रविवार, 1 जनवरी 2017

मोदी-कुछ बात है कि हस्ती मिटती नहीं हमारी




नववर्ष 2017 पर पीएम मोदी का राष्ट्र के नाम संबोधन, बोले- 
कुछ बात है कि हस्ती मिटती नहीं हमारी... : खास बातें

पूजा प्रसाद द्वारा लिखित, अंतिम अपडेट: शनिवार दिसम्बर 31, 2016


नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 31 दिसंबर 2016 यानी आज राष्ट्र को संबोधित किया. पीएम मोदी ने इससे पहले 8 नवंबर को देश को संबोधित किया था, जब उन्होंने देश से भ्रष्टाचार और काले धन को खत्म करने के लिए 500 और 1,000 रुपये के पुराने नोट बंद किए जाने की घोषणा की थी. आज उन्होंने विमुद्रीकरण और काले धन पर बात कर बात की. इसके अलावा उन्होंने कुछ महत्वपूर्ण घोषणाएं भी कीं. उन्होंने कहा कि दीवाली के तुरंत बाद हमारा देश ऐतिहासिक शुद्धि यज्ञ का गवाह बना.


आइए जानें इस अवसर पर पीएम मोदी द्वारा कही गई बातों के मुख्य अंश :

अच्छाई के लिए होने वाले आंदोलनों में जनता और सरकार आमने सामने होते हैं, लेकिन इस आंदोलन में सरकार और जनता दोनों कंधे से कंधा मिलाकर लड़ाई लड़ रहे हैं.
'कुछ बात है कि हस्ती मिटती नहीं हमारी', इसे देशवासियों ने जीकर दिखाया. भारतीयों ने जो कष्ट सहा, वह आने वाली पीढ़ियों के लिए उदाहरण बनेगा.
शास्त्री जी, लोहिया जी, जेपी जी अगर आज होते तो देशवासियों को आशीर्वाद देते.
ईमानदारों की रक्षा सरकार का जिम्मा है, काला धन समाज के लिए नासूर है. (पीएम के भाषण से जुड़ी हर बात पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)
यह सरकार सज्‍जनों की मित्र है और दुर्जनों को सज्‍जनता के रास्‍ते पर लौटाने के लिए उपयुक्‍त वातावरण तैयार करने के पक्ष में है. (इस बारे में खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)
आदतन बेइमान लोगों को भी अब तकनीक की ताकत के कारण काले कारोबार से निकलकर ईमानदारी से काम करना ही होगा.
मानव स्वभाव अच्छाइयों से भरा रहता है लेकिन समय के साथ जो बुराइयां उत्पन्न होती हैं, लोग उनसे मुक्त होने का प्रयास करते हैं.
नोटबंदी से हुई दिक्कतें उज्ज्वल भविष्य के लिए किया गया बलिदान हैं. गड़बड़ी करने वालों को हरगिज़ नहीं बख्शेंगे.
सबका साथ-सबका विकास. इसके चरितार्थ करने के लिए नव वर्ष की पूर्व संध्‍या पर देश के सवा सौ करोड़ लोगों के लिए सरकार कुछ नई योजनाएं ला रही हैं.
 शहरी गरीब के लिए दो नई हाउसिंग योजनाओं की घोषणा की. पीएम आवास योजना के तहत शहरों में बनने वाले घरों पर नौ लाख के कर्ज पर ब्याज में 4% और 12 लाख पर 3% की छूट.
जिन किसानों ने रबी की बुवाई के लिए कर्ज लिया था, सरकार उनके 60 दिन का ब्‍याज वहन करेगी.
सरकार ने यह भी तय किया है कि अगले तीन महीने में तीन करोड़ किसान क्रेडिट कार्ड को रुपे कार्ड में बदला जाएगा.
बैंक गरीबों को ध्‍यान में रखकर काम करें. बैंक लोकहित में उचित निर्णय लें. भ्रष्‍टाचार और कालेधन के खिलाफ इस लड़ाई को हमें रूकने नहीं देना है.
ज्‍यादा से ज्‍यादा लोग डिजिटल पेमेंट से जुड़ रहे हैं. कल ही सरकार ने बाबा साहेब भीमराव के नाम पर BHIM नाम से ऐप लॉन्‍च किया.
अपने संबोधन में आम आदमी, किसानों, वरिष्ठ नागरिकों व गर्भवती महिलाओं के लिए योजनाओं की घोषणा की.


===============

नववर्ष 2017 पर पीएम मोदी ने छोटे कारोबारियों, 
किसानों, गर्भवती महिलाओं, वरिष्ठ नागरिकों के लिए ऐलान किए

पूजा प्रसाद द्वारा संपादित, अंतिम अपडेट: शनिवार दिसम्बर 31, 2016

खास बातें
१-नववर्ष की पूर्व संध्या पर राष्ट्र के नाम संबोधन में पीएम ने की घोषणाएं
२-किसानों को बड़ी राहत दी, गर्भवती महिलाओं के लिए राष्ट्रव्यापी योजना पेश
३-वरिष्ठ नागरिकों के लिए भी एक योजना की शुरुआत की


नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को नववर्ष की पूर्व संध्या पर राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में आम आदमी, किसानों, वरिष्ठ नागरिकों व गर्भवती महिलाओं के लिए योजनाओं की घोषणा की. प्रधानमंत्री ने किसानों को बड़ी राहत देते हुए तीन करोड़ किसान क्रेडिट कार्ड को रुपे कार्ड में बदलने की घोषणा की है, साथ ही छोटे व्यापारियों के लिए भी योजनाओं की घोषणा की है. उन्होंने कहा कि सरकार ने छोटे कारोबारियों को करों में बड़ी राहत देने का फैसला किया है.

मुद्रा योजना की सफलता की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा, "मुद्रा योजना की सफलता निश्चित तौर पर बेहद उत्साहवर्धक रही है, जिसका जनजाति समुदाय के लोगों सहित 3.5 करोड़ लोगों ने फायदा उठाया."


प्रधानमंत्री ने गर्भवती महिलाओं के लिए एक राष्ट्रव्यापी योजना शुरू करने की घोषणा की. उन्होंने कहा, "देश के 650 से अधिक जिलों में सभी गर्भवती महिलाओं को अस्पतालों में पंजीकरण, टीकाकरण तथा पौष्टिक आहार के लिए छह हजार रुपये की रकम दी जाएगी. यह रकम सीधे उनके खाते में स्थानांतरित की जाएगी." यह योजना पहले 53 जिलों में पायलट योजना के तहत चल रही थी, जिसे अब राष्ट्रव्यापी तौर पर लागू करने का फैसला किया गया.

प्रधानमंत्री ने वरिष्ठ नागरिकों के लिए भी एक योजना की शुरुआत की है. वरिष्ठ नागरिकों के लिए योजना का उल्लेख करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, "सरकार वरिष्ठ नागरिकों पर विशेष ध्यान देने जा रही है, जिसके मद्देनजर उनके लिए एक योजना शुरू करने का फैसला किया गया है. इसके तहत वरिष्ठ नागरिकों को 7.5 लाख रुपये की राशि पर 10 साल के लिए सालाना आठ फीसदी की ब्याज दर सुनिश्चित की जाएगी, जो स्थिर होगी, अर्थात बैंक द्वारा ब्याज दरें घटाने का इस पर कोई असर नहीं पड़ेगा. इस ब्याज को वरिष्ठ नागरिक हर महीने बैंक से निकाल सकते हैं."

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें