शनिवार, 7 जनवरी 2017

मकसद गरीबों का जीवन स्तर सुधारना : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी



बीजेपी कार्यकारिणी की बैठक में बोले मोदी, 
सरकार का मकसद गरीबों का जीवन स्तर सुधारना

नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated: Jan 7, 2017

नई दिल्ली
बीजेपी कार्यकारिणी की बैठक में पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को कहा कि गरीबी और गरीब बीजेपी के लिए सिर्फ चुनाव जीतने का माध्यम नहीं हैं। उन्होंने कहा कि वह खुद गरीबी में जन्मे हैं और सरकार का मकसद गरीबों का जीवन स्तर सुधारना है। साथ ही मोदी ने एक बार राजनीतिक दलों की फंडिंग में पारदर्शिता लाए जाने की वकालत करते हुए कहा कि बीजेपी इसमें सकरात्मक भूमिका निभाएगी। इसके अलावा पीएम ने बीजेपी कार्यकर्ताओं से कहा कि वे आलोचनाओं से घबराने के बजाय उनका स्वागत करें।

बैठक के बाद केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने मोदी के संबोधन की मुख्य बातें मीडिया से साझा कीं। रविशंकर के मुताबिक अपने संबोधन में यूपी चुनाव का जिक्र करते हुए पीएम मोदी ने कार्यकर्ताओं से अपील की कि वे चुनाव में रिश्तेदारों को टिकट दिलाने के लिए पार्टी पर दबाव ना डालें। उन्होंने कहा, 'बीजेपी के कार्यकर्ता वे हैं जो हवा में बहते नहीं, हवा का रुख बदलते हैं।'

पीएम ने नोटबंदी का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा, 'करंसी का अनियंत्रित विस्तार भ्रष्टाचार की सबसे बड़ी जननी है। बेनामी संपत्ति को सबसे अधिक मजबूती कैश से मिलती है। नोटबंदी के पीछे देश के 125 करोड़ लोग खड़े हैं। देश के गरीबों ने नोटबंदी के इस अहम निर्णय को स्वीकारा है।'

मोदी ने कहा कि तकलीफ होने के बावजूद देश के लोगों ने इस बदलाव को स्वीकार किया है। उन्होंने कहा, 'कुछ दिन के लिए कठिनाई होगी, लेकिन देश की जनता ने इस कठिनाई को सहते हुए इस महान बदलाव को स्वीकारा है। इस पूरे दो महीने में देश की समाजशक्ति का दर्शन हुआ, भारतीय समाज की शक्ति क्या है।'

प्रधानमंत्री ने कहा कि गरीब बीजेपी के लिए सिर्फ चुनाव जीतने का माध्यम नहीं है। उन्होंने कहा, 'गरीबी हमारे लिए सेवा का अवसर है, गरीब की सेवा प्रभु की सेवा के समान है, हमारी सरकार का यही संकल्प है। कार्यकर्ता बूथ स्तर पर गरीबों के लिए बनाए गए कार्यक्रमों की जानकारी दें। कुछ लोग लाइफ स्टाइल की चिंता करते हैं, हमें गरीबों की क्वॉलिटी ऑफ लाइफ को सही करना है। मैं गरीबी में जन्मा हूं, गरीबी को जिया हूं।'

कार्यकारिणी की बैठक में भी मोदी ने राजनीतिक दलों की फंडिंग में पारदर्शिता का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा, 'फंडिंग में सुचिता आए, पारदर्शिता आए, बीजेपी इसमें सक्रिय भूमिका निभाएगी। सारे दल एक सहमति बनाएं तो बीजेपी सकारात्मक भूमिका निभाएगी।'

सरकार के फैसलों की आलोचना के मुद्दे पर मोदी ने कार्यकर्ताओं से अपील करते हुए कहा कि वे आलोचनाओं का स्वागत करें, उससे घबराएं नहीं।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें