मंगलवार, 20 दिसंबर 2016

चंडीगढ़: निगम चुनावों में भाजपा की भारी जीत, कांग्रेस का सूपड़ा साफ





चंडीगढ़ निकाय चुनाव में बीजेपी की जीत 
प्रधानमंत्री के नोटबंदी के फैसले पर जनता की मुहर: अमित शाह
By: एजेंसी | uesday, 20 December 2016

नई दिल्ली: चंडीगढ़ निगम चुनावों में बीजेपी को मिली शानदार सफलता पर पार्टी कार्यकर्ताओं और संगठन के पदाधिकारियों को बधाई देते हुए बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि नोटबंदी के फैसले के बाद संपन्न हुए चुनावों में देश की जनता ने प्रधानमंत्री के फैसले पर मुहर लगाने का काम किया है.

शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्त्व में केंद्र की सरकार की विकासोन्मुखी नीतियों का जनता ने ह्रदय से समर्थन किया है. नोटबंदी के फैसले के बाद संपन्न हुए राजस्थान, गुजरात और महाराष्ट्र के स्थानीय निकाय के चुनावों और विधान सभा और लोक-सभा उप-चुनावों के परिणाम से यह स्पष्ट हो गया है कि विपक्ष नोटबंदी के फैसले का राजीतिकरण करना चाहता है और इस पर राजनीति कर रहा है.

बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि नोटबंदी के फैसले के बाद देश के अलग-अलग हिस्सों में हुए सभी चुनावों में देश की जनता ने विपक्ष को यह अच्छे से समझया है कि जनता का मूड क्या है और राजनीति की दिशा क्या है .

उन्होंने कहा कि चंडीगढ़ निकाय चुनाव में भारतीय जनता पार्टी की अभूतपूर्व विजय. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के विजन और बीजेपी की काम करने की राजनीति में देश की जनता की अटूट आस्था और विश्वास का एक और उदाहरण है .

अमित शाह ने कहा कि देश के सभी हिस्सों में जहां-जहां भी नोटबंदी के फैसले के बाद चुनाव हुए हैं और जनता ने बीजेपी को प्रचंड विजय दिलाते हुए प्रधानमंत्री के फैसले पर जो मुहर लगाई है, मैं इसके लिए एक बार फिर से उन्हें धन्यवाद देता हूं और भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं को भी बहुत-बहुत शुभकामनाएं देता हूं .

--------------------------------






चंडीगढ़: निगम चुनावों में 
भाजपा की भारी जीत, कांग्रेस का सूपड़ा साफ

भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) और शिरोमनी अकाली दल(एसएडी) गठबंधन ने चंडीगढ़ नगर-निगम चुनाव में बहुमत के साथ जीत हासिल की है.
समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक बीजेपी-एसएडी गठबंधन ने 26 वार्ड में से 21 वार्ड में जीत हासिल की है. इसमें भारतीय जनता पार्टी के प्रतिनिधि 20 वार्डों में जीते.
ये चुनाव भले नगर निगम का रहा हो लेकिन इसका सांकेतिक महत्व बहुत ज़्यादा है, क्योंकि नोटबंदी के फ़ैसले के बाद भारतीय जनता पार्टी लोगों का भरोसा जीतने में कामयाब रही है.
इस चुनाव में कांग्रेस पार्टी महज चार वार्डों में जीत हासिल कर सकी और एक वॉर्ड में स्वतंत्र उम्मीदवार चुनाव जीतने में कामयाब रहा.

इस चुनाव में जीत हासिल करने वाले मुख्य चेहरों में बीजेपी के मेयर अरुण सूद और कांग्रेस नेता देविंदर सिंह बाबला शामिल हैं.
चंडीगढ़ नगर निगम चुनाव में इस बार 59.54 प्रतिशत मत डाले गए. चुनाव में कुल 122 उम्मीदवारों ने अपनी किस्मत आजमाई, जिसमें 67 स्वतंत्र उम्मीदवार थे.
चुनाव में कांग्रेस और बीजेपी ने सभी 26 वार्डों में अपने उम्मीदवार उतारे थे जबकि बहुजन समाजवादी पार्टी ने 17 वार्डों में उम्मीदवार खड़े किए थे.

पिछली बार हुए नगर निगम चुनाव में बीजेपी के 15 पार्षद थे, जबकि नौ कांग्रेस और एक स्वतंत्र पार्षद थे. कांग्रेस ने इस चुनाव में नोटबंदी का मुद्दा उठाया था लेकिन वो काम नहीं आया.

========================


चंडीगढ़ नगर निगम चुनाव में BJP की भारी जीत, कांग्रेस का सूपड़ा साफ
By: एबीपी न्यूज़ | Tuesday, 20 December 2016

चंडीगढ़: नोटबंदी के शोर और परेशानी के बीच चंडीगढ़ नगर निगम चुनाव में बीजेपी ने बड़ी जीत दर्ज की है. BJP ने क्लीन स्वीप करते हुए कांग्रेस का सूपड़ा साफ कर दिया है.

चंडीगढ़ नगर निगम के कुल 26 सीटों में से 20 सीटों पर अकेले बीजेपी ने जीत दर्ज की है. बीजेपी की सहयोगी अकाली दल ने एक सीट  गठबंधन   कांग्रेस महज़ 4 सीटों पर सिमट गई है. एक सीट निर्दलीय की झोली में गई है.

चंडीगढ़ नगर निगम के चुनावों में बीजेपी की जीत इसलिए अहम है कि क्योंकि अगले साल सूबे में विधानसभा चुनाव है. ऐसे में बीजेपी की ये जीत सत्ता में वापसी की उम्मीद लगा बैठे कांग्रेस के लिए बड़ा धक्का है. 18 दिसंबर को चंडीगढ़ नगर निगम की 26 सीटों के लिए वोट डाले गए थे.

जीत पर जश्न

चंडीगढ़ में जीत पर बीजेपी अक्ष्यक्ष अमित शाह ने कार्यकर्ताओं को बधाई दी. उन्होंने कहा कि नोटबंदी के बाद राज्यों के विधानसभा चुनाव के नतीजे हों या स्थानीय चुनाव के नतीजे, सभी में बीजेपी की जीत बताती है कि नोटबंदी के फैसलै पर जनता उनके साथ है.

इससे पहले, चंडीगढ़ से बीजेपी सांसद किरण खेर ने कहा, ”ये मोदी जी की जीत है. हम लोगों ने मोदी सरकार की योजनाओं को अच्छे से लागू किया. नोटबंदी के समर्थन में लोगों ने वोट दिया है.” उन्होंने कहा कि चंडीगढ़ नगर निगम भी अब कांग्रेस मुक्त है. भगवान करे ऐसी ही जीत पंजाब चुनाव में भी मिले.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें