रविवार, 1 जनवरी 2017

राष्ट्र के नाम संबोधन 31Dec2016 : अहम बातें













पीएम नरेंद्र मोदी के भाषण की 7 अहम बातें, जिन्हें जानना है जरूरी

पीएम नरेंद्र मोदी ने 31dec2016 देश के नाम संबोधन किया और कई अहम स्कीम शुरू कीं। साथ ही पीएम मोदी ने कई राहतें भी दीं। आइए जानते हैं पीएम के भाषण की 7 अहम बातें।

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 31dec2016 पर राष्ट्र के नाम संबोधन में नोटबंदी के फैसले की चर्चा की। नोटबंदी के दौरान जिस तरह से देशवासियों ने धैर्य का परिचय दिया उसकी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जमकर तारीफ भी की। अपने संबोधन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कई नई योजनाओं और राहतों की भी घोषणा की। आइए जानते हैं पीएम मोदी के भाषण की 7 अहम बातें।

 प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत शुरू हुईं दो स्कीमें, ब्याज पर दी जा रही भारी छूट
1- प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत शहरों में गरीब, निम्न मध्यम वर्ग, और मध्यम वर्ग के लिए दो योजनाएं शुरू की गई हैं। शहरों में इस वर्ग को नए घर देने के लिए 2017 में घर बनाने पर 9 लाख रुपए तक के कर्ज पर ब्याज में 4 फीसदी की छूट दी जाएगी। वहीं दूसरी ओर, 12 लाख रुपए तक के कर्ज पर ब्याज में 3 फीसदी की छूट दी जाएगी।

2- प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत गांव में किसी व्यक्ति को अपने घर का विस्तार करने के लिए एक स्कीम शुरू की गई है। इसके तहत 2 लाख रुपए तक के कर्ज पर लगने वाले ब्याज में 3 फीसदी की छूट दी जाएगी। गांव में बनाए जाने वाले घरों की संख्या को भी सरकार ने 33 फीसदी बढ़ा दिया, जिससे गांव के बहुत से लोग लाभान्वित होंगे।

3- अगले तीन महीने में 3 करोड़ किसान क्रेडिट कार्डों को RUPAY कार्ड में बदला जाएगा।

4- गर्भवती महिलाओं के लिए सरकार ने देशव्यापी योजना शुरू की है। इसके तहत गर्भवती महिलाओं को 6 हजार रुपए की आर्थिक मदद दी जाएगी। ये पैसे सीधी उनके खातों में भेजे जाएंगे।

5- वरिष्ठ नागरिकों को 7.5 लाख रुपए तक की राशि पर 10 साल तक के लिए सालाना 8 फीसदी की दर से ब्याज मिलेगा।

6- पिछले साल की तुलना में इस वर्ष रबी की बुवाई 6 प्रतिशत ज्यादा हुई है। फर्टिलाइजर भी 9 प्रतिशत ज्यादा उठाया गया है। डिस्ट्रिक्ट कॉपरेटिव सेंट्रल बैंक और प्राइमरी सोसायटी से जिन किसानों ने खरीफ और रबी की बुवाई के लिए कर्ज लिया था, उस कर्ज का 60 दिन का ब्याज सरकार वहन करेगी और किसानों के खातों में ट्रांसफर करेगी।

7- पीएम मोदी ने देश के युवाओं, व्यापारी वर्ग और किसानों से BHIM ऐप से ज्यादा से ज्यादा जुड़ने का आग्रह किया है।
------------------------

नववर्ष 2017 पर पीएम मोदी का संदेश : किसानों को सौगात देते हुए कई उपायों की घोषणा
अतुल चतुर्वेदी द्वारा संपादित, अंतिम अपडेट: शनिवार दिसम्बर 31, 2016

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्‍ट्र के नाम संदेश में ग्रामीण भारत और किसानों के लिए विशेष रूप से घोषणा करते हुए कहा कि सरकार ने प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत गांवों में बनने वाले घरों की संख्या को बढ़ा दिया है. यानी कि जितने घर पहले बनने वाले थे, उससे 33 प्रतिशत ज्यादा घर बनाए जाएंगे.

इसके साथ ही उन्‍होंने कहा कि गांवों के निम्न मध्यम वर्ग और मध्यम वर्ग के लोगों की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए एक नई योजना शुरू की जा रही है. इसके तहत 2017 में गांव के जो लोग अपने घर का निर्माण करना चाहते हैं या विस्तार करना चाहते हैं, एक-दो कमरे और बनाना चाहते हैं, ऊपर एक मंजिल बनाना चाहते हैं, उन्हें 2 लाख रुपये  तक के ऋण में 3 प्रतिशत ब्याज की छूट दी जाएगी.

कर्ज पर ब्‍याज की माफी
पीएम मोदी ने यह भी कहा कि चारों तरफ ऐसा वातावरण बना दिया गया था कि देश की कृषि बर्बाद हो गई है. ऐसा वातावरण बनाने वालों को जवाब किसानों ने ही दे दिया है. उन्‍होंने कहा कि पिछले साल की तुलना में इस वर्ष रबी की बुवाई 6 प्रतिशत ज्यादा हुई है. फर्टिलाइजर भी 9 प्रतिशत ज्यादा उठाया गया है. सरकार ने इस बात का लगातार ध्यान रखा कि किसानों को बीज की दिक्कत ना हो, खाद की दिक्कत ना हो, कर्ज लेने में परेशानी ना आए.


