सोमवार, 30 जनवरी 2017

सांस्कृतिक विरासत के मेलों और उत्सवों को मिलेगी वैश्विक पहचान : मुख्यमंत्री श्रीमती वसुंधरा राजे जी








मेलों और उत्सवों को मिलेगी वैश्विक पहचान
28 जनवरी, 2017
मुख्यमंत्री श्रीमती वसुंधरा राजे जी ने कहा कि अपनी अनूठी सांस्कृतिक विरासत के लिए मशहूर राजस्थान के मेलों और उत्सवों को देश-दुनिया में पहचान दिलाने के लिए राज्य सरकार पूरा प्रयास करेगी। उन्होंने कहा कि ये मेले विश्व स्तर पर हमारी संस्कृति का शो-केस हैं और विदेशी पर्यटक बडे़ उत्साह से इन उत्सवों को देखने आते हैं। हम सभी का पूरा प्रयास होना चाहिए कि ऐसे आयोजनों की गौरवशाली विरासत को सहेज कर उसे और अधिक समृद्ध बनाया जाए।

श्रीमती राजे शनिवार को कोटा जिले के खैराबाद धाम में श्री फलौदी माता के दर्शन के बाद 19वें द्वादशवर्षीय मेले के उद्घाटन समारोह में श्रद्धालुओं को सम्बोधित कर रही थीं। कार्यक्रम की अध्यक्षता ज्योतिर्मय अवंतर पीठ के श्री ज्ञानानंद जी तीर्थ युवाचार्य ने की।

शीतलहर एवं ओलावृष्टि से नुकसान की गिरदावरी के निर्देश
श्रीमती राजे ने कहा कि बीते दिनों कोटा संभाग सहित प्रदेश के कुछ हिस्सों में शीतलहर और ओलावृष्टि से फसलों को हुए नुकसान का मुआवजा शीघ्र ही दिया जायेगा। इसके लिए उन्होंने फसलों को हुए नुकसान का आकलन करने के लिए आपदा प्रबन्धन एवं राहत विभाग तथा राजस्व विभाग को जल्द से जल्द गिरदावरी रिपोर्ट तैयार करवाने के निर्देश दिए हैं।

तकली बांध का काम जल्द शुरू होगा
मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्ष 2006 में तकली बांध की परियोजना शुरू की गई थी, जो किन्हीं कारणों से अटक गई और काम पूरा नहीं हो सका। उन्होंने घोषणा की कि अगले दो-तीन माह में सभी संबंधित पक्षों से विचार-विमर्श कर इस बांध का काम फिर शुरू किया जाएगा। इससे इस क्षेत्र के लोगों को पेयजल और खेती के लिए पानी उपलब्ध होने से राहत मिलेगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि अनेकता में एकता लिए हुए हमारा प्रदेश एक गुलदस्ते की तरह है। इसी तरह यह मेला भी राजस्थान की सभी 36 कौमों की आस्था का प्रतीक है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने प्रदेश के सभी मेलों और उत्सवों को अंतर्राष्ट्रीय पहचान दिलाने के लिए पोर्टल शुरू किया है। श्री फलौदी माता मेले को भी इस पोर्टल में शामिल किया जाएगा।

मेले के लिए विभिन्न समुदायों ने की मदद की पहल
मुख्यमंत्री ने इस बात पर प्रसन्नता जताई की साम्प्रदायिक सौहार्द की अभूतपूर्व मिसाल बने इस मेले के आयोजन के लिए खैराबाद के मुस्लिम समाज ने अपनी खेती की भूमि उपलब्ध कराई है। इसी प्रकार गुर्जर समाज ने अपने कुआें से पानी उपलब्ध कराया है। श्रीमती राजे ने सभी समाजों की भागीदारी को साधुवाद दिया।

मेले को आकर्षक और भव्य बनाने में करेंगे सहयोग
श्रीमती राजे ने कहा कि खैराबाद (कोटा) के श्री फलौदी माता मेले को अधिक आकर्षक और भव्य बनाने की दिशा में राज्य सरकार हर संभव सहयोग करेगी। उन्होंने कहा कि मेड़तवाल वैश्य समाज की कुलदेवी श्री फलौदी माता की यह पवित्र सिद्धपीठ साम्प्रदायिक सद्भाव की अनूठी मिसाल है तथा हर 12 साल बाद आयोजित होने वाले इस सामाजिक मेले का कुम्भ के मेले की तरह ही ऐतिहासिक और आध्यात्मिक महत्व है।

इस अवसर पर रमणरेती, मथुरा के महामंडलेश्वर स्वामी गुरुशरणानंद जी महाराज और केवल्य योग आश्रम, दौलाज के संत स्वामी रघुनाथानंदाचार्य, नगरीय विकास मंत्री श्री श्रीचंद कृपलानी, जन अभाव अभियोग निराकरण समिति के अध्यक्ष श्री श्रीकृष्ण पाटीदार, सांसद श्री ओम बिड़ला, विधायक श्री प्रहलाद गुंजल, श्री विद्याशंकर नंदवाना, श्री संदीप शर्मा, श्रीमती चंद्रकांता मेघवाल, श्री रामचंद्र सुनारीवाल एवं श्री हीरा लाल, कोटा नगर निगम के महापौर श्री महेश विजय, मध्यप्रदेश के विधायक श्री सुदर्शन गुप्ता और श्री गिरीश भंडारी, अन्य जनप्रतिनिधि, लघु उद्योग भारती के संगठन मंत्री श्री प्रकाशचन्द, अखिल भारतीय मेड़तवाल समाज के अध्यक्ष श्री माणकचंद आतोलिया एवं महामंत्री श्री गोपाल गुप्ता, पुलिस एवं प्रशासनिक अधिकारियों सहित गणमान्यजन और बड़ी संख्या में श्रद्धालु उपस्थित थे।

इससे पहले श्रीमती राजे ने खैराबाद धाम पहुंचकर श्री फलौदी माता के मंदिर में दर्शन कर पूजा अर्चना की और प्रदेश में सुख, शांति एवं समृद्धि की कामना की।

जयपुर/कोटा, 28 जनवरी 2017


शनिवार, 28 जनवरी 2017

यूपी चुनाव : भाजपा घोषणापत्र





यूपी चुनाव: फ्री इंटरनेट से लेकर राम मंदिर तक, ये हैं भा ज पा  के घोषणापत्र के 14 बड़े वादे
By: एबीपी न्यूज़/एजेंसी | Last Updated: Saturday, 28 January 2017

लखनऊ: यूपी के चुनावी दंगल में आज बीजेपी ने भी अपना दांव चल दिया है. भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव को लेकर पार्टी का घोषणापत्र जारी किया. बीजेपी ने अपने घोषणापत्र में राम मंदिर से लेकर फ्री लैपटॉप, महिला सुरक्षा, युवाओं को रोजगार और किसानों की सुविधा से जुड़े 14 बड़े वादे किए. ये हैं BJP के घोषणापत्र के 14 बड़े वादे…

1- संवैधानिक तरीके से बनाएंगे राम मंदिर

यूपी विधानसभा चुनाव जीतने के लिए कमर कस चुकी बीजेपी ने अपने घोषणापत्र में राम मंदिर का जिक्र किया. इस दौरान अमित शाह ने कहा कि अगर यूपी में बीजेपी की सरकार बनीं तो संवैधानिक तरीके से राम मंदिर बनाएंगे. शाह ने कहा, ‘‘जहां तक राम मंदिर का मामला है तो प्रदेश में बीजेपी की नयी सरकार भी संवैधानिक तरीकों से जल्द से जल्द राम मंदिर बनवाने के लिये प्रयत्नशील रहेगी.’’

2- तीन तलाक के मुद्दे पर मुस्लिम महिलाओं की राय

इतना ही नहीं बीजेपी अध्यक्ष ने कहा, ‘‘तीन तलाक के मुद्दे पर प्रदेश भर की मुस्लिम महिलाओं की राय लेकर उनके अधिकारों के रक्षा के लिये प्रदेश सरकार पक्षकार बनकर सुप्रीम कोर्ट में पक्ष रखेगी.’’

3- फ्री लैपटॉप और एक साल तक फ्री इंटरनेट

उत्तर प्रदेश में सत्तारूढ़ समाजवादी पार्टी के चुनावी वादे की तरह बीजेपी ने भी लैपटॉप वितरण की घोषणा करते हुए कहा कि बीजेपी की सरकार बनने पर लैपटॉप पाने वालों को हर महीने एक जीबी इंटरनेट भी मुफ्त दिया जाएगा.

4- गन्ना किसानों को तुरंत भुगतान

बीजेपी का घोषणा पत्र जारी करते हुए अमित शाह ने कहा कि अगर यूपी में भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनीं तो गन्ना किसानों को चीनी मील के बाहर ही गन्ना के मूल्य का चेक दे दिया जाएगा. जो उस दिन से 14 दिन बाद की तारीख का होगा.

5- किसानों से कर्ज पर ब्याज नहीं

इसके साथ ही बीजेपी ने अपने घोषणा पत्र में किसानों को लेकर एक और बड़ा वादा किया. न्होंने कहा कि प्रदेश में बीजेपी की सरकार बनने पर सभी लघु एवं सीमान्त किसानों का किसी भी बैंक से लिया गया सम्पूर्ण फसली कर्ज माफ किया जाएगा. किसानों से कर्ज पर ब्याज नहीं लिया जाएगा और कृषि मजदूरों को 2 लाख रुपए का बीमा दिया जाएगा.

6- हर घर में 24 घंटे बिजली

इतना ही नहीं सरकार बनने पर बीजेपी ने पांच साल में हर घर में 24 घंटे बिजली पहुंचाने, गरीबों को 100 यूनिट बिजली, 3 रूपये प्रति यूनिट की दर से देने और हर गांव को बसों के जरिए तहसील सेंटर से जोड़ने का वादा भी किया.

7- बंद होंगे जानवरों के अवैध कत्लखाने

घोषणापत्र जारी करते समय बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि उत्तर प्रदेश में बीजेपी की सरकार बनने पर सूबे में जानवरों के यांत्रिक कत्लखानों को बंद किया जाएगा.

8- जिलाधिकारी को माना जाएगा पलायन के लिये जिम्मेदार

पलायन के मुद्दे का जिक्र करते हुए अमित शाह ने कहा कि बीजेपी की सरकार बनने पर संबंधित जिलाधिकारी को पलायन के लिये जिम्मेदार माना जाएगा. एक समिति बनायी जाएगी, जो पलायन ना होना सुनिश्चित करेगी. पार्टी पलायन को लेकर श्वेत-पत्र भी जारी करेगी.

9- 15 मिनट के अंदर घटनास्थल पर पहुंचे पुलिस

अमित शाह ने कहा कि कानून-व्यवस्था को मजबूत करने के लिये प्रदेश की मौजूदा सरकार द्वारा शुरू की गयी डायल-100 सेवा को हाईटेक करके यह सुनिश्चित किया जाएगा कि पुलिस 15 मिनट के अंदर घटनास्थल पर पहुंचे.

10- महिला सुरक्षा के लिए टास्क फोर्स

इसके साथ ही बीजेपी ने अपने घोषणापत्र में महिलाओं की सुरक्षा को लेकर बड़ा ऐलान किया. अमित शाह ने कहा कि यूपी में बीजेपी की सरकार बनीं तो महिलाओं के लिए 100 फास्ट ट्रैक कोर्ट बनाएंगे.

11- ‘एंटी रोमियो दल’ का गठन

बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि, यूपी में उनकी पार्टी की सरकार बनने पर महिलाओं खासकर कॉलेज जाने वाली छात्राओं से छेड़छाड़ रोकने के लिये ‘एंटी रोमियो दल’ गठित किये जाएंगे, जो स्कूलों के इर्द-गिर्द सक्रिय रहेंगे.

12- माफियाओं पर लगाम के लिए अलग-अलग टास्क फोर्स

अमित शाह ने कहा कि उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव के बाद बीजेपी की सरकार बनी तो भूमाफिया, खनन माफिया पर लगाम के लिये अलग-अलग टास्क फोर्स गठित की जाएंगी. अपराधियों पर फौरन ही कार्रवाई की जाएगी औऱ 45 दिन के अंदर अपराधी जेल में जाएंगे.

13- बुंदेखलण्ड विकास बोर्ड का गठन

बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि उनकी पार्टी की सरकार बनने पर बुंदेलखण्ड के विकास के लिये मुख्यमंत्री कार्यालय की निगरानी में बुंदेखलण्ड विकास बोर्ड गठित किया जाएगा. ऐसा ही बोर्ड पूर्वांचल के लिये भी बनाया जाएगा.

14- लड़कियों को ग्रेजुएशन तक मुफ्त शिक्षा

इसके साथ ही बीजेपी ने अपने घोषणापत्र में लड़कियों को ग्रेजुएशन तक मुफ्त शिक्षा, कॉलेज में फ्री WiFi और हर युवा को रोजगार देने का वादा भी किया.

इससे पहले अमित शाह ने कहा कि मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को अपनी नाकामियों का जवाब देना होगा. वह कांग्रेस से गठबंधन करके उत्तर प्रदेश की जनता की आंख में धूल नहीं झोंक सकते. उन्होंने दावा किया कि नोटबंदी को लेकर प्रदेश की जनता बीजेपी के साथ है.

जीतने की क्षमता को देखकर टिकट देती है BJP

घोषणापत्र जारी करने के बाद मीडिया से बातचीत में बीजेपी द्वारा किसी भी मुसलमान को टिकट ना दिये जाने के सवाल पर शाह ने कहा, ‘‘हमारी पार्टी जीतने की क्षमता को देखकर टिकट देती है.’’ चुनाव के टिकट को लेकर बीजेपी में जारी अन्तर्विरोध और कार्यकर्ताओं के उग्र प्रदर्शन के सवाल पर शाह ने कहा, ‘‘अगर कहीं झगड़ा हो रहा हो, तो समझो कि वहां अच्छे दिन आने वाले हैं. जहां कोई बात ही ना हो तो समझो कि वहां सब खत्म हो गया है.’’

संकल्प पत्र को प्रदेश की 20 करोड़ की जनता का आशीर्वाद

आपको बता दें कि भारतीय जनता पार्टी ने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिये आज अपना घोषणापत्र जारी कर दिया. विकास के वादों पर केन्द्रित इस ‘लोक कल्याण संकल्प पत्र’ में क्षेत्रीय समीकरणों को तरजीह दिये जाने के साथ-साथ राम मंदिर निर्माण तथा ‘तीन तलाक’ के मुद्दे भी शामिल किये गये हैं. बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने यह घोषणापत्र जारी करते हुए कहा कि इस ‘लोक कल्याण संकल्प पत्र’ को तैयार करने के लिये उनकी पार्टी ने ‘यूपी के मन की बात’ कार्यक्रम के तहत उत्तर प्रदेश में नया प्रयोग करते हुए करीब 10 करोड़ लोगों से सम्पर्क करके उनकी आकांक्षा जानने का प्रयास किया है. उन्हें आशा है कि इस संकल्प पत्र को प्रदेश की 20 करोड़ की जनता का आशीर्वाद मिलेगा.
-----------------------------------------------------

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह द्वारा यूपी के विकास के लिए ‘लोक-कल्याण संकल्प पत्र' जारी करने के अवसर पर इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान, लखनऊ (उत्तर प्रदेश) में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में दिए गए उद्बोधन के मुख्य बिंदु
भारतीय जनता पार्टी पंडित दीन दयाल उपाध्याय जी के ‘अन्त्योदय' एवं प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के ‘सबका साथ, सबका विकास’ के सिद्धांत पर उत्तर प्रदेश के विकास के लिए कटिबद्ध है: अमित शाह
************
कृषि उत्तर प्रदेश के विकास का आधार बने, इसके लिए सभी लघु एवं सीमान्त किसानों का कर्ज माफ़ किया जाएगा एवं उन्हें ब्याज मुक्त ऋण दिया जाएगा: अमित शाह
************
हमने राज्य के करोड़ों लोगों से जनसंपर्क किया है, आकांक्षा पेटी, यूपी के मन की बात व 5000 से अधिक छोटी-बड़ी सभाएं करके लगभग 30 लाख से अधिक लोगों की राय ली है और किसान, मजदूर, बेरोजगार, दलित एवं पिछड़ों की आकांक्षाओं के अनुरूप यूपी का ‘लोक कल्याण संकल्प पत्र' तैयार किया है: अमित शाह
************
हमारा यह ‘लोक कल्याण संकल्प पत्र’ उत्तर प्रदेश के प्रति हमारी प्रतिबद्धता का प्रतिबिम्ब है। हमने अपने ‘लोक-कल्याण संकल्प पत्र' को नौ संकल्पों में बांटा है जिसमें हर संकल्प का एक मात्र ध्येय लोक-कल्याण है: अमित शाह
************
हमारा लक्ष्य उत्तर प्रदेश से गुंडाराज और भ्रष्टाचार को समाप्त कर के पारदर्शी एवं भयमुक्त यूपी का निर्माण करना है: अमित शाह
************
हमारा लक्ष्य है कि उत्तर प्रदेश एक ऐसा राज्य बने जहां लोगों को समान न्याय मिले, सबके लिए रोजगार के अवसर हों, भोजन, आवास, शुद्ध पीने का पानी, सड़क, शिक्षा और स्वास्थ्य जैसी सभी बुनियादी सुविधाएं सहज रूप से सुलभ हों: अमित शाह
************
उत्तर प्रदेश में जाति की राजनीति और परिवारवाद की राजनीति ख़त्म होने वाली है और पॉलिटिक्स ऑफ़ परफॉरमेंस के एक नए युग की शुरुआत होने वाली है: अमित शाह
************
जो जनता का काम करेगा, वही प्रदेश पर राज करेगा: अमित शाह
************
अगर उत्तर प्रदेश में भाजपा की सरकार बनी तो प्रदेश को पांच वर्ष में बीमारू राज्य से विकसित राज्य बना देंगे: अमित शाह
************
उत्तर प्रदेश की अखिलेश सरकार केंद्र सरकार की योजनाओं को राज्य में नीचे तक पहुँचने ही नहीं देती। जब तक लखनऊ में एक विकास करने वाली सरकार नहीं आती, प्रदेश विकास के पथ पर गतिशील नहीं हो सकता: अमित शाह
************
जब तक उत्तर प्रदेश का विकास नहीं होता, जब तक यूपी का डबल डिजिट ग्रोथ नहीं होता, तब तक देश का विकास संभव नहीं है: अमित शाह
************
उत्तर प्रदेश में क़ानून-व्यवस्था सबसे बदहाल है, महिलायें असुरक्षित हैं, गरीबों की जमीनों पर सपा संरक्षित अपराधी तत्त्वों द्वारा अवैध कब्जा किया जा रहा है, साम्प्रदायिक तनाव व बदहाल क़ानून व्यवस्था के कारण राज्य के लोग पलायन करने को विवश हैं, खनन माफिया और भू-माफिया राज्य में हर तरफ सक्रिय हैं: अमित शाह
************
हमें पूर्ण भरोसा है कि काले-धन पर जिस तरह का प्रहार केंद्र की भारतीय जनता पार्टी सरकार और प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने किया है, जनता उसका भरपूर समर्थन करेगी: अमित शाह
************
उत्तर प्रदेश में आने वाली सरकार भारतीय जनता पार्टी की होगी, हम यूपी में तीन सौ से ज्यादा सीटें जीतकर आजादी के बाद यूपी की सबसे मजबूत सरकार बनायेंगें: अमित शाह
************
भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष, श्री अमित शाह ने आज लखनऊ (उत्तर प्रदेश) के इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में भारतीय जनता पार्टी का अगले पांच सालों के लिए यूपी का ‘लोक-कल्याण संकल्प पत्र' जारी किया। इस अवसर पर भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व यूपी प्रभारी श्री ओम माथुर, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्री दिनेश शर्मा, उत्तर प्रदेश भाजपा अध्यक्ष श्री केशव प्रसाद मौर्य, केन्द्रीय मंत्री श्री मनोज सिन्हा एवं श्री कलराज मिश्र, योगी आदित्यनाथ, स्वामी प्रसाद मौर्य एवं श्री कौशल किशोर मंच पर मौजूद थे।

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि देश के सबसे बड़े प्रदेश में चुनाव होने जा रहा है। उन्होंने कहा कि विगत एक वर्ष में भाजपा के कार्यकर्ताओं ने यूपी के चप्पे-चप्पे गाँव में जाकर जो जनसंपर्क किया है, उसके आधार पर मैं विश्वास के साथ कह सकता हूँ को दो-तिहाई बहुमत से भाजपा की सरकार उत्तर प्रदेश में बनने जा रही है। उन्होंने कहा कि हमने बहुपक्षीय पार्लियामेंट्री व्यवस्था अपनाई है, इसकी मजबूती के लिए चुनाव महत्त्वपूर्ण हैं, यदि हमें लोकतंत्र को मजबूत करना है तो इसमें जन-सामान्य की आकांक्षाओं को शामिल करना होगा। उन्होंने कहा कि इसलिए इस बार हमने यूपी का ‘लोक-कल्याण संकल्प पत्र' बनाते वक्त राज्य की आम जनता की आकांक्षाओं को जानना चाहा कि उनकी सरकार से क्या अपेक्षा है। उन्होंने कहा कि हमने राज्य के करोड़ों लोगों से जनसंपर्क किया है और लोगों की राय जानी है, आकांक्षा पेटी, यूपी के मन की बात व 5000 से ज्यादा छोटी-बड़ी सभाएं करके लगभग 30 लाख से अधिक लोगों की राय ली है व किसान, मजदूर व बेरोजगार के साथ ही दलित व पिछड़ों की आकांक्षाओं को जाना है और इस आधार पर हमने उत्तर प्रदेश का ‘लोक कल्याण संकल्प पत्र' तैयार किया है। उन्होंने कहा कि हमारा यह ‘लोक कल्याण संकल्प पत्र’ उत्तर प्रदेश के प्रति हमारी प्रतिबद्धता का प्रतिबिम्ब है। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी पंडित दीन दयाल उपाध्याय जी के ‘अन्त्योदय' एवं प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के ‘सबका साथ, सबका विकास’ के सिद्धांत पर उत्तर प्रदेश के विकास के लिए कटिबद्ध है। उन्होंने कहा कि हमारा लक्ष्य उत्तर प्रदेश से गुंडाराज और भ्रष्टाचार को समाप्त कर के पारदर्शी एवं भयमुक्त यूपी का निर्माण करना है। उन्होंने कहा कि हमारा लक्ष्य है कि उत्तर प्रदेश एक ऐसा राज्य बने जहां लोगों को समान न्याय मिले, सबके लिए रोजगार के अवसर हों, भोजन, आवास, शुद्ध पीने का पानी, सड़क, शिक्षा और स्वास्थ्य जैसी सभी बुनियादी सुविधाएं सहज रूप से सुलभ हों। उन्होंने कहा कि कृषि उत्तर प्रदेश के विकास का आधार बने, इसके लिए सभी लघु एवं सीमान्त किसानों का कर्ज माफ़ किया जाएगा एवं उन्हें ब्याज मुक्त ऋण दिया जाएगा।

श्री शाह ने कहा कि देश का सबसे बड़ा राज्य विकास की रेस में काफी पिछड़ गया है। उन्होंने कहा कि पांच साल का समय किसी भी राज्य के विकास के लिए काफी बड़ा समय होता है लेकिन अखिलेश सरकार के इन पांच वर्षों में यूपी के विकास के लिए कुछ भी नहीं किया गया। उन्होंने कहा कि अगर उत्तर प्रदेश में भाजपा की सरकार बनी तो प्रदेश को पांच वर्ष में बीमारू राज्य से विकसित राज्य बना देंगे। उन्होंने कहा कि ऐसा हमने करके दिखाया है। उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में हमें मौक़ा मिला, हमने इन प्रदेशों को ‘बीमारू प्रदेश’ की सूची से बाहर निकाला, बिहार में भी हमें जितना मौक़ा मिला, हमने काफी काम किये। उन्होंने यूपी की जनता से अपील करते हुए कहा कि हमें एक मौक़ा दीजिये, पांच वर्षों में ही हम यूपी को बीमारू प्रदेश की श्रेणी से बाहर निकाल देंगें।

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी यूपी से ही सांसद है, वे उत्तर प्रदेश के विकास के लिए कृतसंकल्पित हैं, उन्होंने हर 15 दिन में विकास की एक नई योजना शुरू की है लेकिन ये योजनायें उत्तर प्रदेश के लोगों तक नहीं पहुँच पाती। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश की अखिलेश सरकार केंद्र सरकार की योजनाओं को राज्य में नीचे तक पहुँचने ही नहीं देती। उन्होंने कहा कि जब तक लखनऊ में एक विकास करने वाली सरकार नहीं आती, प्रदेश विकास के पथ पर गतिशील नहीं हो सकता।

श्री शाह ने कहा कि उत्तर प्रदेश में क़ानून-व्यवस्था सबसे बदहाल है, महिलायें असुरक्षित हैं, गरीबों की जमीनों पर सपा संरक्षित अपराधी तत्त्वों द्वारा अवैध कब्जा किया जा रहा है, साम्प्रदायिक तनाव व बदहाल क़ानून व्यवस्था के कारण राज्य के लोग पलायन करने को विवश हैं, खनन माफिया और भू-माफिया राज्य में हर तरफ सक्रिय हैं। उन्होंने कहा कि राज्य से पलायन का मुद्दा हो अथवा थाने में वारदात की एफआईआर लिखाने की बात हो, यदि सरकार तुष्टीकरण पर चलती है तो लोगों को न्याय नहीं मिल सकता। उन्होंने कहा कि हम उत्तर प्रदेश की इस व्यवस्था में परिवर्तन लायेंगें। उन्होंने कहा कि सपा-बसपा, बसपा-सपा सरकारों के क्रम ने उत्तर प्रदेश को 15 वर्षों में बर्बाद करके रख दिया है, इसलिए हमने अपने ‘लोक कल्याण संकल्प पत्र’ में लाखों लोगों के अभिप्राय व उनकी आकांक्षाओं को सर्वोपरि रखा है। उन्होंने कहा कि हमें पूर्ण भरोसा है कि काले-धन पर जिस तरह का प्रहार केंद्र की भारतीय जनता पार्टी सरकार और प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने किया है, जनता उसका भरपूर समर्थन करेगी।

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि उत्तर प्रदेश में जाति की राजनीति और परिवारवाद की राजनीति ख़त्म होने वाली है और पॉलिटिक्स ऑफ़ परफॉरमेंस के एक नए युग की शुरुआत होने वाली है। उन्होंने कहा कि हमने कभी जाति और परिवार की राजनीति नहीं की, हमने हमेशा सिद्धांतों और विकास की राजनीति की है। उन्होंने कहा कि समय आ गया है कि जो जनता का काम करेगा, वही प्रदेश पर राज करेगा। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश को विकसित प्रदेश बनाने के लिए हमने संकल्प लिया है, हम समाज के हर वर्गों के कल्याण व विकास के लिए काम करेंगें। उन्होंने कहा कि जब तक उत्तर प्रदेश का विकास नहीं होता, जब तक यूपी का डबल डिजिट ग्रोथ नहीं होता, तब तक देश का विकास संभव नहीं है। उन्होंने कहा कि देश के विकास के लिए जरूरी है कि यूपी का विकास हो। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में आने वाली सरकार भारतीय जनता पार्टी की होगी, हम यूपी में तीन सौ से ज्यादा सीटें जीतकर आजादी के बाद यूपी की सबसे मजबूत सरकार बनायेंगें। उन्होंने कहा कि हमने अपने ‘लोक-कल्याण संकल्प पत्र' को नौ संकल्पों में बांटा है जिसमें हर संकल्प का एक मात्र ध्येय लोक-कल्याण है।

कृषि विकास का बने आधार
न गुंडाराज, न भ्रष्टाचार
हर युवा को मिले रोजगार
शिक्षा क्षेत्र में गुणवत्ता विस्तार
गरीबी से मुक्ति का सपना साकार
बुनियादी विकास, मजबूत आधार
विकसित उद्योग, सुगम व्यापार
सशक्त नारी, समान अधिकार
स्वस्थ हो हर घर- परिवार


(महेंद्र पांडेय)
कार्यालय सचिव

सर्वे : अभी मोदी सरकार को 360 सीटें मिलेंगी




सर्वे: अगर अभी हुआ लोकसभा चुनाव तो फिर से बनेगी एनडीए की सरकार, नरेंद्र मोदी बनेंगे पीएम 


सर्वे के मुताबिक अगर अभी देश में लोकसभा चुनाव हो जाएं तो मोदी सरकार को 360 सीटें मिलेंगी और दोबारा से जीत दर्ज कर सत्ता में आ जाएगी और नरेंद्र मोदी पीएम बनेंगे। 

By: Anujkumar Maurya Updated: Friday, January 27, 2017,

        नई दिल्ली। मौजूदा समय में केन्द्र की सत्ताधारी पार्टी एनडीए को सत्ता में आए ढाई साल बीत चुके हैं, लेकिन अभी भी वह लोगों की पसंदीदा पार्टी बनी हुई है। इसका सबूत है हाल ही में आया इंडिया टुडे ग्रुप और कार्वी इनसाइट (karvy insights) का सर्वे। इस सर्वे के मुताबिक अगर अभी देश में लोकसभा चुनाव हो जाएं तो मोदी सरकार को 360 सीटें मिलेंगी और दोबारा से जीत दर्ज कर सत्ता में आ जाएगी। वहीं दूसरी ओर, मौजूदा समय में लोकसभा चुनाव होने के बाद यूपीए को सिर्फ 60 सीटें और अन्य को 123 सीटें मिलेंगी।

        मोदी सरकार को मिली वाहवाही यह सर्वे 19 राज्यों में 12,143 लोगों पर किया गया था, जिसमें एनडीए को 42 फीसदी वोट मिले, जबकि यूपीए को सिर्फ 25 फीसदी वोट मिले। वहीं अन्य दलों को 33 फीसदी वोट मिले। प्रधानमंत्री के तौर पर पीएम मोदी के काम को 69 फीसदी लोगों ने अच्छा बताया। वहीं दूसरी ओर 19 फीसदी लोगों ने प्रधानमंत्री के तौर पर पीएम मोदी के काम को औसत कहा, जबकि 3 प्रतिशत लोगों ने खराब बताया। इतना ही नहीं, 6 फीसदी लोगों ने पीएम मोदी के काम को बेहद खराब बताया। इन सबके बावजूद 71 फीसदी लोगों ने एनडीए सरकार के काम को सराहा।

        लोग किसे देखना चाहते हैं पीएम अभी चुनाव होने की स्थिति में 65 फीसदी लोगों ने पीएम मोदी को प्रधानमंत्री के रूप में चुना। इसके अलावा 10 फीसदी लोगों ने राहुल गांधी और 4 प्रतिशत लोगों सोनिया गांधी को अपनी पसंद बताया। इतना ही नहीं एक फीसदी लोगों को मुलायम सिंह और एक फीसदी को मायावती पीएम के रूप में पसंद हैं। यही नहीं, 2 फीसदी लोग अरुण जेटली, एक फीसदी अमित शाह, एक फीसदी को ममता बनर्जी, 2 फीसदी केजरीवाल, 2 फीसदी प्रियंका गांधी और 2 फीसदी लोगों ने नीतीश कुमार को पीएम के रूप में चुना।

        लोग किसे देखना चाहते हैं पीएम अभी चुनाव होने की स्थिति में 65 फीसदी लोगों ने पीएम मोदी को प्रधानमंत्री के रूप में चुना। इसके अलावा 10 फीसदी लोगों ने राहुल गांधी और 4 प्रतिशत लोगों सोनिया गांधी को अपनी पसंद बताया। इतना ही नहीं एक फीसदी लोगों को मुलायम सिंह और एक फीसदी को मायावती पीएम के रूप में पसंद हैं। यही नहीं, 2 फीसदी लोग अरुण जेटली, एक फीसदी अमित शाह, एक फीसदी को ममता बनर्जी, 2 फीसदी केजरीवाल, 2 फीसदी प्रियंका गांधी और 2 फीसदी लोगों ने नीतीश कुमार को पीएम के रूप में चुना।

         नोटबंदी को मिला समर्थन इस सर्वे में जब लोगों से पीएम मोदी के नोटबंदी के फैसले पर बात की गई तो नोटबंदी को लोगों का तगड़ा समर्थन मिला। सर्वे में 45 फीसदी लोगों ने माना कि इससे कालेधन पर लगाम लगेगी, जबकि 35 फीसदी ने इसे अर्थव्यवस्था के लिए अच्छा बताया। वहीं 7 फीसदी लोगों ने कहा कि इससे भारत की अर्थव्यवस्था कमजोर होगी, जबकि 7 फीसदी लोगों ने इसे सिर्फ एक चुनावी पैंतरा करार दिया।
-------------------------

इंडिया टुडे ओपिनियन पोल: आज चुनाव हुए तो NDA को 360 सीटें, PM मोदी की भी बढ़ी लोकप्रियता

aajtak.in [Edited By: अमित दुबे]नई दिल्ली, 27 जनवरी 2017, अपडेटेड 11:35 IST
नोटबंदी के बाद केंद्र की मोदी सरकार की लोकप्रियता में और इजाफा हुआ है. इंडिया टुडे और कार्वी इनसाइट्स के सर्वे में मोदी सरकार की करिश्माई छवि बरकरार है. ओपिनियन पोल के मुताबिक अगर अभी हुए चुनाव तो NDA को 360 सीटों पर जीत मिल सकती है. यही नहीं, सर्वे में पीएम मोदी के ग्राफ में भी उछाल देखा गया. 65 फीसदी लोगों ने नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री पद के लिए सबसे बेहतर चेहरा बताया.

मोदी सरकार का जादू बरकरार
इंडिया टुडे आपके लिए KARVY INSIGHTS के साथ मिलकर एक बार फिर मूड ऑफ द नेशन पोल (एमओटीएन) सर्वे लाया है, जिसके मुताबिक अगर मौजूदा वक्त में लोकसभा चुनाव हो जाएं तो एनडीए को 360 मिलेंगी, जो कि अगस्त में हुए सर्वे से 56 सीटें ज्यादा हैं. यहां एक और बात अहम है कि बीजेपी को अकेले 305 सीटें मिल सकती हैं, जो कि लोकसभा में उसे स्पष्ट बहुमत देते हुए गठबंधन सहयोगियों पर उसकी निर्भरता खत्म देगी.

एनडीए को 42 फीसदी वोट का अनुमान
देश के 19 राज्यों में 12,143 लोगों पर किए गए इस सर्वे के मुताबिक, अगर अभी चुनाव हुए तो एनडीए को 42% वोट मिलेंगे, वहीं यूपीए को 25%, जबकि अन्य के खाते में 33% वोट जाता दिखा. इस तरह यूपीए को 60 सीटें, जबकि अन्य को 123 सीटें मिलने का अनुमान है.

पीएम मोदी की लोकप्रियता बढ़ी

इस सर्वे में प्रधानमंत्री मोदी की लोकप्रियता में भी खासा उछाल देखने को मिला. इस बार 65 फीसदी लोगों ने उन्हें प्रधानमंत्री पद के लिए सबसे पसंदीदा उम्मीदवार माना. मोदी की यह लोकप्रियता अगस्त महीने में हुए पिछले सर्वे के मुकाबले 15 फीसदी ज्यादा है. जबकि राहुल गांधी की अगर बात करें, तो सर्वे में शामिल लोगों में से केवल 10 फीसदी ने उन्हें अपनी पसंद बताया है, जबकि 4% लोगों ने सोनिया गांधी को पसंद किया है.

पीएम पद के लिए पसंदीदा उम्मीदवार के मामले में समाजवादी पार्टी के मुखिया मुलायम सिंह को 1 फीसदी और बीएसपी प्रमुख मायावती को भी 1 फीसदी लोगों ने पसंद किया. वहीं मोदी कैबिनेट में वित्तमंत्री अरुण जेटली को 2 फीसदी लोग, जबकि बीजेपी चीफ अमित शाह और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को 1 फीसदी ने अपनी पसंद बताया. इसके अलावा प्रियंका गांधी, अरविंद केजरीवाल और नीतीश कुमार को 2-2 फीसदी लोगों ने पीएम पद के लिए अपना पसंदीदा उम्मीदवार बताया.

पीएम मोदी के विकल्प के तौर पर ये नेता
उधर पीएम मोदी के खिलाफ तीसरे विकल्प के रूप में 11 फीसदी लोगों ने अरविंद केजरीवाल को अपनी पसंद माना है, जबकि 10 फीसदी लोग नीतीश कुमार की लीडरशिप में तीसरे मोर्चे का बेहतर भविष्य देखते हैं. वहीं पीएम मोदी के विकल्प के तौर पर 13 लोग नीतीश कुमार को अपनी पसंद मानते हैं, जबकि 10 फीसदी लोग केजरीवाल को मोदी के विकल्प के तौर पर देखते हैं.

पीएम मोदी और एनडीए सरकार का कामकाज
प्रधानमंत्री के रूप में पीएम मोदी के प्रदर्शन को 69 फीसदी लोगों ने अच्छा माना है, जिनमें 27 फीसदी लोगों की नजर में पीएम मोदी का प्रदर्शन बेहद अच्छा रहा. वहीं 19 फीसदी लोगों ने मोदी के काम को औसत करार दिया है, जबकि 3 फीसदी लोगों ने खराब और 6 फीसदी ने बेहद खराब करार दिया है. इसके साथ ही 71% लोगों ने एनडीए सरकार के काम की सराहना की है, वहीं सर्वे में शामिल 7% लोगों ने सरकार के कामकाज को खराब बताया है.

नोटबंदी पर भरपूर समर्थन
इस सर्वे में नोटबंदी के फैसले को भी लोगों का भरपूर समर्थन मिलता दिखा. सर्वे में शामिल 45 फीसदी लोगों ने माना है कि नोटबंदी से कालेधन और भ्रष्टाचार पर लगाम लगेगी, जबकि 35 फीसदी ने इसे अर्थव्यवस्था के लिए अच्छा करार दिया. इस तरह 80 फीसद लोग प्रधानमंत्री के इस कदम के समर्थन में दिखे. हालांकि यहां 7 फीसदी लोगों को लगता है कि इससे अर्थव्यवस्था कमजोर होगी, जबकि 7 फीसदी लोग इसे विपक्ष को कमजोर करने की सिर्फ चुनावी चाल करार दे रहे हैं. वहीं नोटबंदी पर अमल के सवाल पर 19 फीसदी ने इसे बहुत खराब करार दिया, जबकि 36 फीसदी लोगों ने कहा कि यह और बेहतर हो सकता था. वहीं 37 फीसदी लोगों को लगता है नोटबंदी का फैसला बहुत अच्छे से अमल में लाया गया. सर्वे में शामिल 58 फीसदी लोगों ने इस फैसले से कैशलेस इकॉनमी को बढ़ावा मिलने की उम्मीद जताई, जबकि 34 फीसदी मानते हैं कि इससे कोई खास असर नहीं होने वाला है

गुरुवार, 26 जनवरी 2017

दीनदयाल उपाध्याय : संपूर्ण वाङ्मय





राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ विचार परिवार के पहले राजनीतिक चिंतक और विचारक दीनदयाल उपाध्याय के विचार, जीवनी और लेखों के संग्रह को एक जगह संकलित करके। दीनदयाल उपाध्याय के जन्म शताब्दी वर्ष के मौके पर संघ से जुड़ा एकात्म मानव दर्शन एवं विकास प्रतिष्ठान 15 खंडों में उनके व्यक्तित्व और कृतित्व को सामने ला रहा है। 9 अक्टूबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दीनदयाल संपूर्ण वाङ्मय का विमोचन करेंगे। इस दौरान आरएसएस के सरकार्यवाह सुरेश भैयाजी जोशी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह भी उपस्थित रहेंगे।

एकात्म मानवदर्शन के प्रणेता दीनदयाल उपाध्याय के जन्म शताब्दी वर्ष पर बीजेपी और केेंद्र सरकार सहित राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सभी समवैचारिक संगठन अलग-अलग तरह के आयोजन कर रहे हैं। पंडित दीनदयाल ने पाकिस्तान, चीन, बौद्ध धर्म, भारतीय अर्थव्यवस्था, तकनीक, भारतीय महिलाओं, भगवान श्रीकृष्ण और भारतीय संस्कृति जैसे विषयों पर काफी विस्तार में लिखा है। आज से 50 साल पहले दीनदयाल ने पाकिस्तान और चीन को लेकर अपने लेखों में जिस तरह की आशंकाएं जताई थीं, आज उसी तरह की परिस्थितियां देश के सामने मौजूद हैं।

उनकी दूरदृष्टि का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि 1961 में एक लेख में उन्होंने फिरोजपुर में सतलुज के किनारों पर पाकिस्तानी कब्जे या भारतीय क्षेत्र से बहने वाली इचामती नदी के इस्तेमाल की अनुमति को भारत की रणनीतिक हार करार दिया था। उन्होंने लिखा था कि भविष्य में इसे लेकर भारत को समस्याओं का सामना करना पड़ेगा। दीनदयाल उपाध्याय का कहना था कि सीमाओं की सुरक्षा केवल सेना पर नहीं, बल्कि सीमावर्ती इलाकों में रहने वाले लोगों के पक्के इरादों पर भी निर्भर करती है। उनका मानना था कि देश के विकास के लिए विदेशी मॉडल पर आश्रित नहीं होना चाहिए।

उनके लेखन को एकात्म मानव दर्शन अनुसंधान एवं विकास प्रतिष्ठान के चेयरमैन महेश चंद्र शर्मा ने संकलित और संपादित किया है। महेश चन्द्र शर्मा ने कहा, 'यदि इस विषय पर 30 साल पहले काम होता तो दीनदयाल जी के लेखन और जीवनी को समेटने के लिए कम से कम 30 खंड लगते लेकिन कई पत्रों समेत उनके लेखन का बड़ा हिस्सा अब उपलब्ध नहीं है। इस वजह से दीनदयाल जी का पूरा साहित्य हम संकलित नहीं कर पाए हैं।' महेश चन्द्र शर्मा ने कहा कि दीनदयाल उपाध्याय के आलेखों, भाषणों, वक्तव्यों और विविध संवादों ने भारतीयता के अधिष्ठान पर तत्कालीन समस्याओं का विवेचन, विश्लेषण एवं समाधान प्रस्तुत किया।

गौरतलब है कि एकात्म मानवतावाद का सिद्धांत देने वाले पंडित दीनदयाल उपाध्याय को सामाजिक-राजनैतिक दर्शन के लिए जाना जाता है। दीनदयाल संपूर्ण वाङ्मय को प्रभात प्रकाशन द्वारा प्रकाशित किया जा रहा है। राजस्थान से पूर्व राज्यसभा सांसद महेश चंद्र शर्मा पिछले 30 सालों से दीनदयाल उपाध्याय के जीवन और उनके लेखन पर काम कर रहे हैं। उन्होंने इस वाङ्मय के सभी खंडों को आरएसएस के पूर्व सरसंघचालक एमएस गोलवरकर और जनसंघ के संस्थापक श्यामा प्रसाद मुखर्जी को समर्पित किया है। इस वाङ्मय में कांग्रेस सदस्य संपूर्णानंद, गांधीवादी स्कॉलर धर्मपाल तथा 92 वर्षीय संघ के वरिष्ठ प्रचारक एमजी वैद्य ने भी काफी सहयोग किया है।

-----------------

संघ के स्वयंसेवक से लेकर जनसंघ के अध्यक्ष के रूप में और जीवन के अंतिम क्षण तक दीनदयाल जी के जीवन में स्व का कोई स्थान नहीं था, उनका पूरा जीवन इस देश की संस्कृति और इस देश के हित को समर्पित थाः अमित शाह

Newslalkar December 30, 2016

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने आज इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान, लखनऊ (उत्तर प्रदेश) में पंड़ित दीनदयाल उपाध्याय संपूर्ण वाड्मय के लोकार्पण अवसर पर एक सम्मेलन को संबोधित किया और लोगांे स पंड़ित दीनदयाल उपाध्याय जी के जीवन से प्रेरणा लेकर देश हित में काम करने का आह्वान किया। ज्ञात हो कि पंड़ित दीनदयाल उपाध्याय जी जन्मशती की शुरूआत 25 सितम्बर को ही हो चुकी है। लेकिन देश के हर राज्य की राजधानी में भी इस कार्यक्रम को आयोजित करना तय किया गया है, जिसके तहत आज पंड़ित दीनदयाल उपाध्याय सम्पूर्ण वाड्मय का विमोचन उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में हुआ।
भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी और प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में केन्द्र सरकार, दोनों पंड़ित दीनदयाल उपाध्याय जी की जन्मशती को मना रही है। उन्होंने कहा कि केन्द्र की भारतीय जनता पार्टी सरकार ने तय किया है कि दीनदयाल जी के अंत्योदय के सिद्धान्त को चरितार्थ करने के लिये जन्मशती वर्ष को गरीब कल्याण वर्ष के रूप में मनाया जाएगा।

शाह ने कहा कि देश के पुनर्निर्माण में हर क्षेत्र में काम करने वाले कार्यकर्ता के लिये, राष्ट्रभक्त के लिये यह किसी ग्रंथ से कम नहीं हैं। उन्होंने कहा कि संघ के स्वयंसेवक से लेकर जनसंघ के अध्यक्ष के रूप में और जीवन के अंतिम क्षण तक दीनदयाल जी के जीवन में स्व का कोई स्थान नहीं था। उनका पूरा जीवन इस देश की संस्कृति और इस देश के हित को समर्पित था। उन्होंने कहा कि इतना बड़ा व्यक्तित्व जिसने जनसंघ की स्थापना के समय से काम किया, आज भारतीय जनता पार्टी के रूप में जिस संगठन के 11 करोड़ से अधिक सदस्य हैं, जो विश्व की सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी है, जिसके पास 1000 से अधिक विधायक है, 300 से ज्यादा सांसद हैं, 13 राज्यों में सरकारें हैं और केन्द्र में पूर्ण बहुमत की सरकार है, ऐसे संगठन की स्थापना करने वाले, उसके सिद्धान्तों को शब्द रूप देने वाले, उस संगठन की कार्यपद्धति को बनाने वाले एवं हर राज्य में संगठन की ईकाई को सींचने वाले व्यक्ति श्री दीनदयाल उपाध्याय जी के बारे में आज भी लोगों से पूछा जाय तो बहुत कम लोग उनके बारे में जानते हैं। उन्होंने कहा कि मैं इसको बिल्कुल बुरा नहीं मानता, एक व्यक्ति के जीवन में इससे बड़ी कोई ऊंचाई हो ही नहीं सकती। उन्होंने कहा कि उनके काम को तो पूरा देश, पूरी दुनिया जानती है, मगर उस व्यक्ति को कोई नहीं जानता, इस प्रकार का जीवन जीना अपने आप में एक बहुत बड़े व्यक्तित्व का लक्षण हैं।

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि जब देश आजाद हुआ और पंड़ित जवाहर लाल नेहरू के नेतृत्व में देश में एक नई सरकार बनीं और उस सरकार ने जब नीतियों को बनाना शुरू किया तो उस वक्त कई बुद्धिजीवियों और मनीषियों को लगा कि देश के लिये बन रही नीतियां पाश्चात्य नीतियों के प्रभाव में बनाई जा रही है, उसमें देश की मिट्टी की सुगंध नहीं है और इसी कारण श्री श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने मंत्रिमंडल से त्यागपत्र दे दिया और जनसंघ की स्थापना की नींव डाली गई।

शाह ने कहा कि अगर कोई मानता है कि जनसंघ की स्थापना एक बहुत बड़े राजनीतिक दल के रूप में प्रतिस्थापित करने के लिये की गई थी। राजनीतिक वैभव प्राप्त करने के लिये की गई थी तो यह गलत है। उन्होंने कहा कि उस वक्त तो दूर-दूर तक सरकार बनने की कोई संभावना भी नहीं बनती थी। उन्होंने कहा कि जनसंघ की स्थापना का निर्णय सत्ता प्राप्त करने के लिये नहीं बल्कि देश को एक वैकल्पिक नीति देने के लिये की गई थी। उन्होंने कहा कि उस वक्त कई मनीषियों को लग रहा था कि नेहरू सरकार देश के लिये जो नीतियां बना रही है, उन नीतियों के रास्ते पर यदि यह देश चलता रहा तो पीछे मुड़ने का भी रास्ता नहीं मिलेगा, उन्हें लगा कि इन नीतियों के सामने एक वैकल्पिक नीति रखना बहुत जरूरी है। जिसमें मिट्टी की सुगंध हो।

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि देश की कृषि नीति कैसी हो, विदेश नीति कैसी हो, अर्थ नीति कैसी हो, रक्षा नीति कैसी हो, शिक्षा नीति कैसी हो इसके लिये जनसंघ की स्थापना हुई थी। उन्होंने कहा कि आज के समय में यदि कोई जनसंघ और कांग्रेस में मूलभूत अंतर स्पष्ट करने को कहे तो अंतर यह है कि कांग्रेस देश का नवनिर्माण करना चाहती थी जबकि जनसंघ देश की गौरवपूर्ण विरासत के आधार पर देश का पुनर्निर्माण करना चाहती थी। उन्होंने कहा कि जनसंघ का मानना था कि भारतीय संस्कृति की विरासत सर्वोच्च थी, कुछ परिस्थितियां ऐसी आ गई कि देश को गुलाम होना पड़ा, हमें अपनी सांस्कृतिक विरासत की नींव पर ही देश का पुनर्निर्माण करना चाहिये। उन्होंने कहा कि जब इस सिद्धान्त को बनाने के लिये और उन सिद्धान्तों के आधार पर भविष्य की राजनीति को एक नई दिशा देने के लिये जनसंघ की स्थापना हुई तो कई मनीषियों ने उसमें अपना अहम योगदान दिया, उसमें श्री श्यामा प्रसाद जी, कुशाभाऊ ठाकरे जी, अटल जी, आडवाणी जी, राजमाता विजयाराजे सिंधिया जी, कई सारे अग्रणी नेता थे लेकिन उन नीतियों को सुचारू रूप से शब्द देने का काम यदि किसी ने किया तो वह निस्संदेह पंड़ित दीनदयाल उपाध्याय जी थे।

शाह ने कहा कि पंड़ित दीनदयाल उपाध्याय जी ने हर क्षेत्र में अपने विचार बेबाकी से रखे, वे विचार 50 सालों बाद आज भी उतने ही प्रासंगिक है जितने उस वक्त थे, उनके विचार आज भी शाश्वत है। उन्होंने कहा कि पहली बार देश में यदि गैर कांग्रेसी सरकार देश में और उत्तर प्रदेश में भी बनी थी तो इसका सम्पूर्ण श्रेय पंड़ित दीनदयाल जी को जाता है। उन्होंने कहा कि जनसंघ की अन्य दलों के साथ बैठने की भूमिका तैयार करने का जो प्रयास हुआ, उसमें पंड़ित दीनदयाल जी की दूरदृष्टि थी, उनकी नजर में यह विचार प्रतिस्थापित करना बहुुत जरूरी था कि देश में कांग्रेस के अलावा भी कोई अन्य पार्टी भी शासन कर सकती है, उसके बाद जनता तय करे कि सारे दलों में कौनसा दल अच्छा है।

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि एकात्म मानववाद और अंत्योदय को अलग नहीं किया जा सकता मगर एकात्म मानववाद में बहुत सारी चीजों को पंड़ित दीनदयाल उपाध्याय जी ने एक भारतीय दृष्टिकोण का काम किया था। उन्होंने कहा कि पंड़ित दीनदयाल जी ने उस वक्त जलवायु समस्या को गंभीरता से रखा था। जब बहुत लोग इस समस्या के प्रति गंभीर नहीं थे, उन्होंने स्पष्ट रूप से कहा था कि प्रकृति का शोषण नहीं होना चाहिये। उन्होंने कहा कि विकास को लेकर भी पंड़ित दीनदयाल जी के विचारों में स्पष्टता थी, उनके अनुसार विकास की पंक्ति में अंतिम खड़े व्यक्ति को पंक्ति में पहले खडे़ व्यक्ति के समकक्ष लाया जाना चाहिये, यदि ऐसा हुआ तो देश का विकास अपने आप हो जाएगा। इस तरह की अंत्योदय के सिद्धान्त की परिकल्पना पंड़ित दीनदयाल उपाध्याय जी ने की थी।


शाह ने कहा कि व्यक्ति से समष्टि तक की समग्रता से चिंतन करते हुए जो एकात्म मानव दर्शन दीनदयाल जी ने दिया है, मैं मानता हूं कि यह न केवल भारत, न केवल भारतीय जनता पार्टी बल्कि पूरी दुनिया की समस्याओं का समाधान करने में सक्षम हैं।

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि जनसंघ की स्थापना के बाद इसे चलाने के लिये कार्यपद्धति के निर्माण में भी पंड़ित दीनदयाल जी का विशेष योगदान रहा। उन्होंने कहा कि चाहे व्यक्ति निर्माण की बात हो, संगठन निर्माण की बात हो या फिर संघ की कार्यपद्धति को राजनीति में ढ़ालने की बात हो, हर समस्या को पंड़ित दीनदयाल जी ने बड़ी सरलता के साथ हल करने का काम किया। उन्होंने कहा कि दीनदयाल ने बिना भाषण दिए लाखों कार्यकर्ताओं का मार्गदर्शन करने का काम किया। उन्होंने कहा कि संगठन आंतरिक लोकतंत्र, सबसे पहले देश उसके बाद पार्टी, अंत में मैं और सिद्धान्तों की राजनीति- इन सबकी घूंटी दीनदयाल जी ने जनसंघ के कार्यकर्ताओं को जो पिलाई वह आज भी भाजपा के कार्यकर्ताओं को संस्कारित कर रही है। उन्होंने कहा कि उसी कार्यपद्धति पर आज भी भारतीय जनता पार्टी चल रही है और इसी विचारधारा के कारण 10 सदस्यों द्वारा जनसंघ के रूप में बोया गया बीज आज 11 करोड़ से अधिक सदस्यों के वटवृक्ष के रूप में पूरे देश के सामने खड़ा है। उन्होंने कहा कि इसी के कारण आज हम यह गर्व से कह सकते हैं कि भारतीय जनता पार्टी सभी पार्टियों से अलग है। भारतीय जनता पार्टी एक ऐसी पार्टी है जिसकी नींव एक ऐसे व्यक्ति ने रखी थी, जो कभी अपने लिये सोचता ही नहीं था।

शाह ने कहा कि केन्द्र में श्री नरेन्द्र भाई की सरकार भी दीनदयाल जी के सिद्धान्तों पर ही चल रही है। उन्होंने कहा कि अंत्योदय को किस प्रकार से कोई सरकार चरितार्थ कर सकती है, उसका सबसे बड़ा उदाहरण भारतीय जनता पार्टी की नरेन्द्र मादी सरकार है। उन्होंने कहा कि 2014 में भाजपा की सरकार बनने के वक्त इस देश में 60 करोड़ लोगों के पास बैंक अकाउंट नहीं था तब प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र भाई मोदी ने लाल किले की प्राचीर से देश के गरीबों को देश के अर्थतंत्र से जोड़ने का आह्वान किया और एक ही साल में लगभग 20 करोड़ से अधिक लोगों को प्रधानमंत्री जन-धन योजना से जोड़ा गया। उन्होंने कहा कि देश में आज तक जितनी भी योजनाएं बनती थी, उसमें गरीब की चिंता कभी की ही नहीं जाती थी, खैरात देकर गरीबों के वोट बटोर लिये जाते थे मगर उनके जीवन को ऊपर उठाने का प्रयास कभी नहीं किया गया। प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना का उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा कि इस योजना के तहत 5 सालों में देश के 5 करोड़ गरीब परिवारों के घर में गैस पहुंचाने का काम किया, यह अंत्योदय का सबसे बड़ा उदाहरण है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने गिव इट अप के माध्यम से देश के सम्पन्न लोगों से सब्सिड़ी छोड़ने की अपील की और देश के एक करोड़ 20 लाख से अधिक लोगों ने प्रधानमंत्री के एक आह्वान पर अपनी सब्सिड़ी को छोड़ने का काम किया ताकि गरीबों के घरों में गैस पहुंच सके।

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि इस कार्यक्रम के माध्यम से पंड़ित दीनदयाल उपाध्याय संपूर्ण वाड्मय का उŸार प्रदेश की जनता से परिचय कराया गया है। उन्होंने कहा कि मैं इस मंच के माध्यम से पंड़ित दीनदयाल उपाध्याय जी की जन्मशती के मौके पर भारतीय जनता पार्टी और विचार परिवार के कार्यकर्ताओं से अपील करता हूं कि इस जन्मशती वर्ष में हर कार्यकर्ता गरीबों की भलाई, देश के विकास अथवा पार्टी के विकास के लिये एक संकल्प अवश्य लें। उन्होंने कहा कि यदि भाजपा के 11 करोड़ कार्यकर्ता एक-एक संकल्प लेते हैं तो 11 करोड़ संकल्प की ताकत देश को बदलने में बहुत बड़ा योगदान करेगा और यही पंड़ित दीनदयाल जी के प्रति सच्ची श्रद्धांजलि होगी।



--------------------------

नोटबंदी के बाद राजनीतिक को भी सुथारेंगे ताकि

 खर्च रहित चुनाव जीता जाए: अमित शाह

By Stefi Sawhneym - 10th January 2017

पटना, (जेपी चौधरी) : पंडित दीनदयाल उपाध्याय के संपूर्ण वाड्मय पुस्तक का 15 खंडों का लोकार्पण आज श्रीकृष्ण मेमोरियल हॉल पटना में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह, संपादक मंडल डा. महेशचन्द्र शर्मा, संपादक डा. राम बहादुर राय ने की। पं. दीनदयाल उपाध्याय के जयंती समारोह को हम गरीबी निवारण दिवस के रूप में मनायेंगे, क्योंकि आजादी के 70 साल आज भी गरीब अंतिम पायदान में हैं उन्हें विकास की किरण दिखाई नहीं दे रही।

नोटबंदी लाने के लिए हमलोग कालेधन को बाहर निकाले, आज भी लाखों की संख्या में लोग दस लाख से ज्यादा कमाते हैं मगर जब इनकम टैक्स देने की बारी आती है तो वे नहीं देते हैं। अब हमलोगों को दीनदयाल उपाध्याय के जयंती पर तीन योजनाओं की शुरूआत करनी है-राजनीतिक में सुधार, कालाधन को निकालना, खर्च रहित चुनाव जिससे नेता जीत सकें। राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री शाह ने कहा कि आजादी के 70 साल के बाद देश के प्रधानमंत्री लालकिले से कहा था कि 60 करोड़ परिवारों के पास बैंक एकाउंट नहीं है।

मोदी सरकार ने जन-धन योजना शुरू की। आपको ताजुब्ब होगा कि 27 करोड़ लोगों का बैंक में एकाउंट खुला। एलपीजी गैस पहले सब्सिडी वितरक को दी जाती थी अब आधार कार्ड के माध्यम से दिल्ली से सीधा लाभार्थियों के खाते में पैसा ट्रांसफर हो जा रहा है। जिससे एक साल में 14 हजार 9 सौ करोड़ रुपये की बचत हुई। पहले बिचौलिये रुपया खा जाते थे अब उनकी इनकम बंद हो गयी। लाल बहादुर शास्त्री ने कहा था कि अमेरीका से अनाज मंगा रहे हैं उनका दवाब बराबर रहता है इसलिए आप लोग शनिवार को चावल खाना छोड़ दीजिये।

उसी तरह मोदी सरकार ने सभी को आश्वासन दिया कि जो नेता, अधिकारी, संपन्न व्यक्ति हैं, वे सब्सिडी छोड़ दें। आज एक करोड़ 37 लाख वाले लोग सब्सिडी गैस छोड़ दिये। उज्जवला योजना हम लोग गरीबों को दे रहे हैं गरीब मां-बहने लकड़ी से खाना बनाती थी उनकी आंख चली जाती थी उनके लिए हम लोग एलपीजी गैस उज्जवला योजना शुरू किया। जिसमें आने वाले दिनों में 80 करोड़ गरीबों को फायदा होने वाला है। सरकार योजना बना रही है और उसी पर अमल करती है। कालाधन की लड़ाई हमने शुरू की।

श्री शाह ने कहा कि जब पं. दीनदयाल उपाध्याय ने जनसंघ पार्टी की नींव रखी थी उस समय दस लोग भी पार्टी में सदस्य नहीं थे। आज वही जनसंघ भाजपा पार्टी में बदल गयी अब भाजपा में 11 करोड़ लोग सदस्य हैं अगर 11 करोड़ लोग शपथ ले तो एक दिन में भारत बदल जायेगा। कोई आदमी शपथ ले कि हम ट्रॉफिक नहीं तोंड़ेंगे, भ्रष्टïचार रोकेगे, गरीबों का उत्थान करेंगे। अगर ये सभी संकल्प ले तो पं. दीनदयाल उपाध्याय का सपना साकार होगा और इस वर्ष उनका जयंती गरीब कल्याण वर्ष के रूप में मनाया जायेगा। यह दूसरे राजनीतिक पार्टी की तरह कागज पर नहीं होगा।

गरीबों का कल्याण का काम करेंगे। पटना से दरभंगा चले जाईये पं. दीनदयाल के बारे में पूछिये उन्हें मालूम नहीं है। मगर पं. दीनदयाल के चलते आज हमारी पार्टी में गाइड लाइन है कुशल विचार है लोगों के बीच जाकर काम करते हैं। उन्होंने बताया कि पं. दीनदयाल उपाध्याय, श्यामा प्रसाद ने जनसंघ की स्थापना उस समय की थी जब भ्रष्टïचार की शुरूआत नहीं हुई थी और लोग जीवन सादगी रूप से जीते थे।

एक तरफ नेहरू निर्माण शुरू हुआ था दूसरी तरफ जनसंघ की स्थापना हुई थी। आज जनसंघ बदल कर भाजपा बन गयी। जब जनसंघ पार्टी बनाई थी उस समय मालूम नहीं था हमारे एमपी जीतेंगे। पं. दीनदयाल उपाध्याय सारा जिन्दगी गरीबों के लिए लड़ाई लड़ते रहे। उनका विश्वास पर मुणे खुशी है कि हमारे जैसे भाजपा के छोटे कार्यकर्ता जहां मैं आज राष्ट्रीय अध्यक्ष हॅू और शताब्दी वर्ष मना रहा हॅू। इस अवसर पर रवीन्द्र राय, केन्द्रीय मंत्री राजीव प्रताप रूडी, रविशंकर प्रसाद, धर्मेन्द्र प्रधान, रामकृपाल यादव, सांसद अश्विनी कुमार चौबे, मंत्री गिरिराज सिंह, प्रतिपक्ष के नेता डा. प्रेम कुमार, नंदकिशोर यादव, डा. विजय कुमार सिन्हा उपस्थित थे। धन्यवाद ज्ञापन विधायक संजीव चौरसिया ने की।













बुधवार, 25 जनवरी 2017

स्वाभिमान के साथ जीना क्षत्रिय धर्म है : मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे जी



श्री तनसिंह ने निभाया सच्चा क्षत्रिय धर्म

25 जनवरी, 2017

       मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे जी  ने कहा कि पूज्य श्री तनसिंह जी ने हमेशा सच्चे क्षत्रिय का धर्म निभाया। आज जब भी हम उनका स्मरण करते हैं, हमारे जेहन में एक ऐसे इंसान की तस्वीर उभर आती है जिसने मसीहा बनकर समाज की सेवा की।

      श्रीमती राजे बुधवार को जोधपुर के बीजेएस स्कूल स्टेडियम में श्री तनसिंह जयन्ती समारोह में उपस्थित हजारों लोगों को सम्बोधित कर रही थीं। उन्होंने कहा कि पूज्य तनसिंह जी गुणों की खान थे। वे क्षत्रिय समाज के लिए एक उच्च आदर्श थे। इसलिए आज उनकी 93वीं जयन्ती पर उनको श्रद्धांजलि देने के साथ-साथ हम सबको यह प्रण लेना चाहिए कि हम उनके बताए रास्ते पर चलेंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि तनसिंह जी एक समाज सेवी, अध्यात्मिक व गंभीर विचारक, पत्रकार और साहित्यकार भी थे। उन्होंने 22 दिसम्बर, 1946 को उन्होंने मलसीसर हाउस में श्री क्षत्रिय युवक संघ की विधिवत स्थापना की। तब से ही श्री क्षत्रिय युवक संघ समाज को नई दिशा देने में जुटा हुआ है। उन्होंने कहा कि ’प्राण जाई पर वचन न जाई’ जैसे सिद्धान्त पर अडिग रहना तथा वफादारी एवं स्वाभिमान के साथ जीना क्षत्रिय धर्म है। उन्होंने महिलाओं के सम्मान और उनकी रक्षा को भी क्षत्रिय धर्म बताया।

श्रीमती राजे ने कहा कि ऐसी पवित्र आत्मा के जयन्ती समारोह में आने का मुझे अवसर मिलना सौभाग्य की बात है। उन्होंने इसके लिए श्री क्षत्रिय युवक संघ का आभार प्रकट किया। उन्होंने कहा कि 36 की 36 कौमों और सभी मजहबों को गले लगाना क्षत्रिय धर्म है। संस्कार, स्वाभिमान, समर्पण और करुणा का भाव क्षत्रियों की पहचान है। उन्होंने कहा कि क्षत्रिय समाज एक ऐसा समाज है जिसने जाति-धर्म से ऊपर उठकर इंसानियत की सेवा की है, जिसने स्वाभिमान के लिए अपना सर्वस्व न्यौछावर किया है और हमेशा चुनौतियों का सामना करना सिखाया है।



मुख्यमंत्री ने कहा कि बदलते दौर में क्षत्रिय समाज महिला शिक्षा को बढ़ावा देने में भी पीछे नहीं रहा। श्री क्षत्रिय युवक संघ जैसी संस्थाएं ऐेसे कामों में हमेशा आगे रही हैं। मेरा श्री क्षत्रिय युवक संघ से निवेदन है कि महिला शिक्षा पर और अधिक जोर दें। सभी समाजों की बेटियों को आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करें।

श्रीमती राजे ने कहा कि आपकी ऊर्जा, आपका जोश, आपका स्नेह, आपका आशीर्वाद, आपका समर्थन, आपका साथ हमारे लिए संजीवनी है। जो हमें आपकी उन्नति, 36 की 36 कौम के उत्थान और प्रदेश के सर्वांगीण विकास के लिए सम्बल प्रदान करते हैं। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार स्वाभिमानी, सशक्त और समृद्ध राजस्थान के सपनों को साकार करने में कोई कसर नहीं छोड़ेगी।

मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर अपनी माताजी श्रीमती विजया राजे सिंधिया की पुण्यतिथि पर उन्हें याद करते हुए कहा कि उन्होंने पर्दा प्रथा जैसी सामाजिक कुरीतियों को तोड़ने की हिम्मत दिखाई। उन्होंने महिलाओं को मुख्य धारा में लाने के लिए बालिका शिक्षा को बढ़ावा देने का महत्वपूर्ण काम किया।

इस अवसर पर श्री क्षत्रिय युवक संघ के प्रमुख श्री भगवान सिंह रोलसाहब सर ने कहा कि श्री तनसिंह के सिद्धान्तों और दर्शन को समझना एक कठिन कार्य है। उन्होंने कहा कि तनसिंह जी ने अपने जीवन काल में हजारों जीवन प्रदीप्त किए। आज श्री क्षत्रिय युवक संघ के माध्यम से हजारों युवा समाज के लिए कठिन से कठिन दायित्व निभाने को तत्पर हैं।

इस अवसर पर श्री तनसिंह जी की तस्वीर पर मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे, केन्द्रीय राज्यमंत्री श्री पीपी चौधरी, मंत्री श्री राजेन्द्र राठौड़, श्री गजेन्द्र सिंह खींवसर, श्री सुरेन्द्र गोयल, राज्य बीज निगम के अध्यक्ष श्री शम्भूसिंह खेतासर, जोधपुर मेयर श्री घनश्याम ओझा, सांसद, विधायक एवं क्षेत्रीय जनप्रतिनिधियों ने पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी।

जयपुर/जोधपुर, 25 जनवरी 2017

मंगलवार, 24 जनवरी 2017

सुराज के लिए मोदी कप की हकदार मुख्यमंत्री श्रीमती राजे - केन्द्रीय मंत्री श्री अनन्त कुमार











सुराज के लिए मोदी कप की हकदार मुख्यमंत्री श्रीमती राजे - केन्द्रीय रसायन एवं उर्वरक मंत्री श्री अनन्त कुमार


24 जनवरी, 2017

केन्द्रीय रसायन एवं उर्वरक मंत्री श्री अनन्त कुमार ने कहा है कि देश में सुराज के लिए मोदी कप की हकदार राजस्थान की मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे हैं। उन्होंने कहा कि जिस तरह किक्रेट में प्रथम विजेता को राजमाता ट्राफी देकर पुरस्कृत किया जायेगा, उसी तरह जो विकास और सुशासन में जीतेगा उनको ‘नरेन्द्र मोदी कप’ मिलेगा। यदि पूरे भारत वर्ष के सभी प्रदेशों में सुशासन और विकास के लिए किसी को मोदी कप दिया जाए, तो उसकी हकदार मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे हैं। केन्द्रीय मंत्री अनन्त कुमार मंगलवार को श्रीमती राजे की मौजूदगी में झालावाड़ के राजमाता विजयाराजे सिंधिया खेल संकुल में आयोजित विशाल जनसभा को सम्बोधित कर रहे थे। इस अवसर पर 1126 करोड़ के विकास कार्यों के शिलान्यास एवं लोकार्पण किये गये।

केन्द्रीय रसायन एवं उर्वरक मंत्री ने कहा कि राजस्थान में सुराज व सुशासन के तीन साल पूरे हुए हैं। इस दौरान जो कल्याणकारी योजनाओं का सूत्रपात किया गया है उससे आमजन को सीधा लाभ मिल रहा है। उन्होंने राज्य की भामाशाह योजना की प्रशंसा करते हुए कहा कि इससे बिना किसी मध्यस्त के सरकारी योजनाओं का शत-प्रतिशत पैसा लाभार्थी के खाते में जमा हो रहा है।

राजश्री योजना के राजदूत बनेंगे श्री अन्नत कुमार
केन्द्रीय मंत्री ने मुख्यमंत्री राजश्री योजना को देश भर में अनुकरणीय पहल बताते हुए कहा कि वे इस योजना का राजदूत बनकर हर राज्य में इसकी जानकारी देंगे और इसका प्रचार-प्रसार करेंगे ताकि इस योजना को वहां भी अपनाया जा सके। उन्होंने कहा कि राजस्थान सरकार ने फ्लेगशिप योजनाओं के माध्यम से विकास की गति को बढ़ाया है, जिससे राजस्थान बीमारू राज्य की श्रेणी से बाहर आया है।

अन्नपूर्णा भण्डार पर मिलेंगी दवाईयां भी
केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि अन्नपूर्णा योजना गांव व गरीबां के लिए वरदान है। केन्द्र सरकार प्रधानमंत्री जन औषधि योजना के तहत जैनरिक दवाओं की पहुंच आमजन तक पहुंचाने के लिए राज्य सरकार के साथ अतिशीघ्र एमओयू करेगी। इसके बाद अन्नपूर्णा भण्डार को ढाई लाख रूपये दिये जायेंगे। जिससे अन्नपूर्णा भण्डार 600 प्रकार की जैनरिक दवाइयां रख सकेगा। इस योजना का लाभ ग्रामीणों को होगा।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्रीमती राजे ने कहा कि आमजन की भागीदारी से विकास में कीर्तिमान स्थापित किए है। उन्होंने कहा कि सरकार ने प्रत्येक आयु वर्ग के लोगों के उत्थान के लिए योजनाएं बनाई है और उनकी बेहतर तरीके से क्रियान्विति की है। इन तीन सालों में उनकी सरकार ने सुराज की कल्पना को साकार किया और हर गांव, हर ढ़ाणी, हर व्यक्ति तक विकास पहुचाने का प्रयास किया। उन्होंने सरकार की फ्लेगशिप योजनाओं के द्वारा आमजन को मिले लाभ की चर्चा करते हुए कहा कि देश भर में राज्य की योजनाओं की प्रशंसा की जा रही है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि केन्द्र एवं राज्य सरकार मिलकर राजस्थान के नवनिर्माण के लिए जिस सोच के साथ कार्य कर रहे हैं उससे राज्य में निश्चित ही विकास की गंगा और अधिक तेज गति से बहेगी। उन्होंने समारोह में सौगातों की झड़ी लगाते हुए कहा कि परवन सिंचाई परियोजना का कार्य भी मार्च तक शुरू कर दिया जायेगा। परियोजना के क्रियान्वयन में आ रही बाधाओं को दूर कर लिया गया है। बरसों से चली आ रही इस मांग के पूरा होने से कोटा, झालावाड एवं बारां जिलों के किसान लाभान्वित होंगे। समारोह में राजमाता विजयाराजे सिंधिया की स्मृति में आयोजित क्रिकेट प्रतियोगिता के फाईनल मैच में विजेता टीम को शील्ड देकर सम्मानित भी किया।

केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि झालावाड मेडिकल कॉलेज को इंस्टीट्यूट में क्रमोन्नत करने हेतु सरकार ब्लू प्रिंट तैयार करें, बजट की कमी नहीं आने दी जायेगी। आने वाले दो साल में सभी कार्य पूर्ण किये जायेंगे। उन्होंने राज्य के चितौडगढ जिले में सिंगल सुपरफास्फेट का प्लांट लगाये जाने, गढेपान में 13 लाख मैट्रिक टन उत्पादन क्षमता के एक और यूरिट प्लांट की स्थापना करने की घोषणा भी की। उन्होंने कहा कि राज्य के कारखानों को समय पर रसायन मिले इसके लिए फोरेंसिस सेन्टर देने के लिए भी केन्द्र सरकार तैयार है। इसके लिए 100 करोड रूपये का बजट भी उपलब्ध कराकर शीघ्र कार्य शुरू किया जायेगा।


इन विकास कार्यों का किया शिलान्यास एवं लोकार्पण

  लोकार्पण/शुभारंभ लागत रुपये में                               कुल 1126.37 करोड़

1. राज्य होटल प्रबंध संस्थान, उदयपुर का शुभारंभ 5.57 करोड़
2. एसडीओ कार्यालय एवं तहसील भवन असनावर 1.75 करोड़
3. सुलिया सुनेल पिडावा सड़क के पुनरुद्धार कार्य 81.81 करोड़
4. सांख्यिकी भवन 0.30 करोड़
5. आहू नदी एवं कालीसिंध के जल ग्रहण क्षेत्र में निर्मित 8 एनीकट क्रमशः गिरधरपुरा, पीपलिया, उरमाल, सामरिया, लालगांव खामनी, सांखली, धनवास एवं लालजी का खेडा 24.54 करोड़
6. 9 राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालयों के भवन 3.40 करोड़
7. अभियांत्रिकी महाविद्यालय झालावाड़ में सेन्ट्रल लाइब्रेरी, कम्प्यूटर सेन्टर, जिम्नेजियम, सिविल अभियांत्रिकी एवं इलेक्ट्रिक अभियांत्रिकी विभाग के भवन 9.98 करोड़
8. नौलक्खा किला स्मृति वन, झालरापाटन 1.13 करोड़
9. 132 केवी जीएसएस रूपारेल 14.74 करोड़
10. शहरी स्वास्थ्य केन्द्र धनवाड़ा, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र झा.पाटन एवं पिड़ावा, कोल्ड चेन निर्माण 2.10 करोड़

शिलान्यास
1. राष्ट्रीय औषधीय शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान (नाईपर) भवन 500 करोड़
2. राज्य होटल प्रबन्ध संस्थान भवन, झालावाड़ 13.28 करोड़
3. खाद्य कला संस्थान भवन, धौलपुर 6.45 करोड़
4. राज्य होटल प्रबन्ध संस्थान भवन, सवाईमाधोपुर 13.35 करोड़
5. खाद्य कला संस्थान भवन, बारां 6.45 करोड़
6. 69 ग्रामीण गौरव पथ कार्य 41.40 करोड़
7. 33 मीसिंग लिंक सड़क कार्य 57.82 करोड़
8. 28 नॉन पेचेबल सड़क कार्य 34.74 करोड़
9. झालरापाटन, पिड़ावा, भवानीमण्डी, अकलेरा में शहरी गौरव पथ कार्य 10 करोड़
10. राजकीय महाविद्यालय भवन मनोहरथाना 6 करोड़
11. एनएच-12 पर चारलेन सीमेन्ट कंकरीट, नाली, फुटपाथ एवं अन्य सुरक्षा कार्य (4.2 किमी) 80.69 करोड़
12. गांवडी तालाब के किनारे पाथ-वे 7.95 करोड़
13. मेडिकल कॉलेज, झालावाड़ में पीजी हॉस्टल 17.30 करोड़
14. रोशनबाडी एवं गुराडिया लघु सिंचाई परियोजना 166.69 करोड़
15. गोविन्दपुरा एनीकट 6.22 करोड़
16. 15 राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालयों के भवन 6.92 करोड़
17. संत पीपाजी पेनोरमा 2.98 करोड़
18. पंचायत समिति भवन, भवानीमंडी 2.80 करोड़
                                                                                                             कुल 1126.37 करोड़


श्रीमती राजे और श्री अनन्त कुमार ने समारोह में सुराज प्रदर्शनी का शुभारंभ किया और जिला प्रशासन तथा सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग द्वारा प्रकाशित ‘‘जिला विकास पुस्तिका’’ का लोकार्पण किया।

इस अवसर पर सार्वजनिक निर्माण एवं परिवहन मंत्री तथा जिला प्रभारी मंत्री श्री यूनूस खान, खाद्य मंत्री श्री बाबू लाल वर्मा, सांसद श्री दुष्यंत सिंह, श्री सुखबीर सिंह जोनपुरिया, श्री अर्जुन लाल मीणा एवं डॉ. मनोज राजोरिया, संसदीय सचिव श्री नरेन्द्र नागर, जन अभाव अभियोग निराकरण समिति के अध्यक्ष श्री श्रीकृष्ण पाटीदार, राजस्थान धरोहर संरक्षण एवं प्रोन्नति प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री औंकार सिंह लखावत, जिला प्रमुख श्रीमती टीना कुमारी भील सहित विधायकगण, गणमान्य नागरिक एवं अपार जनसमूह उपस्थित थे।

झालावाड़/जयपुर 24 जनवरी 2017

हर हाल में जीतेंगे अगला चुनाव : मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजेजी















हर हाल में जीतेंगे अगला चुनाव : 

मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजेजी 


23 जनवरी, 2017

प्रदेश भाजपा कार्यसमिति की बैठक
मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे जी ने कहा कि हमारी भाजपा सरकार ने प्रदेश में विकास के नए कीर्तिमान स्थापित किए हैं। सभी कार्यकर्ता पूरी निष्ठा के साथ मेहनत से जुट जाएं, आने वाले विधानसभा चुनाव हम हर हाल में जीतेंगे और प्रदेश में एक बार फिर भाजपा की सरकार बनायेंगे।

श्रीमती राजे सोमवार को जयपुर में आयोजित प्रदेश भाजपा कार्यसमिति की बैठक को सम्बोधित कर रही थीं। उन्होंने कहा कि प्रदेश कार्यसमिति के सभी सदस्य पार्टी को मजबूत करने का ऐसा उदाहरण पेश करें, जिसको कार्यकर्ता भी फोलो करें। उन्होंने कहा कि अब चुनाव में बहुत अधिक समय नहीं है, इसलिए कार्यकर्ता पूरे जोश के साथ जुट जाएं, ताकि प्रदेश के हित में हमारी पार्टी फिर से सरकार बनाए।

हमारी पार्टी दूसरी पार्टियों से अलग
मुख्यमंत्री ने कहा कि भाजपा एक परिवार है और हम दूसरी पार्टियों से अलग हैं। हमारी विचारधारा हर व्यक्ति को साथ लेकर चलने की है, जबकि दूसरी पार्टियों की विचारधारा प्रोफेशनल है। हम पार्टी रूपी इस परिवार में एक-दूसरे से जुड़े हुए हैं और हमारे बीच किसी तरह का भेदभाव नहीं है। उन्होंने कहा कि हम पार्टी को परिवार समझकर मजबूत बनाएगें, तो कोई भी हमसे सत्ता नहीं छीन सकता।

लोगों को योजनाओं का दिलाएं अधिक से अधिक लाभ
श्रीमती राजे ने कहा कि सभी पदाधिकारी और कार्यकर्ता केन्द्र और राज्य सरकार की विभिन्न फ्लैगशिप योजनाओं का लाभ ज्यादा से ज्यादा लोगों को पहुंचाने में मदद करें, ताकि लोगों के जीवन स्तर में व्यापक सुधार हो सके। इसके लिए सभी पदाधिकारी एवं जनप्रतिनिधि पंचायत जनकल्याण शिविरों में आवश्यक रूप से उपस्थित हों। सांसद एवं विधायक कोष का उपयोग हर क्षेत्र के समग्र विकास को ध्यान में रखकर कार्यकर्ताओं और पार्टी पदाधिकारियों के समन्वय से किया जाए।

जिलाध्यक्ष और अन्य पदाधिकारी करेंगे उम्मीदवार तय
श्रीमती राजे ने कहा कि पार्टी ने जिनको जिलाध्यक्ष बनाया है या अन्य पदभार सौंपा है, वे अपने-अपने क्षेत्र से विधानसभा के ऐसे उम्मीदवारों के नाम तय करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे, जो पार्टी को जीत दिला सकें। उन्होंने कार्यकर्ताओं को मतदाता सूचियों के पुर्नरीक्षण के कार्य में भागीदारी निभाने का भी सुझाव दिया।

खेलों के माध्यम से युवाओं को जोड़ें
मुख्यमंत्री ने कहा कि जिला तथा पंचायत स्तर पर खेलों के आयोजन युवाओं को पार्टी से जोड़ने का अच्छा माध्यम हो सकते हैं। कई जिलों में यह नवाचार किया भी गया है, जिसके अच्छे परिणाम सामने आए हैं। उन्होंने कहा कि अन्य जिलों में भी किसी न किसी खेल को प्रोत्साहित करते हुए प्रतियोगिताएं आयोजित की जाएं, ताकि ज्यादा से ज्यादा युवा पार्टी से जुड़ सकें।

बैठक में प्रदेश कार्यसमिति की अगली बैठक अप्रेल माह में जोधपुर में आयोजित करने का निर्णय लिया गया। इस अवसर पर प्रदेशाध्यक्ष श्री अशोक परनामी, पार्टी के सह संगठन मंत्री और प्रदेश प्रभारी श्री वी. सतीश, सह प्रभारी श्री गोपाल शेट्टी, गृहमंत्री श्री गुलाब चंद कटारिया, केन्द्रीय मंत्रीगण, राज्य मंत्रिमण्डल के सदस्य, सांसद, विधायक एवं पार्टी पदाधिकारी मौजूद थे।

जयपुर, 23 जनवरी 2017

रविवार, 22 जनवरी 2017

पूरे हिंदू रीति रिवाज से डोनाल्ड ट्रम्प ने ली शपथ




पूरे हिंदू रीति रिवाज से डोनाल्ड ट्रम्प ने ली शपथ  ,
यही भारत में होता तो अबतक साम्प्रदयिक करार दे दिया जाता

January 22, 2017
http://www.srishtanews.com/donald-trump-hindu-ritual-for-outh/
शुक्रवार को डोनल्ड ट्रम्प ने अमेरिका के राष्ट्पति के तौर पर कार्य भार सम्भाल लिया है । अमरिका के राष्ट्पति डोनल्ड ट्रम्प ने शपथ लेने का बाद जिस तरह इस्लामिक आंतकवाद को खत्म करने की बात कही जिससे पूरी दुनिया में अंतकवाद को खत्म करने के शुर छिड़ गए।

वहीँ डोनल्ड ट्रम्प ने जब शपथ ली तो हिन्दू संस्क्रति के रीती रिवाज से ली। अगर यही भारत में हुआ होता तो अब तक उसे सम्प्रदायक गवाँर गुंडा ना जाने किस किस तरह के और पद मिल चुके होते हैं।
खेर हर हिन्दू को डोनल्ड ट्रम्प द्वारा लिए गए शपथ समारोह में पूरे हिन्दू रीती रिवाज से ली गई शपथ पर गर्व होना चाहिए।

हिन्दू धर्म ने दुनिया को शांति का पाठ पढ़ाया : इवांका ट्रम्प





डोनाल्ड ट्रम्प की बेटी की हिन्दू धर्म के बारे में राय 
जानकर सेक्युलरों की हो जायेगी बोलती बंद!
http://www.newstrend.news
नई दिल्ली – आपको शायद पता होगा कि अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की बेटी इवांका अर्ब हिन्दू समुदाय को लुभाने के लिए अपने पिता के साथ मंदिर में दिवाली मनायी थी। यह पहला मौका था जब राष्ट्रपति पद के रिपब्लिकन या डेमोक्रेटिक उम्मीदवार के परिवार का कोई सदस्य मंदिर में गया था। लेकिन अब एक ऐसी ख़बर आ रही है जिससे देश के सेक्युलर खेमे में खलबली मच जाएगी। दरअसल इवांका ने कहा है की, “मैं हिन्दू धर्म से बेहद प्रभावित हूँ तथा ये दुनिया का एक मात्र धर्म है जो मानवनिर्मित नहीं है”। Donald trump daughter celebrate Diwali.

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की बेटी ने वर्जिनिया में भारतीय-अमेरिकी समुदाय के साथ मंदिर में दिवाली मनाई थी। क्योंकि वर्जिनिया राष्ट्रपति चुनाव के लिहाज से बहुत महत्वपूर्ण था और यहां का भारतीय अमेरिकी समुदाय पारंपरिक रूप से वह डेमोक्रेटिक पार्टी का समर्थन करता रहा है। राष्ट्रपति चुनाव को दो शीर्ष उम्मीदवारों के परिवार से किसी मंदिर में जाने वाली इवानका पहली सदस्य थीं।

ट्रम्प की बेटी ने हिन्दू मंदिर में मनाई थी दिवाली –
इवांका ने अमरीका के वर्जिनिया में स्थित हिन्दू मंदिर में माता लक्ष्मी और भगवान गणेश की पूजा अर्चना किया था। आपको बता दें कि सनातन धर्म के बारे में इवानका के विचार भी बहुत अच्छे हैं। इवांका ने कहा था की, “मैं हिन्दू धर्म से बेहद प्रभावित हूँ तथा ये दुनिया का एक मात्र धर्म है जो मानवनिर्मित नहीं है”।  इवांका ने ये भी कहा की, “अमरीका एक आधुनिक देश है, जहाँ लोग मन की शांति के लिए योग, और ध्यान को करते है जो की हिन्दू संस्कृति है, हिन्दू धर्म ने दुनिया को शांति का पाठ पढ़ाया है, और मैं दीपावली पर पूजा कर शांति को प्राप्त करना चाहती हूँ”।
गौरतलब है कि डोनाल्ड ट्रम्प ने अपने चुनाव प्रचार के दौरान “आइ लव हिंदूज” और “अबकी बार ट्रम्प सरकार” जैसे स्लोगन का इस्तेमाल किया था।

महिलाएं हमेशा से ही सशक्त रही हैं : मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे



महिलाएं हमेशा से ही सशक्त रही हैं : मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे
18 जनवरी, 2017

इंडिया टुडे वुमन समिट राजस्थान-2017
मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे ने कहा है कि हमारे देश में महिलाएं कभी कमजोर नहीं रहीं, वे शुरू से ही सशक्त रहीं हैं। सामाजिक बंधनों को तोड़कर वे आगे आई हैं और अपनी प्रतिभा के बल पर यह दिखा दिया है कि नारी शक्ति कमजोर नहीं है, उसे अपना रास्ता खुद बनाना आता है।

श्रीमती राजे बुधवार को होटल हिल्टन में आयोजित इंडिया टुडे वुमन समिट राजस्थान-2017 को सम्बोधित कर रही थीं। उन्होंने कहा कि समाज में महिलाओं को लेकर पहले के मुकाबले काफी बदलाव आया है। जरूरत इस बात की है कि महिलाएं अपनी प्रतिभा को पहचानें और अपनी मंजिल चुनकर उसे हासिल करने का प्रयास करें।

शिक्षा में आगे बढ़ रहा है प्रदेश
श्रीमती राजे ने कहा कि राजस्थान कई क्षेत्रों में आगे बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में पिछले तीन सालों में परिदृश्य बदल गया है। असर रिपोर्ट-2016 का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि प्रदेश के सरकारी स्कूलों के बच्चों में लर्निंग लेवल बढ़ा है। राजस्थान देश के उन चुनिंदा राज्यों में शामिल हो गया है जहां आठवीं कक्षा के बच्चों में रीडिंग लेवल बढ़ा है। उन्होंने कहा कि राजस्थान में छात्राओं के लिए स्कूलों में शौचालय बनवाने की राज्य सरकार की मुहिम की भी रिपोर्ट में सराहना की गई है। राजस्थान को देश के उन चार राज्यों में शामिल किया गया है जहां 80 प्रतिशत से ज्यादा स्कूलों में कार्यशील शौचालय हैं। इससे छात्राओं के स्कूल छोड़ने के प्रतिशत में कमी आई है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि आज कोई सा भी क्षेत्र हो नारी-शक्ति पीछे नहीं हैं। महिलाएं अपनी प्रतिभा के बल पर व्यवसाय से लेकर राजनीति और पुलिस सेवा से लेकर इंजीनियरिंग तक हर क्षेत्र में अलग मुकाम हासिल कर रही हैं। उन्होंने कहा कि महिलाओं को सामाजिक-आर्थिक रूप से सक्षम एवं सशक्त बनाकर उन्हें बराबरी के अवसर उपलब्ध कराना राज्य सरकार की प्राथमिकता है। उन्होंने कहा कि ग्रामीण महिलाओं के स्वास्थ्य एवं पोषण स्तर में सुधार के लिए राज्य सरकार ने आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, आशा सहियोगिनी और एएनएम को एक साथ लाने की जो पहल की है उसे महाराष्ट्र जैसे राज्य में भी लागू किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के कुछ जिलों में लागू किए गए ट्रिपल ए कार्यक्रम के बहुत अच्छे परिणाम मिले हैं। इसे देखते हुए अन्य जिलों में भी राज्य सरकार इसे आगे बढ़ाएगी।

अपनी बेटियों को ज्यादा से ज्यादा पढ़ाएं
श्रीमती राजे ने कहा कि राजस्थान में संस्थागत प्रसव की संख्या बढ़ी है और इसके परिणामस्वरूप मातृ एवं शिशु मृत्यु दर के आंकड़ों में कमी आई है। उन्होंने कहा कि संस्थागत प्रसव बढ़े हैं क्योंकि महिलाएं शिक्षित हुई हैं। उन्होंने आह्वान किया कि माँ-बाप अपनी बेटियां को ज्यादा से ज्यादा पढ़ाएं ताकि उनका कल सुनहरा बन सके। उन्होंने कहा कि हमारी बेटियां ज्यादा से ज्यादा पढ़कर आगे बढ़ सके इसके लिए राज्य सरकार ने राजश्री योजना लागू की है जिसमें जन्म से लेकर 12वीं की पढ़ाई तक कुल पचास हजार रूपये दिए जाते हैं। उन्होंने कहा कि लड़कियों को ट्रांसपोर्ट वाउचर एवं स्कूटी देने की योजना बनाई गई है ताकि वे पढ़ाई करने के लिए प्रोत्साहित हों।

हमारे प्रयासों से बालिकाओं में हैप्पीनेस स्तर बढ़ा
मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने स्कूलों में छात्राओं के लिए शत प्रतिशत शौचालयों की व्यवस्था, किशोरियों के सम्पूर्ण स्वास्थ्य के लिए निःशुल्क सेनेटरी नैपकिन उपलब्ध कराने के जो प्रयास शुरू किए हैं, उनसे बालिकाओं में हैप्पीनेस का स्तर बढ़ा है। श्रीमती राजे ने कहा कि महिलाओं को आर्थिक रूप से सक्षम और सशक्त बनाने के लिए शुरू की गई भामाशाह योजना आज पूरे देश में एक मिसाल बन गई है। इस योजना के माध्यम से बिना किसी लीकेज के सरकारी योजनाओं का शत प्रतिशत पैसा लाभार्थी के खाते में पहुंच रहा है। पिछले 3 वर्ष के दौरान लगभग पांच हजार पांच सौ करोड़ रुपये लाभार्थियों के इन बैंक खातों में जमा किये गये हैं। आज 4.86 करोड़ लोग भामाशाह योजना में नामांकित हो चुके हैं।

उल्लेखनीय उपलब्धियों के लिए सात महिलाएं सम्मानित



कार्यक्रम में आंखों की खोई रोशनी वापस पाने के बाद दृष्टिहीनों के लिए काम कर रही भावना जगवानी को सामाजिक कार्य, अपने पहले प्रयास में आरजेएस टॉप करने वाली अतिरिक्त सिविल जज स्वाति व्यास को न्यायिक सेवा, सिरोही जिला प्रमुख पायल परसरामपुरिया को राजनीति, आईपीएस अधिकारी मालिनी अग्रवाल को प्रशासन, महिला उद्यमी विनी कक्कड़ को उद्यमशीलता, शूटर अपूर्वी चंदेला को खेलकूद एवं लोक गायिका इला अरूण को कला के क्षेत्र में उल्लेखनीय उपलब्धि के लिए इंडिया टुडे वुमन अवार्ड से सम्मानित किया गया। श्रीमती राजे ने पुरस्कार विजेता महिलाओं को ट्रॉफी वितरित की एवं ’नारी शक्ति का सर्वोच्च सम्मान’ पुस्तिका का विमोचन किया।

उन्होंने पुरस्कार हासिल करने वाली महिलाओं को बधाई दी और कहा कि सभी महिलाओं ने इस मुकाम तक पहुंचने के लिए बहुत संघर्ष किया है। यह पुरस्कार उन महिलाओं की बहादुरी और कठिन परिश्रम को भी दर्शाता है जो अपने-अपने क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य कर रही हैं।

इस अवसर पर इण्डिया टुडे ग्रुप के एडीटोरियल ग्रुप के श्री राज चेंगप्पा ने मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे के नेतृत्व में राजस्थान द्वारा अर्जित की गई उपलब्धियों का जिक्र करते हुए कहा कि श्रीमती राजे द्वारा महिलाओं एवं बच्चों को ध्यान में रखते हुए स्वास्थ्य सेवा के क्षेत्र में किए गए प्रयासों से राजस्थान में मातृ एवं शिशु मृत्यु दर में कमी आई है। उन्होंने शिक्षा के क्षेत्र में आए क्रांतिकारी परिवर्तन के लिए भी श्रीमती राजे की तारीफ की।

इण्डिया टुडे हिन्दी के सम्पादक श्री अंशुमान तिवाड़ी ने भी मुख्यमंत्री द्वारा किए गए श्रम सुधारों सहित विभिन्न नीतिगत सुधारों की प्रशंसा की।

जयपुर, 18 जनवरी 2017

शुक्रवार, 20 जनवरी 2017

राजस्थान भाजपा प्रदेश कार्यसमिति के 107 सदस्यों की घोषणा





राजस्थान भाजपा प्रदेश कार्यसमिति  के 107 सदस्यों की घोषणा : 
मुख्यमंत्री, केंद्रीय मंत्री व राज्य केबिनेट भी शामिल  

January 20, 2017

http://www.hellorajasthan.com

जयपुर। प्रदेश अध्यक्ष अशोक परनामी ने भाजपा प्रदेश कार्यसमिति सदस्यों की शुक्रवार को घोषणा कर दी। इनमें मुख्यमंत्री वसुंधराराजे, उनके बेटे दुष्यंत सिंह, केंद्रीय मंत्री अर्जुन मेघवाल, सीआर चौधरी तथा राज्य के केबिनेट मंत्री राजेंद्र सिंह राठौड़ व किरण माहेश्वरी सहित कई सांसदों व विधायकों को शामिल किया गया है। कार्यसमिति में भरतपुर जिले से विधायक अलका गुर्जर व डॉ. गुरदीप सिंह, धौलपुर से हरचरण सिंह, उम्मेदीलाल कुशवाह, करौली-भैरू सिंह जादौन, रामसिंह मीणा, सवाईमाधोपुर-सांसद सुखबीर सिंह जौनपुरिया, प्रेमप्रकाश शर्मा, कोटा-गोविंद सिंह परमार, ओम मेहता, सत्यभान, झालावाड़- मुख्यमंत्री वसुंधराराजे, सांसद दुष्यंत सिंह, निर्मल सकलेचा, नारायण सिंह, बूंदी-शौकीनचंद राठौड़, बारां-विधायक प्रताप सिंह सिंघवी, उदयपुर-गृहमंत्री गुलाबचंद कटारिया, सांसद अर्जुन मीणा, भगवती गरासिया, महेंद्र सिंह शेखावत, शांतिलाल चपलोत, रजनी डांगी, राजसमंद-उच्च शिक्षा मंत्री किरण माहेश्वरी, नाथुलाल गुर्जर, बांसवाड़ा-पूंजीलाल गायरी, ओम पालीवाल, बांसवाड़ा-खेमराज गरासिया, चितौडग़ढ़-चुन्नीलाल धाकड़, प्रतापगढ़-पिंकेश पोरवाल, डूंगरपुर-अनिता कटारा, दौलत सिंह राठौड़, जोधपुर-विधायक सूर्यकांता व्यास, जैरूपराम बाघेला, राजेंद्र सिंह रावणा राजपूत, धुरेंद्र मेघवाल, पाली-केंद्रीय मंत्री पीपी चौधरी, राज्यसभा सदस्य ओमप्रकाश माथुर व आशाराम बावरी को कार्यसमिति सदस्य के रूप में शामिल किया गया है। इसी तरह बाड़मेर के कान सिंह कोटड़ी, जोगराज सिंह राजपुरोहित, जालौर सांसद देवजी पटेल, पूर्व विधायक जीवाराम चौधरी, मानवेंद्र सिंह राजपुरोहित, सिरोही-तारा भंडारी, जैसलमेर- पूर्व विधायक सांग सिंह भाटी, कायमदीन कोटवाल, बीकानेर-केंद्रीय मंत्री अर्जुन मेघवाल, रामगोपाल सुथार, पूर्व विधायक देवी सिंह भाटी, बिहारीलाल बिश्नोई, पूर्व जिलाध्यक्ष जालिम सिंह, चूरू- पूर्व राज्यसभा सदस्य डॉ. महेशचंद्र शर्मा, पंचायतीराज मंत्री राजेंद्र सिंह राठौड़, विधायक खेमाराम मेघवाल, पूर्व सांसद राम सिंह कस्वां, रतन राठौड़, श्रीगंगानगर-महेंद्र सिंह सोढ़ी, हनुमानगढ़-अमर सिंह राठौड़, काशीराम गोदारा, हंसराज पूनियां, अजमेर-राज्यसभा सदस्य भूपेंद्र यादव, वदंना लोंगियां, कंवलप्रकाश, विधायक भागीरथ चौधरी, कृष्णगोपाल कोगटा, रासासिंह रावत, शंकर सिंह रावत, सरिता गैना, गोपाल धोबी, सुरेश टांक किशनगढ़ को सदस्य बनाया है।

इन्हें भी मिली कार्यसमिति में जगह
प्रदेश अध्यक्ष की ओर से जारी सूची में भीलवाड़ा से तुलसीराम शर्मा, रूपलाल जाट, विधायक कीर्ति कुमारी, नागौर-केंद्रीय मंत्री सीआर चौधरी, जिलाध्यक्ष मंजू बाघमार, जगदीश सिंह, बिंदू चौधरी, रामगोपाल गाडिया लुहार, टोंक-विधायक कन्हैयालाल चौधरी, जयपुर- रामदास अग्रवाल, पूर्वमंत्री भंवरलाल शर्मा, सांसद रामचरण बोहरा, अशोक लाहोटी, जितेंद्र सिंह सेतराहू, विधायक लक्ष्मीनारायण बैरवा, ओम पूनियां, रामस्वरूव जांगिड़, अखिल शुक्ला, जयंत पटवर्धन, सतीश पूनियां, अजय धांधिया, निर्मला चौधरी, फिरोज खां, शौभाग्य गोरडिय़ा, शंभूदयाल योगी, सीकर-हनुमान आर्य, केडी बाबर, मदनलाल सैनी, दौसा-सांसद रामकुमार वर्मा, रूप सिंह सैनी, अलवर-संजय शर्मा, बृजेश शर्मा व मुल्खराज बीका को जगह मिली है।





गुरुवार, 19 जनवरी 2017

राजस्थान में सार्वजनिक वितरण प्रणाली को मार्च 2017 तक नगदी रहित बना दिया जायेगा



राजस्थान में सार्वजनिक वितरण प्रणाली को मार्च 2017 तक नगदी रहित बना दिया जायेगा

जयपुर, 19 जनवरी । खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री श्री बाबूलाल वर्मा ने कहा कि राज्य सरकार सार्वजनिक वितरण प्रणाली के एण्ड टू एण्ड कम्प्यूटराइजेशन एवं नगदी रहित बनाने की दिशा में लगातार कार्य कर रही है और मार्च 2017 तक सम्पूर्ण राज्य की खाद्य वितरण प्रणाली को पूर्ण रूपेण नगदी रहित बना दिया जायेगा। श्री वर्मा गुरूवार को नई दिल्ली के विज्ञान भवन में केंद्रीय उपभोक्ता मामलेे खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्री श्री रामविलास पासवान की अध्यक्षता में आयोजित राज्यों के खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति और उपभोक्ता मामलों के मंत्रियों केे राष्ट्रीय सम्मेलन में राजस्थान का पक्ष रख रहे थे।
इस अवसर पर राजस्थान के खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामलों के विभाग के प्रमुख सचिव श्री सुबोध अग्रवाल भी मौजूद थे।
श्री वर्मा ने कहा कि ‘नगदी रहित भुगतान’ की दिशा में किये जा रहे प्रयासों को देखते हुए सार्वजनिक वितरण प्रणाली में किए जा रहे सुधारों को भुगतान की डिजिटल पद्धतियों से यथाशीघ्र जोड़ने की आवश्यकता पर राजस्थान लगातार कार्य कर रहा है तथा राजस्थान एकमात्र ऎसा राज्य है जहां पर पोस मशीनों के माध्यम से गेहूं के साथ-साथ चीनी एवं केरोसीन भी उपभोक्ताओं को उपलब्ध करवाये जाते है।
उन्होनें कहा कि प्रदेश में सार्वजनिक वितरण प्रणाली के सुदृढ़ीकरण एवं पारदर्शिता लाने हेतु सम्पूर्ण सार्वजनिक वितरण प्रणाली का कम्प्यूटीकरण किया जा रहा है। योजना के अन्तर्गत ना सिर्फ आवश्यक वस्तुओं का आवंटन, उठाव आपूर्ति एवं वितरण व्यवस्था ऑनलाईन की जा रही है बल्कि खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग का राज्य मुख्यालय व समस्त जिला कार्यालय भी कम्प्यूटरीकृत किये जा रहे हैं। इस योजना के तहत समस्त आपूर्ति श्रृंखला भारतीय खाद्य निगम गोदाम, थोक विक्रेता तथा उचित मूल्य दुकानों से उपभोक्ता को वितरण तक कम्प्यूटीकरण कार्य प्रगति पर है। खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री ने बताया कि योजना के तहत अब तक राज्य की 24 हजार 694 उचित मूल्य दुकानों पर पोस मशीन (विक्रय समाधान यंत्र) स्थापित की जा चुकी है एवं उपभोक्ताओं को उक्त कम्प्यूटरीकृत योजना के तहत बायोमेट्रिक सत्यापन द्वारा राशन सामग्री वितरित कराये जाने से लाभार्थी के अतिरिक्त अन्य किसी व्यक्ति को राशन सामग्री का वितरण नहीं होगा तथा इससे पारदर्शिता के साथ-साथ कालाबाजारी पर रोक लगाया जाना संभव हो सकेगा। साथ ही फर्जी तथा दोहरे राशन काडर््स की समस्या से भी निजात मिल सकेगी।
श्री वर्मा ने बताया कि राजस्थान में सार्वजनिक वितरण प्रणाली में कैशलेस व्यवस्था दो चरणों में पूर्ण की जायेगी। प्रथम चरण में उचित मूल्य दुकानदार से थोक विक्रेता को होने वाला भुगतान तथा थोक विक्रेता से भारतीय खाद्य निगम को होने वाला भुगतान 31 जनवरी, 2017 तक शत-प्रतिशत कैशलेस किया जायेगा।
द्वितीय चरण में लाभार्थियों द्वारा सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत प्राप्त खाद्य सामग्री के लिए उचित मूल्य दुकानदार को होने वाले भुगतान हेतु 31 मार्च, 2017 तक लाभार्थियों को कैशलेस भुगतान हेतु विकल्प प्रदान किये जायेगें। द्वितीय चरण के लिए ‘‘आधार इनेवल पेमेंट सिस्टम’’ विकल्प को समस्त उचित मूल्य दुकानों पर अपनाया जाना है। इस हेतु आर.आई.एस.एल. द्वारा शीघ्र ही एक सॉफ्टवेयर एप्लीकेशन तैयार कर उपलब्ध करायी जा रही है।
खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री ने राज्य सरकार द्वारा उचित मूल्य दुकानदारों का प्रशिक्षण एवं योजना के प्रचार-प्रसार संबंधी उठाये गये कदमों की जानकारी देते हुए कहा कि राज्य में पोस मशीनों वितरण के समय ही केम्प आयोजित कर उचित मूल्य दुकानदारों को प्रशिक्षण दिया गया है एवं उचित मूल्य दुकानदारों की सुविधा एवं योजना संबंधी जानकारी उपलब्ध कराने हेतु एक हैल्पलाईन प्रारम्भ की गई हैं जिसका न. 1800-180-6127 है। इसी तरह दैनिक समाचार पत्रों तथा टेलीविजन के माध्यम से भी विज्ञापन दिये जा रहे है तथा पोस मशीन के संचालन में आ रही व्यवहारिक कठिनाईयों के समाधान संबंधी जानकारी भी दी जा रही है। उचित मूल्य की दुकानों के डिजिटलाइजेशन में केन्द्रीय सहयोग बढ़ाया जावे श्री वर्मा ने केन्द्रीय खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री श्री रामविलास पासवान से आग्रह किया कि राज्य में 135 उचित मूल्यों की दुकानों पर इंटरनेट कनेक्टिविटी सुनिश्चित करवाने हेतु संबंधित विभाग में सक्षम स्तर से कार्यवाही करवाना उचित होगा। ताकि प्रदेश की समस्त उचित मूल्यों की दुकानों का पूर्ण ऑटोमेशन संभव हो सके। श्री वर्मा ने केंद्रीय मंत्री को सुझाव देते हुए कहा कि सार्वजनिक वितरण प्रणाली को नकदी रहित पद्धतियों से जोड़ने के लिए इस बात का भी ध्यान रखा जाना चाहिए कि लाभार्थियों को वितरित किये जाने वाले खाद्यान्न प्राप्त करते समय उन्हें किसी अतिरिक्त शुल्क का भुगतान न करना पड़े।
उन्होनें कहा कि मार्च, 2017 के बाद बैंकिग भुगतान अंतरणों पर आने वाले बैकिंग शुल्कों का भार राज्य सरकारों अथवा उपभोक्ताओं पर नही डाला जाना चाहिए। खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री के सुझाव का स्वागत करते हुए केंद्रीय मंत्री श्री रामविलास पासवान एवं राज्यमंत्री श्री सी.आर. चौधरी ने आश्वासन दिया कि इन बैकिंग अंतरण शुल्कों के मामले पर जल्द ही निर्णय लिया जायेगा तथा राज्य सरकारों एवं उपभोक्ताओं पर बैकिंग अंतरण शुल्कों का भार नहीं डाला जाऎगा। 

पीएम मोदी बने सोशल मीडिया पर सबसे ज्यादा फॉलो किए जाने वाले राजनेता



पीएम मोदी बने सोशल मीडिया पर दुनिया में सबसे ज्यादा फॉलो किए जाने वाले राजनेता
अमिताभ सिन्हा | News18India.com January 19, 2017

नई दिल्ली। आज जो बात भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को देश और दुनिया के बाकी नेताओं से अलग करती है, वो है डिजिटल दुनिया कि तमाम आधुनिक तकनीक की उनकी समझ और उसके इस्तेमाल मे उनका खुलापन. सत्ता संभाले ढाई साल हो रहे हैं और देश इस तकनीकी के प्रयोग का इतना आदी हो चला है कि लेसकैश इकोनॉमी में बदलने में मुश्किलें भी कम ही आ रहीं हैं. ये पीएम मोदी की कोशिशों का नतीजा है कि गरीबों के खातों में सब्सिडी और दूसरी सरकारी मदद सीधे खाताधारियों के खाते में पहुचीं. अब तक 1.5लाख करोड़ रुपये सीधे 32 करोड़ लोगों को खाते में ट्रांसफर किए जा चुके हैं.  देश भर में अब गरीब भी मोबाईल फोन के इस्तेमाल से भुगतान की तकनीकी जानने लगा है. गवर्नेंस में टेक्नोलॉजी का ऐसा इस्तेमाल अब से पहले शायद आजाद भारत में संभव नजर नहीं आ रहा था.
जब पूरी दुनिया की निगाहें लगीं हैं राष्ट्रपति बराक ओबामा की विदाई और डोनाल्ड ट्रंप के राष्ट्रपति बनने पर चर्चा करने में, भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी बन गए हैं दुनिया भर में सबसे ज्यादा सोशल मीडिया पर फॉलो किए जाने वाले राष्ट्राध्यक्ष. फेसबुक हो या फिर ट्विटर, यू ट्यूब या गूगल प्लस. पीएम मोदी को फॉलो करने वालों की संख्या अब सबसे ज्यादा हो गई है. ये एक ऐसी घटना है जो पांच साल पहले कल्पना से परे थी. लेकिन बाकी क्षेत्रों की तरह एक भारतीय ने ये सफलता भी पा ली.
पीएमओ के सूत्र बताते हैं की हर कोई जानता है कि पीएम खुद तकनीकी और संचार के आधुनिक तंत्रों के इस्तेमाल के लिए कितने तत्पर रहते हैं. पर ये बात हर कोई नही जानता कि शासन से लेकर आम आदमी खासकर युवाओं तक पहुंचने के लिए वे इस टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किस हद तक करते हैं.
पीएमओ के सूत्र बताते हैं कि सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर पीएम मोदी को फॉलो करने वालों की संख्या खासी है...
ट्वीटर-पीएम को फॉलो करने वालों की संख्या 26.5 मिलियन
फेसबुक-39.2 मिलियन
गूगल प्लस-3.2 मिलियन
लिंक्डइन-1.99 मिलियन
इंस्टाग्राम-5.8 मिलियन
यू-ट्यूब-5.91 मिलियन
अब पीएम खुद सोशल मीडिया के इस्तेमाल से जनता से लगातार जुडते जा रहे हैं. यहां तक कि गवर्नेंस भी डिजिटल होने से सरकारी कामकाज में भी तेजी आई है. जब पीएम सीधा जनता से संवाद कर रहे हों, वो भी 140 शब्दों के ट्वीट से, कैंपेन के नए-नए तरीके इजाद कर के. जिसकी देश भर में क्या? दुनिया भर में तारीफ तो होनी ही थी. पीएम मोदी के मोबाईल एप्प के 10 लाख डाउनलोड हो चुके हैं. एक बार फिर गिनती की जाए तो ये किसी भी राजनेता से कहीं ज्यादा है. बात अगर पिछली सरकारों की हो तो ये किसी से छुपा नही कि पीएम और पीएमओ के आम आदमी से संवाद सिर्फ इ-मेल या फिर खतों के माध्यम से होते थे. इन चिठ्ठियों को ट्रैक कर पाना खासा मुश्किल काम था. अब पीएमओ में एक वेबसाईट बनी ही है लोगों की शिकायतें सुनने और उन्हें दूर करने में. यहां तक की दूसरे विभागों की शिकायतों पर भी पैनी निगाह रखी जा रही है. ये सब तो तकनीकी के इस्तेमाल का ही नतीजा है.

पीएम मोदी खुद हर महीने प्रगति सत्र के माध्यम से देश भर के कलक्टरों और मुख्य सचिवों से लोगों की मुश्किलों और सिस्टम मे आ रही रुकावटों पर माथापच्ची करते हैं। एक आम नागरिक पीएम को खुद भी सलाह दे सकता है MyGov.in वेबसाईट पर. ढ़ाई साल में आलम ये है कि पोर्टल के 4 मीलियन मेंबर हैं और अब पूरी दुनिया में लोगों की भागीदारी का एक मॉडल बन कर उभरा है. अब नेता खुद पूरी तरह तकनीकी का इस्तेमाल कर आम आदमी से सीधा संवाद कायम कर रहा है तो फिर बाकी नेता और मंत्री भला पीछे कैसे रहते. हर मंत्री और नेता लगे हैं अपने नेता को फॉलो कर सोशल मीडिया के माध्यम से लोगों से सीधा संवाद कायम करने में. प्रतिपक्ष के नेताओं ने भी अब लगता है सोशल मीडिया का महत्व समझ लिया है. इसलिए ये क्रांति ऐसी है जिसने राजनीति की दिशा और दशा बदल दी है। और इसके लिए पीएम मोदी को इतिहास में याद जरुर किया जाएगा.

बुधवार, 18 जनवरी 2017

श्रीमती वसुंधरा राजे सरकार, जो अपना रिपोर्टकार्ड हर साल पेश कर रही है - अरविन्द सिसोदिया


श्रीमती वसुंधरा राजे सरकार, पहली सरकार है जो अपना रिपोर्टकार्ड हर साल पेश  कर रही है - अरविन्द सिसोदिया
जब कांग्रेस को कुशासन के कारण जनता ने सत्ता से हटाया था , तब ढाई लाख करोड के लगभग का कर्जा राजस्थान पर था!  राजस्थान की कल्याणकारी मुख्यमंत्री सम्मानीय श्रीमती वसुंधरा राजे जी के नेतृत्व में कुशल  वित्तीय प्रबंधन के द्वारा, प्रदेश के हालात सुधारे और तेज गति का विकास राजस्थान को दिया। यह पहली सरकार जो अपना रिपोर्टकार्ड हर साल पेश कर रही है। चुनाव घोषणपत्र के कामों को पूरा करने में लगी हुई है। तीन साल में ही 80 फीसदी काम पूरा कर चुकी है। हर जिले में जिला मुख्यालय पर जा कर जनता के बीच बिना लाग लपेट के गर्व से अपनी बात रख रही है। सरकार बता रही है कि तीन साल में कितना खर्च कर दिया और क्या - क्या काम किये और आगे क्या करने जा रही है। 24 घंटे जनता के लिये जागने वाली सरकार का नाम वसुंधरा राजे सरकार है। हम उनकी मेहनत को, उनके जज्बे को, उनके हौंसले को सलाम करते हे। उनके कुशल प्रबंधन में राजस्थान पूरे देश  में गर्व सिर ऊंचा किये हुये है। इसके लिये मुख्यमंत्री श्रीमती वसुंधरा राजे जी को धन्यवाद एवं आभार ज्ञापित करते हैं। जय जय राजस्थान !

                                                                भवदीय
                                         अरविन्द सिसोदिया,भाजपा जिला महामंत्री ,
                                        कोटा शहर जिला      9414180151   / 9509559131






तीन साल में दिखा जमीन-आसमान का फर्क


मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे ने कहा कि राज्य सरकार ने समाज के हर वर्ग तक विकास पहुंचाया है। विरासत में मिले करीब ढाई लाख करोड़ के कर्जे के बावजूद कुशल वित्तीय प्रबंधन के बल पर प्रदेश आज विकास की राह पर तेजी से आगे बढ़ रहा है। विकास के मामले में केवल 3 साल की अवधि में ही जमीन और आसमान का फर्क ला दिया है। इसी गति से काम करते हुए आने वाले 2 साल में प्रदेश को देश का सबसे खुशहाल राज्य बनाएंगे।

श्रीमती राजे राज्य सरकार के तीन वर्ष पूर्ण होने के अवसर पर बुधवार को सीकर में करीब 280 करोड़ रुपये की विभिन्न विकास परियोजनाओं के लोकार्पण एवं शिलान्यास के बाद जनसभा को सम्बोधित कर रही थीं। उन्होंने कहा कि तीन सालों में कई बड़ी चुनौतियों के बावजूद हमने विकास के कीर्तिमान कायम किए हैं। सौर ऊर्जा उत्पादन, स्किल डवलपमेंट, भामाशाह योजना, स्वच्छ भारत अभियान के तहत शौचालय निर्माण, कैशलेस इकोनॉमी को बढ़ावा देने सहित कई क्षेत्रों में हम पूरे देश में नम्बर वन हैं। जनता के विश्वास और प्यार के बलबूते हम हर चुनौती का डटकर मुकाबला करेंगे। उन्होंने कहा कि विकास के लिए पैसे की कोई कमी नहीं है और सुराज संकल्प के सभी वादे जरूर पूरे होंगे। राजस्थान को हम हर हाल में देश का नम्बर वन राज्य बनाकर रहेंगे।

झुंझुनू और सीकर के 1100 गांवों की बुझाएंगे प्यास
मुख्यमंत्री ने सभा में घोषणा की कि कुम्भाराम लिफ्ट परियोजना के तहत सीकर जिले के 865 गांवों और 6 कस्बों तथा झुंझुनू जिले के 321 गांवों तथा 6 कस्बों की पेयजल योजना की डीपीआर बनाने के लिए करीब 5 करोड़ रुपये की स्वीकृति जारी कर दी गई है। इस स्वीकृति से इन दोनों जिलों की यह लम्बे समय से चली आ रही मांग पूरी होगी।

सीकर में 3 साल में 2 हजार 636 करोड़ के विकास कार्य
श्रीमती राजे ने कहा कि सीकर वह मिट्टी है जिसने हमें देश पर मिटने वाले जांबाज़ सैनिक दिए हैं। शेखावाटी क्षेत्र में सबसे ज्यादा सैनिक पैदा होते हैं। सीकर में पिछले 3 सालों में कुल 2 हजार 636 करोड़ रुपये के विकास कार्य हुए हैं। जिनमें करीब 91 करोड़ रुपये के ग्रामीण गौरव पथ, करीब 30 करोड़ रुपये के 24 नये 33 केवी जीएसएस, करीब 12 करोड़ रुपये से फतेहपुर-लक्ष्मणगढ़-धोद तथा दातारामगढ़ के गांवों में आरओ प्लांट, 58 करोड़ रुपये के नीमकाथाना क्षेत्र में ग्रामीण पेयजल परियोजनाएं, स्वास्थ्य भवनों के निर्माण तथा विभिन्न स्वास्थ्य सुविधाओं पर 92 करोड़ रुपये, आरएसएचडीपी (एडीबी) के 317 करोड़ तथा आरएसआरडीसी के 125 करोड़ रुपये के काम शामिल हैं।

पहली सरकार जिसने जिलों में जाकर दिखाया अपना रिपोर्ट कार्ड
श्रीमती राजे ने कहा कि प्रदेश के इतिहास में यह पहली सरकार है, जो अपने काम का रिपोर्ट कार्ड हर जिले में जाकर दे रही है। उन्होंने कहा कि यूं तो विकास के लिए 3 साल की अवधि बहुत कम होती है, लेकिन हमने इतने कम समय में भी प्रदेश का समग्र रूप से विकास करने का प्रयास किया है।

जल स्वावलम्बन अभियान के लिए 1 करोड़ से अधिक का सहयोग
कार्यक्रम में श्रीमती राजे को मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान के द्वितीय चरण के लिए खाटूश्याम जी मंदिर ट्रस्ट की ओर से 21 लाख रुपये, मुम्बई प्रवासी उद्योगपति श्री मूलचंद कुमावत ने 11 लाख रुपये के चैक भेंट किए तथा डीएस ग्रुप फाउण्डेशन नई दिल्ली द्वारा 21 लाख रुपये और अजीतगढ़ क्षेत्र उद्यमी संघ की ओर से 51 लाख रुपये का सहयोग देने की घोषणा की गई।

शहीद वीरांगना को 19 लाख का पैकेज
इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने श्रीमाधोपुर तहसील के दादिया रामपुरा निवासी शहीद नाथूराम महला की वीरांगना को राज्य सरकार की ओर से 19 लाख रुपये की सहायता राशि का पैकेज भेंट किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि हम सभी को शहीद नाथूराम महला की शहादत पर गर्व है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार शहीदों के परिवारों को पूरा सम्बल देगी।

प्रदर्शनी और रोजगार मेले का उद्घाटन
श्रीमती राजे ने राज्य सरकार की 3 साल की उपलब्धियों पर आधारित जिला स्तरीय प्रदर्शनी, रोजगार एवं आरोग्य मेला, कैंसर जागरूकता एवं स्वास्थ्य शिविर का शुभारम्भ कर अवलोकन किया। उन्होंने इस अवसर पर सरकार की विभिन्न योजनाओं के लाभार्थियों को सहायता राशि वितरित की और जिले की प्रतिभाओं को सम्मानित किया।

इन विकास कार्यों का लोकार्पण और शिलान्यास
  लोकार्पण/उद्घाटन लागत              कुल 280.20 Cr.
1. सीवरेज प्रोजेक्ट, फतेहपुर 57.16 Cr.
2. सीवरेज ट्रीटमेंट प्लान, फतेहपुर 12.07 Cr.
3. स्मृति वन, सीकर 7.83 Cr.
4. उपखण्ड अधिकारी कार्यालय, खण्डेला 2.00 Cr.
5. उपखण्ड अधिकारी, रामगढ़ शेखावाटी 2.00 Cr.
6. उप तहसील, नेछवा 1.75 Cr.
7. उप तहसील, लोसल 1.75 Cr.
8. सदर थाना, नीमकाथाना 1.68 Cr.
9. इको टूरिज्म प्रोजेक्ट, हर्षनाथ प्रथम चरण 1.00 Cr.
10. एनयूएलएम अन्तर्गत रैन बसैरा निर्माण 0.36 Cr.

शिलान्यास
1. 132 केवी ग्रिड सब स्टेशन वाटर वर्क्स, सांवली रोड, सीकर 14.74 Cr.
2. जिले की 9 नगर पालिकाओं में शहरी गौरव पथ 9ग2.5 करोड़ प्रत्येक नगर पालिका 22.50 Cr.
3. पूर्ण गठित शहरी जल योजना 26.00 Cr.
4. सीवरेज योजना में 2 एमएलडी एसटीपी का निर्माण (अमृत योजना) सीवरेज कार्य कुल 120.81 Cr.
5. प्याज मण्डी रसीदपुरा 4.80 Cr.
6. उपखण्ड अधिकारी कार्यालय, धोद 2.00 Cr.
7. तहसील धोद 1.75 Cr.

इस अवसर पर चिकित्सा मंत्री श्री कालीचरण सराफ, देवस्थान राज्यमंत्री श्री राजकुमार रिणवा, चिकित्सा राज्यमंत्री श्री बंशीधर खण्डेला, सैनिक कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष श्री प्रेमसिंह बाजौर, राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष श्रीमती सुमन शर्मा, भूदान बोर्ड अध्यक्ष श्री रामनारायण नागवा, माटी कला बोर्ड अध्यक्ष श्री हरीश कुमावत, सांसद श्री सुमेधानन्द, विधायक श्री गोरधन वर्मा, श्री रतनलाल जलधारी, श्री झाबरसिंह खर्रा, श्री रामलाल शर्मा, जिला प्रमुख सुश्री अपर्णा रोलन, यूआईटी चेयरमैन श्री हरिराम रिणवा सहित अन्य जनप्रतिनिधि, अधिकारीगण एवं बड़ी संख्या में आमजन उपस्थित थे।

जयपुर, 18 जनवरी 2017