीत डोभाल भी मोदी के साथ रहेंगे.

मोदी माणा गांव का दौरा भी करेंगे, साथ ही साथ बद्रीनाथ के दर्शन भी करेंगे. इससे पहले भी मोदी ने प्रधानमंत्री बनने के बाद से पिछली दो दिवाली भी सरहद पर जवानों के साथ ही मनाई है. बता दें कि मोदी ने दिवाली पर सेना के लिए संदेश भेजने की अपील भी की थी, जिसके बाद आम लोगों से लेकर सिनेमा जगत के सितारों ने भी जवानों को शुभकामनाएं भेजी है.



चीनी सामानों के बहिष्कार से : चीन बौखलाया



चीनी सामानों के बहिष्कार पर चीन ने दी नसीहत
Posted on: October 28, 2016
http://khabar.ibnlive.com

नई दिल्ली। दीवाली पर चीनी सामान के बहिष्कार के लिए कुछ हलकों से किए जा रहे आह्वान के बीच चीन ने कहा है कि इससे चीन की इकाइयों का भारत में निवेश और दोनों देशों के बीच आपसी सहयोग प्रभावित हो सकता है। नई दिल्ली में चीन के दूतावास की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि इस तरह के किसी बहिष्कार का उसके देश के निर्यात पर कोई खास असर नहीं पड़ेगा, उल्टा इसका सबसे ज्यादा नुकसान भारत के व्यापारियों और ग्राहकों का होगा क्योंकि उनके पास कोई समुचित विकल्प नहीं है।

चीन ने कहा है कि वह दुनिया का सबसे बड़ा व्यापारिक देश है और 2015 में उसका निर्यात 2276.5 अरब डॉलर के बराबर था और भारत को किया गया निर्यात इसका मात्र दो प्रतिशत था। गौरतलब है कि भारत सरकार की ओर से आधिकारिक तौर पर ऐसे किसी बहिष्कार की बात नहीं है।

लेकिन खुदरा व्यापारियों के संगठन कैट (कॉन्फिडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स) ने हाल में कहा था कि दीवाली पर चीनी वस्तुओं के आयात में इस साल 30 प्रतिशत तक गिरावट आ सकती है। भारत-पाकिस्तान के बीच मौजूदा तनाव और इसमें चीन के पाकिस्तान की तरफ झुकाव के बीच भारत में विभिन्न हलकों से चीनी सामान के बहिष्कार की बात उठी है। चीन अपनी सस्ती वस्तुओं के साथ विश्व बाजार में बड़ा स्थान बना चुका है।
------------

भारत में चीनी सामानों के बहिष्कार से बौखलाया चीन!

By: एबीपी न्यूज़ |  Friday, 28 October 2016
http://abpnews.abplive.in

नई दिल्ली: आज धनतेरस का त्यौहार है और दीवाली को अब सिर्फ 2 ही दिन बचे हैं. अमूमन इस दौरान हर साल बाजार में रौनक छाई रहती है. लेकिन इस बार हालात कुछ अलग हैं, पाकिस्तान की ओर से लगातार हो रही आतंकवादी गतिविधियों पर चीन का पाकिस्तान को इस तरह खुला समर्थन भारत में चीनी सामानों पर भारी पड़ रहा है.

उरी हमले के बाद चीन ने मसूद अजहर जैसे आतंकवादियों का खुलकर समर्थन किया था, जिसके बाद से ही देश भर में लोग चीनी सामानों का बहिष्कार कर रहे हैं. यह शायद पहली बार है जब भारत में चीनी बाजार ठंडा पड़ा हुआ है. लोग चीनी सामान खरीदने से बच रहे हैं.

भारत में चीनी सामान के बहिष्कार के बाद चीन इतने गुस्से में आ गया है कि उसने भारत को धमकी तक दे डाली है. चीनी दूतावास ने बयान जारी करते हुए कहा, ‘चीन दुनिया का सबसे बड़ा निर्यातक देश है. भारत में कुल निर्यात का 2 फीसद हिस्सा ही जाता है. इसलिए भारतीय बहिष्कार का अधिक असर नहीं होगा. चीन केवल इस बात को लेकर चिंतित है कि इससे चीनी इकाइयों की ओर से भारत में होने वाले निवेश पर बुरा असर पड़ेगा. साथ ही दोनों देशों के रिश्ते भी प्रभावित होंगे.’

गौरतलब है कि पिछले 1 महीने से पूरे देश में चीन के सामान का बहिष्कार करने की मुहिम छिड़ी हुई है, लोग सोशल मीडिया से लेकर सड़क तक पर प्रदर्शन कर रहे हैं और साथ ही बाकी लोगों से भी चीनी सामान का इस्तेमाल न करने की अपील कर रहे हैं. दूसरी तरफ इस विरोध से उन कुम्हारों को फायदा हो रहा है जिनकी रोजी-रोटी चीनी सामानों के चलते छिन गई थी.

महाराष्ट्र के जलगांव में व्यापारियों ने चीनी सामान की बिक्री नहीं करने का फैसला किया है. यहां दीवाली के मौके पर चीनी सामान का कारोबार लगभग 70 करोड रुपए का होता रहा है, लेकिन नुकसान की परवाह न करते हुए लोगों ने इस बार त्योहारों पर लोगों ने चीनी सामानों का बहिष्कार करने का फैसला किया है.
--------------------



एक के बदले दागे 10 मोर्टार दागे : बीएसएफ



हमारा पड़ोसी प्रॉक्सी वॉर लड़ रहा है,
असली वीर वे होते हैं जो सीने का बटन खोलकर आंख में आंख डालकर लड़ते हैं: राजनाथ
dainikbhaskar.com | Oct 28, 2016
http://www.bhaskar.com
नोएडा.राजनाथ सिंह ने कहा है, 'पाकिस्तान प्रॉक्सी वॉर छेड़े हुए है। असली वीर वो होते हैं जो सीने का बटन खोलकर आंख में आंख डालकर लड़ते हैं।' राजनाथ नोएडा में इंडो-तिब्‍बत बॉर्डर पुलिस (आईटीबीपी) की रेजिंग डे परेड के प्रोग्राम में शामिल हुए थे। बता दें कि गुरुवार शाम से रातभर एलओसी पर पाकिस्तान की तरफ से काफी गोलाबारी की गई। सर्जिकल स्ट्राइक के बाद पाक 57 बार सीजफायर वॉयलेशन कर चुका है। आईटीबीपी के होते हुए दुनिया का कोई भी देश अटैक करने का नहीं सोच सकता...
- राजनाथ सिंह ने आगे कहा, 'हमारा पड़ोसी देश आतंकवाद का सहारा ले रहा है, प्रॉक्‍सी वॉर कर रहा है।'
- उन्होंने कहा, 'आईटीबीपी के होते हुए कोई देश हमारे देश पर अटैक करने के बारे में सोच भी नहीं सकता।'
- 'लेकिन असली वीर वो नहीं होते, जो प्रॉक्‍सी वॉर करते हैं। असली वीर वो हैं, जो सीने का बटन खोलकर आंख में आंख डालकर लड़ते हैं।'
- 'आईटीबीपी की वजह से सीमा उल्‍लंघन में 7% की कमी आई है।'
राजनाथ बोले थे- करारा जवाब दो
- 27 अक्टूबर की रात एलओसी पर पाक की तरफ से जमकर गोलीबारी हुई। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, राजनाथ ने बीएसएफ के डीजी से बात की थी और पाक को करारा जवाब देने को कहा था।
- शुक्रवार सुबह डिफेंस पीआरओ मनीष मेहता ने कहा, 'गुरुवार रात से शुक्रवार सुबह तक की तरफ से भारी हथियारों से गोलीबारी हुई। हमने भी उन्हें करारा जवाब दिया। हमारी तरफ से किसी जान-माल का नुकसान नहीं हुआ। शुक्रवार सुबह पाक की तरफ से फिर सीजफायर वॉयलेशन किया गया।'
किन चौकियों को बनाया निशाना
- LoC की तंगधार, मेंढर, आरएस पुरा, अरनिया, अखनूर और सांबा में भारतीय चौकियों को बनाया निशाना बनाकर गोलीबारी की।
BSF को ऑर्डर, एक मोर्टार के बदले दागे 10 मोर्टार
- मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, बीएसएफ से कहा गया है कि पाकिस्तान से हो रही फायरिंग का 10 गुना ताकत से जवाब दिया जाए। पाक की तरफ से एक मोर्टार आने पर बदले में 10 मोर्टार दागे जाएं।
- एलओसी पार पाकिस्तान के कब्जे वाले गांवों में कई एम्बुलेंस देखी गई। बीएसएफ की जवाबी कार्रवाई में कई मकानों में आग लगने की खबर।

मसूद अजहर आतंकी : पूर्व राष्ट्रपति जनरल मुशर्रफ



पाकिस्तान सरकार भले ही जैश-ए-मोहम्मद के मुखिया मसूद अजहर को आतंकी मानने में हिचकिचा रही हो, लेकिन उसके पूर्व राष्ट्रपति परवेश मुशर्रफ इस सच्चाई को स्वीकार करते हैं।

पूर्व राष्ट्रपति जनरल मुशर्रफ ने उगला सच, बोले- मसूद अजहर आतंकी है
Publish Date:Fri, 28 Oct 2016

नई दिल्ली, प्रेट्र : पाकिस्तान सरकार भले ही जैश-ए-मोहम्मद के मुखिया मसूद अजहर को आतंकी मानने में हिचकिचा रही हो, लेकिन उसके पूर्व राष्ट्रपति परवेश मुशर्रफ इस सच्चाई को स्वीकार करते हैं। उनकी नजर में मसूद अजहर एक आतंकवादी है और पाकिस्तान में होने वाले बम धमाकों के लिए जिम्मेदार है।

हालांकि गुरुवार को एक समाचार चैनल से बातचीत के दौरान उन्होंने यह स्पष्ट नहीं किया कि पाकिस्तान आखिरकार चीन से मसूद अजहर को अंतरराष्ट्रीय आतंकी घोषित करने के लिए क्यों नहीं कह रहा है? चीन ने हाल ही में संयुक्त राष्ट्र में उस प्रस्ताव का विरोध किया था, जिसमें भारत ने मसूद अजहर को अंतरराष्ट्रीय आतंकी घोषित करने की मांग की है।

मुशर्रफ ने कहा, 'इसमें चीन को क्यों शामिल होना चाहिए, जबकि इसका उससे कोई लेना-देना नहीं है।'

वैश्विक मंच पर पाकिस्तान के अलग-थलग पड़ने के लिए मुशर्रफ ने नवाज शरीफ को जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने कहा, पाकिस्तान एक मजबूत देश है। उसे भारत की तरह देखा जाना चाहिए। भारत को 'बड़े भाई' की तरह बर्ताव करने से बचना चाहिए।

पाकिस्तान के लिए निर्वाचित सरकार और सेना के विकल्प पूछने पर मुशर्रफ ने सैन्य शासन का समर्थन किया। उन्होंने कहा, सेना के शासनकाल में पाकिस्तान की अधिक तरक्की हुई। नई दिल्ली में पाकिस्तानी जासूस की गिरफ्तारी पर वह बोले, 'मुझे इस बारे में विशेष जानकारी नहीं है, लेकिन अगर ऐसा है तो इसे बढ़ावा नहीं दिया जाना चाहिए।'

गुलाम कश्मीर में आतंकी शिविरों के बारे उन्होंने अनभिज्ञता जाहिर की। कहा, 'मुझे नहीं पता।' फिर कुटिल मुस्कान के साथ कहा, 'जब मैं इनकी गिनती कर लूंगा, तब सही जवाब दे पाऊंगा।'

बलूचिस्तान, सिंध और गुलाम कश्मीर में चल रहे विरोध प्रदर्शन के बारे में पूछने पर उन्होंने कश्मीर और बुरहान वानी का जिक्र कर मुद्दे को भटकाने की कोशिश की।

धनतेरस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दी देशवासियों को शुभकामनाएं





धनतेरस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दी देशवासियों को शुभकामनाएं
Publish Date:Fri, 28 Oct 2016

नई दिल्ली, एएनआई।
दीपोत्सव का पंच पर्व आज से धनतेरस के साथ शुरू हो गया है। इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशवासियों को धनतरेस की शुभकामनाएं दी हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने ट्विटर के माध्यम से शुभकामना संदेश दिया है।
Narendra Modi ✔ @narendramodi
धनतेरस के पावन अवसर पर सभी देशवासियों को शुभकामनाएं। 
Greetings on the auspicious occasion of Dhanteras.

गुरुवार, 27 अक्तूबर 2016

US President Barack Obama : Diwali celebrations in Mumbai, India in 2010








US President Barack Obama dancing with school students during Diwali celebrations in Mumbai, India in 2010

http://www.dailymail.co.uk/femail/article-2487180/Samantha-Cameron-glitters-spectacular-autumnal-sari-celebrates-Diwali-visit-Hindu-temple.html


The President of United States of America, Mr. Barack Obama and the First Lady Mrs. Michelle Obama celebrated Diwali festival, during their visit in Mumbai


ओबामा दंपती के प्रशंसक हुए स्कूली बच्चे
भाषा
मुंबई, 7 नवम्बर 2010
http://aajtak.intoday.in
भारत आये अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा और उनकी पत्नी मिशेल ओबामा ने रविवार को अपनी यात्रा को तब अनौपचारिक रंग दे दिया जब वे दोनों शहर के एक स्कूल के दिवाली के उत्सव में शरीक हुए और वहां उन्होंने अपनी गर्मजोशी और सहज बर्ताव से कई विद्यार्थियों को अपना प्रशंसक बना लिया.

दीप प्रज्ज्वलन करने, पारंपरिक मराठी लोकनृत्य ‘कोली’ पर थिरकने और पर्यावरण तथा भूमंडलीय तापमान में वृद्धि के विषय पर लगायी गयी प्रदर्शन को ध्यानपूर्वक देखने वाले ओबामा और मिशेल ने दक्षिण मुंबई के होली नेम स्कूल के बच्चों को प्रभावित कर दिया. दंपती ने बच्चों से मुक्त तरीके से बातचीत की, उन्हें ऑटोग्राफ दिये और विद्यार्थियों तथा उनके अभिभावकों के साथ तस्वीरें भी खिंचवाईं.

ओबामा और मिशेल से मिलने के बाद उत्साहित एक छात्र ने कहा कि यह हमारे तथा हमारे स्कूल के लिये स्वर्णिम मौका था.
नृत्य प्रस्तुति में भाग लेने वाले एक अन्य छात्र ने कहा कि हमें तैयारियों के लिये काफी कम वक्त मिला था. हमारी छहमाही परीक्षा 30 अक्तूबर को खत्म हुई और उसके बाद हमने दीपावली की छुट्टियां मनाने के बजाय ओबामा दंपती के स्वागत की तैयारियां शुरू कीं लेकिन हम इससे खुश हैं.

संसार के अन्य हिस्सों में दीपावली : DIWALI FESTIVAL




संसार के अन्य हिस्सों में दीपावली 

दीपावली को विशेष रूप से हिंदू, जैन और सिख समुदाय के साथ विशेष रूप से दुनिया भर में मनाया जाता है। ये, श्रीलंका, पाकिस्तान, म्यांमार, थाईलैंड, मलेशिया, सिंगापुर, इंडोनेशिया, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, फिजी, मॉरीशस, केन्या, तंजानिया, दक्षिण अफ्रीका, गुयाना, सूरीनाम, त्रिनिदाद और टोबैगो, नीदरलैंड, कनाडा, ब्रिटेन शामिल संयुक्त अरब अमीरात, और संयुक्त राज्य अमेरिका। भारतीय संस्कृति की समझ और भारतीय मूल के लोगों के वैश्विक प्रवास के कारण दीवाली मानाने वाले देशों की संख्या धीरे-धीरे बढ़ रही है। कुछ देशों में यह भारतीय प्रवासियों द्वारा मुख्य रूप से मनाया जाता है, अन्य दूसरे स्थानों में यह सामान्य स्थानीय संस्कृति का हिस्सा बनता जा रहा है। इन देशों में अधिकांशतः दीवाली को कुछ मामूली बदलाव के साथ इस लेख में वर्णित रूप में उसी तर्ज पर मनाया जाता है पर कुछ महत्वपूर्ण विविधताएँ उल्लेख के लायक हैं।




व्हाइट हाउस में दीपावली पर्व मनाया गया


प्रवासी टुडे, नवम्बर 2009
रमेश कुमार शर्मा

नोबेल शांति विद्वान अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने व्हाइट हाउस में दीपावली पर्व मनाकर एक सार्थक पहल की है। उन्होंने शुभकामना संदेश में कहा कि दीपावली बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है।

असतो मा सद्गमय, तमसो मा ज्योतिर्गमय,
मृत्योर्मा अमृतंगमय, शांतिः शांतिः शांतिः।
इस मंत्रोच्चारण के बीच अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने दीपावली पर्व के अवसर पर दीप प्रज्ज्वलन कर अमेरिकी लोकतंत्र में एक नई पहल की। अमेरिकी राष्ट्रपति ने पंडित नारायणाचार्य दिगालाकोटे द्वारा वैश्विक शांति के लिए वैदिक मंत्रोच्चारण के बीच व्हाइट हाउस में दीप जलाकर दीपावली मनाई और इस तरह वह इस पर्व की व्यक्तिगत तौर पर शुभकामना देने वाले पहले अमेरिकी राष्ट्रपति बन गये। व्हाइट हाउस के ईस्ट रूम में 14 अक्टूबर को आयोजित एक कार्यक्रम में ओबामा ने कहा मैं समझता हूँ कि यह उपयुक्त समय है जब हम इस कार्य की शुरूआत छुट्टियों के समय दीपावली से कर रहे हैं, जो बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है। उन्होंने दीपावली उपलक्ष्य में आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रम में भी भाग लिया। इस अवसर पर उन्होंने एशिया-अमेरिकी प्रशांत द्वीप समूह और व्हाइट हाउस के लिए सलाहकार आयोग पुनर्गठित करने की घोषणा की। संभवतः इस आयोग का कार्य राष्ट्रपति को फीजी जैसे प्रशांत द्वीपों जहाँ लोकतांत्रिक व्यवस्था फिलहाल समाप्तप्राय सी है के संबंध में यथोचित जानकारी और उचित सलाह देना भी होगा। आशा की जानी चाहिए कि प्रशांत महासागर के कतिपय अशांत द्वीपों में निकट भविष्य में फिर से शांति व्यवस्था कायम हो सकेगी।

दुनिया भर के कई देशों में मनाया जाता है रौशनी का त्योहार 'दीपावली' 

आजतक वेब ब्यूरो/भाषा नई दिल्ली, 13 नवम्बर 2012

दीपावली का पर्व अकेले भारत में ही धूमधाम से नहीं मनाया जाता बल्कि दुनिया के कई हिस्सों में दीप पर्व अपनी छटा बिखेरता है. जिन देशों में हिंदुओं और सिखों की बड़ी आबादी है वहां तो रोशनी का जलसा देखते ही बनता है.
श्रीलंका, म्यामां, थाईलैंड, मलेशिया, सिंगापुर, इंडोनेशिया, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, फिजी, मॉरीशस, केन्या, तंजानिया, दक्षिण अफ्रीका, गुयाना, सूरीनाम, त्रिनिदाद और टोबैगो, नीदरलैंड्स, कनाडा, ब्रिटेन और अमेरिका में दीपावली मनाई जाती है.


जैसे-जैसे भारतीय प्रवासियों की संख्या बढ़ रही है वैसे-वैसे दीपावली मनाने वाले देशों की संख्या भी बढ़ रही है. कनाडा के ओंटारियो स्थित मिसिसागा में रहने वाली अंजलि बक्शी ने कहा, ‘यहां तेज आवाज वाले पटाखे छोड़ने पर रोक है. यहां अलग-अलग केंद्र हैं जहां हम लोग अपने त्यौहार मनाने के लिए एकत्र होते हैं. इस दिन हम अपने घरों को रोशनी से सजाते हैं और शाम को दीपावली उत्सव के लिए इकट्ठे हो जाते हैं. कई बार तो हमने भारतीय दूतावास में भी दीपावली मनाई है.’

नेपाल के काठमांडो में पिछले कई सालों से रह रहे अजय कारकी ने बताया, ‘यहां दीपावली को स्वान्ति कहा जाता है. यह पर्व यहां पांच दिन मनाया जाता है. परंपरा वैसी ही है जैसी भारत की है. थोड़ी भिन्नता भी है. पहले दिन कौवे को, दूसरे दिन कुत्ते को भोजन कराया जाता है. लक्ष्मी पूजा तीसरे दिन होती है. इस दिन से नेपाल संवत शुरू होता है इसलिए व्यापारी इसे शुभ दिन मानते हैं.’

कारकी ने बताया, ‘चौथा दिन नए साल के तौर पर मनाया जाता है. इस दिन महापूजा होती है और बेहतर स्वास्थ्य की कामना की जाती है. पांचवा दिन भाई टीका होता है जब बहनें भाइयों का तिलक करती हैं.’

श्रीलंका में तमिल समुदाय के लोग इस दिन तेल स्नान के बाद नए कपड़े पहनते हैं और ‘पोसई’ (पूजा) कर बड़ों का आशीर्वाद लिया जाता है. शाम को पटाखे छोड़े जाते हैं. मलेशिया में हिंदू सूर्य कैलेंडर के सातवें माह में दीपावली मनाई जाती है. सिंगापुर में इस दिन सरकारी छुट्टी रहती है. वहां की दीपावली देख कर लगता है जैसे ‘नन्हें भारत’ में दीपावली मनाई जा रही है. वहां ‘हिन्दू एन्डाउमेंट बोर्ड ऑफ सिंगापुर’ कई सांस्कृतिक आयोजन करता है.

कैरेबियाई देशों में त्रिनिदाद और टोबैगो में बड़ी संख्या में भारतीय बसे हैं और वहां खूब धूमधाम से दीपावली मनाई जाती है. लोग घरों में पूजा करते हैं और रोशनी से घर जगमगा उठते हैं. ब्रिटेन में भी दीप पर्व मनाया जाता है और लीसेस्टर में तो बहुत बड़ा आयोजन होता है.

अमेरिका में वर्ष 2009 में पहली बार, किसी अमेरिकी राष्ट्रपति के तौर पर बराक ओबामा ने व्हाइट हाउस के ईस्ट रूम में दीवाली का परंपरागत दीया जलाया था. व्हाइट हाउस में दीवाली मनाने की शुरुआत जॉर्ज डब्ल्यू बुश ने की थी, लेकिन पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति ने निजी तौर पर खुद कभी उत्सव में भाग नहीं लिया. उनके प्रशासन के शीर्ष अधिकारी आयोजन में भाग लेते थे.

सात समंदर पार रोशनी की चमक

Posted On November - 10 - 2015
http://dainiktribuneonline.com
भारतवंशियों की दीवाली
विवेक शुक्ला
प्रख्यात साहित्यकार विद्याधर सूरजप्रसाद नायपाल पहली बार 1961 में दीपावली की रात को बम्बई पहुंचे। वे पहली बार भारत आ रहे थे। ये देखकर उन्हें निराशा हुई कि यहां पर ज्यादातर घरों के बाहर मोमबत्तियांे से आलोक सज्जा हो रही थी। उनके देश में दीपावली पर अब भी दीये जलाने की रिवायत है। भारत से दशकों पहले सात समंदर दूर चले गए भारतीय अपने तीज-त्योहारों को अब भी बहुत ही श्रद्धा और उत्साह के भाव से साथ मनाते हैं।
दीपावली का पर्व अकेले भारत में ही धूमधाम से नहीं मनाया जाता बल्कि दुनिया के कई हिस्सों में दीप पर्व अपनी छटा बिखेरता है। जिन देशों में हिंदुओं और सिखों की बड़ी आबादी है, वहां तो रोशनी का जलसा देखते ही बनता है। श्रीलंका, म्यांमार, थाईलैंड, मलेशिया, सिंगापुर, इंडोनेशिया, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, फिजी, मॉरीशस, केन्या, तंजानिया, दक्षिण अफ्रीका, गुयाना, सूरीनाम, त्रिनिदाद और टोबैगो, नीदरलैंड्स, कनाडा, ब्रिटेन और अमेरिका में दीपावली मनाई जाती है।
कैरेबियाई देशों में त्रिनिदाद और टोबैगो में बड़ी संख्या में भारतीय बसे हैं और वहां खूब धूमधाम से दीपावली मनाई जाती है। लोग घरों में पूजा करते हैं और रोशनी से घर जगमगा उठते हैं। सागर तट से करीब 6 कि.मी. की दूरी पर स्थित त्रिनिदाद और टोबैगो की लगभग 13 लाख की आबादी में से 22.5 प्रतिशत हिन्दू हैं। त्रिनिदाद के उच्चायुक्त पंडित मणिदेव प्रसाद ने बताया कि 1845 में भारतवंशियों की पहली टुकड़ी त्रिनिदाद पहुंची थी। उसी वर्ष से वहां दीवाली का उत्सव मनाया जाता है। त्रिनिदाद और टोबेगो में दीपावली के पर्व पर राष्ट्रीय अवकाश होता है। गुयाना में भी हिन्दुओं की तादाद खासी है। गुयाना के तत्कालीन राष्ट्रपति छेदी जगन को इस बात का गौरव हासिल है कि वे पहले भारतीय मूल के शख्स थे, जिन्हें देश से बाहर राष्ट्राध्यक्ष बनने का गौरव मिला। वे 1961 में गुयाना के राष्ट्रपति बने थे।
त्रिनिडाड के पूर्व प्रधानमंत्री वासुदेव पांडे बताते हैं कि त्रिनिडाड के किसी भी छोटे-बड़े शहर का दीपावली पर नजारा भारत के किसी गांव की तरह का होता है। भारतीय घरों के विपरीत अन्य इमारतों पर लोग तेल के दीये जलाते हैं। जब ये सारे दीपावली की रात को एक साथ प्रकाशमय होते हैं तो मंजर अद्‍भुत होता है। पोर्ट ऑफ स्पेन शहर के तो एक बड़े चौराहे का नाम ही दीवाली स्ट्रीट है।
जैसे-जैसे भारतीय प्रवासियों की संख्या बढ़ रही है वैसे-वैसे दीपावली मनाने वाले देशों की संख्या भी बढ़ रही है। कनाडा में तेज आवाज वाले पटाखे छोड़ने पर रोक है। यहां अलग-अलग केंद्र हैं, जहां पर भारतीय अपने त्योहार मनाने के लिए एकत्र होते हैं। दीपावली वाले दिन भारतीय अपने घरों को रोशनी से सजाते हैं और शाम को दीपावली उत्सव के लिए इकट्ठे हो जाते हैं।
नेपाल के काठमांडो में दीपावली का पर्व पांच दिन मनाया जाता है। परंपरा वैसी ही है जैसी भारत की है। थोड़ी भिन्नता भी है। पहले दिन कौवे को, दूसरे दिन कुत्ते को भोजन कराया जाता है। लक्ष्मी पूजा तीसरे दिन होती है। इस दिन से नेपाल संवत्‍ा्‍ शुरू होता है इसलिए व्यापारी इसे शुभ दिन मानते हैं। चौथा दिन नए साल के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन महापूजा होती है। पांचवां दिन भाई टीका होता है, जब बहनें भाइयों का तिलक करती हैं। अगर बात अफ्रीकी देश मारीशस की करें तो वहां भारतवंशी दीपावली पर लक्ष्मी पूजन पूरी विधि के अनुसार ही करते हैं। भारत के विपरीत वहां पर मिठाइयां घरों में ही पकाने की ही रिवायत है। इसके अलावा दीवाली के दिन भारतवंशी परम्परागत भारतीय वेषभूषा में ही होते हैं।
दक्षिण अफ्रीका में भारतीय समुदाय बहुल इलाकों जैसे जोहांसबर्ग के निकट लेनासिया और चैट्सवर्थ और डरबन के फोनेक्स में दीपावली बहुत ही भव्य तरीके से मनाई जाती है। श्रीलंका में तमिल समुदाय के लोग इस दिन तेल स्नान के बाद नए कपड़े पहनते हैं और ‘पोसई’ (पूजा) कर बड़ों का आशीर्वाद लिया जाता है। शाम को पटाखे छोड़े जाते हैं।
अगर बात मलेशिया की करें तो वहां पर हिंदू सूर्य कैलेंडर के सातवें माह में दीपावली मनाई जाती है। उल्लेखनीय है कि मलेशिया में लगभग 20 लाख भारतीय हैं, जिनमें से अधिकांश हिंदू हैं। सिंगापुर में इस दिन सरकारी छुट्टी रहती है। वहां की दीपावली देखकर लगता है जैसे ‘नन्हे भारत’ में दीपावली मनाई जा रही है।
ब्रिटेन में भी दीप पर्व मनाया जाता है और लीसेस्टर में तो बहुत बड़ा आयोजन होता है। अमेरिका में वर्ष 2009 में पहली बार किसी अमेरिकी राष्ट्रपति के तौर पर बराक ओबामा ने व्हाइट हाउस के ईस्ट रूम में दीवाली का परंपरागत दीया जलाया था।
ऑस्ट्रेलिया में भी दीपावली की धूम रहती है और मेलबोर्न में तो श्री शिव विष्णु मंदिर में दीपावली की रौनक देखते ही बनती है। न्यूजीलैंड में भी रह रहे भारतीय रोशनी का पर्व मनाते हैं। दोनों में ही दीपावली पर सार्वजनिक अवकाश रहता है। उधर, मारीशस में दीपावली से एक हफ़्ता पहले से ही बाजार भारतवंशियों की तरफ से की जाने वाली खरीददारी के कारण अटने लगते हैं। दुनिया के तमाम भागों में भारतवंशी दीवाली पूरी श्रद्धा-भाव के साथ मनाते हैं।

CONGRESSMEN SEEK US POSTAGE STAMP ON DIWALI FESTIVAL 
US President Barack Obama lighting a lamp during a Diwali celebration in the White House

Tuesday January 29, 2013
https://www.gg2.net/news/usa-news

NEXT time you receive a post parcel from the US, don’t be surprised to see a colourful display of  Diwali on it as some American lawmakers have introduced a resolution seeking issuance of a postage stamp on the popular Indian festival.   Congresswomen Carolyn B Maloney and Grace Meng, besides Indian-American Congressman Ami Bera, have introduced the resolution in the House of Representatives, urging the United States Postal Service (USPS) to create a stamp as per the Diwali Stamp resolution.

The USPS has recognised other major religious holidays such as Christmas, Kwanzaa, Hanukkah, and Eid, with a commemorative stamp earlier.   “Meaning ‘row of lights,’ Diwali celebrates the triumph of good over evil, the awareness of one’s inner light, the dispelling of ignorance, and bringing peace and joy through the awakening gained from this higher knowledge,” Maloney said in her remarks on the House floor.

She added that this festive and important Indian holiday is also observed in America.

“But despite the significance of this holiday, the United States Postal Service has yet to merit Diwali with the same recognition as other major religious holidays for which stamps are issued such as Christmas, Kwanzaa, Hanukkah, and Eid,” Maloney said.   “It is long overdue that we honour this significant holiday with a postage stamp of its own,” she said.

Adding to this, Congressman Ami Bera said that he felt honored to celebrate the Republic Day with Ambassador Rao and other Indian leaders in DC.   “Congratulations to India on 63 years of democracy. As the world’s largest democracy, India has a special relationship with the world’s oldest democracy, the United States” he said.