उन्‍होंने आगे कहा कि डिस्ट्रिक्ट कॉपरेटिव सेंट्रल बैंक और प्राइमरी सोसायटी से जिन किसानों ने खरीफ और रबी की बुवाई के लिए कर्ज लिया था, उस कर्ज के 60 दिन का ब्याज सरकार वहन करेगी और किसानों के खातों में ट्रांसफर करेगी. कॉपरेटिव बैंक और सोसायटीज से किसानों को और ज्यादा कर्ज मिल सके, इसके लिए उपाय किए गए हैं. नाबार्ड ने पिछले महीने 21 हजार करोड़ रुपये की व्यवस्था की थी. अब सरकार इसे लगभग दोगुना करते हुए इसमें 20 हजार करोड़ रुपये और जोड़ रही है. इस रकम को नाबार्ड, कॉपरेटिव बैंक और सोसायटीज को कम ब्याज पर देगा और इससे नाबार्ड को जो आर्थिक नुकसान होगा है, उसे भी सरकार वहन करेगी.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने घोषणा करते हुए कहा कि सरकार ने ये भी तय किया है कि अगले तीन महीने में 3 करोड़ किसान क्रेडिट कार्डों को रुपे कार्ड में बदला जाएगा. किसान क्रेडिट कार्ड में एक कमी यह थी कि पैसे निकालने के लिए बैंक जाना पड़ता था. अब जब किसान क्रेडिट कार्ड को रुपे कार्ड में बदल दिया जाएगा, तो किसान कहीं पर भी अपने कार्ड से खरीद-बिक्री कर पाएगा.
------------------

नोटबंदी का रिटर्न गिफ्ट: पीएम मोदी ने किया इन नई योजनाओं का ऐलान

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साल के आखिरी दिन राष्‍ट्र के नाम अपने संबोधन में देशवासियों को कई नई योजनाओं का तोहफा दिया। मोदी ने गरीबों, बुजुर्गों, महिलाओं से लेकर मध्य वर्ग, सबका ध्यान रखा। प्रधानमंत्री ने इन सब के लिए अलग-अलग योजना का ऐलान किया।
1. अब प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत शहरों में इस वर्ग को नए घर देने के लिए दो नई स्कीमें बनाई गई हैं। 2017 में घर बनाने के लिए 9 लाख रुपए तक के कर्ज पर ब्याज में 4 प्रतिशत की छूट और 12 लाख रुपए तक के कर्ज पर ब्याज में 3 प्रतिशत की छूट।
2. 2017 में गांव के जो लोग अपने घर का निर्माण करना चाहते हैं या विस्तार करना चाहते हैं, एक-दो कमरे और बनाना चाहते हैं, ऊपर एक मंजिल बनाना चाहते हैं, उन्हें 2 लाख रुपए तक के लोन में 3% ब्याज की छूट दी जाएगी।
3. वरिष्ठ नागरिकों की 10 साल के लिए 7.5 लाख रुपये तक की मियादी जमा पर निश्चित रूप से 8% ब्याज दिया जाएगा। बैंक वरिष्ठ नागरिकों को मियादी जमाओं पर उनकी नियमित दर के ऊपर 0.50% का अतिरिक्त ब्याज देते हैं।
4. देश के 650 से ज्यादा जिलों में गर्भवती महिलाओं के खाते में आर्थिक सहायता के रूप में 6000 रुपये जमा किए जाएंगे ताकि ग्रामीण क्षेत्रों की महिलाएं चिकित्सा खर्च वहन कर सकें। अब तक 53 जिलों में गर्भवती महिलाओं को प्रायोगिक परियोजना के तहत 4,000 रुपये की सहायता मिल रही है।
5. अगले तीन महीने में 3 करोड़ किसान क्रेडिट कार्डों को RUPAY कार्ड में बदला जाएगा। इससे किसान कहीं से भी खेती के लिए खाद, बीज आदि खरीद सकेंगे।
6. डिस्ट्रिक्ट कॉपरेटिव सेंट्रल बैंक और प्राइमरी सोसायटी से जिन किसानों ने खरीफ और रबी की बुआई के लिए कर्ज लिया था, उस कर्ज के 60 दिन का ब्याज सरकार वहन करेगी और किसानों के खातों में ट्रांसफर करेगी।
7. जिला सहकारी बैंकों तथा समितियों को वित्तीय सुविधा उपलब्ध कराने के लिए नाबार्ड को 20,000 करोड़ रुपये अतिरिक्त उपलब्ध कराए जाएंगे।
8. बैंकों से छोटे व्यवसायियों के लिए कैश लोन लिमिट को मौजूदा 20% से बढ़ाकर 25% करने को कहा गया है।
9. सरकार छोटे व्यवसायियों के दो करोड़ रुपये तक कर्ज की गारंटी लेगी। पहले यह सीमा एक करोड़ रुपये तक के कर्ज की थी।
10. मुद्रा योजना से पिछले साल करीब साढ़े तीन करोड़ लोग इससे लाभान्वित हुए और अब दलितों, पिछड़े वर्ग तथा महिलाओं को प्राथमिकता देते हुए इसे दोगुना करने का लक्ष्य है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें