मंगलवार, 20 दिसंबर 2016

राहुल गाँधी की मोदी के कपड़ों पर टिप्पणी : भड़के ट्विटर यूजर्स







राहुल गांधी पर भड़के ट्विटर यूजर्स, कहा- कपड़ों की चिंता ऐसे करते हो, जैसे तुम्हें ही धोने पड़ते हों

कांग्रेस पार्टी के उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का नाम लेकर निशाना साधा।

जनसत्ता ऑनलाइन
December 20, 2016
http://www.jansatta.com


कांग्रेस पार्टी के उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का नाम लेकर निशाना साधा। राहुल गांधी ने मंगलवार (20 दिसंबर) को ट्वीट किया, ‘RBI उसी तरीके से नियम बदल रही है, जिस तरीके से मोदीजी कपड़े बदलते हैं।’ हालांकि, लोगों को उनका यह ट्वीट कोई खास अच्छा नहीं लगा। काफी सारे लोगों ने राहुल गांधी का मजाक बनाया। एक ने लिखा, ‘मोदी जी के कपड़ों की चिंता ऐसे करते हैं लोग, जैसे की मोदी जी के सारे कपड़े उन्हें ही धोने पड़ते हों’, दूसरे ने राहुल गांधी को ‘पप्पू’ बताते हुए लिखा, ‘और पप्पू उसी तरह रोज गुब्बारे फुला के फोड़ रहे है’, तीसरे ने लिखा, ‘पहनावा सुन्दर-तन सुन्दर,तन सुन्दर-मन सुन्दर,मन सुन्दर- आत्मा सुन्दर,आत्मा सुन्दर-निर्णय सुन्दर। यही खासियत है नरेंद्र मोदी की’, वहीं अगले ने चंडीगढ़ निकाय चुनावों का जिक्र करते हुए लिखा, ‘चंडीगढ़ के चुनावों के नतीजे तो सुन लिए होगे पता नहीं कांग्रेस कहां तक नीचे गिरेगी लगता है कांग्रेस पंजाब भी हारेगी।’

गौरतलब है कि नोटबंदी के बाद केंद्र सरकार और रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया रोज नियम बदलते रहे हैं। गौरतलब है कि केंद्र सरकार और रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) ने 500 और 1000 रुपये पुराने नोटों को बैंकों में जमा कराने को लेकर 19 दिसंबर को नए निर्देश जारी किए थे। लेकिन अगले ही दिन सरकार अपने फैसले से पलट गई। 19 दिसंबर को जारी निर्देश में कहा गया था कि अब तक रकम जमा क्‍यों नहीं कराई यह भी बताया जाए। लेकिन मंगलवार (20 दिसंबर) को जमा क्यों नहीं कराने के सवाल की शर्त को वापस ले लिया गया। टीवी रिपोर्ट्स के अनुसार अब 5000 रुपये से ज्‍यादा की रकम जमा कराने पर सवाल नहीं किया जाएगा।
लगातार बदले जा रहे नियमों को लेकर राज्यसभा से भाजपा सांसद स्वपन दास गुप्ता ने सरकार की आलोचना की थी। दासगुप्ता ने ट्वीट किया था, ‘पुराने नोटों के 30 दिसंबर तक जमाए कराने जाने पर नई पाबंदी गैर-जरूरी है। इससे लोगों का सरकार में भरोसा कम होगा।’

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें